क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें

आईवीएफ प्रणाली, आईवीएफ लागत, आईवीएफ प्रक्रिया, आईवीएफ ट्रीटमेंट, भ्रूण हस्तांतरण के बाद आईवीएफ सावधानियों, कैसे आईवीएफ और अधिक सफल बनाने के लिए, सफल आईवीएफ के लिए रहस्य, आईवीएफ के साइड इफेक्ट्स

आईवीएफ यानी इन विट्रो फर्टिलाइजेशन, यह किसी भी समस्या के कारण लाइलाज निसंतान दंपति को बच्चे का तोहफा देने की ऐसी प्रक्रिया है जो दिन प्रतिदिन लोकप्रिय होती जा रही है। आई वी एफ में मां को अंडा बनाने का इंजेक्‍शन दिया जाता है। इंजेक्‍शन लगाने का उद्देश्‍य यह होता है कि ज्‍यादा से ज्‍यादा अंडे बनाए जा सकें। और अल्‍ट्रासाउट के जरिये इसकी निगरानी की जाती है कि अंडा बन रहा है या नहीं। जब उनकी ग्रोथ हो जाती है और वह परिपक्‍व हो जाते हैं तो उनमें से अंडे निकाल लिये जाते हैं और इसके बाद इन्हें प्रयोगशाला में कल्चर डिश में तैयार पति के स्‍पर्म के साथ मिलाकर निषेचन के लिए रख दिया जाता है। यह सब अल्ट्रासाइंड के तहत किया जाता है। प्रयोगशाला में इसे दो-तीन दिन के लिए रखा जाता है और इससे बने भ्रूण को वापस महिला के गर्भ में प्रत्यारोपित कर दिया जाता है। आईवीएफ की पूरी प्रक्रिया में दो से तीन सप्ताह का समय लग जाता है। आई वी एफ की प्रक्रिया क्‍या है और किन कारणों से इसे करवाना चाहिए, आइए अपोलो हॉस्पिटल की सीनियर कंसलटेंट डॉक्‍टर सुषमा सिन्‍हा से जानें।

इन्फर्टिलिटी की समस्या से निपटने के लिए तमाम तरह की तकनीकी आजकल प्रचलन में हैं। आधुनिक तकनीकियों का प्रयोग करके इन्फर्टिलिटी से जूझ रहे लोगों को संतान की प्राप्ति हो सकती है। इसी तरह की एक तकनीकी है जिसे इन विट्रो फर्टिलाइजेशन यानी कि आईवीएफ कहा जाता है। आईवीएफ एक मेडिकल प्रक्रिया है जिसकी मदद से गर्भधारण कराया जाता है। इस प्रक्रिया की मदद से महिला के अंडों को पुरूष के स्पर्म के साथ लैब में रखा जाता है। बाद में उनके फर्टिलाइज हो जाने पर उसे महिला के गर्भाशय में डाल दिया जाता है। इस दौरान यह भी ध्यान रखा जाता है कि वो सुरक्षित तरीके से भ्रूण बन सके।

छुट्टी पर घर आए बीएसएफ जवान को आतंकियों ने मार डाला

 

दुनिया भर में इस तकनीकी का सफलतापूर्वक इस्तेमाल किया जा रहा है। इस प्रक्रिया को लेकर लोगों के मन में कई तरह के मिथक भी मौजूद हैं। इन मिथकों में से कुछ मिथकों की सच्चाई के बारे में ब्लूम आईवीएफ ग्रुप के डाइरेक्टर और फेडरेशन ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड जाइनेकोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के सेक्रेटरी जनरल डॉ. ऋषिकेश डी पाइ ने वेबसाइट ‘हेल्थसाइट’ के हवाले से बताया है। आइए जानते हैं कि आईवीएफ प्रेग्नेंसी से जुड़े मिथक कौन-कौन से हैं और उनकी क्या सच्चाई है।

