टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब.

टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब.

सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने हाल में खुलासा किया कि एक वक्त वह टीबी से पीड़ित थे और इलाज से पूरी तरह ठीक हो गए। बेशक टीबी किसी को भी हो सकती है लेकिन सही इलाज से यह पूरी तरह ठीक हो जाती है। 24 मार्च यानी गुरुवार को वर्ल्ड टीबी डे है। इस मौके पर टीबी से बचाव और इलाज पर एक्सपर्ट्स से बात करके पूरी जानकारी दे रही हैं प्रियंका सिंह:

एक्सपर्ट्स पैनल-

डॉ. के. के. अग्रवाल, सेक्रेटरी जनरल, इंडियन मेडिकल असोसिएशन डॉ. राजकुमार, हेड, एलर्जी एंड इम्युनोलॉजी डिपार्टमेंट, पटेल चेस्ट इंस्टिट्यूट डॉ. संदीप नायर, एचओडी, रेस्पिरेटरी मेडिसिन, बी. एल. कपूर हॉस्पिटल डॉ. अतुल मिश्रा, अडिशनल डायरेक्टर, ऑर्थोपीडिक, फोर्टिस

टीबी बैक्टीरिया से होनेवाली बीमारी है, जो हवा के जरिए एक इंसान से दूसरे में फैलती है। यह आमतौर पर फेफड़ों से शुरू होती है। सबसे कॉमन फेफड़ों की टीबी ही है लेकिन यह ब्रेन, यूटरस, मुंह, लिवर, किडनी, गला, हड्डी आदि शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है। टीबी का बैक्टीरिया हवा के जरिए फैलता है। खांसने और छींकने के दौरान मुंह-नाक से निकलने वालीं बारीक बूंदों से यह इन्फेक्शन फैलता है। अगर टीबी मरीज के बहुत पास बैठकर बात की जाए और वह खांस नहीं रहा हो तब भी इसके इन्फेक्शन का खतरा हो सकता है। हालांकि फेफड़ों के अलावा बाकी टीबी एक से दूसरे में फैलनेवाली नहीं होती और आम विश्वास के उलट यह पीढ़ी दर पीढ़ी चलने वाली बीमारी भी नहीं है।

 

 

 

नुकसान

टीबी का बैक्टीरिया शरीर के जिस भी हिस्से में होता है, उसके टिश्यू को पूरी तरह नष्ट कर देता है और इससे उस अंग का काम प्रभावित होता है। मसलन फेफड़ों में टीबी है तो फेफड़ों को धीरे-धीरे बेकार कर देती है, यूटरस में है तो इनफर्टिलिटी (बांझपन) की वजह बनती है, हड्डी में है तो हड्डी को गला देती है, ब्रेन में है तो मरीज को दौरे पड़ सकते हैं, लिवर में है तो पेट में पानी भर सकता है आदि।

लक्षण

2 हफ्ते से ज्यादा लगातार खांसी, खांसी के साथ बलगम आ रहा हो, कभी-कभार खून भी, भूख कम लगना, लगातार वजन कम होना, शाम या रात के वक्त बुखार आना, सर्दी में भी पसीना आना, सांस उखड़ना या सांस लेते हुए सीने में दर्द होना, इनमें से कोई भी लक्षण हो सकता है और कई बार कोई लक्षण नहीं भी होता

कैंसर या ब्रॉन्काइटिस से अलग कैसे टीबी के कई लक्षण कैंसर और ब्रॉन्काइटिस के लक्षणों से भी मेल खाते हैं। ऐसे में यह तय करना डॉक्टर के लिए जरूरी होता है कि इन लक्षणों की असल वजह क्या है। वैसे, तीनों बीमारियों में फर्क बतानेवाले प्रमुख लक्षण हैं:

- ब्रॉन्काइटिस में सांस लेने में दिक्कत होती है और सांस लेते हुए सीटी जैसी आवाज आती है।

