डिफ्थीरिया के कारण, लक्षण और उपचार

डिफ्थीरिया के कारण, लक्षण और उपचार
  • यह बीमारी कॉरीनेबैक्टेरियम डिफ्थीरिया बैक्टीरिया के इंफेक्शन होती है।
  • इसके बैक्‍टीरिया टांसिल व श्वास नली को सबसे ज्‍यादा संक्रमित करते हैं।
  • सांस लेने में दिक्‍कत, गर्दन में सूजन, बुखार, खांसी आदि हैं इसके लक्षण।
  • बच्‍चे का टीकाकारण नियमित कराया जाये तो यह संक्रमण नहीं फैलता।

 

डिफ्थीरिया एक संक्रामक बीमारी है, यह संक्रमण से फैलती है, इसकी चपेट में ज्‍यादातर बच्‍चे आते हैं। इंफेक्‍शन से फैलने वाली यह बीमारी किसी भी आयुवर्ग को हो सकती है। 

इस बीमारी के होने के बाद सांस लेने में परेशानी होती है। यदि कोई व्‍यक्ति इसके संपर्क में आता है तो उसे भी डिफ्थीरिया हो सकता है। यदि इसके लक्षणों को पहचानने के बाद यदि इसका उपचार न करायें तो यह पूरे शरीर में फैल जाता है। यह बीमारी जानलेवा भी हो सकती है। इस लेख में इस बीमारी के बारे में विस्‍तार से जानिए।

डिफ्थीरिया क्‍या है

डिफ्थीरिया को गलघोंटू नाम से भी जाना जाता है। यह कॉरीनेबैक्टेरियम डिफ्थीरिया बैक्टीरिया के इंफेक्शन से होता है। इसके बैक्‍टीरिया टांसिल व श्वास नली को संक्रमित करता है। संक्रमण के कारण एक ऐसी झिल्ली बन जाती है, जिसके कारण सांस लेने में रुकावट पैदा होती है और कुछ मामलों में तो मौत भी हो जाती है। यह बीमारी बड़े लोगों की तुलना में बच्‍चों को अधिक होती है। इस बीमारी के होने पर गला सूखने लगता है, आवाज बदल जाती है, गले में जाल पड़ने के बाद सांस लेने में दिक्कत होती है। इलाज न कराने पर शरीर के अन्य अंगों में संक्रमण फैल जाता है। यदि इसके जीवाणु हृदय तक पहुंच जाये तो जान भी जा सकती है। डिफ्थीरिया से संक्रमित बच्चे के संपर्क में आने पर अन्य बच्चों को भी इस बीमारी के होने का खतरा रहता है।

डिफ्थीरिया के लक्षण

  • इस बीमारी के लक्षण संक्रमण फैलने के दो से पांच दिनों में दिखाई देते हैं।
  • डिफ्थीरिया होने पर सांस लेने में कठिनाई होती है।
  • गर्दन में सूजन हो सकती है, यह लिम्फ नोड्स भी हो सकता है।
  • बच्‍चे को ठंड लगती है, लेकिन यह कोल्‍ड से अलग होता है।
  • संक्रमण फैलने के बाद हमेशा बुखार रहता है।
  • खांसी आने लगती है, खांसते वक्‍त आवाज भी अजब हो जाती है।
  • त्‍वचा का रंग नीला पड़ जाता है।
  • संक्रमित बच्‍चे के गले में खराश की शिकायत हो जाती है।
  • शरीर हमेशा बेचैन रहता है।

 

डिफ्थीरिया के कारण

  • यह एक संक्रमण की बीमारी है जो इसके जीवाणु के संक्रमण से फैलती है।
  • इसका जीवाणु पीडि़त व्यक्ति के मुंह, नाक और गले में रहते हैं।
  • यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में खांसने और छींकने से फैलता है।
  • बारिश के मौसम में इसके जीवाणु सबसे अधिक फैलते हैं।
  • यदि इसके इलाज में देरी हो जाये तो जीवाणु पूरे शरीर में फैल जाते हैं।

डिफ्थीरिया का उपचार

डिफ्थीरिया के मरीज को एंटी-टॉक्सिन्‍स दिया जाता है। यह टीका व्‍यक्ति को बांह में लगाया जाता है। एंटी-टॉक्सिन देने के बाद चिकित्‍सक एंटी-एलर्जी टेस्‍ट कर सकते हैं, इस टेस्‍ट में यह जांच की जाती है कि कहीं मरीज की त्‍वचा एंटी-टॉक्सिन के प्रति संवेदनशील तो नहीं। शुरूआत में डिफ्थीरिया के लिए दिये जाने वाले एंटी-टॉक्सिन की मात्रा कम होती है, लेकिन धीरे-धीरे इसकी मात्रा को बढ़ा सकते हैं। 

दि बच्‍चे को नियमित टीके लगवाये जायें तो जान बच सकती है। नियमित टीकाकरण में डीपीटी (डिप्थीरिया, परटूसस काली खांसी और टिटनेस) का टीका लगाया जाता है। एक साल के बच्चे के डीपीटी के तीन टीके लगते हैं। इसके बाद डेढ़ साल पर चौथा टीका और चार साल की उम्र पर पांचवां टीका लगता है। टीकाकरण के बाद डिप्थीरिया होने की संभावना नहीं रहती है।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 57,123 39
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 56,492 29
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 17,173 18
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 25,478 15
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 4,152 15
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 25,386 13
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 9,364 12
झाइयां होने के कारण 6,549 11
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 2,277 10
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 6,189 10
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 9,238 9
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 4,412 7
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,893 7
क्‍या सोते समय ब्रा पहननी चाहिये ? 11,661 7
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 21,845 6
डार्क सर्कल को दूर करने के घरेलू नुस्खों 2,659 6
गिलोय के फायदे और अनेक प्रकार से रोगों से छुटकारा 1,698 6
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 2,923 6
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 4,053 5
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 2,486 5
व्रत के दौरान बरतें सावधानियां 595 5
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 5,922 5
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 7,486 5
व्रत से हो सकते हैं नुकसान भी 1,045 5
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,900 4
सूरज की रोशनी कितनी कारगर 272 4
टाइफाइड में लिए दिए जाने वाले आहार 1,256 4
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 16,261 4
हाइपर थाइरोइड में शंखपुष्पी का प्रयोग। 1,429 4
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 1,210 4
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 4,998 4
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 2,513 4
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 5,110 4
फल और सब्जियों के 'रंगों' में छिपा है हमारे स्‍वास्‍थ्‍य का राज 2,016 4
मियादी बुखार का कारण क्या है 4,010 3
गले में मछली का कांटा फंस जाए तो करें ये काम 1,167 3
हर तरह की खुजली से राहत दिलाते हैं ये घरेलू उपचार इस प्रकार करे पयोग 1,842 3
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 7,664 3
रिश्तों से जुड़ीं ये 5 हैरान करने वाली बातें, जरूर जानिए 1,393 3
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 2,386 3
पियें मेथी का पानी और दूर करें बीमार जिंदगी 5,672 3
व्रत में खाई जाने वाली चीजें 846 3
पीठ दर्द से मिलेगा तुरंत छुटकारा 844 3
लकवा (पैरालिसिस): लक्षण और कारण 1,178 3
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 2,249 3
हाई बीपी और माइग्रेन में फायदेमंद है मेंहदी 1,529 3
शाकाहारी भोजन आपकी सर की रूसी दूर करने में सहायक होगा 682 3
गुड़ और मूंगफली खाना सेहत और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद 2,005 3
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,928 3
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 5,469 3