जानिये कितना होना चाहिए आपका कोलेस्ट्रॉल और कब शुरू होती है इससे परेशानी

आजकल की अनियमित जीवनशैली और अस्वस्थ खानपान के कारण दिल की बीमारियों की संभावना बहुत ज्यादा हो गई है। दिल की बीमारियों की एक बड़ी वजह शरीर में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ जाना है। शरीर अच्छी तरह काम करे इसके लिए शरीर में एक निश्चित कोलेस्ट्रॉल लेवल होना चाहिए। कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ने से शरीर में कई तरह की परेशानियां शुरू हो जाती हैं जैसे आर्टरी ब्लॉकेज, स्टोक्स, हार्ट अटैक और दिल की अन्य बीमारियां। दरअसल कोलेस्ट्रॉल वैक्स या मोम जैसा एक ऐसा पदार्थ है जो लिवर बनाता है। ये हमारे शरीर में कोशिकाओं और हार्मोन्स के निर्माण के लिए जरूरी होता है। इसके अलावा ये बाइल जूस बनाने में भी मदद करता है। आइये आपको बताते हैं कोलेस्ट्रॉल के बारे में और ये भी कि कितना कोलेस्ट्रॉल होना आपके शरीर के लिए फायदेमंद है।

कोलेस्ट्रॉल

एलडीएल (लो डेन्सिटी लिपोप्रोटीन) और एचडीएल (हाई डेन्सिटी लिपोप्रोटीन) कोलेस्ट्रॉल के दो प्रकार होते हैं। एलडीएल को बैड कोलेस्ट्रॉल भी कहा जाता हैं। एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को लिवर से कोशिकाओं में ले जाता है। अगर इसकी मात्रा अधिक हो जाए तो यह कोशिकाओं में हानिकारक रूप से इकट्ठा हो जाता है और धमनियों को संकरा बना देता है। इसके कारण ब्लड का सर्कुलेशन धीरे हो जाता है या रुक जाता है जिससे शरीर के अंग प्रभावित होते हैं। रक्त में एलडीएल औसतन 70 प्रतिशत होता है। जोकि कोरोनरी हार्ट डिसीजेज और स्ट्रोक का सबसे बड़ा कारण बनता है। एचडीएल को अच्छा (गुड) कोलेस्ट्रॉल माना जाता है। गुड कोलेस्ट्रॉल कोरोनरी हार्ट डिसीज और स्ट्रोक को रोकता है। एचडीएल, कोलेस्ट्रॉल को कोशिकाओं से वापस लिवर में ले जाता है। लिवर में जाकर यह या तो टूट जाता है या फिर व्यर्थ पदार्थों के साथ शरीर के बाहर निकाल दिया जाता है।

कब बढ़ता है कोलेस्ट्रॉल

20 साल की उम्र के बाद कोलेस्ट्रॉल का स्‍तर बढ़ना शुरू हो जाता है। यह स्तर 60 से 65 वर्ष की उम्र तक महिलाओं और पुरुषों में समान रूप से बढ़ता है। मासिक धर्म शुरू होने से पहले महिलाओं में कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम रहता है। मासिक धर्म के बाद पुरुषों की तुलना में महिलाओं में कोलेस्ट्रॉल का लेवल अधिक रहता है। इसके अलावा कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना अनुवांशिक भी हो सकता है। देखा गया है कि अगर किसी परिवार के लोगों में अधिक कोलेस्ट्रॉल की शिकायत होती है तो अगली पीढ़ी में भी इसका लेवल बढ़ा हुआ मिलता है। सामान्य परिस्थितियों में लिवर कोलेस्ट्रॉल के निर्माण और इसके इस्तेमाल के बीच संतुलन बनाए रखता है, लेकिन कभी-कभी यह संतुलन बिगड़ भी जाता है। डायबिटीज, हाइपरटेंशन, किडनी डिजीज, लीवर डिजीज और हाइपर थाइरॉयडिज्म से पीड़ित लोगों में भी कोलेस्ट्रॉल का स्तर अधिक पाया जाता है। महिलाओं में कोलेस्‍ट्रॉल का कम होना प्रीमैच्‍योर बेबी के जन्‍म का कारण बनता है।

वयस्कों में कोलेस्ट्रॉल का स्तर

रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर 3.6 मिलिमोल्स प्रति लिटर से 7.8 मिलिमोल्स प्रति लिटर के बीच में होता है। 6 मिलिमोल्स प्रति लिटर कोलेस्ट्रॉल को उच्च श्रेणी में रखा जाता है और ऐसा होने पर धमनियों से जुड़ी बीमारियों का जोखिम काफी बढ़ जाता है। 7.8 मिलिमोल्स प्रति लीटर से अधिक कोलेस्ट्रॉल बहुत उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर कहा जाता है। इसका उच्च स्तर हार्ट अटैक और स्ट्रोक की आशंका को कई गुना बढ़ा देता है। कोलेस्ट्रॉल बैक्टीरिया द्वारा पैदा किए गए विषैले पदार्थों को सोखने के लिए स्पंज की तरह काम करता है। साथ ही यह मस्तिष्क की कार्यप्रणाली के लिए भी बेहद जरूरी होता है। जो लोग अल्जाइमर्स से पीड़ित होते हैं, उनके दिमाग में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक पाई जाती है।

Vote: 
1
Average: 1 (1 vote)

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 35,591 142
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 43,279 85
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 6,114 73
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 8,297 69
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 16,299 69
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 17,363 57
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 2,011 32
जल्‍दी पिता बनने के लिए एक घंटे में करें दो बार सेक्‍स 4,883 30
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 5,845 27
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 19,139 23
झाइयां होने के कारण 3,779 22
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 3,456 21
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 4,539 21
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 5,650 20
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 6,423 17
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,546 16
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,085 16
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 4,602 15
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 1,166 14
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,038 13
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 2,437 13
कब्ज को करें गुडबाय 352 11
कमर दर्द से बचने के घरेलू उपाय 50 10
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 2,337 10
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 5,872 9
शारीरिक संबंध के तुरंत बाद ये बातें कर देंगी आपकी गर्लफ्रेंड का मूड खराब 133 9
जामुन के गुण और फायदे 2,135 9
अपनी आँखों को रखे हमेशा सलमात 1,188 9
मौसमी का जूस पीने के फायदे 3,561 9
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,865 9
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 371 8
सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए 89 8
स्मार्टफोन का बुरा असर 195 8
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 4,053 8
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 985 7
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 4,310 7
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 3,685 7
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 1,632 7
थायराइड की समस्या और घरेलु उपचार 1,713 7
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 1,769 7
मियादी बुखार का कारण क्या है 3,269 6
बच्चों में टाइफाइड बुखार होने के कारण 1,031 6
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 1,907 6
गुड़ और मूंगफली खाना सेहत और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद 1,067 6
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,284 6
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 9,448 6
क्रीम का कम प्रयोग करने से त्वचा रूखी हो जाती है 299 6
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,451 5
क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें 728 5
दूध में डिटर्जेंट की जाँच करने के उपाय 1,848 5