कई रोगों में चमत्कार का काम करती है दूब घास, जानें इसके फायदे

दूब का नाम तो आपने जरूर सुना होगा। यह पूजा में भगवान गणेश को अर्पित की जाने वाली कोमल दूब को आयुर्वेद में महाऔषधि माना जाता है। पौष्टिक आहार तथा औषधीय गुणों से भरपूर दुर्वा यानी दूब को हिन्दू संस्कारों एवं कर्मकांडों में उपयोग के साथ ही यौन रोगों, लीवर रोगों, कब्ज के उपचार में रामबाण माना जाता है। पतंजलि आयुर्वेद हरिद्वार के आचार्य बाल कृष्ण ने कहा कि दूब की जड़ें, तना, पत्तियां सभी को आयुर्वेद में अनेक असाध्य रोगों के उपचार के लिए सदियों से उपयोग में लाया जा रहा है।

आयुर्वेद के अनुसार चमत्कारी वनस्पति दूब का स्वाद कसैला-मीठा होता है जिसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर, पोटाशियम पर्याप्त मात्रा में विद्यमान होते हैं जोकि विभिन्न प्रकार के पित्त एवं कब्ज विकारों को दूर करने में राम बाण का काम करते हैं। यह पेट के रोगों, यौन रोगों, लीवर रोगों के लिए असरदार मानी जाती है। पतंजलि आयुर्वेद हरिद्वार के आचार्य बालकृष्ण के अनुसार शिर-शूल में दूब तथा चूने को समान मात्रा में लेकर पानी में पीसें और इसे ललाट पर लेप करने से लाभ होता है। इसी तरह दूब को पीसकर पलकों पर बांधने से नेत्र रोगों में लाभ होता है, नेत्र मल का आना भी बंद होता जाता है।

उन्होंने कहा कि अनार पुष्प स्वरस को दूब के रस के साथ अथवा हरड़ के साथ मिश्रित कर 1-2 बूंद नाक में डालने से नकसीर में आराम मिलता है। दुर्वा पंचाग स्वरस का नस्य लेने से नकसीर में लाभ होता है। दूर्वा स्वरस को 1 से 2 बूंद नाक में डालने से नाक से खून आना बंद हो जाता है। बालकृष्ण ने कहा कि दूर्वा क्वाथ से कुल्ले करने से मुंह के छालों में लाभ होता है। इसी तरह उदर रोग में 5 मिली दूब का रस पिलाने से उल्टी में लाभ होता है। दूब का ताजा रस पुराने अतिसार और पतले अतिसारों में उपयोगी होता है। दूब को सोंठ और सांैफ के साथ उबालकर पिलाने से आम अतिसार मिटता है।

गुदा रोग में भी दूब लाभकारी है। दूर्वा पंचांग को पीसकर दही में मिलाकर लें और इसके पत्तों को पीसकर बवासीर पर लेप करने से लाभ होता है। इसी तरह घृत को दूब स्वरस में भली-भांति मिला कर अर्श के अंकुरों पर लेप करें साथ ही शीतल चिकित्सा करें, रक्तस्त्राव शीघ्र रुक जाएगा। दूब को 30 मिली पानी में पीसें तथा इसमें मिश्री मिलाकर सुबह-शाम पीने से पथरी में लाभ होता है। उन्होंने कहा कि दूब की मूल का क्वाथ बनाकर 10 से 30 मिली मात्रा में पीने से वस्तिशोथ, सूजाक और मूत्रदाह का शमन होता है। दूब को मिश्री के साथ घोंट छान कर पिलाने से पेशाब के साथ खून आना बंद हो जाता है। 1 से 2 ग्राम दूर्वा को दुध में पीस छानकर पिलाने से मूत्रदाह मिटती है।

रक्तप्रदर और गर्भपात में भी दूब उपयोगी है। दूब के रस में सफेद चंदन का चूर्ण और मिश्री मिलाकर पिलाने से रक्तप्रदर में लाभ होता है। प्रदर रोग में तथा रक्तस्त्राव एवं गर्भपात जैसी योनि व्याध्यिों में इसका प्रयोग करने से रक्त बहना रुक जाता है। गर्भाशय को शक्ति तथा पोषण मिलती है। श्वेत दूब वीर्य को कम करती है और काम शक्ति को घटाती है। आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि इसके अलावा भी दूब का उपयोग कई अन्य रोगों में इलाज के लिए किया जाता है। उन्होंने कहा कि वस्तुत: दुर्वा प्रत्येक भारतीय के निकट रहने वाली दिव्य वनौषधि है, जो किसी भी परिस्थिति में हरी-भरी रहने की सामथ्र्य रखती है और प्रत्येक रोगी को भी पुनर्जागृत बनाती है।

 

 

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 53,088 95
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 15,066 73
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 54,600 69
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 14,544 62
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 24,241 36
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 24,043 33
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 8,558 21
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 7,233 16
झाइयां होने के कारण 6,041 16
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 8,627 15
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 5,478 13
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,757 13
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 21,328 12
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 3,488 11
दिमाग को तेज कैसे बनाये 941 10
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 4,833 9
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 5,156 9
सेब खाने के फायदे 851 9
आधे सर का दर्द और उसका इलाज 1,774 8
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,635 8
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 4,528 8
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 2,185 8
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,528 8
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 10,467 8
व्रत रखने के फायदे 644 7
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,711 6
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 2,127 6
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,057 6
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,543 6
हड्डी टूटने पर घरेलु उपचार 1,208 6
झुर्रियां दूर करने के घरेलू उपाय 503 6
काली मिर्च के फायदे 216 6
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 3,041 5
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 2,759 5
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,857 5
प्राकृतिक चिकित्सा 1,385 5
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 4,097 5
मस्सा या तिल हटाना 768 5
पोषाहार क्या है जानिए 1,420 5
स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें 969 5
गुड़ और मूंगफली खाना सेहत और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद 1,875 5
छुहारा और खजूर एक ही पेड़ की देन है। 532 4
अपनी आँखों को रखे हमेशा सलमात 1,569 4
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,438 4
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 6,008 4
कब्ज और पेट साफ रखने के आसान घरेलू उपाय 480 4
गले में सूजन और दर्द, लिम्फोमा कैंसर के हो सकते हैं संकेत 1,243 4
जामुन के गुण 1,260 4
शल्य क्रिया से स्तनों का आकार घटाने का तरीका 2,347 4
अंगुली के नाम, रोग और कार्य 759 4