क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें

आईवीएफ यानी इन विट्रो फर्टिलाइजेशन, यह किसी भी समस्या के कारण लाइलाज निसंतान दंपति को बच्चे का तोहफा देने की ऐसी प्रक्रिया है जो दिन प्रतिदिन लोकप्रिय होती जा रही है। आई वी एफ में मां को अंडा बनाने का इंजेक्‍शन दिया जाता है। इंजेक्‍शन लगाने का उद्देश्‍य यह होता है कि ज्‍यादा से ज्‍यादा अंडे बनाए जा सकें। और अल्‍ट्रासाउट के जरिये इसकी निगरानी की जाती है कि अंडा बन रहा है या नहीं। जब उनकी ग्रोथ हो जाती है और वह परिपक्‍व हो जाते हैं तो उनमें से अंडे निकाल लिये जाते हैं और इसके बाद इन्हें प्रयोगशाला में कल्चर डिश में तैयार पति के स्‍पर्म के साथ मिलाकर निषेचन के लिए रख दिया जाता है। यह सब अल्ट्रासाइंड के तहत किया जाता है। प्रयोगशाला में इसे दो-तीन दिन के लिए रखा जाता है और इससे बने भ्रूण को वापस महिला के गर्भ में प्रत्यारोपित कर दिया जाता है। आईवीएफ की पूरी प्रक्रिया में दो से तीन सप्ताह का समय लग जाता है। आई वी एफ की प्रक्रिया क्‍या है और किन कारणों से इसे करवाना चाहिए, आइए अपोलो हॉस्पिटल की सीनियर कंसलटेंट डॉक्‍टर सुषमा सिन्‍हा से जानें।

देशभर में ऐसे कई लोग हैं जो प्रजनन से जुड़ी समस्‍याओं से जूझते हैं। खराब जीवनशैली और तनाव के कारण लोगों के डाइट, आराम, सही व्‍यायाम पर भी बुरा असर पड़ता है जो उनके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है। वहीं कई लोग बांझपन की समस्या के कारण मां-बाप बनने का सुख नहीं भोग पाते। मगर मेडिकल साइन्स की तरक्की से आज कई ऐसे तरीकें उपलब्ध हैं जिनसे आप मां-बाप बनने का सुख उठा सकते हैं। इन विट्रो फर्टिलाइजेशन या आईवीएफ उन एक तरीकों में से एक है। आईवीएफ उन दंपतियों की मदद करता है जो परिवार बढ़ाना चाहते हैं, पर बांझपन की समस्‍या आड़े आती है। हालांकि किसी भी मेडिकल उपाय की तरह इसमें भी जरूरी है कि आप इसके लिए पहले से पूरी तैयारी कर लें। यहां हम उन दस बातों का जिक्र कर रहे हैं, जिन्‍हें आईवीएफ अपनाने से पहले जानना बेहद जरूरी है।

आईवीएफ का विकल्‍प चुनने की वजह क्‍या है ?
किसी भी निर्णय पर पहुंचने से पहले ठोस जांच के जरिए यह पता लगाना जरूरी है कि असल में समस्‍या क्‍या है। गर्भ नहीं ठहर पाने के पीछे कई कारण होते हैं, जैसे- हारमोन से जुड़ी समस्‍या, ट्यूब में संक्रमण, शारीरिक संबंध बनाने में असमर्थता आदि।

मेल फर्टिलिटी टेस्‍ट कराया ?
पुरुषों में संतानोत्‍पत्ति की क्षमता से जुड़ी जांच भी कराना जरूरी है। केवल एक टेस्‍ट से इस बारे में पता चल जाता है। इस टेस्‍ट में सीमेन एनालिसिस किया जाता है। जब इस जांच का नतीजा ठीक आए तब महिला को क्या समस्‍या है, उसकी जांच करने की जरूरत होती है।

आईयूआई का विकल्‍प कब अपनाएं?
आईयूआई या इंट्रायूट्रीन इनसेमिनेशन आईवीएफ की तुलना में अपेक्षाकृत आसान और कम जटिल प्रक्रिया है। अगर पति में संतानोत्‍पत्ति की क्षमता नहीं है, पोलीसिस्टिक ओवेरी सिन्‍ड्रोम (पीसीओएस) या वैजिनेसमस (वह स्थिति जिसमें औरत शारीरिक संबंध बनाने में सक्षम नहीं हो या बनाने में काफी तकलीफ होती हो) तब आईयूआई अच्‍छा विकल्‍प है। यह आईवीएफ की तुलना में काफी सस्‍ता भी होता है। आईयूआई तीन चक्र तक ट्राई किया जाता है और यह प्रशिक्षित डॉक्‍टर की निगरानी में ही किया जाता है।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 40,262 62
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 4,048 48
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 30,702 46
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 1,886 28
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 5,321 27
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 5,756 23
झाइयां होने के कारण 2,965 22
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 4,808 22
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 4,048 22
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 3,790 21
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 3,584 20
इसलिए छोटे कद की लड़कियों से सम्बन्ध बनाना ज्यादा पसंद करते है लड़के 70 20
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 13,953 20
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 4,000 19
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,110 18
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 3,370 18
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 18,317 18
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 7,096 17
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 2,636 17
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 3,045 16
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 8,827 16
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 15,446 16
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 3,498 15
मियादी बुखार का कारण क्या है 2,930 14
लकवा (पैरालिसिस): लक्षण और कारण 554 14
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 9,132 14
नुस्‍खों से हटाएं ठुड्डी के बाल 2,029 13
हाई बीपी और माइग्रेन में फायदेमंद है मेंहदी 916 13
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 5,237 13
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 2,925 12
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 1,777 12
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 1,433 12
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,358 12
गुड़ और मूंगफली खाना सेहत और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद 894 12
चिकनपॉक्स (छोटी माता): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज 1,079 12
गिलोय के फायदे और अनेक प्रकार से रोगों से छुटकारा 954 11
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,079 11
क्‍या सोते समय ब्रा पहननी चाहिये ? 10,706 11
सेक्‍स करने से लोगों को होते हैं ये 10 फायदे 3,171 11
मौसमी का जूस पीने के फायदे 3,272 11
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 1,006 10
लड़की नही समझ पा रही है इशारे तो ऐसे कराएं प्यार का अहसास 15 10
माँ का दूध बढ़ाने के तरीके 4,008 10
बेटी की बिदाई- मां के लिए बड़ी चुनौती है इस प्रकार 782 10
फल और सब्जियों के 'रंगों' में छिपा है हमारे स्‍वास्‍थ्‍य का राज 1,268 10
गले में सूजन और दर्द, लिम्फोमा कैंसर के हो सकते हैं संकेत 743 9
कलौंजी एक फायदे अनेक : कलयुग में संजीवनी है कलौंजी (मंगरैला) 479 9
पोषाहार क्या है जानिए 738 9
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 1,208 9
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 897 9