काफी खतरनाक है हाइपोग्लाइसीमिया, इसकी मार से रहें सजग

हाइपोग्लाइसीमिया

जब रक्त में ग्लूकोज का स्तर 60 ‘एम.जी. / डी.एल.Ó से कम हो जाता है, तो यह स्थिति हाइपोग्लाइसीमिया कहलाती है और 40 ‘एम.जी./ डी.एल.Ó से कम होने पर गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती हैं…

 भोजन के बाद ग्लूकोज स्तर बढ़ जाता है फिर करीब 4 से 6 घंटे बाद घटने लगता है। यदि फिर से भोजन नहीं किया गया, तो कुछ व्यक्तियों में इसका स्तर सीमा से अधिक कम हो जाता है और सिरदर्द, चक्कर आना, कमजोरी, थकान, आंखों के सामने अंधेरा छाना आदि समस्याएं होने लगती हैं। उपवास रखने पर सजगताएं न बरतने पर हाइपोग्लाइसीमिया से ग्रस्त होने की आशंका रहती है। शराब सेवन विशेष रूप से खाली पेट पीने से भी अचानक रक्त ग्लूकोज स्तर के कम होने की आशंका रहती है। मधुमेह के मरीजों में शराब के कारण दुष्परिणाम होने की ज्यादा आशंका रहती है। कुछ दवाओं के सेवन से भी रक्त में ग्लूकोज कम होने का खतरा होता है । भोजन समय से नहीं करने, खाली पेट व्यायाम करने से हाइपोग्लाइसीमिया की समस्या पैदा हो सकती है।

लक्षण

हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षण विविधतापूर्ण होते हैं। अनेक व्यक्तियों में तो इसका पूर्वाभास हो जाता है। रक्त में ग्लूकोज के स्तर का कम होना शरीर के लिए तनाव की स्थिति जैसा है। इस कारण एड्रीनेलीन नामक हार्मोन का सा्रव बढ़ जाता है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर का रंग सफेद या पीला हो जाता है। अत्यधिक पसीना आता है। हाथों में कंपन होता है, भूख लगती है और बेचैनी महसूस होती है। हृदयगति बढ़ जाती है। हृदय के तेजी से धड़कता महसूस होने से मरीज घबरा जाते हैं। रक्त में ग्लूकोज की कमी से सर्वप्रथम मस्तिष्क की कार्यप्रणाली गड़बड़ा जाती है। मरीर को सिरदर्द होता है। चक्कर आते हैं और वे अनिर्णय की स्थिति में रहते हैं, वे भ्रमित रहते हैं। उनकी आंखों के सामने अंधेरा छा जाता है और अंत में मरीज बेहोश हो जाते हैं। समय से समुचित उपचार उपलब्ध न होने पर मौत हो सकती है।

बचाव

-नियमित अंतराल पर रक्त ग्लूकोज(ब्लड शुगर) की जांच करानी चाहिए। दवाओं या इंसुलिन की मात्रा को रक्त ग्लूकोज के स्तर के अनुसार डॉक्टर के परामर्श से निर्धारित करना चाहिए

-मधुमेह रोगियों को रक्त ग्लूकोज स्तर की कमी से बचाव के लिए थोड़ी-थोड़ी मात्रा में दिन में कई बार हल्का आहार ग्रहण करना चाहिए।

-मधुमेह के कुछ मरीज भूख से ज्यादा भोजन कर लेते हैं और फिर मनमर्जी से दवा या इंंसुलिन की मात्रा बढ़ा लेते हैं, जिससे शुगर के अनियंत्रित होने की आशंका बढ़ जाती है।

