आयुर्वेद में गाय के घी को अमृत समान बताया गया है

देशी गाय के घी से होने वाले लाभ

आयुर्वेद में गाय के घी को अमृत समान बताया गया है। हमारे घरों में बहुत से ऐसे लोग हैं जो  वीक्यूजेक्यूएन को नियक़्न्तृत रखने के प्रति सतर्कता  बरतते हैं और  घी को हाथ तक नहीं लगाते। पर अगर गाय के घी को नियमित रूप से अपने भोजन में शामिल किया जाए तो इससे वजन भी नियंत्रित रहता है और किसी भी प्रकार की बीमारी भी नहीं लगती। देशी घी का मतलब है गाय के दूध से बना शुद्ध घी, जो कि एक प्रकार की दवा भी माना जाता है। 

  • 1.गाय का घी नाक में डालने से पागलपन दूर होता है।
  • 2.गाय का घी नाक में डालने से एलर्जी खत्म हो जाती है।
  • 3.गाय का घी नाक में डालने से लकवा का रोग में भी उपचार होता है।
  • 4.(20-25 ग्राम) घी व मिश्री खिलाने से शराब, भांग व गांझे का नशा कम हो जाता है।
  • 5.गाय का घी नाक में डालने से कान का पर्दा बिना ओपरेशन के ही ठीक हो जाता है।
  • 6.नाक में घी डालने से नाक की खुश्की दूर होती है और दिमाग तरोताजा हो जाताहै।
  • 7.गाय का घी नाक में डालने से कोमा से बाहर निकल कर चेतना वापस लोट आती है।
  • 8.गाय का घी नाक में डालने से बाल झडना समाप्त होकर नए बाल भी आने लगते है।
  • 9.गाय के घी को नाक में डालने से मानसिक शांति मिलती है, याददाश्त तेज होती है।
  • 10.हाथ पाव मे जलन होने पर गाय के घी को तलवो में मालिश करें जलन ठीक होता है।
  • 11.हिचकी के न रुकने पर खाली गाय का आधा चम्मच घी खाए, हिचकी स्वयं रुक जाएगी।
  • 12.गाय के घी का नियमित सेवन करने से एसिडिटी व कब्ज की शिकायत कम हो जाती है।
  • 13.गाय के घी से बल और वीर्य बढ़ता है और शारीरिक व मानसिक ताकत में भी इजाफा होता है
  • 14.गाय के पुराने घी से बच्चों को छाती और पीठ पर मालिश करने से कफ की शिकायत दूर हो जाती है।
  • 15.अगर अधिक कमजोरी लगे, तो एक गिलास दूध में एक चम्मच गाय का घी और मिश्री डालकर पी लें।
  • 16.हथेली और पांव के तलवो में जलन होने पर गाय के घी की मालिश करने से जलन में आराम आयेगा।
  • 17.गाय का घी न सिर्फ कैंसर को पैदा होने से रोकता है और इस बीमारी के फैलने को भी आश्चर्यजनक ढंग से रोकता है।
  • 18.जिस व्यक्ति को हार्ट अटैक की तकलीफ है और चिकनाइ खाने की मनाही है तो गाय का घी खाएं, हर्दय मज़बूत होता है।
  • 19.देसी गाय के घी में कैंसर से लड़ने की अचूक क्षमता होती है। इसके सेवन से स्तन तथा आंत के खतरनाक कैंसर से बचा जा सकता है।
  • 20.घी, छिलका सहित पिसा हुआ काला चना और पिसी शक्कर (बूरा) तीनों को समान मात्रा में मिलाकर लड्डू बाँध लें। प्रातः खाली पेट एक लड्डू खूब चबा-चबाकर खाते हुए एक गिलास मीठा गुनगुना दूध घूँट-घूँट करके पीने से स्त्रियों के प्रदर रोग में आराम होता है, पुरुषों का शरीर मोटा ताजा यानी सुडौल और बलवान बनता है.
  • 21.फफोलो पर गाय का देसी घी लगाने से आराम मिलता है।
  • 22.गाय के घी की झाती पर मालिस करने से बच्चो के बलगम को बहार निकालने मे सहायक होता है।
  • 23.सांप के काटने पर 100 -150 ग्राम घी पिलायें उपर से जितना गुनगुना पानी पिला सके पिलायें जिससे उलटी और दस्त तो लगेंगे ही लेकिन सांप का विष कम हो जायेगा।
  • 24.दो बूंद देसी गाय का घी नाक में सुबह शाम डालने से माइग्रेन दर्द ठीक होता है।
  • 25.सिर दर्द होने पर शरीर में गर्मी लगती हो, तो गाय के घी की पैरों के तलवे पर मालिश करे, सर दर्द ठीक हो जायेगा।
  • 26.यह स्मरण रहे कि गाय के घी के सेवन से कॉलेस्ट्रॉल नहीं बढ़ता है। वजन भी नही बढ़ता, बल्कि वजन को संतुलित करता है ।यानी के कमजोर व्यक्ति का वजन बढ़ता है, मोटे व्यक्ति का मोटापा (वजन) कम होता है।
  • 27.एक चम्मच गाय का शुद्ध घी में एक चम्मच बूरा और 1/4 चम्मच पिसी काली मिर्च इन तीनों को मिलाकर सुबह खाली पेट और रात को सोते समय चाट कर ऊपर से गर्म मीठा दूध पीने से आँखों की ज्योति बढ़ती है।
