क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें

आईवीएफ प्रणाली, आईवीएफ लागत, आईवीएफ प्रक्रिया, आईवीएफ ट्रीटमेंट, भ्रूण हस्तांतरण के बाद आईवीएफ सावधानियों, कैसे आईवीएफ और अधिक सफल बनाने के लिए, सफल आईवीएफ के लिए रहस्य, आईवीएफ के साइड इफेक्ट्स

आईवीएफ यानी इन विट्रो फर्टिलाइजेशन, यह किसी भी समस्या के कारण लाइलाज निसंतान दंपति को बच्चे का तोहफा देने की ऐसी प्रक्रिया है जो दिन प्रतिदिन लोकप्रिय होती जा रही है। आई वी एफ में मां को अंडा बनाने का इंजेक्‍शन दिया जाता है। इंजेक्‍शन लगाने का उद्देश्‍य यह होता है कि ज्‍यादा से ज्‍यादा अंडे बनाए जा सकें। और अल्‍ट्रासाउट के जरिये इसकी निगरानी की जाती है कि अंडा बन रहा है या नहीं। जब उनकी ग्रोथ हो जाती है और वह परिपक्‍व हो जाते हैं तो उनमें से अंडे निकाल लिये जाते हैं और इसके बाद इन्हें प्रयोगशाला में कल्चर डिश में तैयार पति के स्‍पर्म के साथ मिलाकर निषेचन के लिए रख दिया जाता है। यह सब अल्ट्रासाइंड के तहत किया जाता है। प्रयोगशाला में इसे दो-तीन दिन के लिए रखा जाता है और इससे बने भ्रूण को वापस महिला के गर्भ में प्रत्यारोपित कर दिया जाता है। आईवीएफ की पूरी प्रक्रिया में दो से तीन सप्ताह का समय लग जाता है। आई वी एफ की प्रक्रिया क्‍या है और किन कारणों से इसे करवाना चाहिए, आइए अपोलो हॉस्पिटल की सीनियर कंसलटेंट डॉक्‍टर सुषमा सिन्‍हा से जानें।

इन्फर्टिलिटी की समस्या से निपटने के लिए तमाम तरह की तकनीकी आजकल प्रचलन में हैं। आधुनिक तकनीकियों का प्रयोग करके इन्फर्टिलिटी से जूझ रहे लोगों को संतान की प्राप्ति हो सकती है। इसी तरह की एक तकनीकी है जिसे इन विट्रो फर्टिलाइजेशन यानी कि आईवीएफ कहा जाता है। आईवीएफ एक मेडिकल प्रक्रिया है जिसकी मदद से गर्भधारण कराया जाता है। इस प्रक्रिया की मदद से महिला के अंडों को पुरूष के स्पर्म के साथ लैब में रखा जाता है। बाद में उनके फर्टिलाइज हो जाने पर उसे महिला के गर्भाशय में डाल दिया जाता है। इस दौरान यह भी ध्यान रखा जाता है कि वो सुरक्षित तरीके से भ्रूण बन सके।

छुट्टी पर घर आए बीएसएफ जवान को आतंकियों ने मार डाला

 

दुनिया भर में इस तकनीकी का सफलतापूर्वक इस्तेमाल किया जा रहा है। इस प्रक्रिया को लेकर लोगों के मन में कई तरह के मिथक भी मौजूद हैं। इन मिथकों में से कुछ मिथकों की सच्चाई के बारे में ब्लूम आईवीएफ ग्रुप के डाइरेक्टर और फेडरेशन ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड जाइनेकोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के सेक्रेटरी जनरल डॉ. ऋषिकेश डी पाइ ने वेबसाइट ‘हेल्थसाइट’ के हवाले से बताया है। आइए जानते हैं कि आईवीएफ प्रेग्नेंसी से जुड़े मिथक कौन-कौन से हैं और उनकी क्या सच्चाई है।

बड़ी खबरें

  • यह शत प्रतिशत सफल होती है –

आईवीएफ की सफलता उम्र, इन्फर्टिलिटी की वजह तथा बायोलॉजिकल और हार्मोनल कंडीशन पर निर्भर करती है। 35 साल से कम उम्र वाले जोड़ों में इसकी सफलता – दर चालीस प्रतिशत तक होती है।

 

आईवीएफ से पैदा होने वाले बच्चों में बदसूरती या फिर किसी तरह की अपंगता का खतरा बहुत कम होता है। इस तकनीकी से पैदा होने वाले बच्चों में किसी भी तरह की कमी की संभावना उतनी ही होती है जितनी आम डिलीवरी से पैदा होने वाले बच्चों में होती है।

आईवीएफ प्रेग्नेंसी में सीजेरियन बर्थ की संभावना होती है –
आईवीएफ प्रेग्नेंसी सामान्य प्रेग्नेंसी की ही तरह होती है। यह सीजेरियन डिलीवरी का संकेत नहीं है। इस तकनीकी से एक सामान्य वेजिनल डिलीवरी संभव है।

आईवीएफ प्रेग्नेंसी के लिए अस्पताल में एडमिट होना पड़ता है –
ऐसा केवल कुछ घंटो के लिए करना पड़ता है। अंडों के संग्रह की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिल जाती है।

आईवीएफ सुरक्षित नहीं है –
यह पूरी तरह से सुरक्षित प्रक्रिया है। इस केस में सिर्फ 2 प्रतिशत पेशेंट ऐसे होते हैं जिनमें ओवेरियन हाइपर स्टिमुलेशन सिंड्रम से ग्रस्त होने का खतरा होता है।

 

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 52,691 101
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 14,835 51
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 54,308 50
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 14,387 33
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 24,118 32
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 23,918 31
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 8,480 20
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 4,487 18
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,665 16
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 21,279 13
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,744 11
झाइयां होने के कारण 5,987 11
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 4,812 10
स्मार्टफोन का बुरा असर 401 10
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 5,126 9
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 3,289 8
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 3,162 8
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,020 8
जामुन के गुण और फायदे 2,834 8
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,845 7
स्त्री यौन रोग (श्वेत प्रदर) के लिए औषधि ॥ 938 7
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 5,445 7
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,513 7
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,493 7
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 2,204 7
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान 1,616 6
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 3,439 6
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 8,550 6
क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें 1,209 6
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 3,237 6
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 7,403 6
होठों की क्या ज़रूरत है 2,469 5
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 5,999 5
शरीर में रक्त की कमी का होना, रक्त की कमी पूरी करने के लिए क्या करें, जानें 1,425 5
मियादी बुखार का कारण क्या है 3,889 5
आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं 201 5
श्वेत प्रदर के रोग को जड़ से मिटा देंगे यह घरेलू उपाय 782 5
दालचीनी वाले दूध में छिपा है सेहत और खूबसूरत त्वचा का राज़ 117 5
हर तरह की खुजली से राहत दिलाते हैं ये घरेलू उपचार इस प्रकार करे पयोग 1,773 5
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,714 5
क्या है स्लीप डिस्ऑर्डर 452 5
हाइड्रोसील के कारण लक्षण और इलाज इस प्रकार है जानिए 2,107 4
धनिया के औषधीय गुण 412 4
जानिए पेट दर्द के होने के कारण 882 4
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 7,418 4
रात में दूध पीने के फायदे 1,140 4
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 790 4
गाजर खाने के फायदे 432 4
गर्भावस्था के बाद महिलाएं अपनाएं ऐसी डाइट, नहीं होगी कमजोरी 466 4
हस्तमैथुन करने वाली महिलाएं होती है इन बीमारियों का शिकार 734 4