Blog

लम्बाई बढ़ाने के घरेलू उपचार

लम्बाई बढ़ाने के घरेलू उपचार

आज के दौर में हर आदमी चाहता है की उसकी लम्बाई अच्छी हो। जिन लोगों की हाइट कम होती है वे लोग अपने पर्सनालिटी में कुछ कमी सी महसूस करते हैं। ज्यादातर लोग यही सोचते हैं कि हम लोगों की लंबाई केवल 18 साल तक ही बढ़ सकती है पर ऐसा भी नहीं है कि 18 साल के बाद लम्बाई बिल्कुल नहीं बढ़ाई जा सकती हैं नियमित रूप से व्यायाम, पौष्टिक आहार के सेवन और कुछ नियमों का पालन करके हम अपनी लम्बाई को अवश्य ही कुछ और इंच तक बढा सकते हैं।

पढ़ाई का सही वक्त

पढ़ाई का सही वक्त

पढ़ाई के लिए रूटीन जब भी बनाए तो सुबह का समय को ज़्यादा महत्व दे. सुबह का वक्त सबसे अच्छा है पढ़ने के लिए। इस समय माइंड पूरा फ्रेश रहता हैं और ग्रॅसपिंग पावर ज़्यादा होती हैं। दिन का 5 घंटा और सुबह का 1 घंटा बराबर हैं।

कैसे बढ़ाओगे कॉन्सन्ट्रेशन पावर?

कैसे बढ़ाओगे कॉन्सन्ट्रेशन पावर?

जब तुम अपनी पसंद की फिल्म देखने जाते हो तो तीन घंटे उसी में आंखें गड़ाए बैठे रहते हो। उसी तरह क्रिकेट मैच में खाना-पीना छोड़कर एकटक उसे देखते रहते हो। तुम खुद को उसी में लगा देते हो, लेकिन पढ़ाई करते हुए ध्यान बंटने में ज्यादा टाइम नहीं लगता। अगर मीलों दूर म्यूजिक बज रहा हो तो जैसे पढ़ाई से ध्यान हटाने का बहाना मिल गया हो, तुम्हारा ध्यान तुरंत पढ़ाई से हट जाता है।

पहले समझो कॉन्सन्ट्रेशन का मीनिंग 
इसे समझने के लिए हमें ‘रुचि’ को अच्छे ढंग से समझना होगा। इमेजिन करो कि तुम्हें पिछले वीक पार्टी के फोटो दिए जाते हैं, जिसमें तुम भी थे। तुम उन फोटो में क्या देखोगे?

Tags: 

ज़ुकाम क्यों होता है ?

जुकाम के कारण, जुकाम का देसी इलाज, बार बार सर्दी होने का कारण, जुकाम के लिए योग, बार बार जुकाम होने के कारण, गर्मी मे जुकाम, बार बार सर्दी होने का क्या कारण है, जुकाम कैसे होता है

ज़ुकाम और गले में जलन एक आम बीमारी है जो शयद संसार में हर किसी को भोगनी पड़ती है। पूरे संसार में इसके उपर किसी भी तरह की कोई खोज बीन नहीं की गयी और ना ही इसका इलाज सामने आया है और जो भी इलाज ज़ुकाम को लेकर किया जाते है उससे कफ अंदर ही दब जाता है पूरी तरह बाहर नहीं निकल पाता
ज़ुकाम का इलाज न ढूँढ पाने का एक कारण यह भी है कि आज तक ये कोई नहीं बता पाया की आखिर ज़ुकाम की वजह से गले में जलन क्यों होती है और जो कफ शरीर में से नाक के रास्ते निकलता है वह क्यों कैसे और कहाँ बनता है

अच्छे नंबर लाने है तो एक्जाम में पीएं पानी

अच्छे नंबर लाने है तो एक्जाम में पीएं पानी

परीक्षा का नाम सुनते ही बच्चों में अक्सर टेंशन होती है। टेंशन में कभी-कभी सभी प्रश्नों के उत्तर आने पर भी उनका एक्जाम अच्छा नहीं हो पाता है और नंबर कम आते हैं। लेकिन हाल ही में हुए शोध में यह साबित हुआ है कि एक्जाम के बीच में पानी पीने से अच्छे नंबर लाए जा सकते हैं।वैज्ञानिकों के मुताबिक अगर आप परीक्षा कक्ष में अपने साथ पानी की बोतल लेकर जाते हैं तो इससे आपके नंबर में दस फीसदी की बढ़ोत्तरी हो सकती है।

घुमक्कड़-शास्त्र – (लेखक – राहुल सांकृत्यायन)

