एक माँ का अपने बच्चों के साथ सोना कितना जरूरी है आइए जानें इस प्रकार

एक माँ का अपने बच्चों के साथ सोना कितना जरूरी है आइए जानें इस प्रकार

माँ अपने बच्चो को स्लीपिंग का सीधा सा अर्थ है, अपने बच्चे के साथ सोना। क्योंकि, आजकल अधिकतर माँ कुछ ही दिनों में अपने बच्चे को खुद से अलग सुलाती हैं। लेकिन, क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है कि आपके बच्चे के लिए को-स्लीपिंग कितना फायदेमंद है।

हालांकि, भारत में बच्चों के साथ सोना सहर्ष स्वीकार किया गया है, लेकिन वहीं दूसरे देशों की बात करें तो वहां इसकी कोई मान्यता नहीं है। देखा जाए तो इसके दो मायने  हो सकते हैं। एक तो यह है कि आप अपने बच्चे को एक ही कमरे में सुलाते हैं, लेकिन आप दोनों का बेड एक-दूसरे से अलग हो सकता है। वहीं दूसरी ओर देखें तो माँ और बच्चे एक ही बेड पर साथ होते हैं। जिसे मेडिकल दृष्टिकोण से भी उचित माना गया है। आमतौर पर, अपने देश में जन्म के कुछ महीने तक माँ अपने बच्चों के साथ सोती हैं। वहीं उदाहरण के लिए, यदि बात करें दक्षिण भारत की तो यहाँ जन्म के तुरंत बाद से ही बच्चे को पालने में डालने की परंपरा है।

इतना ही नहीं, एक शोध में यह बात सामने आई है कि जो माँ अपने बच्चे को साथ में सुलाती हैं और उन्हें अच्छे से ब्रेस्टफीडिंग कराती हैं, तो उन बच्चों में अचानक से होने वाले मृत्यु सिंड्रोम का खतरा नहीं रहता है। साथ ही माँ के लिए भी बच्चों के साथ सोना इस मायने में भी फायदेमंद है क्योंकि, इससे माँ अपने बच्चे को समय से ब्रेस्टफीडिंग करा सकती हैं। जिससे न केवल बच्चे का इम्युनिटी सिस्टम मजबूत होता है बल्कि, माँ में ब्रेस्टफीडिंग कराने से ब्रेस्ट कैंसर जैसी बिमारियों का खतरा भी कम रहता है।   

ऐसे में निचे को-स्लीपिंग के कुछ फायदे बताए जा रहें हैं, जिसे हर महिलाओं को ध्यान में रखना जरूरी है, जिनमें निम्न शामिल हैं-

शांतिपूर्वक नींद लेना

एक शोध में यह बात सामने आई है कि जो बच्चे अपने माँ के साथ सोते हैं वह बिना किसी भय के शांतिपूर्वक सोते हैं। वहीं इसके विपरीत जो बच्चे माँ से अलग सोते हैं वह रात में कई बार उठते और रोते हैं। ऐसे में, रात में कई बार चौंक कर उठने और एड्रेनालाईन की वजह से बच्चों में हृदय गति और रक्तचाप बढ़ने का खतरा रहता है। इतना ही नहीं, बच्चों में आरामदायक नींद के साथ हस्तक्षेप होने के कारण बाद में नींद से संबंधित बीमारियाँ भी हो सकती हैं।  

स्थिर फिजियोलॉजी

अध्ययनों से पता चलता है कि जो शिशु अपने पेरेंट्स के पास सोते हैं, उनका तापमान, और ह्रदय की लय सामान्य होती है। साथ ही, बच्चों में साँस से संबंधित बीमारी का खतरा भी कम रहता है।

शिशु मृत्यु सिंड्रोम का खतरा कम

अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम (सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम, एसआईडीएस) या कॉट डेथ कोई एक बीमारी या रोग नहीं है। बल्कि यह नाम उस स्थिति को दिया गया है, जब किसी बिल्कुल स्वस्थ शिशु की बिना किसी लक्षण के अप्रत्याशित रूप से मौत हो जाए। हालाँकि, कुछ डॉक्टरों का कहना है कि कुछ बच्चों के मस्तिष्क के उस हिस्से में समस्या होती है, जो हिस्सा सांस लेने और जागने की क्रिया को नियंत्रित करता है। इस वजह से वे शिशु सांस लेने में अवरोध उत्पन्न होने पर सामान्य तरीके से इस चुनौती का सामना नहीं कर पाते हैं जिस कारण यह खतरा उत्पन्न होता है।

