गर्मियों में हृदय को दे सुरक्षा

गर्मियों में हृदय को दे सुरक्षा

र्मी के मौसम  मे बुुजुर्ग और अस्वस्थ व्यक्ति  और खासतौर से हृदय रोग से पीडि़त व्यक्ति को  खास ध्यान देने की जरूरत होती है। वे जिन्हें पहले से ही हृदय की समस्या है उन्हें ब्लड प्रेशर और हृदय गति को नियंत्रित रखने के लिए कुछ प्रकार की दवाओं का प्रयोग करना चाहिए। अत्यधिक गर्मी और उमस शरीर के संतुलन को बिगाडऩे का काम करती है। 

खासतौर पर लो ब्लड प्रेशर और हार्ट फेलियर वालों के लिए पानी की कमी और पसीने के कारण इलेक्ट्रोलेट असंतुलन के कारण ब्लड प्रेशर को मेंटेन रखना कठिन होता है साथ ही जो डाइयुरेटिक्स (मूत्र बनाने वाली दवा) लेते हैं उन्हें डिहाइड्रेशन (पानी की कमी) और सॉल्ट डिप्लेशन (नमक की कमी) हो जाता है। हमारा शरीर 98.40 फा. (370से)  तक के सामान्य बॉडी टेम्प्रेचर कोबनाए  रखने के  लिये  सेट होता है जिससे यह अत्यधिक गर्मी में हार्ड वर्क (कूलिंग इफेक्ट) कर सकता है। जैसा कि हम सभी गर्मियों में सन स्ट्रोक या हीट स्ट्रोक के प्रभाव के बारे में जानते हैं,  लेकिन कुछ मामलों में इसके सामान्य लक्षणों में गर्मी से थकान, (हीट एग्जर्शन), सिर दर्द, बेचैनी, चिढ़चिड़ापन और प्यास का बढऩा नजर  आता है।

    दिल शरीर का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा होता है जो असंतुलन को ठीक करने के लिए कड़ी मेहनत करता है। जैसे-जैसे टेम्प्रेचर बढ़ता है शरीर वासोडिलेटेशन (त्वचा के ब्लड वेसेल्स को ठंडक पहुंचाने वाला) के द्वारा गर्मी को नष्ट करता है जिसकी वजह से पसीना त्वचा के तापमान को ठंडा करता है लेकिन इस वासोडिलेटेशन का असर ब्लड प्रेशर पर पड़ता है जिससे ब्लड प्रेशर को बनाए रखने के लिए हृदय के पम्प करने की गति (हार्ट रेट) बढ़ जाती है। ऐसे रोगी जो हाई ब्लड प्रेशर से ग्रस्त हैं उन्हें ब्लड प्रेशर कम करने और हार्ट रेट को नियंत्रित रखने की दवाएं दी जाती हैं। इसलिए इस तरह के परिवर्तन कभी-कभी मुश्किल से दिखते हैं।

   इसके लिए सामान्य तौर पर बीटा ब्लॉकस, कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स, एसीई इनहैबिटर्स आदि दवाएं हैं।
समस्त गंभीर बीमारियों से संबंधित हार्ट स्ट्रोक तब होता है जब टेम्प्रेचर 1050 फा. से ऊपर चला जाता है यह प्राणघातक भी होता है। नीचे दी गई परिस्थिति में फिजिशियन को दिखाना जरूरी है--शरीर का तापमान अत्यधिक (1030फा.) बढ़ जाना, गर्म और रुखी त्वचा (बिना पसीने के),धमक के साथ सिरदर्द,चक्कर आना व भ्रम/बेचैनी।

       इस तरह की परिस्थिति में तरल चीजें पर्याप्त नहीं होती, सबसे पहले बॉडी टेम्प्रेचर को ठंडा इलेक्ट्रोलेट के असंतुलन को ठीक करना जरूरी होता है। इससे भी ज्यादा प्रत्येक हृदय रोगी को बदलते मौसम के दौरान अपने दवा को रिएडजेस्ट कराने के लिए नियमित रूप से डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

 गर्मियों में हृदय को स्वस्थ रखने के लिए खास उपाय-

      दोपहर में 2 से 3 बजे के बीच घर से बाहर निकलने से बचें, क्योंकि इस दौरान गर्मी चरम पर होती है।
बुजुर्ग अपने दोस्तों, रिश्तेदारों या किसी जानकार के साथ अपना नियमित व्यायाम जरूर करें, जिससे किसी इमरर्जेंसी में वे आपकी सहायता कर सकें।

