कई रोगों में चमत्कार का काम करती है दूब घास, जानें इसके फायदे

दूब का नाम तो आपने जरूर सुना होगा। यह पूजा में भगवान गणेश को अर्पित की जाने वाली कोमल दूब को आयुर्वेद में महाऔषधि माना जाता है। पौष्टिक आहार तथा औषधीय गुणों से भरपूर दुर्वा यानी दूब को हिन्दू संस्कारों एवं कर्मकांडों में उपयोग के साथ ही यौन रोगों, लीवर रोगों, कब्ज के उपचार में रामबाण माना जाता है। पतंजलि आयुर्वेद हरिद्वार के आचार्य बाल कृष्ण ने कहा कि दूब की जड़ें, तना, पत्तियां सभी को आयुर्वेद में अनेक असाध्य रोगों के उपचार के लिए सदियों से उपयोग में लाया जा रहा है।

आयुर्वेद के अनुसार चमत्कारी वनस्पति दूब का स्वाद कसैला-मीठा होता है जिसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर, पोटाशियम पर्याप्त मात्रा में विद्यमान होते हैं जोकि विभिन्न प्रकार के पित्त एवं कब्ज विकारों को दूर करने में राम बाण का काम करते हैं। यह पेट के रोगों, यौन रोगों, लीवर रोगों के लिए असरदार मानी जाती है। पतंजलि आयुर्वेद हरिद्वार के आचार्य बालकृष्ण के अनुसार शिर-शूल में दूब तथा चूने को समान मात्रा में लेकर पानी में पीसें और इसे ललाट पर लेप करने से लाभ होता है। इसी तरह दूब को पीसकर पलकों पर बांधने से नेत्र रोगों में लाभ होता है, नेत्र मल का आना भी बंद होता जाता है।

उन्होंने कहा कि अनार पुष्प स्वरस को दूब के रस के साथ अथवा हरड़ के साथ मिश्रित कर 1-2 बूंद नाक में डालने से नकसीर में आराम मिलता है। दुर्वा पंचाग स्वरस का नस्य लेने से नकसीर में लाभ होता है। दूर्वा स्वरस को 1 से 2 बूंद नाक में डालने से नाक से खून आना बंद हो जाता है। बालकृष्ण ने कहा कि दूर्वा क्वाथ से कुल्ले करने से मुंह के छालों में लाभ होता है। इसी तरह उदर रोग में 5 मिली दूब का रस पिलाने से उल्टी में लाभ होता है। दूब का ताजा रस पुराने अतिसार और पतले अतिसारों में उपयोगी होता है। दूब को सोंठ और सांैफ के साथ उबालकर पिलाने से आम अतिसार मिटता है।

गुदा रोग में भी दूब लाभकारी है। दूर्वा पंचांग को पीसकर दही में मिलाकर लें और इसके पत्तों को पीसकर बवासीर पर लेप करने से लाभ होता है। इसी तरह घृत को दूब स्वरस में भली-भांति मिला कर अर्श के अंकुरों पर लेप करें साथ ही शीतल चिकित्सा करें, रक्तस्त्राव शीघ्र रुक जाएगा। दूब को 30 मिली पानी में पीसें तथा इसमें मिश्री मिलाकर सुबह-शाम पीने से पथरी में लाभ होता है। उन्होंने कहा कि दूब की मूल का क्वाथ बनाकर 10 से 30 मिली मात्रा में पीने से वस्तिशोथ, सूजाक और मूत्रदाह का शमन होता है। दूब को मिश्री के साथ घोंट छान कर पिलाने से पेशाब के साथ खून आना बंद हो जाता है। 1 से 2 ग्राम दूर्वा को दुध में पीस छानकर पिलाने से मूत्रदाह मिटती है।

रक्तप्रदर और गर्भपात में भी दूब उपयोगी है। दूब के रस में सफेद चंदन का चूर्ण और मिश्री मिलाकर पिलाने से रक्तप्रदर में लाभ होता है। प्रदर रोग में तथा रक्तस्त्राव एवं गर्भपात जैसी योनि व्याध्यिों में इसका प्रयोग करने से रक्त बहना रुक जाता है। गर्भाशय को शक्ति तथा पोषण मिलती है। श्वेत दूब वीर्य को कम करती है और काम शक्ति को घटाती है। आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि इसके अलावा भी दूब का उपयोग कई अन्य रोगों में इलाज के लिए किया जाता है। उन्होंने कहा कि वस्तुत: दुर्वा प्रत्येक भारतीय के निकट रहने वाली दिव्य वनौषधि है, जो किसी भी परिस्थिति में हरी-भरी रहने की सामथ्र्य रखती है और प्रत्येक रोगी को भी पुनर्जागृत बनाती है।

 

 

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 43,404 91
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 48,212 50
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,724 43
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 20,109 38
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,217 32
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,671 24
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,077 20
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,035 13
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,355 12
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,147 12
स्तनों का ढीलापन दूर करने के घरेलू नुस्खे 5,766 11
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,862 11
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,291 11
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,803 11
हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप 323 10
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,751 9
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 1,482 9
चिकनपॉक्स (छोटी माता): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज 1,552 9
झाइयां होने के कारण 4,820 7
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,771 7
यकृत कैंसर के को दूर करने के उपाय 248 7
गोरी और सफेद त्वचा के लिए घरेलू नुस्खे 3,391 7
जानें शंखपुष्‍पी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कितनी फायदेमंद है प्रयोग करें 983 6
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 1,595 6
गुड़ और मूंगफली खाना सेहत और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद 1,444 6
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,714 6
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 6,615 6
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 2,583 6
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 3,786 6
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,030 5
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,558 5
झुर्रिया हो या पिंपल्स, आपके चेहरे को बेदाग बनाएगी 144 5
माइग्रेन के दर्द से राहत देता है ये आहार 1,420 4
कब्ज को करें गुडबाय 405 4
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,644 4
हाई बीपी और माइग्रेन में मेंहदी इस प्रकार फायदेमंद 746 4
आत्मा के लिए चुनें पर्दे इस प्रकार 584 4
मौसमी का जूस पीने के फायदे 3,985 4
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 2,358 4
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 2,812 4
गन्ने के रस में है कैंसर से लड़ने की ताकत 654 4
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,668 4
बड़ी उम्र की महिला से डेटिंग के टिप्‍स 1,155 4
गूलर लंबी आयु वाला वृक्ष है 3,419 3
आखें लाल हो तो करें ये उपाय 1,298 3
जल्‍दी पिता बनने के लिए एक घंटे में करें दो बार सेक्‍स 5,252 3
टमाटर खाने के फायदे 264 3
एक साथी के साथ रहना नहीं है इंसानों की फितरत 644 3
वेलेंटाइन डे के पहले कैसे पाएं साफ और गोरी त्‍वचा 1,566 3
ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने के लिए जरूर खाएं टमाटर 111 3