जवान दिखने के बेहतरीन जादुई नुस्खे

जवान दिखने के बेहतरीन जादुई नुस्खे

उम्र बढ़ने के बाद भी महिला हो या पुरुष सभी की दिली ख्वाहिश होती है, कि वह यूथफुल और यंगर दिखें|
आजकल के हाइटेक फैशन टेक्नोलॉजी के दौर में ऐसा होना कोई मुश्किल भी नही है|
ऐसा ही एक ट्रीटमेंट है लेज़र स्किन टाइटनिंग ट्रीटमेंट, इसे एक तरह से फेशियल रिजुविनेशन भी कहा जा सकता है|
यह फाइंस लाइन व झुर्रियों को ख़त्म करके त्वचा को जवां दिखाने में बहुत ही मददगार होता है|
क्या है यह ब्यूटी ट्रीटमेंट, कैसे करते हैं|
इसके बारे में जानें और आप भी पाएं युथफुल ग्लोइंग स्किन|

क्या है स्किन टाइटनिंग ट्रीटमेंट
यह एक नॉनसर्जिकल प्रोसेस है| इसमें लेज़र का प्रयोग त्वचा की कसावट के लिए किया जाता है| हीटिंग के द्वारा त्वचा की सतह के नीचे कोलाजन को गर्म किया जाता है| इस ट्रीटमेंट में नए कोलाजन की ग्रोथ को बढ़ाने का प्रयास करते हैं| इस प्रक्रिया के अंतर्गत ट्रीटिड एरिया कोलाजन को अधिक मात्रा में ऑब्जर्व कर सके, इस पर अधिक ध्यान दिया जाता है| इस ट्रीटमेंट में त्वचा धीरे धीरे स्वाभाविक रूप से अपने खो चुके कोलाजन को पुनः संचरित करना शुरू कर देती है|

ट्रीटमेंट सेशन से पहले
ट्रीटमेंट को कराने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखें जैसे, पेशेंट अपना मेकअप रिमूव करके चेहरे को अच्छी तरह साफ कर लें| त्वचा पर किसी भी प्रकार की कोई चीज नहीं लगी रहनी चाहिए| ट्रीटमेंट से पहले कॉस्मेटोलॉजिस्ट जिन एरिया को ट्रीट करना है इस बात को ध्यान में रखकर क्लाइंट के चेहरे पर एनेस्थेटिक क्रीम का प्रयोग करता है| आंखों को भी स्पेशल आई वियर जैसे कि ग्लासेस इत्यादि से कवर करता है| जिस से यदि आपके आस-पास के लोग आपको टेंशन देते हैं और आप दिनभर उनके बारे में सोचते हैं, तो आपकी उम्र पर इसका असर पड़ता हैं। भारतीय संस्कृति में क्षमा करने के गुण को महत्त्व दिया गया है जिससे आप बातों के अनदेखा कर देने के रूप में समझ सकते हैं। नये शोध बताते हैं यदि हम अपने मन को शांत रखें तो हमारी उम्र बढ़ती है साथ ही हम अपनी उम्र के लोगों से सुंदर और जवान भी दिखते हैं। लेज़र किरणों से आंखों को भी नुकसान न हों और पेशेंट को दर्द का अनुभव भी न हो|
इस ट्रीटमेंट के सेशन के दौरान कॉस्मेटोलॉजिस्ट हैंडपीस का प्रयोग करता है, त्वचा में लेज़र एनर्जी की पल्स को पहुंचाने के लिए, ट्रीटमेंट का सेशन 30 मिनट से 1 घंटे तक का होता है, पर यह सिटिंग कितनी देर की होगी यह इस बात पर निर्भर करता है कि ट्रीटमेंट किस भाग का किया जा रहा है| ट्रीटमेंट का पूरा लाभ मिले इसके लिए यह लेज़र स्किन टाइटनिंग ट्रीटमेंट कम से कम तीन बार कराया जाना चाहिए|

ट्रीटमेंट के बाद
इसके बाद क्लाइंट अपने घर जा सकता है| प्रतिदिन का अपना नियमित रूप से किए जाने वाले कार्य कर सकता है | बहुत ही हल्के साइड इफेक्टस इसके देखने में आते हैं, जैसे त्वचा पर हल्की गर्म संवेदना हो सकती है| इसके अतिरिक्त हल्की सूजन व लालिमा देखने में आती हैं| कुछ ही घंटों के दरम्यान त्वचा सामान्य हो जाती है| गर्म संवेदना का इफेक्ट ट्रीटमेंट होने के 48 घंटे तक बना रहता है फिर धीरे धीरे समान्य होने लगता है|

यह भी जानें
यह ट्रीटमेंट स्त्री व पुरूष दोनों के लिए ही अच्छा विकल्प है| यह किसी भी प्रकार की त्वचा के लिए अनुकूल है| यह ट्रीटमेंट पूरी तरहा से सुरक्षित है| इस ट्रीटमेंट को 30 से 60 की उम्र तक के स्त्री व पुरूष दोनों करवा सकते हैं, लेकिन इसके लिए शारीरिक रूप से स्वस्थ होना बुहत आवश्यक है, क्योंकि यदि किसी प्रकार की कोई समस्या है जैसे यदि क्लाइंट डायबिटीज का पेशेंट है तो ऐसे में ट्रीटमेंट के बाद हीलिंग में समस्या उत्पन्न हो जाती है| अगर आप स्वस्थ हैं तभी इस ट्रीटमेंट को कराएं| यदि कैंसर जैसी कोई समस्या है तो अपने चिकित्सक से सलाह अवश्य लें| यदि आप प्रेगनेंट हैं तो भी इस ट्रीटमेंट को ना कराएं|

फ़ायदा क्या है
यह त्वचा को पुनः जवां बनाती है| रिंकल को हटाती है व फाइंस लाइन को भी दूर करने में सहायक है| चेहरे की ढीली त्वचा को रिपेयर करती है| इस ट्रीटमेंट से त्वचा रिजुविनेट होती है| यह ट्रीटमेंट शरीर के किसी भी हिस्से पर चेहरे, गर्दन, पैर, आर्म्स इत्यादि पर हो सकता है| यह पूर्ण रूप से सुरक्षित है व इसमें दर्द का अनुभव भी कम ही होता है| यह नई त्वचा की ग्रोथ को बढ़ाता है|
इस ट्रीटमेंट में लेज़र के द्वारा त्वचा की ऊपर की लेयर्स को कूल किया जाता है| जबकि त्वचा की सतह के नीचे कोलाजन को गर्म करते हैं| जिससे त्वचा में कसावट आती है|
इस लेज़र स्किन टाइटनिंग ट्रीटमेंट से आप भी बन सकती है हमेशा के लिए यूथफुल, बस इतना ध्यान अवश्य रखें कि यह ट्रीटमेंट किसी वेल एक्सपर्ट कॉस्मेटोलॉजिस्ट से कराएं| जिससे किसी प्रकार की हानि न हो और आप चिरयुवा बनी रहें|
 

 

Health Tags