      व्यायाम के दौरान कई बार ब्रेक लें या फिर किसी शेड या ठंडी जगह पर सुस्ता लें।

व्यायाम के दौरान अच्छी तरह के  हवादार जूते और मोजे पहनें जिससे पसीना कम निकलेगा।

     अगर आप हेल्दी भोजन करेंगे तो गर्मी का सामना भी आसानी से कर सकेंगे और आपका हृदय भी स्वस्थ रहेगा। बॉडी टेम्प्रेचर, भूख और प्यास  को संतुलित रखने में मस्तिष्क का एक भाग हाइपोथैल्मस मदद करता है। इसलिए हीट स्ट्रोक से बचे रहने के लिए सबसे जरूरी है हाइपोथैल्मस जो एंड्रोसाइन का हिस्सा होता है उसकी कार्य प्रणाली ठीक प्रकार से होती रहे। पत्तेदार हरी सब्जियां, ऑलिव आईल , बादाम और काजू आदि फैटी एसिड्स और मिनरल से भरपूर खाद्य पदार्थ लें, ये खतरनाक गर्मी से बचने में सहायता करेंगे।
तरबूज, नाशपाती और पाईनेपल  पानी से भरपूर होते हैं। इन्हें खाने से  खेलते वक्त, व्यायाम करते वक्त या गर्मियों के प्रतिदिन के काम करते वक्त डिहाइड्रेशन से बच सकते हैं।

    ब्रॉथ, सूप और नट मिल्क के साथ अनाज आदि लेने से शरीर की नमी बनी रहती है। इस तरह के खाद्य पदार्थ आपके जलीयांश  के स्तर को बढ़ाते हैं जिससे आपके शरीर को पोषण मिलता है और हाइड्रेट भी रहता है। 

    कॉफी से बचने का प्रयास करें क्योंकि यह मूत्र वर्धक का काम करता है, जिससे आपको बार-बार पेशाब  की आवश्यकता हो सकती है जिससे शरीर का मूल्यवान पानी निकल जाता है।
अगर आप इन सावधानियों का अनुसरण करें तो हीट स्ट्रोक से बच सकते हैं। 

 

 

Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 38,707 46
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 45,322 41
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 17,831 33
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 7,571 32
आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं 24 21
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 18,474 18
कितना विटामिन डी सप्लीमेंट ठीक है? 23 16
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 4,907 14
चमत्कारी पौधा है आक 48 14
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,099 12
साधारण से खूबसूरत लगने के उपाय 2,834 11
उम्र के अंतर का संबंधों पर प्रभाव 1,062 11
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 3,566 11
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,043 11
सर्दियों में लहसुन का फायदा 541 10
हरी मिर्च खाने के चमत्कार 40 10
एडियाँ फटने पर करे उपाय 675 9
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 6,338 8
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 3,839 8
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,345 8
जामुन के गुण 1,055 7
व्रत से शरीर के डाइजेशन सिस्टम को आराम मिलता है 127 7
पियें मेथी का पानी और दूर करें बीमार जिंदगी 5,271 7
जल्‍दी पिता बनने के लिए एक घंटे में करें दो बार सेक्‍स 5,064 7
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 2,587 7
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 1,466 6
प्राकृतिक चिकित्सा 1,135 6
जानिए अनार का जूस पीने के और अनार को खाने के फायदे 1,212 6
तेजी से बढ़ रहा बोतल से दूध पिलाने का प्रचलन 1,506 6
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 426 6
झाइयां होने के कारण 4,217 6
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 2,770 6
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,399 6
गुड़ और मूंगफली खाना सेहत और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद 1,225 6
स्मार्टफोन का बुरा असर 247 6
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 2,282 6
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 1,942 6
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 19,548 6
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,346 5
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 4,571 5
स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें 712 5
शल्य क्रिया से स्तनों का आकार घटाने का तरीका 1,967 4
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,483 4
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 9,230 4
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,324 4
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,541 4
पीलिया होने पर करें घरेलु उपाय 522 4
आटिज्म: समझें बच्चों को और उनकी भावनाओं को 626 4
डायबिटीज का प्राकृतिक इलाज हैं आम के पत्ते, जानें कैसे? 565 4
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 9,617 4