आखें लाल हो तो करें ये उपाय

आँखों के रोग (aankh ke rog) में आँखों का लाल होना एक ऐसी समस्या है जिसमें आपकी आँखों में जलन (aankhon mein jalan) एवं खुजलाहट होती है। इसे कंजंक्टिवाइटिस कहते हैं और इसके होने के कई कारण होते हैं जैसे एलर्जी, बैक्टीरिया और वायरस और धुल, प्रदूषण, मेकअप, धुएं और आँखों के ड्राप से ये स्थिति और भी गंभीर हो जाती है। इसमें आँखों में दर्द, आँख लाल होना,आँख से पानी आना,खुजली और जलन जैसे लक्षण देखे जाते हैं।

आँख की बीमारी, अगर ये स्थिति वायरस के कारण हुई है तो पहले यह एक आँख में होती है और फिर दुसरे में फैलती है। बैक्टीरिया के संक्रमण की स्थिति में दोनों ही आँखें एक साथ प्रभावित होती हैं। नीचे इस स्थिति के उपचार के कुछ आसान उपाय दिए जा रहे हैं।

आँखों के लाल होने को कंजंक्टिवाइटिस (conjunctivitis) कहते हैं, जिसके अंतर्गत कांजन्क्टिवा (conjunctiva) की लाल होने या सूजने की समस्या उत्पन्न होती है। यह एक प्रकार की म्यूकस मेम्ब्रेन (mucus membrane) होती है, जो आँखों की पलकों और आँखों की सतह के पास होती है। आँखों की बनी हुई रेखा आमतौर पर बिलकुल साफ़ होती है, और अगर चिडचिडापन या जलन की समस्या उत्पन्न हो तो यह रेखा लाल और सूजी हुई हो जाती है।

कारण 

आँखों का लाल होना काफी सामान्य समस्या है और यह 7 से 10 दिनों में बिना किसी उपचार के खुद ब खुद ठीक हो 

  • आंसुओं में कमी की वजह से आँखों का सूखना। इसका मुख्य कारण हवा और सूरज से आँखों का अतिरिक्त संपर्क होना है।
  • किसी प्रकार की एलर्जी (allergy) होना।
  • वायरस या बैक्टीरिया (virus or bacteria) से पैदा हुआ संक्रमण।
  • रसायन या धुंए के संपर्क में आना।

वायरल और बैक्टीरियल कारणों से आँखों में आया लालपन संक्रामक होता है और काफी आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फ़ैल सकता है। यह हाथों को ठीक से ना धोने, तौलिये और नहाने के कपड़े आदि बांटने से फैलता है और इसीलिए इन चीज़ों से परहेज़ करना अच्छा होता है। वायरल रूप से आँखों का लाल होना अडेनो वायरस (adenovirus) की वजह से होता है, जो एक सामान्य साँसों में पलने वाला वायरस है। यह गले की सूजन या सांसों के संक्रमण का कारण बनता है।

लक्षण 

  • आँखों की पलकों में सूजन आना
  • कानों के सामने के भाग का सूजना और नर्म पड़ना
  • साफ़, गाढ़ा और हलके सफ़ेद रंग का द्रव्य निकलना
  • आँखों के सफ़ेद भाग में लालपन आना
  • आँखों की पलकों में खुजली और जलन होना
  • काफी ज़्यादा आंसू निकलना।

घरेलू नुस्खे 

ठन्डे मौसम की वजह से आँखों का लाल होना (Pink eye treatment in Hindi)

अगर आपको ठंडी हवा या ठंडे मौसम की वजह से आँखे लाल होने की समस्या होती है तो इसके उपचार का सीधा और आसान उपाय है ठण्ड या ठंडी जगह से बचाव. आँखों को सीधे ठंडी हवा के संपर्क में न आने दें, बाइक चलाते समय चश्मे का प्रयोग आवश्यक रूप से करें. ठण्ड के दिनों में ठंडी चीज़ों जैसे आइसक्रीम आदि न खाएं. ठंडा पानी न पीएं. ठंडी हवा या मौसम की वजह से आँखे लाल होने पर गर्म सेंक लेना लाभदायक होता है.

