अचानक बढ़ जाती है दिल की धड़कन तो हो सकती है ये खतरनाक बीमारी

दिल हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। जब तक ये दिल धड़क रहा है हमारे शरीर में जान है और जब इसका धड़कना बंद हो जाए तो इंसान का सारा शरीर काम करना बंद कर देता है और उसकी मौत हो जाती है। इसलिए दिल का लगातार धड़कते रहना हमारी जिंदगी के लिए बहुत जरूरी है। कई बार कुछ शारीरिक परेशानियों की वजह से दिल की धड़कन घटती-बढ़ती रहती है। दिल की धड़कन के घटने या बढ़ने से कई तरह की गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती हैं। ये स्थिति दिल के साथ-साथ शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों जैसे फेफड़ा, लिवर, किडनी और दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकती है।

 

इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया

इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया (आइएसटी) भी हार्ट से संबंधित एक ऐसी ही समस्‍या है। टेककार्डिया, शरीर की सामान्य प्रतिक्रिया का हिस्सा हो सकता है। अक्‍सर चिंता, बुखार, खून का ज्यादा बहाव व थकावट वाली एक्सरसाइज के बाद हृदय की गति बढ़ जाती है। साथ ही कई चिकित्सीय कारणों के चलते भी टेककार्डिया की समस्या हो जाती है जैसे थायराइड, हाइपरथाइराइडिज्म आदि। कई बार व्यक्ति में निमोनिया होने के कारण वह सांस लेने में असमर्थ हो जाता है जिससे टेककार्डिया की शिकायत हो सकती है।

रोग के लक्षण

टेककार्डिया साइनस और नॉन साइनस दो प्रकार का होता है। साइनस टेककार्डिया एप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया और इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया (आइएसटी) दो तरह का होता हैं। इनएप्रोप्रिएट साइनस टेककार्डिया को पहली बार 1979 में परिभाषित किया गया था। आइएसटी अक्‍सर युवा महिलाओं में पायी जाने वाली समस्‍या है। यह समस्‍या क्‍यों होती है इसके बारे में अभी स्‍पष्‍ट जानकारी नहीं है। सामान्‍यतया आइएसटी की समस्‍या की पहचान 20 साल और 30 साल के युवाओं में की जाती है। धकधकी (दिल का तेजी के साथ धड़कना) की समस्‍या, रोगी के सीने में दर्द और गर्दन में स्‍पन्‍दन, थकावट और पसीने आने के लक्षण, मरीज को हृदय गति तेज महसूस होना, हाइपरथाइराइडिज्म, वजन में कमी होना, बुखार का बने रहना, चिंता बनी रहना आदि इसके सबसे मुख्य लक्षण होते है।

रोग के कारण

इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया क्‍यों होता है, अभी शोधकर्ता इस निष्‍कर्ष पर नहीं पहुंच सके हैं। इसमें हार्ट रेट बिना किसी खास वजह के सामान्‍य से तेज हो जाती हैं और हार्ट रेट 100 बीट प्रति मिनट और इससे ऊपर तक पहुंच जाती है। यदि किसी में इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया के लक्षणों में से कोई लक्षण पाया जाता है तो 24 घंटे तक मॉनीटरिंग करके आइएसटी की पहचान की जा सकती है। आइएसटी के मरीजों की सामान्‍यतया प्रति दिन की हार्ट रेट 100 बीट प्रति मिनट से भी अधिक होती है। जब इस तरह के मरीज बिस्‍तर पर लेट जाते हैं तो इन्‍हें अपनी हार्ट रेट नार्मल लगती है। आइएसटी के मरीज को कई बार सोने के दौरान अपनी कम हार्ट बीट महसूस होती है। जबकि देखा जाता है कि उसकी हार्टबीट 130 तक होती है।

रोग का उपचार

आइएसटी का रोगी को शारीरिक श्रम से परहेज करना चाहिए। इनएप्रोप्रीएट साइनस टेककार्डिया लंबे समय तक बनी रहने वाली समस्‍या है। इसलिए इसका उपचार भी लंबे समय तक चलता है। आइएसटी का उपचार दवाईयों के द्वारा या ओपन हार्ट सर्जरी के द्वारा किया जाता है। हालांकि ऐसा कम देखा गया है कि ओपन हार्ट सर्जरी की कम ही जरूरत पड़ती है। इसके मरीजों का उपचार चिकित्‍सक अधिकतर दवाईयों द्वारा ही करते हैं।

यदि आपको इनमें से इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया का कोई भी लक्षण अपने शरीर में लगता है तो 24 घंटे तक अपने शरीर की मॉनीटरिंग करें। इसके बाद तुरंत चिकित्‍सक से परामर्श करें।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 60,079 57
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 60,096 47
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 26,992 27
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 18,033 26
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 27,093 25
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 18,994 24
तिल तेल अमृत 38 20
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 6,405 18
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 4,605 17
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 8,184 17
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 3,580 16
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 5,698 15
शिवलिंगी बीज एक आयुर्वेदिक औषधि हैं 34 14
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 5,622 14
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 10,023 14
झाइयां होने के कारण 7,078 13
कद्दू के औषधीय गुण 36 12
जामुन के गुण और फायदे 3,274 12
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 5,774 12
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 4,784 12
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 22,435 12
हैल्दी बालों के लिए डाइट 211 12
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 6,479 12
गले में मछली का कांटा फंस जाए तो करें ये काम 1,265 11
सुबह उठ कर खाली पेट कैसे पानी पीना चाहिए 1,775 11
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 2,498 11
कमर पतली बनाने के लिए करें अतिसरल सुझाव और जाने इसको बनाने के तरीके 759 11
पेट दर्द या मरोड़ का कारण व उपचार 770 10
आखों के काले घेरे दूर करिये 1,271 10
मस्सा या तिल हटाना 908 10
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 6,336 10
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 1,948 10
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 4,580 9
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 7,926 9
माइग्रेन के दर्द से राहत देता है ये आहार 1,889 9
गूलर लंबी आयु वाला वृक्ष है 3,991 9
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,942 9
स्त्री यौन रोग (श्वेत प्रदर) के लिए औषधि ॥ 1,104 9
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,908 9
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,909 9
क्यों मच्छर के काटने पर खुजली होती है जानिए 1,480 9
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 2,438 8
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 10,189 8
बड़ी उम्र की महिलाओं से डेटिंग के टिप्स 1,941 8
बच्चों में टाइफाइड बुखार होने के कारण 1,464 8
प्राकृतिक चिकित्सा 1,597 8
करेला स्वस्थ के लिए किस प्रकार लाभदायक 1,196 8
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 2,530 8
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 1,321 8
ये चीजें बताएंगी आपके प्यार की गहराई 1,320 8