कैविटी का है कारगर इलाज

कैविटी का है कारगर इलाज

कैविटी आपके दांत के विभिन्न भागों में होने वाले छोटे छेद हैं, जो मुंह की उचित सफाई न होने के कारण दांतों की सड़न के कारण उत्पन्न होते हैं। यह प्रक्रिया तब होती है, जब आपके मुंह में मौजूद बैक्टीरिया स्टार्च और शक्करयुक्त खाद्य पदार्थो को खाते हैं और अम्ल बनाते हैं। इससे दांतों में सड़न पैदा होती है। स्टार्च युक्त खाद्य पदार्र्थो में बिस्किट्स, चॉकलेट्स. आलू, केला और गेहूं की रोटी आदि को शामिल किया जाता है।

दांतों में संक्रमण होने पर कैविटी बन सकती है और उस कैविटी का इलाज नहीं कराने पर दांतों के क्षीण होने का खतरा बढ़ सकता है। पीड़ित व्यक्ति को दांत खोने पड़ सकते हैं।

कैविटी के प्रकार

स्मूथ सरफेस कैविटीज: यह दांतों के बीच में होती है। यह मुश्किल से पहुंचने वाली सतहों पर प्लाक (दांतों की चिकनी पर्त) के बनने के कारण होती है।

गढ्डों (पिट्स) और छेद (फिशर) में कैविटी: यह चबाने के लिए प्रयोग किये जाने वाले दांत के उपरी भाग में ऊबड़-खाबड़ सतह पर होती है। यह समस्या दांत की दरारों में प्लाक (दांत पर एक चिपचिपे पदार्थ का निर्माण) के फंस जाने के कारण होती है।

दांत की जड़ (रूट) में कैविटी: यह समस्या मसूड़े के नीचे और आपके दांतों की जड़ों (रूट्स) के ऊपर उत्पन्न होती है।

कारण

दांतों के कमजोर होने के दो मुख्य कारण हैं। पहला, मुंह में बैक्टीरिया का होना और चीनी व स्टार्च युक्त आहार का अधिक सेवन करना। ये बैक्टीरिया भोजन और लार के साथ मिलकर दांत पर प्लाक नामक चिपचिपे पदार्थ का निर्माण करते हैं। अधिक स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थ प्लाक की चिपचिपाहट को और अधिक बढ़ा देते हैं। यदि यह चिपचिपाहट कुछ दिनों तक दांत पर मौजूद रहती है, तो कड़ी होना शुरू हो जाती है और टार्टर में बदल जाती है। इस प्लाक में बैक्टीरिया शक्कर को अम्ल में तब्दील कर देता है और दांत को घुलाकर छेद या कैविटी पैदा करता है।

पारंपरिक उपचार

कैविटी के उपचार के लिए दांतों को भरना (फिलिंग), दांत पर खोल (क्राउन) चढ़ाना और रूट कैनाल करना आदि विकल्पों का सहारा लिया जाता है। यदि दांत काफी मजबूत हैं, तो पहला उपाय दांतों को भरना (फिलिंग) है। यदि दंत क्षय की समस्या अधिक है और इसके कारण दांत क्षतिग्रस्त हो गये हों, तो आपके दंत चिकित्सक विकारग्रस्त दांत पर कैप चढ़ा सकते हैं। यदि दांत में नसें (न‌र्व्स) मृत (डेड) हो चुकी हों, तो इस स्थिति में डेंटिस्ट रूट कैनाल ट्रीटमेंट भी कर सकते हैं।

नवीनतम उपचार

वर्तमान में कैविटी के इलाज के लिए दो विकल्पों- लेजर तकनीक और पुनर्खनिजीकरण या रिमिनरलाइजेशन का सहारा लिया जाता है। लेजर तकनीक दांत के कठोर टिश्यूज (इनेमेल और डेंटाइन) से सड़े हुए हिस्सों को हटाने की एक नयी तकनीक है। रिमिनरलाइजेशन एक अन्य प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया के तहत दांत की संरचना को पुन: खनिज तत्व (मिनरल्स) प्रदान किये जाते हैं। दांतों को पोषक तत्व न मिलने की स्थिति (डिमिनरलाइजेशन) के कारण दांतों में विकार आने लगता है और वे कमजोर होने लगते हैं। इस स्थिति में दांतों को पुन: खनिज तत्व प्रदान करने की जरूरत होती है।

पारंपरिक चिकित्सा की तुलना में लेजर ट्रीटमेंट को अधिक प्रभावी पाया गया है। लेजर उपचार में कम दर्द होता है और लोकल एनीस्थीसिया की कम जरूरत होती है। फ्लोराइड चिकित्सा के साथ समन्वय करने पर लेजर उपचार को कैविटी की रोकथाम में कहीं अधिक कारगर पाया गया है। फ्लोराइड चिकित्सा दांत को मजबूत बनाने में मदद करती है।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 43,597 127
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 48,341 94
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,817 64
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 20,201 59
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,295 49
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,754 48
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,075 27
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,582 22
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,739 22
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,827 18
मोती जैसे सफेद दांत पाने के लिए ट्राई करें ये 5 घरेलू उपाय 2,496 18
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,047 16
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,173 15
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,000 13
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,683 13
सिर दर्द को चुटकियों में दूर करता है सिर्फ '1 नींबू' करके देखे प्रयोग 399 13
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,371 12
सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए 191 12
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,094 11
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,930 11
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 324 11
झाइयां होने के कारण 4,839 10
तरबूज खाने के फायदे 452 10
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,342 10
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,757 10
आखें लाल होने पर क्या उपाय करें 901 10
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 1,807 9
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 350 9
भरे हुए होंठ और जवानी में सम्बन्ध 1,788 8
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,872 8
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,313 8
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,779 8
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,490 7
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 917 7
चिकनपॉक्स (छोटी माता): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज 1,560 6
ब्रेस्ट कम करने के उपाय 1,755 6
दूध में डिटर्जेंट की जाँच करने के उपाय 1,992 6
कम उम्र में सफेद हुए बालों को काला करे 992 6
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,764 6
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 2,554 6
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 6,885 5
रोजाना भीगे हुए चने खाने के हैं कई फायदे, जानिए और स्वस्थ्य रहिए.... 2,506 5
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,277 5
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 2,365 5
हड्डियों को मजबूत करते हैं ये 443 5
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,317 5
हरी मिर्च खाने के चमत्कार 106 5
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 522 5
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 1,601 5
शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा 671 5