टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें

टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें

टिटनेस के दुष्‍परिणामों के बारे में हम सभी ने सुना ही होगा। टिटनेस एक प्रकार का गंभीर बैक्‍टीरियल संक्रमण होता है जिसका प्रत्‍यक्ष प्रभाव, व्‍यक्ति के तंत्रिका तंत्र पर पड़ता है।

टिटनेस को लॉकजॉ भी कहा जाता है क्‍योंकि इसकी चपेट में आने पर व्‍यक्ति की मांसपेशियों में भयानक कठोरता आ जाती है और मौत हो जाती है। 

टिटनेस एक प्रकार का रोग है जो क्‍लोस्‍ट्रीडियम टीटनी बैक्‍टीरिया के कारण हो जाता है। यह बैक्‍टीरिया, दुनिया की हर जगह की जमीन, मलबे और पशुमल में पाया जाता है। यह मानव की त्‍वचा पर भी होता है।

ऐसे में अगर शरीर में कहीं कट लग जाता है या त्‍वचा कहीं से खुल जाती है तो ये बैक्‍टीरिया शरीर में अंदर प्रवेश कर जाता है और अपना प्रभाव दिखाना शुरू कर देता है। 

शरीर के जिन हिस्‍सों में ऑक्‍सीजन सबसे कम पाई जाती हैं वहां भी अच्‍छी खासी ग्रोथ कर लेते हैं। ऐसे में अगर किसी भी व्‍यक्ति को चोट या खरोंच लग जाती है तो उसे शीघ्र की इस इंजेक्‍शन लगवाने की सलाह दी जाती है।

यह इंजेक्‍शन इन कीटाणुओं को नष्‍ट करने के लिए अपना प्रभाव दिखाता है और कभी-कभी व्‍यक्ति को इसकी वजह से कुछ हल्‍की सी समस्‍या भी हो सकती है। 

जब टिटनेस के बैक्‍टीरिया शरीर में एक्टिव होते हैं तो वे एक प्रकार का विष छोड़ने लगते हैं जो नर्व से कनेक्‍ट हो जाते हैं और घाव के आसपास फैल जाते हैं। टिटनेस टॉक्सिन, इस प्रकार बढ़ता जाता है और बाद में स्‍पाइन कॉर्ड पर बुरा असर डालता है। 

लोकल टिटनेस, चोट की जगह तक ही सीमित रहता है, सेफालिक टिटनेस एक असामान्‍य प्रकार का होता है जो पूरे नर्व सिस्‍टम पर प्रभाव डालता है, गंभीर चोट लगने पर या कोई एक्‍सीडेंट होने पर या सिर में चोट लगने पर इस इंजेक्‍शन को दिया जाता है। नियोनेटल टिटनेस इंजेक्‍शन, नवजात शिशुओं को दिया जाता है ताकि उन्‍हें टिटनेस होने से बचाया जा सकें। 

शायद अब आपको समझ में आ गया होगा कि चोट लगने पर यह इंजेक्‍शन जल्‍द से जल्‍द क्‍यों लगवा लेना चाहिए। टिटनेस इंजेक्‍शन लगने पर, हल्‍का बुखार, थकान, जोड़ों में दर्द, मतली और मांसपेशियों में दर्द हो सकता है।

कई बार उस जगह पर सूजन, दर्द और खुजली भी होती है। पर आप परेशान हो, इंजेक्‍शन लगवाने के बाद संक्रमण होने का खतरा दूर हो जाता है और व्‍यक्ति को अगले कुछ दिनों तक भी चोट लगने पर टिटनेस होने का खतरा नहीं रहता है।

नोट :  अत: टिटनेस का इंजेक्शन  ज़रूर लगवाएं !

Source: hindi.boldsky.com

Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total viewssort descending Views today
बाइपोलर डिस-ऑर्डर को न्योता? 75 0
नीली रोशनी के ख़तरे? 80 0
हार्ट अटैक के कारण 82 0
दिल के दौरे में है ब्लड ग्रुप का भी हाथ 85 0
स्मार्टफ़ोन बिगाड़ रहा है आंखों की सेहत 86 0
गेमिंग एडिक्शन एक 'बीमारी' 89 0
स्मार्टफोन का बुरा असर 94 0
गेमिंग एडिक्शन का इलाज? 95 0
काली मिर्च के फायदे 96 0
नींबू केस्वास्थ्यवर्धक घरेलु उपाय 96 0
'सोने के पहले न देखें फोन' 99 0
किडनी डायलीसिस क्यों......? 101 0
जानें बीयर के बारें में 109 0
मखाना के फायदे 109 1
कैसे लें खुद हाफ बाथ? 111 0
स्वास्थ्य क्या है आइए जाने की अपने आप को कैसे स्वास्थ्य रखें 113 0
मुहासे हटाने के घरेलु उपाय 114 0
टैनिंग को हटाया जा सकता है 115 0
रक्तदान से होने वाले फायदे 116 0
उंगलिया चटकाने पर आवाज़ क्यों होती है? 119 0
क्या हर गेम खेलने वाला बीमार है? 120 0
सोने से पहले नहीं करें इन चीजों का सेवन: 123 0
मोबाइल गेमिंग डिसऑर्डर क्या है? 126 0
बाजरा खाइए, हड्डियों के रोग नहीं होंगे 130 0
पालक की खेती 132 0
लिक्विड सोप से हाथ धोते हैं तो सतर्क हो जाएं! 133 0
बालों को स्‍ट्रेट करने के प्राकृतिक उपाय 135 0
मिठाई में इस्तेमाल होने वाला चांदी का वर्क असली है या नकली 137 0
सुबह उठकर नींबू पानी पीने के और भी फायदे हैं 139 0
खुलकर हंसने के होते हैं ये फायदे 140 1
लोकस्वास्थ्य क्या है जानें 143 0
केले खाने के फायदे 143 1
मटर की खेती 145 0
दस सेकंड के एक चुंबन के दौरान क़रीब आठ करोड़ जीवाणु चुंबन करने वालों के मुंह में चले जाते हैं. 150 0
आयुर्वेद से जुड़ी ये बाते हैं अजीब लेकिन सच! 154 0
अमरुद खाने के फायदे 155 0
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 155 0
छोटे ब्रेस्‍ट है तो अभी से शुरू कर दें ये योगासन 156 0
स्वास्थ्य क्या है जाने और एक प्रकार के विज्ञान की तरह 157 1
चेहरे और शरीर की हार्डवेयर की मालिश करवाये इस प्रकार 161 0
गाजर खाने के फायदे 161 0
यकृत कैंसर के को दूर करने के उपाय 166 0
ऐसी बातों से बिगड़ता है हार्मोन संतुलन, जन्म लेते हैं बुरे लक्षण.. 166 0
सेहत पर बहुत बुरा असर डालती है गेम खेलने की लत, ऐसे पाएं छुटकारा 169 0
ज़्यादा ड्रिंकिंग की लत से कैसे निजात पाएं 169 0
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 170 0
प्रकृति के नियम​ 170 0
लीवर इज़ार्ज इस रोग का कारण और उपचार करें और जानें 173 0
जानिये रक्तचाप से कैसे प्रभावित होता है आपका शरीर और कैसे करें इसे कंट्रोल 177 0
तरह-तरह के व्रत 178 3