गर्म या ठंडी सेंक 

गुलाबी आँखों की वजह से आँखों में आई सूजन और आँखों का लाल होना ठीक करने के लिए गर्म या ठंडी सेंक का प्रयोग करें। एक साफ़ सूती का कपड़ा लें और उसे ठन्डे या गर्म पानी में डुबोएं। अतिरिक्त पानी को निचोड़ें और कपडे को अपनी बंद आँखों पर रखें। इस प्रक्रिया को दिन में 3 से 4 बार दोहराएं। यह उपचार आँखों में दर्द, आँख से पानी आना निकलने की समस्या का भी निदान करता है। दोनों आँखों में अलग कपड़ों का इस्तेमाल करें।

आँखों की देखभाल काली चाय से

गुलाबी आँखों पर काली चाय एक बढ़िया घरेलू औषधि है। यह अपने टैनिंस से आँखों की जलन और खुजली कम करता है और अपने बायो फ्लेवोनॉयड्स द्वारा वायरल संक्रमणों से लड़ता है।

2 काली चाय के बैग लें और उन्हें कुछ देर तक फ्रिज में रखें। इन्हें बाहर निकालकर अपनी आँखों पर 10 से 15 मिनट तक रखें। इस प्रक्रिया का दिन में 3 से 4 बार इस्तेमाल करें। आप कैमोमाइल टी या ग्रीन टी के बैग्स का भी प्रयोग कर सकते हैं।

खारे पानी का मिश्रण 

यह गुलाबी आँखों को घर बैठे ठीक करने की बेहतरीन विधि है। यह एक प्राकृतिक सफाई यंत्र की तरह काम करता है और समस्या का जल्दी निवारण करता है। एक कप शुद्ध पानी लें और उसमें आधे से एक चम्मच नमक डालें। अब इस मिश्रण को उबालें और ठंडा होने के लिए छोड़ दें। थोड़ी सी मात्रा लें और आँखों पर ड्रॉपर की तरह इस्तेमाल करें। अच्छे परिणामों के लिए दिन में कई बार इस विधि का प्रयोग करें।

आँखों की देखभाल बोरिक एसिड से 

बोरिक एसिड आँखों को ठीक करने का काफी प्रभावी तरीका है। यह एंटी बैक्टीरियल तथा एंटी फंगल गुणों के द्वारा खुजली,आँखों के लाल होने तथा जलन को कम करता है। 1 कप पानी उबालें और उसमें 1 चम्मच बोरिक एसिड डालें। अब सूती के बॉल द्वारा इस मिश्रण को अपनी आँखों पर लगाएं या फिर ड्रॉपर की मदद से इसका आई वाश की तरह प्रयोग करें। इसके बाद इसे गुनगुने पानी से धो दें और एक साफ़ कपडे से पोंछ लें। दिन में इस विधि का 2 से 3 बार उपयोग करें।

आँखों की देखभाल एलोवेरा से

एलोवेरा अपने एंटीसेप्टिक एवं एस्ट्रिंजेंट के गुणों से गुलाबी आँखें और उससे जुड़े लक्षणों को हटाता है। एलो वेरा के पौधे से जेल निकालें और इसे ताज़े पानी में डालें। इसे अच्छे से मिलाकर इस मिश्रण को आँख धोने के लिए एक ड्रॉपर की मदद से अपनी आँखों में डालें। आँख से पानी गिरना, इस उपचार का प्रयोग दिन में 3 से 4 बार करें।

