क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें

आईवीएफ प्रणाली, आईवीएफ लागत, आईवीएफ प्रक्रिया, आईवीएफ ट्रीटमेंट, भ्रूण हस्तांतरण के बाद आईवीएफ सावधानियों, कैसे आईवीएफ और अधिक सफल बनाने के लिए, सफल आईवीएफ के लिए रहस्य, आईवीएफ के साइड इफेक्ट्स

आईवीएफ यानी इन विट्रो फर्टिलाइजेशन, यह किसी भी समस्या के कारण लाइलाज निसंतान दंपति को बच्चे का तोहफा देने की ऐसी प्रक्रिया है जो दिन प्रतिदिन लोकप्रिय होती जा रही है। आई वी एफ में मां को अंडा बनाने का इंजेक्‍शन दिया जाता है। इंजेक्‍शन लगाने का उद्देश्‍य यह होता है कि ज्‍यादा से ज्‍यादा अंडे बनाए जा सकें। और अल्‍ट्रासाउट के जरिये इसकी निगरानी की जाती है कि अंडा बन रहा है या नहीं। जब उनकी ग्रोथ हो जाती है और वह परिपक्‍व हो जाते हैं तो उनमें से अंडे निकाल लिये जाते हैं और इसके बाद इन्हें प्रयोगशाला में कल्चर डिश में तैयार पति के स्‍पर्म के साथ मिलाकर निषेचन के लिए रख दिया जाता है। यह सब अल्ट्रासाइंड के तहत किया जाता है। प्रयोगशाला में इसे दो-तीन दिन के लिए रखा जाता है और इससे बने भ्रूण को वापस महिला के गर्भ में प्रत्यारोपित कर दिया जाता है। आईवीएफ की पूरी प्रक्रिया में दो से तीन सप्ताह का समय लग जाता है। आई वी एफ की प्रक्रिया क्‍या है और किन कारणों से इसे करवाना चाहिए, आइए अपोलो हॉस्पिटल की सीनियर कंसलटेंट डॉक्‍टर सुषमा सिन्‍हा से जानें।

इन्फर्टिलिटी की समस्या से निपटने के लिए तमाम तरह की तकनीकी आजकल प्रचलन में हैं। आधुनिक तकनीकियों का प्रयोग करके इन्फर्टिलिटी से जूझ रहे लोगों को संतान की प्राप्ति हो सकती है। इसी तरह की एक तकनीकी है जिसे इन विट्रो फर्टिलाइजेशन यानी कि आईवीएफ कहा जाता है। आईवीएफ एक मेडिकल प्रक्रिया है जिसकी मदद से गर्भधारण कराया जाता है। इस प्रक्रिया की मदद से महिला के अंडों को पुरूष के स्पर्म के साथ लैब में रखा जाता है। बाद में उनके फर्टिलाइज हो जाने पर उसे महिला के गर्भाशय में डाल दिया जाता है। इस दौरान यह भी ध्यान रखा जाता है कि वो सुरक्षित तरीके से भ्रूण बन सके।

छुट्टी पर घर आए बीएसएफ जवान को आतंकियों ने मार डाला

 

दुनिया भर में इस तकनीकी का सफलतापूर्वक इस्तेमाल किया जा रहा है। इस प्रक्रिया को लेकर लोगों के मन में कई तरह के मिथक भी मौजूद हैं। इन मिथकों में से कुछ मिथकों की सच्चाई के बारे में ब्लूम आईवीएफ ग्रुप के डाइरेक्टर और फेडरेशन ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड जाइनेकोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के सेक्रेटरी जनरल डॉ. ऋषिकेश डी पाइ ने वेबसाइट ‘हेल्थसाइट’ के हवाले से बताया है। आइए जानते हैं कि आईवीएफ प्रेग्नेंसी से जुड़े मिथक कौन-कौन से हैं और उनकी क्या सच्चाई है।

