आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में

कुटकी का सही समय : यह बरसात में होनेवाला छोटा पौधा है। कुटकी के पत्ते 2-4 इंच लम्बे, अण्डाकार, जड़ की अपेक्षा आगे की ओर कुछ चौड़े, चिकने, झालरदार होते हैं। पौधे के बीच से निकले डंठल पर नीले या सफेद रंग के अनेक फूल लगते हैं। कुटकी के फल आकार और रंग में कुछ जौ से मिलते-जुलते होते हैं। कुटकी का जड़ बहुत कड़वी, 6-7 इंच तक लम्बी, अंगुली की तरह मोटी, खुरदरी, सूक्ष्म ग्रन्थियुक्त और भूरे रंग की होती है।

  कुटकी का परिचय इस प्रकार है  : 1. इसे तिक्त (संस्कृत), कुटकी (हिन्दी), कटकी (बंगला), काली कुटकी (मराठी), कडू (गुजराती), कडुगुरोहिणी (तमिल), कटुकी (तेलुगु), खरबके हिन्दी (अरबी) तथा पिक्रोराईजाकुरो (लैटिन) कहते हैं।

यह हिमालय पर 6-14 हजार फुट की ऊँचाई पर कश्मीर से सिक्किम तक प्राप्त होती हैं।

रासायनिक संघटन इस प्रकार : इसकी जड़ में एक कड़वा सत्त्व पिक्रोराइजिन 15 प्रतिशत, केथेर्टिक एसिड 9 प्रतिशत, कुल ग्लूकोज, मोम आदि पदार्थं होते हैं।

कुटकी के गुण यह है : यह स्वाद में कड़वी, पचने पर कटु तथा रूखी, हल्की और शीतल है। इसका मुख्य प्रभाव पाचन-संस्थान पर भेदक (दस्त लाने वाला) और विरेचक रूप में पड़ता है। यह अग्निदीपक, यकृत-उत्तेजक, हृदय-बलदायक, रक्तशोधक, शोथहर, रक्त-भारवर्धक (ब्लडप्रेशर बढ़ानेवाला), स्त्रीदुग्धशोधक, मेदहर, कफनि:सारक, कटु-पौष्टिक, दाहशामक, ज्वरहर तथा कुष्ठहर है।

  • कुटकी के लाभ इस प्रकार 
  •  सफेद दाद : नीम की छाल, गिलोय, हल्दी, बच, त्रिफला और कुटकी इन्हें बराबर मात्रा में लेकर कूटपीस कर लेप बना लें। दाद वाले जगह पर इस लेप को लगाने से सफेद दाद चले जाते हैं।
  • मासिक धर्म में कष्ट : 2 माशा कुटकी चूर्ण शहद के साथ देने से मासिक धर्म में होने वाला दर्द दूर हो जाता है।
  •  एक्जिमा में फायदेमंद : कुटकी और चिरायता को मिलाकर उसका लेप लगाने से एक्जिमा ठीक हो जाता है।
  •  गठिया रोग : 2-4 माशा खुरासानी कुटकी को शहद के साथ रोजाना सेवन करने से गठिया रोग दूर हो जाता है।
  • पित्तज्वर : कुटकी-चूर्ण 2 माशा, शर्करा 6 माशा मिलाकर देने से रेचन होकर ज्वर शान्त होता है।
  • हृदय-रोग : 2 माशा कुटकी चूर्ण के साथ मुलेठी का चूर्ण 3 माशा मिलाकर मिश्री के शर्बत के साथ देने से हृदय की गति कम होती है, पर शक्ति बढ़ती है। रक्तचाप (ब्लडप्रेशर) बढ़ता है एवं दीपन, पाचन होकर दस्त होते हैं।
  • . यकृत-विकार : यकृत-विकार या हाथ-पैरों की सूजन में कुटकी का प्रयोग करें।
  • . उदर-कृमि : उदर-कृमि, पित्त तथा कफ विकारों में कुटकी बहुत लाभ करती है।
  •  जलोदर : खुरासानी कुटकी 2 से 3 माशा शहद के साथ सेवन करने से जलोदर का रोग दूर हो जाता है।
  • उल्टी आना : कुटकी और शहद को मिलाकर चाटने से उल्टी आना बंद हो जाता है।

कुटकी के नुकसान : इनके अधिक सेवन से कंठशोथ, वमन तथा आक्षेप होने लगते हैं। इनके निवारणार्थ बादाम का तेल मस्तगी-चूर्ण के साथ दें।

Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total viewssort descending Views today
हर बीमारी का ताल्लुक़ विटामिन डी से नहीं 94 0
'ब्रेड में कैंसर पैदा करने वाले रसायन,' होगी जांच 105 0
बच्चों को खिलाएं ये चीजें 2 दिन में मर जाएंगे पेट के कीड़े 122 0
जापानी प्रोफेसर ने आश्चर्यजनक शोध किया। 123 0
प्रेगनेंसी में डांस करने के तरीके 126 1
बताइए आपके बर्गर में क्या है ! 127 0
प्रेगनेंसी में डांस करने से मुझे क्या फायदे हैं? 129 0
मोटापा ले सकता है बच्चों की जान 136 1
शादी में जाइए, थोड़ा खाइए और थो़ड़ा फेंकिए... 137 0
दुबली रह कर दूर रहिए स्तन कैंसर से 140 0
बच्चों के मोटापे के लिए आप तो ज़िम्मेदार नहीं? 146 0
शरीर के अंदर देखने वाला कैमरा तैयार 146 1
संभलकर! हफ्ते में पीएंगे शराब के 7 पैग तो हो जाएंगे प्रोस्टेट कैंसर का शिकार 148 0
नेल रिमूवर के खत्म होने पर इन ट्रिक्स से साफ करें नेलपॉलिश 151 0
हर्निया परिचय कारण लक्षण भोजन पथ्य अपथ्य उपचार 151 0
वेलेंटाइन डे पर चाहिए बॉयफ्रेंड से तारीफ 152 0
विटामिन डी की कितनी मात्रा ज़रूरी 153 2
प्रेगनेंसी में किस प्रकार का डांस करना चाहिए? 154 0
*ऊर्जा का स्त्रोत है राजमा* 155 0
यदि आप झपकी नहीं लेतीं तो आप बहुत कुछ खो रही हैं 157 0
दवाएं जो बन गई थीं दर्द 163 1
कितना विटामिन डी सप्लीमेंट ठीक है? 165 0
बॉलीवुड एक्ट्रेस में बढ़ रहा है कपिंग थैरेपी का क्रेज, जानिए इसके फायदे 166 0
दालचीनी वाले दूध में छिपा है सेहत और खूबसूरत त्वचा का राज़ 166 0
क्यों होता है अल्जाइमर 168 0
क्या होती है नेगेटिव कैलोरी? 170 1
पुदीना खाने के औसधीय फायदे 170 0
ऑफिस में स्ट्रेस से बचने के लिए खाने से ज्यादा नींद है जरूरी 170 0
डिप्रेशन पर विटामिन डी का असर 172 0
योग का चमत्कार 173 0
बिमारियों का घर हैं ब्रेड 176 0
बिना एक्सरसाइज किए 1 महीने में घटाएं जांघों और कूल्हों की चर्बी! 179 0
विटामिन डी सप्लीमेंट- कितना फ़ायदेमंद 179 0
पढ़ाई का सही वक्त : जेईई मेन में सफल होने के लिए आखिरी वक्त की तैयारी वाले टिप्स 180 1
प्रकति स्वयं चिकित्सक है 180 0
हैल्दी बालों के लिए डाइट 182 0
अंजीर में फाइबर उच्च मात्रा में होता है 184 3
क्या होता है जब आप नियमित खाते हैं साबूदाना 186 2
स्ट्रेस दूर करने के घरेलू टिप्स 190 0
विटामिन डी के फ़ायदे 190 0
ठण्डा मतलब टॉयलेट क्लीनर, नारियल मतलब रोग क्लीनर 191 0
नवरात्रि में उपवास के दौरान खाएं काजू, पास नही आएगी कमजोरी.. 192 1
मिनटों में गायब हो जाएंगे 'लव बाइट' के निशान, करें ये आसान काम 193 2
नींद ना आने की कई वजहें हैं 193 0
कम सोने वाले हो जाएं सावधान 195 0
चूने के चमत्कारी फायदे 195 0
मैथी के फायदे और गुण 196 3
खाना खाने का सही तरीका | स्वामी रामदेव 197 0
त्‍वचा के सभी रोगों का नाश करती है मड थैरेपी 198 0
अगर चाहिए सर्वगुण सम्पन्न पति तो पहले जानें ये बातें 199 0