डायबिटीज से आंखों को होता है डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा, जानिये इसके लक्षण

डायबिटीज के मरीजों की संख्या विश्वभर में तेजी से बढ़ रही है। डायबिटीज अगर ज्यादा बढ़ जाए तो ये खतरनाक बन जाता है। डायबिटीज के कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है और इससे शरीर के कई अंगों पर भी प्रभाव पड़ता है। आंखों और किडनी पर इसका असर सबसे ज्यादा होता है। डायबिटीज में ब्लड शुगर का लेवल बढ़ता जाता है और इससे आंखों से जुड़ी परेशानियों का खतरा भी बढ़ता जाता है। आमतौर पर डायबिटीज बढ़ने के साथ-साथ रोगी के चश्मे का नंबर बढ़ता जाता है और कई बार तो ये स्तर अंधेपन तक पहुंच जाता है। इसी रोग को डायबिटीक रेटिनोपैथी कहते हैं।

 

क्या है डायबिटीक रेटिनोपैथी

डायबिटिक रेटिनोपैथी डायबिटीज के प्रभाव से होने वाली एक बीमारी है जिससे रोगी की आंखें प्रभावित होती हैं। आंखों के अंदर एक बेहद नाजुक पर्त होती है जिसे रेटिना कहते हैं। इसी रेटिना के कारण चीजें हमें दिखाई देती हैं। डायबिटीज के कारण रेटिना को रक्त पहुंचाने वाली महीन नलिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं जिससे रेटिना पर वस्तुओं का चित्र सही नहीं बन पाता या बिल्कुल नहीं बन पाता है। इसी स्थिति को डायबिटीक रेटिनोपैथी कहते हैं। अगर सही समय से इसका इलाज न किया जाए तो रोगी अंधेपन का शिकार हो सकता है। इसका खतरा 20 से 70 वर्ष के उम्र के लोगों को ज्यादा होता है। दुनिया में अंधेपन का सबसे बड़ा कारण डायबिटिक रेटिनोपैथी ही है।

कैसे प्रभावित होती हैं आंखें

डायबिटीज दो तरह से लोगों को प्रभावित करता है। डायबिटीज में शरीर इंसुलिन नहीं बना पाता और टाइप 2 डायबिटीज में शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना पाता या बनाए गए इंसुलिन का सही इस्तेमाल नहीं कर पाता है। इंसुलिन ही हमारी कोशिकाओं के सहारे ग्लूकोज को पूरे शरीर में पहुंचाता है। जब इंसुलिन नहीं बन पाता या कम बन पाता है तो ग्लूकोज कोशिकाओं में नहीं जा पाता और खून में घुलता रहता है। इसी कारण खून में शुगर का लेवल बढ़ता जाता है। यही खून शरीर के सभी हिस्सों तक पहुंचता है और इसी से शरीर के अंग काम कर पाते हैं। हाई शुगर के साथ रक्त जब लगातार फ्लो करता है तो इससे रक्त नलिकाएं क्षतिग्रस्त हो सकती हैं और उनसे खून निकल सकता है। आंखों की रक्त नलिकाएं शरीर में सबसे ज्यादा नाजुक और महीन होती हैं इसलिए ये सबसे पहले प्रभावित होती हैं। इन नलिकाओं में खराबी के कारण अंगों तक पोषक तत्व और ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाते हैं और अंगों के काम में बाधा पहुंचती है। रक्त नलिकाओं के फटने से रिसने वाला रक्त कई बार रेटिना के आसपास इकट्ठा होता रहता है जिससे आंखों में ब्लाइंड स्पॉट भी बन सकता है।

