कैविटी का है कारगर इलाज

कैविटी का है कारगर इलाज

कैविटी आपके दांत के विभिन्न भागों में होने वाले छोटे छेद हैं, जो मुंह की उचित सफाई न होने के कारण दांतों की सड़न के कारण उत्पन्न होते हैं। यह प्रक्रिया तब होती है, जब आपके मुंह में मौजूद बैक्टीरिया स्टार्च और शक्करयुक्त खाद्य पदार्थो को खाते हैं और अम्ल बनाते हैं। इससे दांतों में सड़न पैदा होती है। स्टार्च युक्त खाद्य पदार्र्थो में बिस्किट्स, चॉकलेट्स. आलू, केला और गेहूं की रोटी आदि को शामिल किया जाता है।

दांतों में संक्रमण होने पर कैविटी बन सकती है और उस कैविटी का इलाज नहीं कराने पर दांतों के क्षीण होने का खतरा बढ़ सकता है। पीड़ित व्यक्ति को दांत खोने पड़ सकते हैं।

कैविटी के प्रकार

स्मूथ सरफेस कैविटीज: यह दांतों के बीच में होती है। यह मुश्किल से पहुंचने वाली सतहों पर प्लाक (दांतों की चिकनी पर्त) के बनने के कारण होती है।

गढ्डों (पिट्स) और छेद (फिशर) में कैविटी: यह चबाने के लिए प्रयोग किये जाने वाले दांत के उपरी भाग में ऊबड़-खाबड़ सतह पर होती है। यह समस्या दांत की दरारों में प्लाक (दांत पर एक चिपचिपे पदार्थ का निर्माण) के फंस जाने के कारण होती है।

दांत की जड़ (रूट) में कैविटी: यह समस्या मसूड़े के नीचे और आपके दांतों की जड़ों (रूट्स) के ऊपर उत्पन्न होती है।

कारण

दांतों के कमजोर होने के दो मुख्य कारण हैं। पहला, मुंह में बैक्टीरिया का होना और चीनी व स्टार्च युक्त आहार का अधिक सेवन करना। ये बैक्टीरिया भोजन और लार के साथ मिलकर दांत पर प्लाक नामक चिपचिपे पदार्थ का निर्माण करते हैं। अधिक स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थ प्लाक की चिपचिपाहट को और अधिक बढ़ा देते हैं। यदि यह चिपचिपाहट कुछ दिनों तक दांत पर मौजूद रहती है, तो कड़ी होना शुरू हो जाती है और टार्टर में बदल जाती है। इस प्लाक में बैक्टीरिया शक्कर को अम्ल में तब्दील कर देता है और दांत को घुलाकर छेद या कैविटी पैदा करता है।

पारंपरिक उपचार

कैविटी के उपचार के लिए दांतों को भरना (फिलिंग), दांत पर खोल (क्राउन) चढ़ाना और रूट कैनाल करना आदि विकल्पों का सहारा लिया जाता है। यदि दांत काफी मजबूत हैं, तो पहला उपाय दांतों को भरना (फिलिंग) है। यदि दंत क्षय की समस्या अधिक है और इसके कारण दांत क्षतिग्रस्त हो गये हों, तो आपके दंत चिकित्सक विकारग्रस्त दांत पर कैप चढ़ा सकते हैं। यदि दांत में नसें (न‌र्व्स) मृत (डेड) हो चुकी हों, तो इस स्थिति में डेंटिस्ट रूट कैनाल ट्रीटमेंट भी कर सकते हैं।

नवीनतम उपचार

वर्तमान में कैविटी के इलाज के लिए दो विकल्पों- लेजर तकनीक और पुनर्खनिजीकरण या रिमिनरलाइजेशन का सहारा लिया जाता है। लेजर तकनीक दांत के कठोर टिश्यूज (इनेमेल और डेंटाइन) से सड़े हुए हिस्सों को हटाने की एक नयी तकनीक है। रिमिनरलाइजेशन एक अन्य प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया के तहत दांत की संरचना को पुन: खनिज तत्व (मिनरल्स) प्रदान किये जाते हैं। दांतों को पोषक तत्व न मिलने की स्थिति (डिमिनरलाइजेशन) के कारण दांतों में विकार आने लगता है और वे कमजोर होने लगते हैं। इस स्थिति में दांतों को पुन: खनिज तत्व प्रदान करने की जरूरत होती है।

पारंपरिक चिकित्सा की तुलना में लेजर ट्रीटमेंट को अधिक प्रभावी पाया गया है। लेजर उपचार में कम दर्द होता है और लोकल एनीस्थीसिया की कम जरूरत होती है। फ्लोराइड चिकित्सा के साथ समन्वय करने पर लेजर उपचार को कैविटी की रोकथाम में कहीं अधिक कारगर पाया गया है। फ्लोराइड चिकित्सा दांत को मजबूत बनाने में मदद करती है।

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 33,082 65
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 23,470 55
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 3,762 29
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 2,894 23
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 7,945 22
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 2,270 20
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 7,926 18
माँ का दूध बढ़ाने के तरीके 3,382 15
मोबाइल गेमिंग डिसऑर्डर क्या है? 29 15
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 4,645 14
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 2,367 14
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 3,589 14
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 1,955 14
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 1,377 13
जामुन के गुण और फायदे 1,267 13
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 16,373 13
झाइयां होने के कारण 932 12
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 2,285 11
रात में दूध पीने के फायदे 582 11
बाल झड़ने की समस्या से बचने के लिए कुछ टिप्स 611 11
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 2,177 10
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 1,866 10
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 923 10
एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे 491 10
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 1,655 9
कम उम्र में सफेद हुए बालों को काला करे 664 9
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 3,685 9
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 920 9
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 262 9
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 13,813 8
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 1,081 8
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 755 8
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 3,399 8
डार्क सर्कल को दूर करने के घरेलू नुस्खों 2,214 8
काफी खतरनाक है हाइपोग्लाइसीमिया, इसकी मार से रहें सजग 464 8
मियादी बुखार का कारण क्या है 2,017 8
जानिये कितना होना चाहिए आपका कोलेस्ट्रॉल और कब शुरू होती है इससे परेशानी 1,035 7
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 833 7
पुरूषों को बुढ़ापे तक स्‍वस्‍थ रखेंगी उनकी ये 5 अच्‍छी आदतें 314 7
अमरुद खाने के फायदे 94 7
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 11,826 7
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 1,692 7
बेटी की बिदाई- मां के लिए बड़ी चुनौती है इस प्रकार 439 7
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 2,316 7
गर्भावस्था में लें सही आहार 567 7
नुस्‍खों से हटाएं ठुड्डी के बाल 1,879 7
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 5,597 6
माइग्रेन के दर्द से राहत देता है ये आहार 668 6
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 861 6
किडनी को ख़राब करने वाली है ये आदतें……. 1,028 6