क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें

आईवीएफ प्रणाली, आईवीएफ लागत, आईवीएफ प्रक्रिया, आईवीएफ ट्रीटमेंट, भ्रूण हस्तांतरण के बाद आईवीएफ सावधानियों, कैसे आईवीएफ और अधिक सफल बनाने के लिए, सफल आईवीएफ के लिए रहस्य, आईवीएफ के साइड इफेक्ट्स

आईवीएफ यानी इन विट्रो फर्टिलाइजेशन, यह किसी भी समस्या के कारण लाइलाज निसंतान दंपति को बच्चे का तोहफा देने की ऐसी प्रक्रिया है जो दिन प्रतिदिन लोकप्रिय होती जा रही है। आई वी एफ में मां को अंडा बनाने का इंजेक्‍शन दिया जाता है। इंजेक्‍शन लगाने का उद्देश्‍य यह होता है कि ज्‍यादा से ज्‍यादा अंडे बनाए जा सकें। और अल्‍ट्रासाउट के जरिये इसकी निगरानी की जाती है कि अंडा बन रहा है या नहीं। जब उनकी ग्रोथ हो जाती है और वह परिपक्‍व हो जाते हैं तो उनमें से अंडे निकाल लिये जाते हैं और इसके बाद इन्हें प्रयोगशाला में कल्चर डिश में तैयार पति के स्‍पर्म के साथ मिलाकर निषेचन के लिए रख दिया जाता है। यह सब अल्ट्रासाइंड के तहत किया जाता है। प्रयोगशाला में इसे दो-तीन दिन के लिए रखा जाता है और इससे बने भ्रूण को वापस महिला के गर्भ में प्रत्यारोपित कर दिया जाता है। आईवीएफ की पूरी प्रक्रिया में दो से तीन सप्ताह का समय लग जाता है। आई वी एफ की प्रक्रिया क्‍या है और किन कारणों से इसे करवाना चाहिए, आइए अपोलो हॉस्पिटल की सीनियर कंसलटेंट डॉक्‍टर सुषमा सिन्‍हा से जानें।

इन्फर्टिलिटी की समस्या से निपटने के लिए तमाम तरह की तकनीकी आजकल प्रचलन में हैं। आधुनिक तकनीकियों का प्रयोग करके इन्फर्टिलिटी से जूझ रहे लोगों को संतान की प्राप्ति हो सकती है। इसी तरह की एक तकनीकी है जिसे इन विट्रो फर्टिलाइजेशन यानी कि आईवीएफ कहा जाता है। आईवीएफ एक मेडिकल प्रक्रिया है जिसकी मदद से गर्भधारण कराया जाता है। इस प्रक्रिया की मदद से महिला के अंडों को पुरूष के स्पर्म के साथ लैब में रखा जाता है। बाद में उनके फर्टिलाइज हो जाने पर उसे महिला के गर्भाशय में डाल दिया जाता है। इस दौरान यह भी ध्यान रखा जाता है कि वो सुरक्षित तरीके से भ्रूण बन सके।

छुट्टी पर घर आए बीएसएफ जवान को आतंकियों ने मार डाला

 

दुनिया भर में इस तकनीकी का सफलतापूर्वक इस्तेमाल किया जा रहा है। इस प्रक्रिया को लेकर लोगों के मन में कई तरह के मिथक भी मौजूद हैं। इन मिथकों में से कुछ मिथकों की सच्चाई के बारे में ब्लूम आईवीएफ ग्रुप के डाइरेक्टर और फेडरेशन ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड जाइनेकोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के सेक्रेटरी जनरल डॉ. ऋषिकेश डी पाइ ने वेबसाइट ‘हेल्थसाइट’ के हवाले से बताया है। आइए जानते हैं कि आईवीएफ प्रेग्नेंसी से जुड़े मिथक कौन-कौन से हैं और उनकी क्या सच्चाई है।

बड़ी खबरें

  • यह शत प्रतिशत सफल होती है –

आईवीएफ की सफलता उम्र, इन्फर्टिलिटी की वजह तथा बायोलॉजिकल और हार्मोनल कंडीशन पर निर्भर करती है। 35 साल से कम उम्र वाले जोड़ों में इसकी सफलता – दर चालीस प्रतिशत तक होती है।

 

आईवीएफ से पैदा होने वाले बच्चों में बदसूरती या फिर किसी तरह की अपंगता का खतरा बहुत कम होता है। इस तकनीकी से पैदा होने वाले बच्चों में किसी भी तरह की कमी की संभावना उतनी ही होती है जितनी आम डिलीवरी से पैदा होने वाले बच्चों में होती है।

आईवीएफ प्रेग्नेंसी में सीजेरियन बर्थ की संभावना होती है –
आईवीएफ प्रेग्नेंसी सामान्य प्रेग्नेंसी की ही तरह होती है। यह सीजेरियन डिलीवरी का संकेत नहीं है। इस तकनीकी से एक सामान्य वेजिनल डिलीवरी संभव है।

आईवीएफ प्रेग्नेंसी के लिए अस्पताल में एडमिट होना पड़ता है –
ऐसा केवल कुछ घंटो के लिए करना पड़ता है। अंडों के संग्रह की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिल जाती है।

आईवीएफ सुरक्षित नहीं है –
यह पूरी तरह से सुरक्षित प्रक्रिया है। इस केस में सिर्फ 2 प्रतिशत पेशेंट ऐसे होते हैं जिनमें ओवेरियन हाइपर स्टिमुलेशन सिंड्रम से ग्रस्त होने का खतरा होता है।

 

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 43,147 125
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 48,088 87
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,609 75
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 20,001 60
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,134 37
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,588 36
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,772 34
झाइयां होने के कारण 4,792 24
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,009 19
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,126 16
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,724 15
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,264 15
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,688 15
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 5,344 14
चिकनपॉक्स (छोटी माता): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज 1,536 14
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,335 14
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 9,839 14
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,036 13
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,543 12
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,633 12
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,760 11
मौसमी का जूस पीने के फायदे 3,979 10
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,015 10
आधे सर का दर्द और उसका इलाज 1,396 9
कच्ची् लहसुन और शुद्ध शहद खाने के लाभ 144 9
हाई बीपी और माइग्रेन में फायदेमंद है मेंहदी 1,188 9
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,327 9
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 2,876 9
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,244 8
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,477 8
जानें शंखपुष्‍पी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कितनी फायदेमंद है प्रयोग करें 974 8
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,739 8
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 2,570 7
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 3,033 7
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 4,539 7
ब्रेस्ट कम करने के उपाय 1,748 7
पियें मेथी का पानी और दूर करें बीमार जिंदगी 5,368 7
क्यों मच्छर के काटने पर खुजली होती है जानिए 1,184 6
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 6,601 6
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान 1,328 6
ब्रेस्ट साइज़ कैसे करे कम| घरेलू नुस्खे| 1,658 6
दूध को इस प्रकार पिये 667 6
अस्थमा के घरेलू उपचार 391 6
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,842 6
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 1,939 6
तुलसी का काढ़ा फायदा ही फायदा 1,964 5
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 3,777 5
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,663 5
सेब खाने के फायदे 624 5
घर पर कैसे बनाएं – एगलैस चॉकलेट केक आइये जानें 827 5