टैक्नोलॉजी

क्या है नोमोफोबिया

नोमोफोबिया

असल में फोबिया शब्द जो है वो ग्रीक भाषा के एक शब्द हाइड्रोफीबिया से आया है जिसका मतलब होता है पानी से सम्पर्क में आने का मानसिक भय और फोबिया किसी भी तरह का हो सकता है जिसका मतलब है अगर हमे किसी चीज़ का फोबिया है तो हम उस चीज़ के लिए मानसिक तौर पर थोड़े असहज है इसे किसी भी स्थान वस्तु या गतिविधि से जोड़ा जा सकता है और हमारी तकनीक की सदी यानि के इक्कीसवी सदी हो है उसमे टेक्नोलोज़ी के बढ़ते इस्तेमाल ने मानवीय जीवन को सुगम बनाने के साथ साथ कई तरह की मानसिक समस्याएं हमे सौगात में दी है जिसमे से नोमोबिया भी एक है और मेल ऑनलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक हम में से ६६ प्रतिश

'लगता है पैरों में मधुमक्खियां काट रही हैं'

मेरी रोज कई सालों से ठीक से सोने की कोशिश कर रही हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि जैसे उन पर कीड़ों का हमला हो गया है.

अपने तकलीफदेह अनुभव को बताते हुए वह कहती हैं, ''यह कुछ ऐसा है जैसे मधुमक्खियों का झुंड आपके पैरों की त्वचा में घुस गया हो. यह बहुत-बहुत तकलीफदेह है.''

अपने 80वें साल में चल रहीं यह इतिहासकार रेस्टलेस लैग्स सिंड्रॉम (आरएलएस) से पीड़ित हैं जिसकी वजह से वह रात भर परेशान रहती हैं.

अजीत पई: वो भारतीय जिसे 'इंटरनेट का खलनायक' माना जाता है

अजीत पई

'द मोस्ट हेटेड पर्सन ऑन द इंटरनेट', यूट्यूब पर अजीत पई को लेकर जारी किए गए वीडियो का कुछ ऐसा ही टाइटल था.

अमरीका के फ़ेडरल कम्यूनिकेशन कमीशन (एफ़सीसी) के चीफ़ अजीत पई को बहुत से लोग 'इंटरनेट के खलनायक' के तौर पर देखते हैं. एफ़सीसी का कामकाज तक़रीबन भारत के दूरसंचार नियामक प्राधिकरण ट्राई (TRAI) जैसा ही है. अमरीका में नेट न्यूट्रैलिटी से जुड़े एक क़ानून को रद्द करने का फ़ैसला किया गया है.

चीन अपने ही लोगों की कैसे कर रहा है 'जासूसी'

चीन की किसी सड़क पर आप निकलिए, चंद क़दमों पर आपको पहला, दूसरा और तीसरा सीसीटीवी कैमरा आप पर नज़र गड़ाए मिलेगा.

कुछ ही मिनट लगेंगे और पुलिस को आपके बारे में करीब हर बात पता लग जाएगी. ये चीन है जो दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे जटिल वीडियो सर्विलेंस नेटवर्क बना रहा है. चीन ने फ़िलहाल 170 मिलियन यानी 17 करोड़ सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं जो देश के 1.3 अरब लोगों पर नज़र रखने का काम कर रहे हैं.

नए साल से इन फ़ोन पर नहीं चलेगा व्हाट्सऐप

नए साल से इन फ़ोन पर नहीं चलेगा व्हाट्सऐप

अगर आप भी उन लोगों में से हैं जिनका काम व्हाट्सऐप के बिना नहीं चलता तो ये ख़बर आपके लिए है. कुछ फ़ोन में एक जनवरी 2018 से व्हाट्सऐप नहीं चलेगा.

आपका फ़ोन इसमें शामिल है या नहीं, यह पता करने के लिए अपने फ़ोन का ऑपरेटिंग सिस्टम जांच लें.

नए साल में व्हाट्सऐप कुछ पुराने प्लेटफ़ॉर्म्स को सपोर्ट करना बंद कर देगा.

कंपनी की वेबसाइट के मुताबिक़, 'ब्लैकबेरी ओएस10 और विंडोज़ 8 पर चलने वाले फ़ोन इसी सूची में हैं.'

वेबसाइट मानती है कि ये फ़ोन 'उनके इतिहास का हिस्सा रहे हैं लेकिन अब उनकी क्षमता इतनी नहीं रही कि आने वाले फ़ीचर्स को सपोर्ट कर सकें.'

नासा ने 8 ग्रहों के एक नए सौरमंडल की खोज की

नए सौरमंडल

अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक नए सौरमंडल के आठवें ग्रह की खोज की है. जो हमारे सौरमंडल के बराबर है.

हमारे सौरमंडल के बाहर खोजा गया यह अब तक का सबसे बड़ा सौरमंडल है.

केपलर-90 सौरमंडल के इस आठवें ग्रह को केपलर 90i नाम दिया गया है. यह सूर्य की तुलना में थोड़ा गर्म और बड़ा है. खगोलशास्त्री इसके चारों ओर मौजूद सात ग्रहों को पहले से ही खोज चुके थे.

8 ग्रहों वाले इस सौरमंडल में सभी ग्रह केपलर-90 सितारे की परिक्रमा कर रहे हैं.

