Anand's blog

रजनीशपुरम के बर्बाद होने के पीछे शीला का काला सच

रजनीशपुरम के बर्बाद होने के पीछे  शीला का काला सच

मां आनंद शीला 1981 से 1985 तक ओशो रजनीश की सचिव थी। इन चार साल में उसने ओशो को कई बार मारने का प्रयास किया। यही नहीं, ओशो तक पहुंच बनाने और कम्यून की सर्वेसर्वा बनने के लिए उसने ओशो संन्यासियों को धीमा जहर देकर मारने का भी प्रयास किया।

सत्ता और ध्यान मिलने की अपने लालच को छोड़कर शीला का एक अन्य प्रयोजन भी था ओशो रजनीश का खात्मा करने के लिए सरकार की मदद करना। लेकिन रजनीश के खात्मे तक भी शीला के कम्यून की सर्वेसर्वा बने रहने की योजना सफल नहीं हो पाई।

बिजनेस शुरू करने से पहले जानें कानून का फंडा

बिजनेस शुरू करने से पहले जानें कानून का फंडा

स्टार्टअप शुरू करने के बाद सबसे बड़ी चुनौती उससे जुड़ी औपचारिकताओं को पूरा करने की है। रजिस्ट्रेशन की रस्सी जकड़ने लगती है तो परमिशन का पंगा निपटाने में पसीने छूट जाते हैं। एक्सपर्ट्स की मदद से अमित मिश्रा बता रहे हैं कैसे निपटें स्टार्टअप के आड़े आने वाली लीगल अड़चनों से: बूझें स्टार्टअप की लीगल पहेली अक्सर देखने में आता है जब कोई स्टार्टअप बड़ा होने लगता है तो रजिस्ट्रेशन और परमिशन के भंवर में फंस कर रह जाता है। इससे बचने का सही तरीका यह है कि शुरुआत से ही कुछ वक्त और पैसा अपनी कंपनी के हिसाब से इनवेस्ट करें। स्टार्टअप की शुरुआत में दो तरह की कानूनी अड़चनें आती हैं: - रजिस्ट्रेशन: यह मुख्

घुमक्कड़-शास्त्र – (लेखक – राहुल सांकृत्यायन)

राहुल सांकृत्यायन पुस्तकें, राहुल सांकृत्यायन के यात्रा वृतांत का सारांश, राहुल सांकृत्यायन के विचार, राहुल सांकृत्यायन का यात्रा वृतांत, राहुल सांकृत्यायन जीवन परिचय, किन्नर देश में राहुल सांकृत्यायन, राहुल सांकृत्यायन के उपन्यास, राहुल सांकृत्यायन की रचनाएँ

घुमक्कड़ के स्वावलंबी होने के लिए उपसुक्त कुछ बातों को हम बतला चुके हैं। क्षौरकर्म, फोटोग्राफी या शारीरिक श्रम बहुत उपयोगी काम हैं, इसमें शक नहीं; लेकिन वह घुमक्कड़ की केवल शरीर-यात्रा में ही सहायक हो सकते हैं। उनके द्वारा वह ऊँचे तल पर नहीं उठ सकता, अथवा समाज के हर वर्ग के साथ समानता के साथ घुल-मिल नहीं सकता। सभी वर्ग के लोगों में घुल-मिल जाने तथा अपने कृतित्व को दिखाने का अवसर घुमक्कड़ को मिल सकता है, यदि उसने ललित कलाओं का अनुशीलन किया है। हाँ, यह अवश्य है कि ललित-कलाएँ केवल परिश्रम के बल पर नहीं सीखी जा सकतीं। उनके लिए स्वामाविक रुचि का होना भी आवश्‍यक है। ललित-कलाओं में नृत्य, वाद्य और

कौन कहता है कि होली सिर्फ़ हिंदुओं का त्योहार है?

कौन कहता है कि होली सिर्फ़ हिंदुओं का त्योहार है?

ईमान को ईमान से मिलाओ

इरफ़ान को इरफ़ान से मिलाओ

इंसान को इंसान से मिलाओ

गीता को क़ुरान से मिलाओ

दैर-ओ-हरम में हो ना जंग

होली खेलो हमारे संग

नज़ीर ख़य्यामी

होलिका ? एक पौराणिक तथ्य !

होलिका ? एक पौराणिक तथ्य !

यह योजना होलिका ने प्रह्लाद को आग से बचाने के लिए बनायी थी , जिसकी भनक भी हृरण्यकश्यप को न थी ।
जब होलिका और प्रह्लाद को जलाया गया तब होलिका ने अपनी दिव्य चादर मे प्रह्लाद को लपेट लिया और स्वयं सती हो गयी । भक्त प्रह्लाद पूर्णतया सुरक्षित बच गये ।
यह होलिका का महान त्याग व बलिदान था ।
आप सभी मित्रो को हमारी होली की ढेर सारी हार्दिक शुभकामनाए ।
धन्यवाद !

 

 

इन स्त्रियों से कभी ना बनाएं शारीरिक संबंध

इन स्त्रियों से कभी ना बनाएं शारीरिक संबंध

इन स्त्रियों से कभी ना बनाएं शारीरिक संबंध

अविवाहित स्त्री

● पुरुष को कभी भी स्त्री के साथ बिना विवाह किए शारीरिक संबंध बिल्कुल नहीं बनानी चाहिए। चाहे वह संबंध आपसी समझौते से बने या फिर जबरदस्ती। अविवाहित स्त्री के साथ संबंध बनाना एक बहुत बड़ा महापाप होता है। यदि कोई पुरुष ऐसा महापाप कर भी देता है। तो उस पुरुष को उस स्त्री के साथ ही विवाह करना चाहिए।

विधवा स्त्री

फर्स्ट-एड: जान बचाने का ज्ञान

फर्स्ट-एड: जान बचाने का ज्ञान

छोटी चोट, छोटी जलन, बीपी का अचानक बढ़ जाना जैसी समस्याएं बड़ी परेशानी में तब्दील न हो, इसलिए जरूरी है फौरी इलाज। यह इलाज तब ही मुमकिन है, जब हमारे पास फर्स्ट एड का सामान हो और हम उनका सही तरीके से इस्तेमाल करना जानते हों। ऐसी ही किसी इमर्जेंसी की स्थिति में कैसे करें फर्स्ट एड, एक्सपर्ट्स से बात करके जानकारी दे रही हैं प्रियंका सिंह

​LED की लीड

​ LED की लीड

एक साधारण-सी जरूरत के मिशन बन जाने की कहानी है LED रेवलूशन। उजाला यानी उन्नत ज्योति बाय अफर्डेबल फॉर ऑल योजना वाकई लोगों के घरों में उजाला भर रही है। इसके तहत देश में 77 करोड़ एलईडी बल्ब लगाने की योजना है और अब तक करीब 26 करोड़ से ज्यादा बल्ब लगाए भी जा चुके हैं। इस मिशन ने बिजली और पैसों की बचत के साथ-साथ प्रदूषण भी कम किया है। देश में हो रहे LED रेवलूशन का जायजा ले रहे हैं लोकेश के. भारती

Pages