- कैंसर में मुंह से खून आना,

- वजन कम होना जैसी दिक्कतें हो सकती है लेकिन आमतौर पर बुखार नहीं आता।

- टीबी में सांस की दिक्कत नहीं होती और बुखार आता है।

किसको खतरा ज्यादा 

अच्छा खान-पान न करने वालों को टीबी ज्यादा होती है क्योंकि कमजोर इम्यूनिटी से उनका शरीर बैक्टीरिया का वार नहीं झेल पाता। जब कम जगह में ज्यादा लोग रहते हैं तब इन्फेक्शन तेजी से फैलता है। अंधेरी और सीलन भरी जगहों पर भी टीबी ज्यादा होती है क्योंकि टीबी का बैक्टीरिया अंधेरे में पनपता है। यह किसी को भी हो सकता है क्योंकि यह एक से दूसरे में संक्रमण से फैलता है। स्मोकिंग करने वाले को टीबी का खतरा ज्यादा होता है। डायबीटीज के मरीजों, स्टेरॉयड लेने वालों और एचआईवी मरीजों को भी खतरा ज्यादा। कुल मिला कर उन लोगों को खतरा सबसे ज्यादा होता है जिनकी इम्यूनिटी (रोग प्रतिरोधक क्षमता ) कम होती है।

डायग्नोसिस कैसे

शरीर के जिस हिस्से की टीबी है, उसके मुताबिक टेस्ट होता है। - फेफड़ों की टीबी के लिए बलगम जांच होती है, जोकि 100-200 रुपये तक में हो जाती है। सरकारी अस्पतालों और डॉट्स सेंटर पर यह फ्री की जाती है। - बलगम की जांच 2 दिन लगातार की जाती है। ध्यान रखें कि थूक नहीं, बलगम की जांच की जाती है। अच्छी तरह खांस कर ही बलगम जांच को दें। थूक की जांच होगी तो टीबी पकड़ में नहीं आएगी। - अगर बलगम में टीबी पकड़ नहीं आती तो AFB कल्चर कराना होता है। यह 2000 रुपये तक में हो जाती है। लेकिन इनकी रिपोर्ट 6 हफ्ते में आती है। ऐसे में अब जीन एक्सपर्ट जांच की जाती है, जिसकी रिपोर्ट 4 घंटे में आ जाती है। इस जांच में यह भी पता चल जाता है कि किस लेवल की टीबी है और दवा असर करेगी या नहीं। सरकार ने इस टेस्ट के लिए 2000 रुपये की लिमिट तय की हुई है। कई बार छाती का एक्स-रे भी किया जाता है, जो 200-500 रुपये तक में हो जाता है। किडनी की टीबी के लिए यूरीन कल्चर टेस्ट होता है। यह भी 1500 रुपये तक में हो जाता है। यूटरस की टीबी के लिए सर्वाइकल स्वैब लेकर जांच करते हैं। अगर गांठ आदि है तो वहां से फ्लूइड लेकर टेस्ट किया जाता है। कई बार सीटी स्कैन कराया जाता है, जिस पर 4000 रुपये तक खर्च आता है। - कमर में लगातार दर्द है और दवा लेने के बाद भी फायदा नहीं हो रहा तो एक्सरे-एमआरआई आदि की सलाह दी जाती है। एक्सरे 300-400 रुपये में और एमआरआई 3500 रुपये तक में हो जाती है।