शहद 

शहद आँखों के लाल होने की समस्या को दूर करने का काफी अच्छा उपाय साबित होता है। शहद में एंटी बैक्टीरियल, एंटी वायरल और जलनरोधी (antibacterial, antiviral, and anti-inflammatory) गुण होते हैं। ऐसा मुख्य रूप से इसमें मौजूद कंपाउंड डिहाइड्रोक्सीएसीटोन (compound dihydroxyacetone) की वजह से होता है। एक चौथाई चम्मच कच्चा शहद, एक चौथाई कप शुद्ध पानी और एक चुटकी नमक लें। कच्चे शहद और नमक को शुद्ध पानी में मिश्रित करें और इसे अच्छे से पूरी तरह मिला लें। इस बात को सुनिश्चित करें कि पानी पूरी तरह गर्म ना हो, क्योंकि इससे पानी के उपकारी गुणों का विनाश हो जाता है। इस मिश्रण की एक से दो बूँदें एक साफ़ ड्रॉपर (dropper) की मदद से दोनों आँखों में डालें और हर कुछ घंटों में इस प्रक्रिया को दोहराएं।

दूध और शहद 

दूध और शहद कंजंक्टिवाइटिस की स्थिति में आँखों को सूकून देते हैं और इनका उपचार करते हैं। शहद में काफी प्रभावी एंटी बैक्टीरियल गुण (anti-bacterial properties) होते हैं। शहद और दूध को बराबर मात्रा में लें और इनका प्रयोग करें। इस बात को सुनिश्चित करें कि दूध गर्म हो। इन दोनों को अच्छे से मिलाएं और तब तक हिलाते रहें, जब तक कि शहद दूध में अच्छी तरह से घुल ना जाए। आँखों की ड्रॉपर की मदद से 2 से 3 बूँदें लें और इन्हें कई बार अपनी आँखों में डालें। इस मिश्रण का प्रयोग एक सेंक की तरह करें। यह उपचार तुरंत काम करना शुरू करता है और 24 घंटों के अन्दर आपकी आँखों का लालपन दूर हो जाता है।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 39,935 54
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 30,455 33
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 3,792 31
मिनटों में गायब हो जाएंगे 'लव बाइट' के निशान, करें ये आसान काम 27 22
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 2,905 17
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 3,908 17
वजन बढ़ाने वाले हर्ब्स 82 17
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 13,874 16
जानिए अनार का जूस पीने के और अनार को खाने के फायदे 1,038 14
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 4,696 13
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 3,416 11
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 15,366 11
हैल्दी बालों के लिए डाइट 31 10
झाइयां होने के कारण 2,861 9
हार्ट अटैक से बचना है तो रोज़ पीजिये 3 से 5 बार कॉफी: शोध 2,056 9
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 18,247 9
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,343 9
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 2,867 9
जानें बीयर के बारें में 138 9
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 3,701 8
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 1,769 8
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 3,505 8
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 1,815 7
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 5,193 7
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,073 7
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 5,676 7
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 947 7
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 5,234 7
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 1,488 7
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 2,982 6
पोषाहार क्या है जानिए 707 6
सुबह उठते ही चेहरे पर दिखती है सूजन तो जरूर जानिए इसकी वजह 28 6
किडनी को ख़राब करने वाली है ये आदतें……. 1,341 6
एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे 996 6
क्या होती है नेगेटिव कैलोरी? 38 5
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,449 5
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 290 5
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 1,662 5
कब्‍ज के उपचार के घरेलू उपाय 1,062 5
जामुन के गुण और फायदे 1,949 5
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,508 5
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,326 5
क्यों जरूरी है विटामिन बी-12? 50 4
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 8,775 4
अखरोट खाने के कौन - कौन से फायदे और नुकसान होते है 1,207 4
बॉलीवुड एक्ट्रेस में बढ़ रहा है कपिंग थैरेपी का क्रेज, जानिए इसके फायदे 36 4
हाई बीपी और माइग्रेन में मेंहदी इस प्रकार फायदेमंद 625 4
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 1,561 4
सुपारी के सेवन से किया जा सकता है पागलपन को कम 562 4
क्या आपका बच्चा चाय पीता है, तो जरूर पढ़ें 59 4