डिफ्थीरिया के कारण, लक्षण और उपचार

डिफ्थीरिया के कारण, लक्षण और उपचार
  • यह बीमारी कॉरीनेबैक्टेरियम डिफ्थीरिया बैक्टीरिया के इंफेक्शन होती है।
  • इसके बैक्‍टीरिया टांसिल व श्वास नली को सबसे ज्‍यादा संक्रमित करते हैं।
  • सांस लेने में दिक्‍कत, गर्दन में सूजन, बुखार, खांसी आदि हैं इसके लक्षण।
  • बच्‍चे का टीकाकारण नियमित कराया जाये तो यह संक्रमण नहीं फैलता।

 

डिफ्थीरिया एक संक्रामक बीमारी है, यह संक्रमण से फैलती है, इसकी चपेट में ज्‍यादातर बच्‍चे आते हैं। इंफेक्‍शन से फैलने वाली यह बीमारी किसी भी आयुवर्ग को हो सकती है। 

इस बीमारी के होने के बाद सांस लेने में परेशानी होती है। यदि कोई व्‍यक्ति इसके संपर्क में आता है तो उसे भी डिफ्थीरिया हो सकता है। यदि इसके लक्षणों को पहचानने के बाद यदि इसका उपचार न करायें तो यह पूरे शरीर में फैल जाता है। यह बीमारी जानलेवा भी हो सकती है। इस लेख में इस बीमारी के बारे में विस्‍तार से जानिए।

डिफ्थीरिया क्‍या है

डिफ्थीरिया को गलघोंटू नाम से भी जाना जाता है। यह कॉरीनेबैक्टेरियम डिफ्थीरिया बैक्टीरिया के इंफेक्शन से होता है। इसके बैक्‍टीरिया टांसिल व श्वास नली को संक्रमित करता है। संक्रमण के कारण एक ऐसी झिल्ली बन जाती है, जिसके कारण सांस लेने में रुकावट पैदा होती है और कुछ मामलों में तो मौत भी हो जाती है। यह बीमारी बड़े लोगों की तुलना में बच्‍चों को अधिक होती है। इस बीमारी के होने पर गला सूखने लगता है, आवाज बदल जाती है, गले में जाल पड़ने के बाद सांस लेने में दिक्कत होती है। इलाज न कराने पर शरीर के अन्य अंगों में संक्रमण फैल जाता है। यदि इसके जीवाणु हृदय तक पहुंच जाये तो जान भी जा सकती है। डिफ्थीरिया से संक्रमित बच्चे के संपर्क में आने पर अन्य बच्चों को भी इस बीमारी के होने का खतरा रहता है।

डिफ्थीरिया के लक्षण

  • इस बीमारी के लक्षण संक्रमण फैलने के दो से पांच दिनों में दिखाई देते हैं।
  • डिफ्थीरिया होने पर सांस लेने में कठिनाई होती है।
  • गर्दन में सूजन हो सकती है, यह लिम्फ नोड्स भी हो सकता है।
  • बच्‍चे को ठंड लगती है, लेकिन यह कोल्‍ड से अलग होता है।
  • संक्रमण फैलने के बाद हमेशा बुखार रहता है।
  • खांसी आने लगती है, खांसते वक्‍त आवाज भी अजब हो जाती है।
  • त्‍वचा का रंग नीला पड़ जाता है।
  • संक्रमित बच्‍चे के गले में खराश की शिकायत हो जाती है।
  • शरीर हमेशा बेचैन रहता है।

 

डिफ्थीरिया के कारण

  • यह एक संक्रमण की बीमारी है जो इसके जीवाणु के संक्रमण से फैलती है।
  • इसका जीवाणु पीडि़त व्यक्ति के मुंह, नाक और गले में रहते हैं।
  • यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में खांसने और छींकने से फैलता है।
  • बारिश के मौसम में इसके जीवाणु सबसे अधिक फैलते हैं।
  • यदि इसके इलाज में देरी हो जाये तो जीवाणु पूरे शरीर में फैल जाते हैं।

डिफ्थीरिया का उपचार

डिफ्थीरिया के मरीज को एंटी-टॉक्सिन्‍स दिया जाता है। यह टीका व्‍यक्ति को बांह में लगाया जाता है। एंटी-टॉक्सिन देने के बाद चिकित्‍सक एंटी-एलर्जी टेस्‍ट कर सकते हैं, इस टेस्‍ट में यह जांच की जाती है कि कहीं मरीज की त्‍वचा एंटी-टॉक्सिन के प्रति संवेदनशील तो नहीं। शुरूआत में डिफ्थीरिया के लिए दिये जाने वाले एंटी-टॉक्सिन की मात्रा कम होती है, लेकिन धीरे-धीरे इसकी मात्रा को बढ़ा सकते हैं। 

दि बच्‍चे को नियमित टीके लगवाये जायें तो जान बच सकती है। नियमित टीकाकरण में डीपीटी (डिप्थीरिया, परटूसस काली खांसी और टिटनेस) का टीका लगाया जाता है। एक साल के बच्चे के डीपीटी के तीन टीके लगते हैं। इसके बाद डेढ़ साल पर चौथा टीका और चार साल की उम्र पर पांचवां टीका लगता है। टीकाकरण के बाद डिप्थीरिया होने की संभावना नहीं रहती है।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 39,938 57
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 30,455 33
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 3,793 32
मिनटों में गायब हो जाएंगे 'लव बाइट' के निशान, करें ये आसान काम 27 22
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 2,907 19
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 3,908 17
वजन बढ़ाने वाले हर्ब्स 82 17
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 13,874 16
जानिए अनार का जूस पीने के और अनार को खाने के फायदे 1,038 14
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 4,696 13
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 3,416 11
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 15,366 11
हैल्दी बालों के लिए डाइट 31 10
हार्ट अटैक से बचना है तो रोज़ पीजिये 3 से 5 बार कॉफी: शोध 2,056 9
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 18,247 9
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 3,506 9
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,343 9
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 2,867 9
जानें बीयर के बारें में 138 9
झाइयां होने के कारण 2,861 9
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 1,489 8
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 3,701 8
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 1,769 8
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 1,816 8
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,073 7
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 5,676 7
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 947 7
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 5,234 7
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 2,983 7
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 5,193 7
एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे 996 6
पोषाहार क्या है जानिए 707 6
सुबह उठते ही चेहरे पर दिखती है सूजन तो जरूर जानिए इसकी वजह 28 6
किडनी को ख़राब करने वाली है ये आदतें……. 1,341 6
कब्‍ज के उपचार के घरेलू उपाय 1,062 5
हाई बीपी और माइग्रेन में मेंहदी इस प्रकार फायदेमंद 626 5
जामुन के गुण और फायदे 1,949 5
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,508 5
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,326 5
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 8,776 5
क्या होती है नेगेटिव कैलोरी? 38 5
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,449 5
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 290 5
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 1,662 5
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 1,561 4
सुपारी के सेवन से किया जा सकता है पागलपन को कम 562 4
क्या आपका बच्चा चाय पीता है, तो जरूर पढ़ें 59 4
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 6,981 4
क्यों जरूरी है विटामिन बी-12? 50 4
अखरोट खाने के कौन - कौन से फायदे और नुकसान होते है 1,207 4