टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें

टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें

टिटनेस के दुष्‍परिणामों के बारे में हम सभी ने सुना ही होगा। टिटनेस एक प्रकार का गंभीर बैक्‍टीरियल संक्रमण होता है जिसका प्रत्‍यक्ष प्रभाव, व्‍यक्ति के तंत्रिका तंत्र पर पड़ता है।

टिटनेस को लॉकजॉ भी कहा जाता है क्‍योंकि इसकी चपेट में आने पर व्‍यक्ति की मांसपेशियों में भयानक कठोरता आ जाती है और मौत हो जाती है। 

टिटनेस एक प्रकार का रोग है जो क्‍लोस्‍ट्रीडियम टीटनी बैक्‍टीरिया के कारण हो जाता है। यह बैक्‍टीरिया, दुनिया की हर जगह की जमीन, मलबे और पशुमल में पाया जाता है। यह मानव की त्‍वचा पर भी होता है।

ऐसे में अगर शरीर में कहीं कट लग जाता है या त्‍वचा कहीं से खुल जाती है तो ये बैक्‍टीरिया शरीर में अंदर प्रवेश कर जाता है और अपना प्रभाव दिखाना शुरू कर देता है। 

शरीर के जिन हिस्‍सों में ऑक्‍सीजन सबसे कम पाई जाती हैं वहां भी अच्‍छी खासी ग्रोथ कर लेते हैं। ऐसे में अगर किसी भी व्‍यक्ति को चोट या खरोंच लग जाती है तो उसे शीघ्र की इस इंजेक्‍शन लगवाने की सलाह दी जाती है।

यह इंजेक्‍शन इन कीटाणुओं को नष्‍ट करने के लिए अपना प्रभाव दिखाता है और कभी-कभी व्‍यक्ति को इसकी वजह से कुछ हल्‍की सी समस्‍या भी हो सकती है। 

जब टिटनेस के बैक्‍टीरिया शरीर में एक्टिव होते हैं तो वे एक प्रकार का विष छोड़ने लगते हैं जो नर्व से कनेक्‍ट हो जाते हैं और घाव के आसपास फैल जाते हैं। टिटनेस टॉक्सिन, इस प्रकार बढ़ता जाता है और बाद में स्‍पाइन कॉर्ड पर बुरा असर डालता है। 

लोकल टिटनेस, चोट की जगह तक ही सीमित रहता है, सेफालिक टिटनेस एक असामान्‍य प्रकार का होता है जो पूरे नर्व सिस्‍टम पर प्रभाव डालता है, गंभीर चोट लगने पर या कोई एक्‍सीडेंट होने पर या सिर में चोट लगने पर इस इंजेक्‍शन को दिया जाता है। नियोनेटल टिटनेस इंजेक्‍शन, नवजात शिशुओं को दिया जाता है ताकि उन्‍हें टिटनेस होने से बचाया जा सकें। 

शायद अब आपको समझ में आ गया होगा कि चोट लगने पर यह इंजेक्‍शन जल्‍द से जल्‍द क्‍यों लगवा लेना चाहिए। टिटनेस इंजेक्‍शन लगने पर, हल्‍का बुखार, थकान, जोड़ों में दर्द, मतली और मांसपेशियों में दर्द हो सकता है।

कई बार उस जगह पर सूजन, दर्द और खुजली भी होती है। पर आप परेशान हो, इंजेक्‍शन लगवाने के बाद संक्रमण होने का खतरा दूर हो जाता है और व्‍यक्ति को अगले कुछ दिनों तक भी चोट लगने पर टिटनेस होने का खतरा नहीं रहता है।

नोट :  अत: टिटनेस का इंजेक्शन  ज़रूर लगवाएं !