इलाज 

टीबी का इलाज पूरी तरह मुमकिन है। सरकारी अस्पतालों और डॉट्स सेंटरों में इसका फ्री इलाज होता है। - सबसे जरूरी है कि इलाज पूरी तरह टीबी ठीक हो जाने तक चले। बीच में छोड़ देने से बैक्टीरिया में दवाओं के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाती है और इलाज काफी मुश्किल हो जाता है क्योंकि आम दवाएं असर नहीं करतीं। - इस स्थिति को MDR/XDR यानी मल्टी ड्रग्स रेजिस्टेंट/एक्सटेंसिवली ड्रग्स रेजिस्टेंट कहते हैं। आमतौर पर हर 100 में 2 मामले MDR के होते हैं। MDR के मामलों में से 7 फीसदी XDR के होते हैं, जोकि और भी नुकसानदे है। - प्राइवेट अस्पतालों में भी इसका इलाज ज्यादा महंगा नहीं है। आमतौर पर दवाओं पर महीने में 300-400 रुपये खर्च होते हैं। लेकिन अगर XDR/MDR वाली स्थिति हो तो इलाज महंगा हो जाता है। - टीबी का इलाज लंबा चलता है। 6 महीने से लेकर 2 साल तक का समय इसे ठीक होने में लग सकता है। जनरल और यूटरस की टीबी का इलाज 6 महीने, हड्डी या किडनी की टीबी का 9 महीने और MDR/XDR का 2 साल इलाज चलता है। - इलाज शुरू करने के शुरुआती 2 हफ्ते से लेकर 2 महीने तक भी इन्फेक्शन फैल सकता है क्योंकि उस वक्त तक बैक्टीरिया एक्टिव रह सकता है। ऐसे में इलाज के शुरुआती दौर में भी जरूरी एहतियात बरतना चाहिए। - मरीज इलाज के दौरान खूब पौष्टिक खाना खाए, एक्सरसाइज करे, योग करे और सामान्य जिंदगी जिए।

बचाव कैसे करें? 

अपनी इम्युनिटी को बढ़िया रखें। न्यूट्रिशन से भरपूर खासकर प्रोटीन डाइट (सोयाबीन, दालें, मछली, अंडा, पनीर आदि) लेनी चाहिए। कमजोर इम्युनिटी से टीबी के बैक्टीरिया के एक्टिव होने के चांस होते हैं। दरअसल, टीबी का बैक्टीरिया कई बार शरीर में होता है लेकिन अच्छी इम्युनिटी से यह एक्टिव नहीं हो पाता और टीबी नहीं होती। - ज्यादा भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। कम रोशनी वाली और गंदी जगहों पर न रहें और वहां जाने से परहेज करें। - टीबी के मरीज से थोड़ा दूर रहें। कम-से-कम एक मीटर की दूरी बनाकर रखें। - मरीज को हवादार और अच्छी रोशनी वाले कमरे में रहना चाहिए। कमरे में हवा आने दें। पंखा चलाकर खिड़कियां खोल दें ताकि बैक्टीरिया बाहर निकल सके। - मरीज स्प्लिट एसी से परहेज करे क्योंकि तब बैक्टीरिया अंदर ही घूमता रहेगा और दूसरों को बीमार करेगा। - मरीज को मास्क पहनकर रखना चाहिए। मास्क नहीं है तो हर बार खांसने या छींकने से पहले मुंह को नैपकिन से कवर कर लेना चाहिए। इस नैपकिन को कवरवाले डस्टबिन में डालें। - ध्यान रखना चाहिए कि मरीज यहां-वहां थूके नहीं। मरीज किसी एक प्लास्टिक बैग में थूके और उसमें फिनाइल डालकर अच्छी तरह बंद कर डस्टबिन में डाल दें। - मरीज ऑफिस, स्कूल, मॉल जैसी भीड़ भरी जगहों पर जाने से परहेज करे। साथ ही पब्लिक ट्रांसपोर्ट भी यूज करने से बचे।

बच्चों में टीबी 

अगर बच्चों को टीबी हो जाए तो काफी घातक होती है। - इसलिए पैदा होते ही बच्चे को BCG का टीका लगाया जाता है। - बच्चे को टीबी हो जाए तो उसके पूरे शरीर में टीबी फैल सकती है। इसे मिलिएरी (miliary) टीबी कहा जाता है। - बच्चे के दिमाग तक इसका असर हो जाए तो उस स्थिति को मैनेंजाइटिस (manengitis) कहा जाता है। यह स्थित घातक हो सकती है।

महिलाओं में टीबी 

अगर किसी महिला को यूटरस की टीबी हो जाए तो उसके मां बनने में दिक्कत आती है। हालांकि सही इलाज होने के बाद वह मां बन सकती है। - प्रेग्नेंट महिला को अगर टीबी है तो आमतौर पर यह बीमारी मां से बच्चे को नहीं लगती। - बच्चे को जन्म के फौरन बाद टीबी से बचाव की दवा भी दी जाती है। - दूध पिलाने वाली मां को भी दवा जारी रखनी होती है। बच्चे को दूध आदि पिलाने के दौरान मां को मुंह ढककर रखना चाहिए ताकि बच्चे को इन्फेक्शन न हो।

मरीज क्या करें?