लॉन्ग टर्म इमोशनल हेल्थ

को-स्लीपिंग बच्चे उच्च आत्मसम्मान, कम चिंता, बहुत कम उम्र में इंडिपेंडेंट और अच्छे व्यवहार के साथ बड़े होते हैं। साथ ही उनमें मनोरोग जैसी समस्या का खतरा भी कम होता है।

इसके अलावा, इस पर भी ध्यान देना चाहिए कि इसे कैसे प्रभावी तरीके से कारगर बनाया जाए-

  • बॉटल से दूध पीने वाले बच्चों को अपनी माँ से थोड़ा अलग सोना चाहिए, इसके लिए आप अपने बच्चे को बॉटल से दूध पिलाते समय एक अलग बेड का भी प्रयोग कर सकती हैं।
  • सबसे पहली बात यह है कि क्या आप अपने बच्चे के साथ बेड शेयर करने से खुश हैं, क्योंकि यदि आप अपने बच्चे को अपने पास सुलाना चाहते हैं तो जरूर सुलाएं।
  • इसके बाद जो सबसे ध्यान रखने युक्त बातें हैं वह यह है कि सबसे पहले यह सुनिश्चित करें कि आपने जो फिट डिस्पोजेबल डायपरअपने बच्चे को पहनाया है क्या वह प्रभावी है। क्योंकि, आपके बच्चे के लिए फिट डिस्पोजेबल डायपर की तुलना में कपड़े का डायपर अच्छा माना जाता है। क्योंकि, इससे न केवल बच्चे को अच्छी नींद आती है, बल्कि यह पर्यावरण के साथ-साथ बच्चे के स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है।
  • कुछ पेरेंट्स अपने बच्चे को उनके सिबलिंग्स के साथ सुला देते हैं, जो उम्र में उनसे कुछ साल ही बड़े होते हैं। हालांकि, यह सही तरीका नहीं है, अगर आप अपने शिशु को उन बच्चों के साथ सुलाते हैं तो रात में उसके साथ जागने और उनका ध्यान रखने की भी जिम्मेदारी लें।
  • जब भी आप अपने बच्चे को फीड कराएं तो इस बात का ध्यान रखें की आपके बाल यदि लंबे हों तो वह शिशु के कंधे या मुंह के पास नहीं आनी चाहिए।
Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 33,095 78
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 23,484 69
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 3,768 35
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 2,901 30
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 7,952 29
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 2,274 24
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 7,928 20
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 1,960 19
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 4,650 19
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 3,593 18
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 1,382 18
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 16,377 17
माँ का दूध बढ़ाने के तरीके 3,383 16
जामुन के गुण और फायदे 1,270 16
मोबाइल गेमिंग डिसऑर्डर क्या है? 29 15
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 2,368 15
झाइयां होने के कारण 934 14
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 11,833 14
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 1,869 13
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 926 13
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 2,287 13
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 13,817 12
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 1,085 12
एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे 493 12
रात में दूध पीने के फायदे 583 12
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 2,178 11
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 866 11
बाल झड़ने की समस्या से बचने के लिए कुछ टिप्स 611 11
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 1,657 11
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 3,686 10
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 921 10
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 263 10
कम उम्र में सफेद हुए बालों को काला करे 664 9
किडनी को ख़राब करने वाली है ये आदतें……. 1,031 9
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 3,400 9
डार्क सर्कल को दूर करने के घरेलू नुस्खों 2,215 9
पुरूषों को बुढ़ापे तक स्‍वस्‍थ रखेंगी उनकी ये 5 अच्‍छी आदतें 315 8
अमरुद खाने के फायदे 95 8
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 1,693 8
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 755 8
गर्भावस्था में लें सही आहार 568 8
काफी खतरनाक है हाइपोग्लाइसीमिया, इसकी मार से रहें सजग 464 8
मियादी बुखार का कारण क्या है 2,017 8
नुस्‍खों से हटाएं ठुड्डी के बाल 1,880 8
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 5,599 8
बेटी की बिदाई- मां के लिए बड़ी चुनौती है इस प्रकार 439 7
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 2,316 7
मौसमी का जूस पीने के फायदे 2,006 7
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 833 7
जानिये कितना होना चाहिए आपका कोलेस्ट्रॉल और कब शुरू होती है इससे परेशानी 1,035 7