डायबिटीज का प्राकृतिक इलाज हैं आम के पत्ते, जानें कैसे?

डायबिटीज का प्राकृतिक इलाज हैं आम के पत्ते, जानें कैसे?

बदली हुई जीवनशैली के कारण आजकल डायबिटीज की समस्या आम हो गई है। ये एक खतरनाक बीमारी है क्योंकि इसके कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है और शरीर को अन्य कई गंभीर बीमारियां हो जाती हैं। आम भाषा में लोग डायबिटीज को शुगर कहते हैं क्योंकि इसमें ब्लड में शुगर का लेवल बढ़ जाता है। डायबिटीज को कुछ घरेलू नुस्खों द्वारा कंट्रोल किया जा सकता है इसलिए इस रोग से घबराने की जरुरत नहीं है।

 

दालचीनी का प्रयोग

अध्ययन से पता चलता है कि दालचीनी मधुमेह को नियंत्रित करने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। दालचीनी लगभग हर घर में पाया जाता है। यह हानिकारक कोलेस्ट्रोल को कम करता है और आपके शरीर में रक्त शर्करा कि मात्रा को भी घटाता है जिससे मधुमेह के रोगियों को बहुत हीं लाभ पहुँचता है। दालचीनी भले ही मधुमेह का प्राकृतिक उपचार करने में सहायक सिद्ध होता है लेकिन इसका अत्यधिक सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे लाभ कि बजाय नुकसान हो सकता है। आप दालचीनी पीस लें और चुटकी भर चाय में उबालकर दिन में एक दो बार पिया करें।  जो लोग मधुमेह के शिकार हो चुके हैं और उसके लिए दवाइयां ले रहे हैं वे दालचीनी का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर कि सलाह अवश्य लें। लेकिन जिन्हें मधुमेह नहीं हुआ है या जो अब तक मधुमेह कि दवाइयां नहीं ले रहे हैं वे अगर दालचीनी का नियमित रूप से सेवन करें तो वे ड़ायबिटिज  के शिकार होने से बच सकते हैं।

अंजीर के पत्ते

अंजीर के पत्ते कई प्रकार के रोगों के उपचार में लाभ पहुंचाते हैं जैसे ब्रोंकाइटिस, जननांग मौसा, लीवर सिरोसिस, उच्च रक्तचाप इत्यादि। लेकिन मधुमेह के इलाज के लिए अंजीर के पत्ते सर्वश्रेष्ठ माने जाते हैं। अंजीर के पत्तों से न सिर्फ मधुमेह का उपचार किया जाता है बल्कि ये पत्ते और भी कई बीमारियों में लाभ पहुंचाते है। इसके पत्ते को उबालकर, छानकर, पानी को ठंढा करके पीया करें।

आम के पत्ते

यूँ तो पका हुआ आम मधुमेह के मरीजों के लिए पूरी तरह से वर्जित होता है लेकिन इसके विपरीत आम के पत्ते मधुमेह के मरीजों को काफी लाभ पहुंचाते  हैं। आप आम के कुछ ताजे पत्तों को एक ग्लास पानी में उबाल लें और रात भर उसे वैसे हीं छोड़ दें। सुबह होने पर पानी को स्वच्छ कपडे से छान लें और खाली पेट में पी लिया करें। ऐसा नियमित रूप से कई दिनों तक करने से ड़ायबीटीज के मरीजों को काफी फायदा पहुंचता है। यह मधुमेह के लिए एक बहुत ही प्रभावी प्राकृतिक एवं घरेलू  उपाय है।

मेथी के बीज

डायबीटिज को प्राकृतिक रूप से नियंत्रित करने में मेथी के बीज भी बहुत हीं कारगर सिद्ध होते हैं। मेथी के बीज में कुछ ऐसे घटक छिपे होते हैं जो आपके शरीर के भीतर मौजूद रक्त शर्करा को कम करते हैं। इसमें ४ हाईड्रोओक्सीसोल्युसीन नामक अमीनो एसिड होता है। यह अमीनो एसिड आपके अग्न्याशय से इंसुलिन का स्राव उत्तेजित करते हैं जिसकी वजह से आपके रक्त में मौजूद शर्करा इंधन के रूप में बदल जाता है।  इस तरह एक ओर जहाँ इस प्रक्रिया से आपको शक्ति एवं उर्जा मिलती है वही दूसरी ओर आपके शरीर में रक्त शर्करा की मात्रा कम होती है। मेथी के बीज में जेनटियानाइन, ट्रीगोनेलीन  और कारपाइन नामक घटक भी पाए जाते हैं जो आपके भोजन से कार्बोहाईडरेट का अवशोषण धीमा करते हैं और आपके रक्त प्रवाह में ग्लूकोज की मात्रा घटाते हैं।

करेले का रस

ताजे करेले का रस भी डायबीटिज को नियंत्रित करने का एक बहुत हीं प्रभावकारी प्राकृतिक उपचार है। एक छोटे से करेले का बीज निकाल लें और करेले का रस निकलकर रोजाना सुबह सुबह खाली पेट में पीया करें। यह आपके लीवर और अग्न्याशय को स्वस्थ रखता है जिससे कि इंसुलिन का उत्पादन सुचारू रूप से होता रहता है और आपके रक्त में रक्त शर्करा की मात्रा बढ़ने नहीं पाती।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 39,922 41
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 3,786 25
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 30,446 24
वजन बढ़ाने वाले हर्ब्स 82 17
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 2,904 16
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 13,873 15
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 3,905 14
जानिए अनार का जूस पीने के और अनार को खाने के फायदे 1,038 14
मिनटों में गायब हो जाएंगे 'लव बाइट' के निशान, करें ये आसान काम 16 11
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 3,415 10
जानें बीयर के बारें में 138 9
हैल्दी बालों के लिए डाइट 30 9
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 1,769 8
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 15,363 8
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 4,691 8
हार्ट अटैक से बचना है तो रोज़ पीजिये 3 से 5 बार कॉफी: शोध 2,054 7
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,341 7
झाइयां होने के कारण 2,858 6
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 3,699 6
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 1,814 6
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 5,192 6
एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे 996 6
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 5,233 6
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 2,864 6
सुबह उठते ही चेहरे पर दिखती है सूजन तो जरूर जानिए इसकी वजह 27 5
किडनी को ख़राब करने वाली है ये आदतें……. 1,340 5
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 290 5
जामुन के गुण और फायदे 1,949 5
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,071 5
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 945 5
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,326 5
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 1,485 4
क्यों जरूरी है विटामिन बी-12? 50 4
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 8,775 4
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,448 4
कब्‍ज के उपचार के घरेलू उपाय 1,061 4
हाई बीपी और माइग्रेन में मेंहदी इस प्रकार फायदेमंद 625 4
सुपारी के सेवन से किया जा सकता है पागलपन को कम 562 4
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,507 4
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 18,242 4
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 3,501 4
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 2,979 3
क्या होती है नेगेटिव कैलोरी? 36 3
पैरो में सूजन है तो करें ये उपाय 403 3
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 2,011 3
अखरोट खाने के कौन - कौन से फायदे और नुकसान होते है 1,206 3
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 2,577 3
कमर की चर्बी कम करने के लिये पीजिये ढेर सारा पानी 1,303 3
सेहत को रखना है फिट तो इस तरह से लें प्रोटीन... 559 3
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 5,672 3