अगर 3 हफ्ते से ज्यादा खांसी है तो डॉक्टर को दिखाएं। - दवा का पूरा कोर्स करें, वह भी नियमित तौर पर। - खांसते हुए मुंह और नाक पर नैपकिन रखें। - न्यूट्रिशन से भरपूर खाना खाएं। - बीड़ी सिगरेट, हुक्का, तंबाकू, शराब आदि से परहेज करें।

क्या न करें?

-खुले में न थूकें।

- सिर्फ एक्सरे पर भरोसा न करें।

-कल्चर टेस्ट कराएं।

- डॉक्टर से पूछे बिना दवा बंद न करें।

क्या है DOTS -

डॉट्स (DOTS) यानी 'डायरेक्टली ऑब्जर्व्ड ट्रीटमेंट शॉर्ट कोर्स' टीबी के इलाज का अभियान है। - इसमें टीबी की मुफ्त जांच से लेकर मुफ्त इलाज तक शामिल है। - इस अभियान में हेल्थ वर्कर मरीज को अपने सामने दवा देते हैं ताकि मरीज दवा लेना न भूले। - हेल्थ वर्कर मरीज और उसके परिवार की काउंसलिंग भी करते हैं। साथ ही, इलाज के बाद भी मरीज पर निगाह रखते हैं। - इसमें 95 फीसदी तक कामयाब इलाज होता है। - दिल्ली एनसीआर में 7 डॉट्स सेंटर और 18 डॉट्स कम माइक्रोस्कोपिक सेंटर हैं।

लापरवाही पर सजा टीबी फैलाने पर सजा का भी प्रावधान है। आईपीसी की धारा 269 और 270 के मुताबिक टीबी का सही से इलाज न कराने और इसे दूसरों तक फैलाने के लिए 6 महीने तक की सजा हो सकती है। XDR टीबी फैलाने पर 1 साल तक की सजा हो सकती है।

मिथ 

1. टीबी ठीक नहीं होती या लौट आती है टीबी का इलाज पूरी तरह मुमकिन है। जो लोग ठीक नहीं होते, उसकी वजह बीच में इलाज छोड़ना होता है। ऐसे ही लोगों में यह बीमारी लौटकर आती है। लोग यह भी मानते हैं कि अगर घुटने की टीबी है तो घुटना बदलने पर भी दोबारा टीबी हो जाती है। यह भी गलत है। घुटना बदलने पर घुटने में दोबारा टीबी के चांस ज्यादातर नहीं होते।

2. गरीबों में ही होती है यह बीमारी अमिताभ बच्चन जैसे सुपरस्टार को टीबी होना यह साबित करता है कि यह बीमारी किसी को भी हो सकती है। यह एक से दूसरे को लगती है, इसलिए किसी को और कभी भी हो सकती है। गरीबों में होने की वजह है कि उनकी इम्युनिटी कमजोर होती है। ऐसे में वे जल्दी बैक्टीरिया की चपेट में आ जाते हैं।

3. प्रेग्नेंट महिलाओं को दवा नहीं खानी चाहिए टीबी के इलाज का पूरा कोर्स जरूरी है। प्रेग्नेंसी के दौरान भी मां की दवा जारी रखी जाती है। इन दवाओं का बच्चे पर कोई बुरा असर नहीं होता।

