घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज

घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज

लिगामेंट्स से संबंधित चोटों के बारे में जानने से पहले यह जानना जरूरी है कि लिगामेंट्स क्या हैं और ये कैसे जोड़ों (ज्वाइंट्स) को सुचारु रूप से संचालित करते हैं? वस्तुत: लिगामेंट्स रस्सीनुमा तंतुओं के ऐसे समूह हैं, जो हड्डियों को आपस में जोड़कर उन्हें स्थायित्व प्रदान करते हैं। इस कारण जोड़ सुचारु रूप से कार्य करते हैं। घुटने का जोड़ घुटने के ऊपर फीमर और नीचे टिबिया नामक हड्डी से बनता है। बीच में टायर की तरह के दो मेनिस्कस (एक तरह का कुशन) होता है। फीमर व टिबिया को दो रस्सीनुमा लिगामेंट (एनटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट और पोस्टेरियर क्रूसिएट लिगामेंट) आपस में बांध कर रखते हैं और घुटनों को स्थायित्व प्रदान करते हैं। साइड में यानी कि घुटने के दोनों तरफ कोलेटेरल और मीडियल कोलेटेरल लिगामेंट और लेटेरल कोलेटरल लिगामेंट नामक रस्सीनुमा लिगामेंट्स होते हैं। इनका कार्य भी क्रूसिएट की तरह दोनों हड्डियों को बांध कर रखना है।

स्पोट्र्स इंजरी: मैदान में या घर से बाहर खेले जाने वाले खेलों (आउटडोर गेम्स या स्पोट्र्स) के दौरान जब घुटने पर घुमावदार ताकत या जोर (ट्विस्टिंग फोर्स) लगता है, तो घुटने के लिगामेंट्स में से एक या अधिक टूट जाते हैं। ऐसा फुटबॉल, क्रिकेट, दौड़ने-कूदने, बास्केटबॉल, बेसबॉल, आदि खेलों के दौरान अक्सर हो जाता है। इस स्थिति में ये लक्षण प्रकट होते हैं…

-घुटने में सूजन आ जाती है और दर्द होता है।

-घुटना अस्थिर हो जाता है।

-घुटने में शक्ति का अभाव महसूस होना और दर्द होना।

-कभी-कभी क्लिक जैसी की आवाज आती है।

-कभी घुटना एक पोजीशन में जाम हो जाता है।

-सीढि़यां चढ़ने-उतरने, पाल्थी मारने और उकड़ू बैठने में तकलीफ होती है। घुटना पूरा नहीं मुड़ता।

आर्थोस्कोपिक विधि से इलाज

आर्थोस्कोपिक विधि से अब स्पोट्र्स इंजरी का इलाज सफलतापूर्वक संभव है। चीरफाड़ किए बगैर आर्थोस्कोप से जो भी लिगामेंट टूट गया है, उसे रिपेयर कर दिया जाता है या फिर उसका दोबारा पुनर्निर्माण कर दिया जाता है। घुटने की लूज बॉडीज (चोट लगने के कारण लिगामेंट में टूट-फूट होने वाले भागों) को निकाल दिया जाता है। परिणामस्वरूप घुटने की अस्थिरता खत्म हो जाती है और दर्द दूर हो जाता है। ऐसे व्यक्ति की दिनचर्या बहाल हो जाती है। यह आधुनिक विधि दर्दरहित और सफल है।

Vote: 
0
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 9259436235 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 9259436235

 

 

New Health Updates

आत्मा के लिए चुनें पर्दे इस प्रकार
क्यों मच्छर के काटने पर खुजली होती है जानिए
ल्यूकेमिया: लक्षणों को जानिये यह क्या है
पानी पीने का मन नहीं होता तो इन भोजन को करें डायट में शामिल
कैंसर से बचने के घरेलु उपाय
टांसिल्स से बचने के घरेलु उपाय
थायराइड की समस्या और घरेलु उपचार
डिब्बाबंद खाना होता है नुकसानदेह
जौ के इस उबटन से पुरूषों का चेहरा दिखेगा गोरा
तनाव को दूर करें और भी मनोवैज्ञानिक तरीके से जानें
स्त्री यौन रोग (श्वेत प्रदर) के लिए औषधि ॥
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान
पायरिया के लक्षण और कारण
काली मिर्च खाकर करें मोटापा दूर
खून की कमी होने पर करें उपाय
जोड़ो में दर्द है तो करें ये उपाय
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय
आखों के काले घेरे दूर करिये
पैरो में सूजन है तो करें ये उपाय
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके