डिफ्थीरिया के कारण, लक्षण और उपचार

डिफ्थीरिया के कारण, लक्षण और उपचार
  • यह बीमारी कॉरीनेबैक्टेरियम डिफ्थीरिया बैक्टीरिया के इंफेक्शन होती है।
  • इसके बैक्‍टीरिया टांसिल व श्वास नली को सबसे ज्‍यादा संक्रमित करते हैं।
  • सांस लेने में दिक्‍कत, गर्दन में सूजन, बुखार, खांसी आदि हैं इसके लक्षण।
  • बच्‍चे का टीकाकारण नियमित कराया जाये तो यह संक्रमण नहीं फैलता।

 

डिफ्थीरिया एक संक्रामक बीमारी है, यह संक्रमण से फैलती है, इसकी चपेट में ज्‍यादातर बच्‍चे आते हैं। इंफेक्‍शन से फैलने वाली यह बीमारी किसी भी आयुवर्ग को हो सकती है। 

इस बीमारी के होने के बाद सांस लेने में परेशानी होती है। यदि कोई व्‍यक्ति इसके संपर्क में आता है तो उसे भी डिफ्थीरिया हो सकता है। यदि इसके लक्षणों को पहचानने के बाद यदि इसका उपचार न करायें तो यह पूरे शरीर में फैल जाता है। यह बीमारी जानलेवा भी हो सकती है। इस लेख में इस बीमारी के बारे में विस्‍तार से जानिए।

डिफ्थीरिया क्‍या है

डिफ्थीरिया को गलघोंटू नाम से भी जाना जाता है। यह कॉरीनेबैक्टेरियम डिफ्थीरिया बैक्टीरिया के इंफेक्शन से होता है। इसके बैक्‍टीरिया टांसिल व श्वास नली को संक्रमित करता है। संक्रमण के कारण एक ऐसी झिल्ली बन जाती है, जिसके कारण सांस लेने में रुकावट पैदा होती है और कुछ मामलों में तो मौत भी हो जाती है। यह बीमारी बड़े लोगों की तुलना में बच्‍चों को अधिक होती है। इस बीमारी के होने पर गला सूखने लगता है, आवाज बदल जाती है, गले में जाल पड़ने के बाद सांस लेने में दिक्कत होती है। इलाज न कराने पर शरीर के अन्य अंगों में संक्रमण फैल जाता है। यदि इसके जीवाणु हृदय तक पहुंच जाये तो जान भी जा सकती है। डिफ्थीरिया से संक्रमित बच्चे के संपर्क में आने पर अन्य बच्चों को भी इस बीमारी के होने का खतरा रहता है।

डिफ्थीरिया के लक्षण

  • इस बीमारी के लक्षण संक्रमण फैलने के दो से पांच दिनों में दिखाई देते हैं।
  • डिफ्थीरिया होने पर सांस लेने में कठिनाई होती है।
  • गर्दन में सूजन हो सकती है, यह लिम्फ नोड्स भी हो सकता है।
  • बच्‍चे को ठंड लगती है, लेकिन यह कोल्‍ड से अलग होता है।
  • संक्रमण फैलने के बाद हमेशा बुखार रहता है।
  • खांसी आने लगती है, खांसते वक्‍त आवाज भी अजब हो जाती है।
  • त्‍वचा का रंग नीला पड़ जाता है।
  • संक्रमित बच्‍चे के गले में खराश की शिकायत हो जाती है।
  • शरीर हमेशा बेचैन रहता है।

 

डिफ्थीरिया के कारण

  • यह एक संक्रमण की बीमारी है जो इसके जीवाणु के संक्रमण से फैलती है।
  • इसका जीवाणु पीडि़त व्यक्ति के मुंह, नाक और गले में रहते हैं।
  • यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में खांसने और छींकने से फैलता है।
  • बारिश के मौसम में इसके जीवाणु सबसे अधिक फैलते हैं।
  • यदि इसके इलाज में देरी हो जाये तो जीवाणु पूरे शरीर में फैल जाते हैं।

डिफ्थीरिया का उपचार

डिफ्थीरिया के मरीज को एंटी-टॉक्सिन्‍स दिया जाता है। यह टीका व्‍यक्ति को बांह में लगाया जाता है। एंटी-टॉक्सिन देने के बाद चिकित्‍सक एंटी-एलर्जी टेस्‍ट कर सकते हैं, इस टेस्‍ट में यह जांच की जाती है कि कहीं मरीज की त्‍वचा एंटी-टॉक्सिन के प्रति संवेदनशील तो नहीं। शुरूआत में डिफ्थीरिया के लिए दिये जाने वाले एंटी-टॉक्सिन की मात्रा कम होती है, लेकिन धीरे-धीरे इसकी मात्रा को बढ़ा सकते हैं। 

दि बच्‍चे को नियमित टीके लगवाये जायें तो जान बच सकती है। नियमित टीकाकरण में डीपीटी (डिप्थीरिया, परटूसस काली खांसी और टिटनेस) का टीका लगाया जाता है। एक साल के बच्चे के डीपीटी के तीन टीके लगते हैं। इसके बाद डेढ़ साल पर चौथा टीका और चार साल की उम्र पर पांचवां टीका लगता है। टीकाकरण के बाद डिप्थीरिया होने की संभावना नहीं रहती है।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 43,565 95
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 48,318 71
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 20,191 49
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,800 47
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,285 39
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,739 33
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,063 15
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,732 15
मोती जैसे सफेद दांत पाने के लिए ट्राई करें ये 5 घरेलू उपाय 2,493 15
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,044 13
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,573 13
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,821 12
सिर दर्द को चुटकियों में दूर करता है सिर्फ '1 नींबू' करके देखे प्रयोग 398 12
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,681 11
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,929 10
मौसमी का जूस पीने के फायदे 3,997 10
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,341 9
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,167 9
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,367 8
तरबूज खाने के फायदे 450 8
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,755 8
सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए 187 8
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 1,805 7
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 917 7
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,312 7
आखें लाल होने पर क्या उपाय करें 898 7
दूध में डिटर्जेंट की जाँच करने के उपाय 1,992 6
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,870 6
ब्रेस्ट कम करने के उपाय 1,755 6
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,489 6
हरी मिर्च खाने के चमत्कार 106 5
झाइयां होने के कारण 4,834 5
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 318 5
शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा 671 5
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 346 5
रोजाना भीगे हुए चने खाने के हैं कई फायदे, जानिए और स्वस्थ्य रहिए.... 2,506 5
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,277 5
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,088 5
हड्डियों को मजबूत करते हैं ये 443 5
बिना दवा के किडनी को स्वस्थ कैसे रखेंगे 98 4
क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें 949 4
छाती को कम करने के उपाय एरोबिक्स से 910 4
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 2,121 4
कम उम्र में सफेद हुए बालों को काला करे 990 4
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 521 4
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,762 4
मखाना के फायदे 196 4
मखाना खाने के जादुई प्रभाव 2,702 4
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 2,552 4
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,775 4