4. सरकारी दवाएं ज्यादा असरदार नहीं सरकारी दवाएं और डॉट्स प्रोग्राम भी प्राइवेट अस्पतालों के इलाज की तरह ही असरदार हैं। दवाओं में कोई फर्क नहीं है। उलटे फायदा यह है कि सरकारी अस्पतालों में ये फ्री मिलती हैं। हां, दवाएं पूरी खानी चाहिए। फर्स्ट लेवल की टीबी के ठीक होने के 95 फीसदी तक चांस होते हैं। लेकिन अगर दवा पूरी न खाएं और टीबी सेकंड लेवल पर चली जाए तो ठीक होने के चांस कम होकर 60 फीसदी ही रह जाते हैं।

5. टीबी सिर्फ फेफड़ों की होती है टीबी शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है। हालांकि ज्यादा मामले लंग्स की टीबी के होते हैं।

केबीसी के वक्त मुझे थी टीबी कुछ साल पहले मैं टीबी पेशंट था। इस बारे में मैंने कभी खुलकर लोगों के सामने कुछ नहीं कहा लेकिन अब वक्त आ गया है कि मैं सबको इसके बारे में बताऊं। मैं कमजोर महसूस कर रहा था। ब्लड टेस्ट से पता लगा कि मुझे टीबी है। यह 2003 की बात है, जब मैं केबीसी के जरिए अपनी दूसरी पारी शुरू कर रहा था। शूटिंग के पहले दिन पता चला कि मुझे रीढ़ की टीबी है। वह बहुत ही दर्दनाक था। बैठना और लेटना, दोनों ही मुश्किल था। मैं दिन में 8-10 पेनकिलर तक लेता था ताकि शूटिंग पूरी कर सकूं। एक साल के इलाज के बाद मैं पूरी तरह ठीक हो गया। टीबी पूरी तरह ठीक हो सकती है, बशर्ते पूरा इलाज कराएं। मैं खुशनसीब था कि मुझे अच्छा माहौल और बढ़िया खाना मिल सका। - अमिताभ बच्चन, ऐक्टर और 'टीबी फ्री इंडिया' कैंपेन के ब्रैंड ऐंबैसडर

Video: 
Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 48,625 127
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 51,466 83
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 12,450 69
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 12,612 65
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 22,331 50
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 22,470 49
क्या आप पार्टनर से लिपट कर सोते हैं 38 33
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,935 28
प्रेगनेंसी में डांस करने के तरीके 28 22
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,818 21
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 5,697 19
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,954 18
शादीशुदा जीवन में चाहती है भरपूर रोमांस तो पहने ऐसे अंत-वस्त्र 93 17
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,760 16
झाइयां होने के कारण 5,474 14
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 7,705 14
सेक्‍स करने से लोगों को होते हैं ये 10 फायदे 4,247 14
स्तन घटाने के उपाय, तरीके और टिप्स 2,232 13
बड़ी उम्र की महिलाओं से डेटिंग के टिप्स 1,707 13
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,164 13
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,125 11
होठों की क्या ज़रूरत है 2,361 10
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,597 10
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,774 10
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,527 10
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,144 10
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,378 10
पार्टनर के साथ इंटिमेट होने से पहले ये चीजें चैक लें कहीं.... 229 9
दालचीनी वाले दूध में छिपा है सेहत और खूबसूरत त्वचा का राज़ 43 9
कमर की चर्बी कम करने के लिये पीजिये ढेर सारा पानी 1,437 9
आंख की एपीस्कलेराइटिस : लक्षण, कारण, उपचार को करें निरोग 667 9
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 7,155 9
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 1,603 8
अपने दातो की देखभाल कैसे करें 536 7
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 2,836 7
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,574 7
योगासन से लाभ 1,297 7
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,330 7
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 3,107 7
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,209 6
व्रत रखने के फायदे 591 6
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 3,016 6
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 4,031 6
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 1,969 6
गाजर खाने के फायदे 361 6
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 5,077 6
आधे सर का दर्द और उसका इलाज 1,600 5
शल्य क्रिया से स्तनों का आकार घटाने का तरीका 2,211 5
मूंग की खेती इस प्रकार करें 1,070 5
सेक्स सरदर्द की सबसे अच्छी दावा है 977 5