-गर्भवती महिलाएं यदि मधुमेह से ग्रस्त हैं, तो उनके लिए उपवास वर्जित है।

-ऐसे मरीज खाली पेट व्यायाम नहीं करें। व्यायाम करने से पूर्व भरपेट जल पिएं।

-मधुमेह के मरीजों को सदैव अपने पास शर्करा युक्त खाद्य पदार्थ रखना चाहिए। हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षण महसूस होते ही तुरंत इनका सेवन करें। पहले करीब 15 से 20 ग्राम (3 से 4 छोटी चम्मच) शुगर या ग्लूकोज का सेवन करें। दस मिनट बाद यदि राहत नहीं मिलती तो पुन: इतनी मात्रा और लें।

-मधुमेह रोगियों को सदैव एक पहचान पत्र रखना चाहिए। इस पहचान पत्र में उनका नाम, पता, टेलीफोन नंबर, डॉक्टर का नाम, रोग और दवा का विवरण दर्ज होना चाहिए ताकि घर के बाहर समस्या पैदा होने पर समुचित उपचार शीघ्र ही मिल सके।

उपचार

हाइपोग्लाइसीमिया का अगर अतिशीघ्र निदान और उपचार नहीं किया गया, तो इलाज में देरी होना मौत का कारण बन सकता है। यदि मरीज होश में हो, तो उसे पर्याप्त मात्रा में शर्करायुक्त भोजन, शर्बत, चीनी का घोल या ग्लूकोज दिया जाना चाहिए। इनसे तुरंत ही मरीज बेहतर महसूस करने लगता है।

यदि मरीज बेहोश हो गया है, तो उसे ग्लूकोज का घोल ड्रिप के जरिये चढ़ाया जाता है। यदि मधुमेह का पुराना मरीज बेहोश हो जाता है, तो यह समस्या रक्त में ग्लूकोज के कम या अधिक होने के कारण हो सकती है प्राथमिक उपचार के रूप में उसे ग्लूकोज का घोल देना चाहिए। यदि मरीज हाइपोग्लाइसीमिया से ग्रस्त है, तो उसे तुरंत होश आ जाता है।

(डॉ.विनोद गुजराल मधुमेह रोग विशेषज्ञ, नेशनल हार्ट इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली)

 

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 37,653 62
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 28,298 46
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 1,957 38
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 3,770 35
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 17,563 28
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 2,496 26
झाइयां होने के कारण 2,034 25
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 2,816 25
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 3,173 25
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 13,249 23
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 1,188 22
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 4,628 21
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 2,903 21
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 3,024 20
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 2,928 19
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 2,076 18
मौसमी का जूस पीने के फायदे 2,742 16
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 6,280 15
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 2,503 15
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 14,699 14
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 1,562 13
मियादी बुखार का कारण क्या है 2,433 13
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 726 13
क्‍या सोते समय ब्रा पहननी चाहिये ? 10,454 12
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान 747 12
आधे सर का दर्द और उसका इलाज 896 12
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,162 11
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 2,398 11
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 1,265 11
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,021 11
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 8,700 11
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 4,955 11
गन्ने के जूस के फायदे 523 11
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 3,527 11
गले में मछली का कांटा फंस जाए तो करें ये काम 453 10
टाइफाइड में लिए दिए जाने वाले आहार 762 10
पोषाहार क्या है जानिए 506 10
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,282 10
ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण क्‍या हैं? 2,845 10
स्वाद से भरपूर पोहे खाने के लाभ और फायदे 431 10
अपने दांतों की देखभाल और उनको रखे दूध जैसे चमकीले तथा स्वच्छ 755 9
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 1,648 9
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 1,154 9
मसूड़ों में रक्त स्राव को रोकने के लिए कारण और उपचार 493 9
साइकिल चलाने के चमत्कारी फायदे 485 9
कलौंजी एक फायदे अनेक : कलयुग में संजीवनी है कलौंजी (मंगरैला) 341 9
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 728 9
एक माँ का अपने बच्चों के साथ सोना कितना जरूरी है आइए जानें इस प्रकार 406 9
पुरुषों की अपेक्षा ज्यादा समय तक जीवित रहती हैं महिलाएं आइये जानें कैसे 290 9
चिकनपॉक्स (छोटी माता): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज 881 9