मेष

महीना: 
राशिफल: 
वर्ष: 
2018

इस मास सूर्य 14 अपै्रल से प्रथम भाव में, मंगल पूर्ववत् नवम भाव में, बुध पूर्ववत् व्यय भाव में गोचर करेगा। गुरू दारा भाव में गोचर करेगा। शुक्र 19 अपै्रल से द्वितीय भाव में, शनि धर्म भाव में गोचर करेंगे। राहु चतुर्थ भाव में संचरण करेगा। केतु कर्म भाव में संचरण करेगा।

कैरियर और व्यवसाय

2018 अपै्रल मास के पहले सप्ताह से मेष राशि के जातक एवं जातिका ज्यों-ज्यों कैरियर व व्यवसाय के क्षेत्रों मे आगे बढ़ेंगे। त्यों-त्यों सफलता उनके कदमों में आने के संकेत देती रहेगी। किन्तु इस हेतु आपको एड़ी से चोटी का बल लगाना रहेगा। माह के दूसरे सप्ताह में कैरियर व व्यापार के क्षेत्रों में बढ़त दर्ज रहेगी। किन्तु इस माह के तीसरे सप्ताह में पुनः मिश्रित परिणाम रहेगे। माह के अंतिम सप्ताह ठीक रहेंगे।

प्रेम एवं संबंध

अप्रैल 2018 के पहले सप्ताह से ही मेष राशि के जातक व जातिकाओं को निजी संबंधों में उतार-चढ़ाव का दौर मिलेगा। क्योंकि छोटी-छोटी बातों में बतंगड़ जैसी स्थिति खड़ी रहेगी। इस दौरान शुभ ग्रही प्रभाव कमजोर रहेगा। माह के दूसरे सप्ताह में संबंधों में पुनः चाहत रहेगी। साथी नरम होने के संकेत करेगा। इस माह के तीसरे सप्ताह में पुनः कोई आपके खिलाफ उनके कान भरता रहेगा। माह के अंतिम सप्ताह में अच्छे परिणाम रहेंगे।

वित्तीय स्थिति

इस अपै्रल 2018 के शुरू के सप्ताह में मेष राशि के जातक व जातिका कई कामों को पूरा करने का लक्ष्य हासिल करने में लगे हुए रहेंगे। जिससे धन का व्यय अधिक मात्रा में रहेगा। हालांकि माह के दूसरे सप्ताह में आय के साधन आपके अर्थ लाभ को बढ़ाने में अनुकूल रहेंगे। इस माह के तीसरे सप्ताह मे पुनः आमदनी कुछ कमजोर हो सकती है। किन्तु माह के अंतिम सप्ताह में इसमें खूब इजाफे के संकेत मिलते रहेंगे।

शिक्षा एवं ज्ञान

इस अपै्रल 2018 के पहले सप्ताह में मेष राशि के जातक एवं जातिका शैक्षिक व प्रतियोगी क्षेत्रों में अपने कीर्तिमानों को गढ़ने के लिए कशमकश करते रहेंगे। यदि आप अपने आत्मविश्वास को बनाएं हुए अध्ययन में लगे रहेंगे। तो इस माह के दूसरे सप्ताह में सफलता की मंजिल आपसे दूर नहीं रहेगी। हालांकि अतिरिक्त विषयों या फिर तकनीक हुनर को बढ़ाने में परेशानी आ सकती है, माह के अंतिम सप्ताह अच्छे रहेंगे।

स्वास्थ्य

अप्रैल 2018 के पहले, दूसरे सप्ताह में मेष राशि के ऐसे जातक व जातिका परेशान हो सकते हैं, जो कि अनियमित दनिचर्या के शिकार हैं, या फिर तामसिक आहारों का सेवन प्रायः करते रहते हैं, उन्हें रक्त, बुखार, सांस संबंधी परेशानियां हो सकती हैं। माह के तीसरे व अंतिम सप्ताह में यद्यपि आपकी सेहत में सुधार रहेगा। क्योंकि इस दौरान शुभ ग्रही प्रभाव में रहेगे। अर्थात् अच्छी सेहत पुष्ट एंव खराब सेहत स्वस्थ्य रहेगी।