फेसबुक लाइव वीडियो एप अब उपलब्‍ध होगा सैमसंग स्‍मार्ट टीवी पर

सैमसंग स्‍मार्ट टीवी

स्‍टोरी - फेसबुक को हम सभी उसके ख़ास फीचर्स और यूजर फ्रैंडली नेचर की वजह से जानते हैं। कुछ समय पहले फेसबुक ने लाइव वीडियो फीचर को यूजर्स के लिए पेश किया था जिसके अंतर्गत आप लाइव दिखा सकते हैं कि अभी आप क्‍या कर रहे हैं। अभी तक यह फीचर, मात्र मोबाइल और डेस्‍कटॉप ऐप पर ही मौजूद था लेकिन अब लाइव वीडियो कॉल की सुविधा, स्‍मार्टटीवी पर भी आ गई है।

सैमसंग में हाल ही में एक ऐसी एेप्लिकेशन आई है जिसके तहत आप इसमें फेसबुक लाइव चैट भी कर सकते हैं। 

17 रुपए में महीनेभर का और 200 रुपए में सालभर का इंटरनेट

इंटरनेट

रिलायंस जियो और एयरटेल, वोडाफोन जैसी कंपनियों के होश उड़ाने आई है एक और कंपनी। कनाडा की मोबाइल फोन कंपनी डेटाविंड मात्र 17 रुपए प्रति महीने की दर से डाटा दे सकती है।

रिलायंस जियो की सेवा के लिए 1 अप्रैल से शुल्क देना होगा, जिसमें 99 रुपए में यूज़र्स को मेंबरशिप मिलती है। लेकिन 17 रुपए के इस ऑफर को अब कौन टक्कर दे सकता है। डेटाविंड केवल 200 रुपए में पूरे साल का इंटरनेट डाटा देने का प्लान कर रही है। जिसके लिए कंपनी अपने दूरसंचार सेवा के कारोबार में 100 करोड़ रुपए तक निवेश करने की योजना है।

बिना स्मार्टफोन के होगी कैशलेस पेमेंट

बिना स्मार्टफोन के होगी कैशलेस पेमेंट

आईडीबीआई बैंक ने देश में एक शानदार सुविधा की शुरुआत की है, इससे अब आधार के जरिए भुगतान हो पाएगा। यह सब मुमकिन होगा आईडीबीआई बैंक की लॉन्च की गई देश की पहली आधार एप के जरिए। आईडीबीआई बैंक की यह नई एप उन लोगों को भी सक्षम बनाएगी जिनके पास स्मार्टफोन नहीं है। इस एप के जरिए बिना स्मार्टफोन के भी भुगतान किया जा सकेगा।

बता दें कि इससे पहले केंद्र सरकार ने सभी बैंकों से कहा था कि वित्तीय लेन-देन के लिए फिंगरप्रिंट्स वाले आधार एप को इस महीने के अंत तक लॉन्च करें। इसके साथ ही सभी बैंकों से यह भी कहा गया है कि वे भीम एप में 'पे टू आधार' फीचर को 31 मार्च से पहले जोड़ लें।

फ़ास्ट्रैक रिफ्लेक्स एक्टिविटी ट्रैकर लॉन्च, 7 दिनों का बैटरी बैकअप

फ़ास्ट्रैक रिफ्लेक्स एक्टिविटी

फ़ास्ट्रैक ने अपना नया एक्टिविटी ट्रैकर लॉन्च कर दिया है, इसकी कीमत 1,995 रुपए है। फ़ास्ट्रैक रिफ्लेक्स आपकी एक्टिविटी और स्लीप डाटा को ट्रैक करता है। फ़ास्ट्रैक का यह नया ट्रैकर आपको कई रंग वैरिएंट में मिल जाएगा। यह वैरिएंट दो रगों में आता है, इस बैंड का बाहर और अंदर का रंग अलग है। दिखने में यह बंद काफी स्मार्ट है और खास यूथ के लिए डिज़ाइन किया गया है।

कैसे इस्तेमाल करें आधार पेमेंट एप, क्या है इसका फायदा?

आधार पेमेंट एप

पिछले कुछ समय से सरकार देश में डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने पर जोर दे रही है। इसके लिए सरकार ने कई नई सेवाएं भी शुरू की हैं साथ ही भीम एप जैसी भी सुविधा उपलब्ध कराई है। डिजिटल पेमेंट को और बढ़ावा देने के लिए IDFC Bank भी एक नई और आसान सेवा के साथ आया है। जिसमें स्मार्टफोन नहीं बल्कि आधार से हो पाएगी पेमेंट।

आधार पे के जरिए अब व्यापारी ग्राहक के आधार नंबर और उसके साथ दर्ज हुए बायोमीट्रिक आंकड़े की मदद से भुगतान ले पाएंगे। इसके लिए ग्राहक को स्मार्टफोन या एप या फिर इंटरनेट की आवश्यता नहीं है। हालाँकि मर्चेंट के पास इस एप और इंटरनेट का होना जरुरी है।

अब याहू का नाम हो जाएगा 'अल्ताबा'!

अब याहू का नाम हो जाएगा 'अल्ताबा'!

याहू दुनिया के सबसे पॉपुलर सर्च इंजन में से एक है। गूगल के बाद याहू का ही नाम लिया जाता है। लेकिन कुछ समय से घाटे में चल रही इस कंपनी में काफी कुछ बदलने वाला है। जिसमें सबसे पहले आता है इसका नाम, अब आपका प्यारा याहू जल्द ही याहू से बदलकर अल्ताबा होने जा रहा है।

 

 

अब याहू का नाम हो जाएगा 'अल्ताबा'!

 

Pages