डायबिटीक रेटिनोपैथी के लक्षण

  • चश्मे का नम्बर बार-बार बदलना और लगातार बढ़ते जाना
  • आंखों का बार-बार संक्रमित होना
  • सुबह उठने के बाद कम दिखाई देना
  • सफेद मोतियाबिंद या काला मोतियाबिंद
  • आंखों में खून की शिराएं दिखना और खून जमा दिखना
  • रेटिना से खून आना
  • सरदर्द रहना या एकाएक आंखों की रोशनी कम हो जाना
  • डायबिटीज टाइप 2 के मरीजों को मोतियाबिंद की संभावना ज्यादा होती है
  • डायबिटीक रेटिनोपैथी से बचाव

    डायबिटीज के ज्यादा बढ़ जाने से ही आंखों पर इसका प्रभाव शुरू होता है इसलिए इससे बचाव का एक ही तरीका है कि डायबिटीज का पता चलते ही ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कंट्रोल करें। इसके लिए चिकित्सक के बताए अनुसार परहेज करें और दवाएं लेते रहें। इसके अलावा डायबिटीज होने पर आपको साल में एक-दो बार आंखों की जांच करवाते रहना चाहिए जिससे आंखों पर अगर किसी तरह का प्रभाव शुरू हो जाए, तो उसका समय पर इलाज किया जा सके। अगर आपको डायबिटीज बहुत समय से हैं यानि 8-10 साल से है, तो आपको हर 3 महीने पर ही डायबिटीज की जांच करवानी चाहिए। इसके अलावा आंखों में किसी भी तरह का प्रभाव नजर आए जैसे आंखों में दर्द, धुंधला दिखना, अंधेरा लगना, कम दिखाई देना आदि- तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें और आंखों की जांच करवाएं।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 30,984 61
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 40,503 33
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 15,568 30
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 14,077 25
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 4,203 25
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 4,105 16
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 2,676 12
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 1,525 11
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 4,906 10
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 5,379 9
सेक्‍स करने से लोगों को होते हैं ये 10 फायदे 3,201 8
एक डॉक्टर द्वारा अपनी ओ पी डी के बाहर लगाई गई ये pic.. Zoom करके देखिये 46 8
नीम और उसके फायदे 998 8
आर्टिकल जो आपकी जान बचा सकता है 1,361 8
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 4,049 7
स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें 596 6
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 18,381 6
बिना एक्सरसाइज किए 1 महीने में घटाएं जांघों और कूल्हों की चर्बी! 39 6
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,112 6
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 7,163 6
घर पर आसानी से मिनटों में निकाले व्हाइटहेड्स 45 5
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 5,810 5
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 2,964 5
जानें शंखपुष्‍पी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कितनी फायदेमंद है प्रयोग करें 776 5
जल्‍दी पिता बनने के लिए एक घंटे में करें दो बार सेक्‍स 4,565 5
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 3,840 5
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 3,075 4
लड़कियों को 'इन दिनों' यौन संबंध बनाने में आता है सबसे अधिक आनंद 4,407 4
क्‍या सोते समय ब्रा पहननी चाहिये ? 10,735 4
आंख की एपीस्कलेराइटिस : लक्षण, कारण, उपचार को करें निरोग 438 4
भरे हुए होंठ और जवानी में सम्बन्ध 1,656 4
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 2,664 4
प्राकृतिक चिकित्सा 1,060 4
पोषाहार क्या है जानिए 758 3
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 1,926 3
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 9,167 3
शरीर में रक्त की कमी का होना, रक्त की कमी पूरी करने के लिए क्या करें, जानें 952 3
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 1,620 3
एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे 1,023 3
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 3,615 3
धनिया के औषधीय गुण 255 3
ब्रेन ट्यूमर के उपाय 576 3
झाइयां होने के कारण 3,050 3
सेक्स सरदर्द की सबसे अच्छी दावा है 698 2
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 3,536 2
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,473 2
स्मार्टफोन का बुरा असर 152 2
थायराइड की समस्या और घरेलु उपचार 1,582 2
टी .बी से बचाब के घरेलु तरीके 408 2
अपनी आँखों को रखे हमेशा सलमात 1,103 2