बड़ी खबरें

  • यह शत प्रतिशत सफल होती है –

आईवीएफ की सफलता उम्र, इन्फर्टिलिटी की वजह तथा बायोलॉजिकल और हार्मोनल कंडीशन पर निर्भर करती है। 35 साल से कम उम्र वाले जोड़ों में इसकी सफलता – दर चालीस प्रतिशत तक होती है।

 

आईवीएफ से पैदा होने वाले बच्चों में बदसूरती या फिर किसी तरह की अपंगता का खतरा बहुत कम होता है। इस तकनीकी से पैदा होने वाले बच्चों में किसी भी तरह की कमी की संभावना उतनी ही होती है जितनी आम डिलीवरी से पैदा होने वाले बच्चों में होती है।

आईवीएफ प्रेग्नेंसी में सीजेरियन बर्थ की संभावना होती है –
आईवीएफ प्रेग्नेंसी सामान्य प्रेग्नेंसी की ही तरह होती है। यह सीजेरियन डिलीवरी का संकेत नहीं है। इस तकनीकी से एक सामान्य वेजिनल डिलीवरी संभव है।

आईवीएफ प्रेग्नेंसी के लिए अस्पताल में एडमिट होना पड़ता है –
ऐसा केवल कुछ घंटो के लिए करना पड़ता है। अंडों के संग्रह की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिल जाती है।

आईवीएफ सुरक्षित नहीं है –
यह पूरी तरह से सुरक्षित प्रक्रिया है। इस केस में सिर्फ 2 प्रतिशत पेशेंट ऐसे होते हैं जिनमें ओवेरियन हाइपर स्टिमुलेशन सिंड्रम से ग्रस्त होने का खतरा होता है।

 

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 34,537 42
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 42,669 30
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 15,794 27
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 5,642 17
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 16,944 14
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 5,748 14
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 18,996 12
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 5,631 11
पत्नी को क्यों पिलाएं कलौंजी वाला दूध ? 310 8
बच्चों में टाइफाइड बुखार होने के कारण 1,002 7
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 4,225 7
झाइयां होने के कारण 3,634 6
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 2,309 6
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 1,795 6
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 3,983 6
मैथी के फायदे और गुण 61 5
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 2,979 5
मासिक धर्म के इन दिनों में शारीरिक संबंध के लिए तड़पती है महिला 141 5
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 6,278 5
बिना एक्सरसाइज किए 1 महीने में घटाएं जांघों और कूल्हों की चर्बी! 74 5
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 3,278 5
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,212 4
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 3,616 4
थायराइड की समस्या और घरेलु उपचार 1,678 4
कब्ज और पेट साफ रखने के आसान घरेलू उपाय 62 4
ब्रेस्ट साइज़ कैसे करे कम| घरेलू नुस्खे| 1,376 4
मियादी बुखार का कारण क्या है 3,205 4
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 3,322 3
अखरोट खाने के कौन - कौन से फायदे और नुकसान होते है 1,324 3
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 5,504 3
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 2,257 3
सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए 53 3
पाचन तंत्र ठीक हो लिवर ठीक से कार्य करें 55 3
शादीशुदा महिलाओं की ये चीजें लड़कों को बना देती है दीवाना 140 3
बादाम खाएं ,मोटापा,कोलेस्ट्रोल घटाएं और भी फायदे पाये 795 3
क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें 705 3
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 3,928 2
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 1,156 2
हाई बीपी और माइग्रेन में फायदेमंद है मेंहदी 1,006 2
अंतरंग सम्बन्ध के दौरान लड़की के इन इशारों का करें इंतजार 173 2
स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें 639 2
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,536 2
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 1,933 2
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 4,501 2
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 1,751 2
क्‍या सोते समय ब्रा पहननी चाहिये ? 10,881 2
खून की कमी होने पर करें उपाय 649 2
जामुन के गुण और फायदे 2,088 2
सेक्‍स करने से लोगों को होते हैं ये 10 फायदे 3,566 2
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 1,594 2