Source: hindi.boldsky.com

Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total viewssort descending Views today
*ऊर्जा का स्त्रोत है राजमा* 60 0
विटामिन डी सप्लीमेंट- कितना फ़ायदेमंद 60 0
कितना विटामिन डी सप्लीमेंट ठीक है? 68 0
डिप्रेशन पर विटामिन डी का असर 71 0
विटामिन डी की कितनी मात्रा ज़रूरी 77 0
विटामिन डी के फ़ायदे 77 1
बुखार के कारण क्या है 78 3
बिना दवा के किडनी को स्वस्थ कैसे रखेंगे 79 1
अगर चाहिए सर्वगुण सम्पन्न पति तो पहले जानें ये बातें 79 0
प्रदर :परिचय (आयुर्वेद से इलाज) 81 0
किडनी रोग का आयुर्वेदिक उपचार 82 0
संभलकर! हफ्ते में पीएंगे शराब के 7 पैग तो हो जाएंगे प्रोस्टेट कैंसर का शिकार 83 0
यदि आप झपकी नहीं लेतीं तो आप बहुत कुछ खो रही हैं 84 0
नेल रिमूवर के खत्म होने पर इन ट्रिक्स से साफ करें नेलपॉलिश 87 0
रक्तचाप कम होने पर उपाय 90 1
प्रेगनेंसी में किस प्रकार का डांस करना चाहिए? 91 0
पढ़ाई का सही वक्त : जेईई मेन में सफल होने के लिए आखिरी वक्त की तैयारी वाले टिप्स 94 0
क्यों होता है अल्जाइमर 96 0
चमत्कारी पौधा है आक 96 0
दवाएं जो बन गई थीं दर्द 96 0
हरी मिर्च खाने के चमत्कार 97 0
रात की बजाय सुबह बनायें शारीरिक सम्बन्ध, होंगे ये फायदे 99 0
पुदीना खाने के औसधीय फायदे 101 0
क्या होती है नेगेटिव कैलोरी? 101 0
मछली, मीट त्यागकर केवल पूर्ण शाकाहारी भोजन आपकी सर की रूसी दूर करने में सहायक होगा 102 0
वायु प्रदूषण के चलते शरीर पर बेअसर हो रही दवाइयां 102 1
प्रकति स्वयं चिकित्सक है 105 1
ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने के लिए जरूर खाएं टमाटर 105 0
साइकिल चलाने के चमत्कारी फ़ायदे 107 1
BP High रक्तचाप अधिक होने पर उपाय 108 0
बिमारियों का घर हैं ब्रेड 108 0
आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं 109 1
बॉलीवुड एक्ट्रेस में बढ़ रहा है कपिंग थैरेपी का क्रेज, जानिए इसके फायदे 109 0
अंजीर में फाइबर उच्च मात्रा में होता है 110 0
योग का चमत्कार 110 0
ठण्डा मतलब टॉयलेट क्लीनर, नारियल मतलब रोग क्लीनर 111 0
नवरात्रि में उपवास के दौरान खाएं काजू, पास नही आएगी कमजोरी.. 111 0
सूजी हुई नसों में आराम देगी हरे टमाटर से बनी यह प्राकृतिक दवा 112 0
खायेंगे दकनी मिर्च के लडडू ~ चशमा हट जायेगा ! 114 4
एक आंवला दो संतरे के बराबर होता है। 114 0
सूरज की रोशनी कितनी कारगर 114 1
हैल्दी बालों के लिए डाइट 115 0
मोटापा कम करने के घरेलू नुस्खे 115 0
ऑफिस में स्ट्रेस से बचने के लिए खाने से ज्यादा नींद है जरूरी 116 0
यदि आप अपनी मस्तिष्क की देखभाल करते हैं 116 0
नींद ना आने की कई वजहें हैं 117 1
जानिए मांसाहार अच्छा है या शाकाहार?? 117 0
कम सोने वाले हो जाएं सावधान 117 0
चूने के चमत्कारी फायदे 118 0
अश्वगंधा के फायदे शरीर के लिए उत्तम प्रकार का टॉनिक 120 0