राहुल सांकृत्यायन पुस्तकें, राहुल सांकृत्यायन के यात्रा वृतांत का सारांश, राहुल सांकृत्यायन के विचार, राहुल सांकृत्यायन का यात्रा वृतांत, राहुल सांकृत्यायन जीवन परिचय, किन्नर देश में राहुल सांकृत्यायन, राहुल सांकृत्यायन के उपन्यास, राहुल सांकृत्यायन की रचनाएँ

घुमक्कड़ के स्वावलंबी होने के लिए उपसुक्त कुछ बातों को हम बतला चुके हैं। क्षौरकर्म, फोटोग्राफी या शारीरिक श्रम बहुत उपयोगी काम हैं, इसमें शक नहीं; लेकिन वह घुमक्कड़ की केवल शरीर-यात्रा में ही सहायक हो सकते हैं। उनके द्वारा वह ऊँचे तल पर नहीं उठ सकता, अथवा समाज के हर वर्ग के साथ समानता के साथ घुल-मिल नहीं सकता। सभी वर्ग के लोगों में घुल-मिल जाने तथा अपने कृतित्व को दिखाने का अवसर घुमक्कड़ को मिल सकता है, यदि उसने ललित कलाओं का अनुशीलन किया है। हाँ, यह अवश्य है कि ललित-कलाएँ केवल परिश्रम के बल पर नहीं सीखी जा सकतीं। उनके लिए स्वामाविक रुचि का होना भी आवश्‍यक है। ललित-कलाओं में नृत्य, वाद्य और

चीँजे जो हम प्रकृति से सीख सकते है

चीँजे जो हम प्रकृति से सीख सकते है

Friends आप सबको प्रकृति और मनुष्य का क्या relation है ये तो पता ही होगा । पर मै आज आपसे मनुष्य और प्रकृति के एक अलग ही relationship के बारे मे बात करूँगा। और वो रिलेशन है Teacher और Student का । जी हाँ , प्रकृति ही हमारी सबसे बड़ी Teacher है। ये हमे हर पल कुछ न कुछ सीखाती रहती है बस जरूरत है तो थोड़ा ध्यान देने का । आज तक मनुष्य ने जो कुछ भी हासिल किया है वो प्रकृति से सीख लेकर ही किया है। न्यूटन को gravity का पाठ प्रकृति ने ही सीखाया है। कई अविष्कार भी प्रकृति से प्रेरित है। इन सबके अलावा प्रकृति हमे ऐसे गुण भी सीखाती है जिससे हम अपने जीवन मे सकारात्मक परिवर्तन ला सकते है और इसे बेहतर बना

आत्मविश्वास सफलता की कुंजी है

आत्मविश्वास सफलता की कुंजी है

कहा जाता है आत्मविश्वास सफलता की कुंजी है जी हाँ यह सच है, यदि आप सफल होना चाहते है तो सर्वप्रथम आत्मविश्वास जरुरी है आपने ये भी जरूर ही सुना होगा कि आधी जंग आत्मविश्वास से ही जीत ली जाती है, तो अपने ऊपर यकीन करें कि आप कर सकते है हममें से ज्यादातर लोग यह कहते रहते है “मुझे याद नहीं होता” पढते वक्त भी अपने मन में कहते रहते है “मुझे याद नहीं होगा” ,याद रखिये हमारा दिमाग वही काम करता है जो इसे हम करने को कहते है यदि हम कहेंगें कि हमें याद करना है तो दिमाग याद कर लेगा अगर पहले ही कह देंगें याद नहीं होगा तो याद नहीं करेगा इसीलिये अपने आप से कहना शुरु कीजिये “मुझे सब याद रहता है”,”मुझे याद हो जा

अपनी पढाई एक शांत और अलग जगह करे

अपनी पढाई एक शांत और अलग जगह करे

अगर आप अपना कोसेंट्रेशन काफी अच्छा करना चाहते हैं तो अपनी पढ़ाई करने के लिए एक शांत अलग जगह देखे जिस जगह आपको स्टडी में कंसन्ट्रेट करने में आसानी हो| यहाँ हम कुछ टिप्स व ट्रिक्स बताएंगे जिससे आप अगली बार न सोचे की स्टडी कैसे करे|

बेहतर ढंग से पढ़ाई कैसे करे

बेहतर ढंग से पढ़ाई कैसे करे

सोचो कि एक हफ्ते बाद तुम्हारा एग्जाम है। तुम्हें सारे सब्जेक्ट्स की तैयारी करनी है। अब तुम कौन सा तरीका अपनाओगे?

तरीका 1- एक दिन में एक टॉपिक पढ़ो और छठे दिन अंतिम रूप से सभी विषय रिपीट करो। 
तरीका 2- सभी विषयों को एक साथ पढ़ो, जैसे दो घंटे मैथ्स, फिर अगले दो घंटे इतिहास आदि।

Pages