बड़ी खबरें

  • यह शत प्रतिशत सफल होती है –

आईवीएफ की सफलता उम्र, इन्फर्टिलिटी की वजह तथा बायोलॉजिकल और हार्मोनल कंडीशन पर निर्भर करती है। 35 साल से कम उम्र वाले जोड़ों में इसकी सफलता – दर चालीस प्रतिशत तक होती है।

 

आईवीएफ से पैदा होने वाले बच्चों में बदसूरती या फिर किसी तरह की अपंगता का खतरा बहुत कम होता है। इस तकनीकी से पैदा होने वाले बच्चों में किसी भी तरह की कमी की संभावना उतनी ही होती है जितनी आम डिलीवरी से पैदा होने वाले बच्चों में होती है।

आईवीएफ प्रेग्नेंसी में सीजेरियन बर्थ की संभावना होती है –
आईवीएफ प्रेग्नेंसी सामान्य प्रेग्नेंसी की ही तरह होती है। यह सीजेरियन डिलीवरी का संकेत नहीं है। इस तकनीकी से एक सामान्य वेजिनल डिलीवरी संभव है।

आईवीएफ प्रेग्नेंसी के लिए अस्पताल में एडमिट होना पड़ता है –
ऐसा केवल कुछ घंटो के लिए करना पड़ता है। अंडों के संग्रह की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिल जाती है।

आईवीएफ सुरक्षित नहीं है –
यह पूरी तरह से सुरक्षित प्रक्रिया है। इस केस में सिर्फ 2 प्रतिशत पेशेंट ऐसे होते हैं जिनमें ओवेरियन हाइपर स्टिमुलेशन सिंड्रम से ग्रस्त होने का खतरा होता है।

 

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 37,622 31
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 1,939 20
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 2,486 16
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 3,750 15
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 17,549 14
झाइयां होने के कारण 2,023 14
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 28,265 13
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 2,895 13
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 3,160 12
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 4,618 11
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 1,176 10
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 13,235 9
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 1,558 9
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,280 8
ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण क्‍या हैं? 2,843 8
टाइफाइड में लिए दिए जाने वाले आहार 760 8
आधे सर का दर्द और उसका इलाज 891 7
मियादी बुखार का कारण क्या है 2,427 7
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 720 7
गले में मछली का कांटा फंस जाए तो करें ये काम 450 7
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 1,646 7
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 1,152 7
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 3,011 7
पोषाहार क्या है जानिए 503 7
चेहरे का ऐसा दर्द देता है इस गंभीर बीमारी के संकेत, जानें लक्षण और बचाव 448 7
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,017 7
क्‍या सोते समय ब्रा पहननी चाहिये ? 10,449 7
पुरुषों की अपेक्षा ज्यादा समय तक जीवित रहती हैं महिलाएं आइये जानें कैसे 288 7
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान 741 6
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 2,915 6
दिमाग को तेज कैसे बनाये 511 6
स्वाद से भरपूर पोहे खाने के लाभ और फायदे 427 6
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,037 6
कई रोगों में चमत्कार का काम करती है दूब घास, जानें इसके फायदे 454 6
लौकी खाने के फायदे 290 6
प्राकृतिक चिकित्सा 964 6
फिटकरी के घरेलू उपाय, . 263 6
मसूड़ों में रक्त स्राव को रोकने के लिए कारण और उपचार 490 6
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 2,797 6
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 2,064 6
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 14,691 6
मौसमी का जूस पीने के फायदे 2,731 5
तुलसी का काढ़ा फायदा ही फायदा 1,647 5
होठों की क्या ज़रूरत है 1,920 5
काफी खतरनाक है हाइपोग्लाइसीमिया, इसकी मार से रहें सजग 582 5
बाल झड़ने की समस्या से बचने के लिए कुछ टिप्स 735 5
कैविटी का है कारगर इलाज 723 5
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 2,203 5
एनीमिया की शिकार महिलाओं के लिए चुकंदर आत्याधिक लाभदायक 489 5
डिप्रेशन का शिकार क्यों बन रहे हैं लोग जानें क्यों 376 5