डायबिटीज से आंखों को होता है डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा, जानिये इसके लक्षण

डायबिटीज के मरीजों की संख्या विश्वभर में तेजी से बढ़ रही है। डायबिटीज अगर ज्यादा बढ़ जाए तो ये खतरनाक बन जाता है। डायबिटीज के कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है और इससे शरीर के कई अंगों पर भी प्रभाव पड़ता है। आंखों और किडनी पर इसका असर सबसे ज्यादा होता है। डायबिटीज में ब्लड शुगर का लेवल बढ़ता जाता है और इससे आंखों से जुड़ी परेशानियों का खतरा भी बढ़ता जाता है। आमतौर पर डायबिटीज बढ़ने के साथ-साथ रोगी के चश्मे का नंबर बढ़ता जाता है और कई बार तो ये स्तर अंधेपन तक पहुंच जाता है। इसी रोग को डायबिटीक रेटिनोपैथी कहते हैं।

 

क्या है डायबिटीक रेटिनोपैथी

डायबिटिक रेटिनोपैथी डायबिटीज के प्रभाव से होने वाली एक बीमारी है जिससे रोगी की आंखें प्रभावित होती हैं। आंखों के अंदर एक बेहद नाजुक पर्त होती है जिसे रेटिना कहते हैं। इसी रेटिना के कारण चीजें हमें दिखाई देती हैं। डायबिटीज के कारण रेटिना को रक्त पहुंचाने वाली महीन नलिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं जिससे रेटिना पर वस्तुओं का चित्र सही नहीं बन पाता या बिल्कुल नहीं बन पाता है। इसी स्थिति को डायबिटीक रेटिनोपैथी कहते हैं। अगर सही समय से इसका इलाज न किया जाए तो रोगी अंधेपन का शिकार हो सकता है। इसका खतरा 20 से 70 वर्ष के उम्र के लोगों को ज्यादा होता है। दुनिया में अंधेपन का सबसे बड़ा कारण डायबिटिक रेटिनोपैथी ही है।

कैसे प्रभावित होती हैं आंखें

डायबिटीज दो तरह से लोगों को प्रभावित करता है। डायबिटीज में शरीर इंसुलिन नहीं बना पाता और टाइप 2 डायबिटीज में शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना पाता या बनाए गए इंसुलिन का सही इस्तेमाल नहीं कर पाता है। इंसुलिन ही हमारी कोशिकाओं के सहारे ग्लूकोज को पूरे शरीर में पहुंचाता है। जब इंसुलिन नहीं बन पाता या कम बन पाता है तो ग्लूकोज कोशिकाओं में नहीं जा पाता और खून में घुलता रहता है। इसी कारण खून में शुगर का लेवल बढ़ता जाता है। यही खून शरीर के सभी हिस्सों तक पहुंचता है और इसी से शरीर के अंग काम कर पाते हैं। हाई शुगर के साथ रक्त जब लगातार फ्लो करता है तो इससे रक्त नलिकाएं क्षतिग्रस्त हो सकती हैं और उनसे खून निकल सकता है। आंखों की रक्त नलिकाएं शरीर में सबसे ज्यादा नाजुक और महीन होती हैं इसलिए ये सबसे पहले प्रभावित होती हैं। इन नलिकाओं में खराबी के कारण अंगों तक पोषक तत्व और ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाते हैं और अंगों के काम में बाधा पहुंचती है। रक्त नलिकाओं के फटने से रिसने वाला रक्त कई बार रेटिना के आसपास इकट्ठा होता रहता है जिससे आंखों में ब्लाइंड स्पॉट भी बन सकता है।

डायबिटीक रेटिनोपैथी के लक्षण

  • चश्मे का नम्बर बार-बार बदलना और लगातार बढ़ते जाना
  • आंखों का बार-बार संक्रमित होना
  • सुबह उठने के बाद कम दिखाई देना
  • सफेद मोतियाबिंद या काला मोतियाबिंद
  • आंखों में खून की शिराएं दिखना और खून जमा दिखना
  • रेटिना से खून आना
  • सरदर्द रहना या एकाएक आंखों की रोशनी कम हो जाना
  • डायबिटीज टाइप 2 के मरीजों को मोतियाबिंद की संभावना ज्यादा होती है
  • डायबिटीक रेटिनोपैथी से बचाव

    डायबिटीज के ज्यादा बढ़ जाने से ही आंखों पर इसका प्रभाव शुरू होता है इसलिए इससे बचाव का एक ही तरीका है कि डायबिटीज का पता चलते ही ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कंट्रोल करें। इसके लिए चिकित्सक के बताए अनुसार परहेज करें और दवाएं लेते रहें। इसके अलावा डायबिटीज होने पर आपको साल में एक-दो बार आंखों की जांच करवाते रहना चाहिए जिससे आंखों पर अगर किसी तरह का प्रभाव शुरू हो जाए, तो उसका समय पर इलाज किया जा सके। अगर आपको डायबिटीज बहुत समय से हैं यानि 8-10 साल से है, तो आपको हर 3 महीने पर ही डायबिटीज की जांच करवानी चाहिए। इसके अलावा आंखों में किसी भी तरह का प्रभाव नजर आए जैसे आंखों में दर्द, धुंधला दिखना, अंधेरा लगना, कम दिखाई देना आदि- तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें और आंखों की जांच करवाएं।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 43,592 122
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 48,336 89
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,815 62
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 20,199 57
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,293 47
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,753 47
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,072 24
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,739 22
मोती जैसे सफेद दांत पाने के लिए ट्राई करें ये 5 घरेलू उपाय 2,496 18
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,578 18
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,047 16
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,823 14
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,172 14
सिर दर्द को चुटकियों में दूर करता है सिर्फ '1 नींबू' करके देखे प्रयोग 399 13
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,000 13
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,683 13
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,371 12
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 324 11
सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए 190 11
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,930 11
झाइयां होने के कारण 4,839 10
तरबूज खाने के फायदे 452 10
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,342 10
आखें लाल होने पर क्या उपाय करें 901 10
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,757 10
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 350 9
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,092 9
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 1,807 9
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,872 8
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,313 8
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,779 8
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 917 7
भरे हुए होंठ और जवानी में सम्बन्ध 1,787 7
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,490 7
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,764 6
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 2,554 6
चिकनपॉक्स (छोटी माता): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज 1,560 6
ब्रेस्ट कम करने के उपाय 1,755 6
दूध में डिटर्जेंट की जाँच करने के उपाय 1,992 6
कम उम्र में सफेद हुए बालों को काला करे 992 6
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 522 5
हरी मिर्च खाने के चमत्कार 106 5
शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा 671 5
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 1,601 5
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 6,885 5
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,277 5
रोजाना भीगे हुए चने खाने के हैं कई फायदे, जानिए और स्वस्थ्य रहिए.... 2,506 5
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 2,365 5
हड्डियों को मजबूत करते हैं ये 443 5
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,317 5