  • 28.गाय के घी को ठन्डे जल में फेंट ले और फिर घी को पानी से अलग कर ले यह प्रक्रिया लगभग सौ बार करे और इसमें थोड़ा सा कपूर डालकर मिला दें। इस विधि द्वारा प्राप्त घी एक असर कारक औषधि में परिवर्तित हो जाता है जिसे त्वचा सम्बन्धी हर चर्म रोगों में चमत्कारिक कि तरह से इस्तेमाल कर सकते है। यह सौराइशिस के लिए भी कारगर है।
  • 29.गाय का घी एक अच्छा (LDL) कोलेस्ट्रॉल है। उच्च कोलेस्ट्रॉल के रोगियों को गाय का घी ही खाना चाहिए। यह एक बहुत अच्छा टॉनिक भी है।
  • 30.अगर आप गाय के घी की कुछ बूँदें दिन में तीन बार, नाक में प्रयोग करेंगे तो यह त्रिदोष (वात पित्त और कफ) को संतुलित करता है।
  • वंदे गौ मातरम् ।।
Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 42,786 75
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,432 43
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 47,863 39
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 19,857 38
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,022 33
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,218 15
हस्तमैथुन करने वाली महिलाएं होती है इन बीमारियों का शिकार 396 15
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,485 14
झाइयां होने के कारण 4,748 13
लड़कियों की शर्ट में पॉकेट क्यों नहीं होती ! आखिर क्या हैं राज 2,086 13
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,717 12
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,093 12
शरीर में रक्त की कमी का होना, रक्त की कमी पूरी करने के लिए क्या करें, जानें 1,208 11
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 4,988 10
माँ का दूध बढ़ाने के तरीके 4,434 10
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,004 10
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 6,971 10
फल और सब्जियों के 'रंगों' में छिपा है हमारे स्‍वास्‍थ्‍य का राज 1,593 8
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,300 7
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,705 7
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,658 7
अब नारियल बतायेगा ब्लड ग्रुप 2,708 7
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,693 6
चिकनपॉक्स (छोटी माता): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज 1,513 6
जानें आपके पैरों में झुनझुनाहट क्यों होती है और आपकी सेहत के बारे में क्या कहते हैं! 854 5
चने खाने के फायदे 1,792 5
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 2,852 5
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 9,813 5
आप अपने घर पर बालों में मेंहदी कैसे लगाए, मेंहदी लगाने के फायदे जानकर हैरान रह जायगे 831 5
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 6,856 5
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 2,557 5
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 6,576 5
यौन संबंध के दौरान दर्द का सच क्या है? 915 5
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 4,524 5
किस उम्र में न रखें व्रत 342 5
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,650 5
पोषाहार क्या है जानिए 1,120 4
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 2,530 4
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,607 4
थायराइड की समस्या और घरेलु उपचार 1,927 4
अपनी आँखों को रखे हमेशा सलमात 1,350 4
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,220 4
पायरिया के लक्षण और कारण 550 4
मियादी बुखार का कारण क्या है 3,572 4
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,583 4
आयुर्वेद में गाय के घी को अमृत समान बताया गया है 3,048 4
गूलर लंबी आयु वाला वृक्ष है 3,405 4
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 508 3
निम्बू है कई बिमारियों का इलाज 622 3
कलौंजी एक फायदे अनेक : कलयुग में संजीवनी है कलौंजी (मंगरैला) 761 3