तुलसी का काढ़ा फायदा ही फायदा

तुलसी का काढ़ा फायदा ही फायदा

तुलसी का काढ़ा पीने से निकलती है किडनी की पथरी बाहर, ये हैं 10 फायदे

भारत के हर हिस्से में तुलसी का पौधा पाया जाता है। इसका पौधा केवल डेढ़ या दो फुट तक बढ़ता है। तुलसी को हिन्दू संस्कृति में अतिपूजनीय पौधा माना गया है। माता तुल्य तुलसी को आंगन में लगा देने मात्र से अनेक रोग घर में प्रवेश नहीं करते हैं। यह हवा को भी शुद्ध बनाने का कार्य करती है। तुलसी का वानस्पतिक नाम ओसीमम सैन्कटम है। आदिवासी भी तुलसी को अनेक हर्बल नुस्खों में अपनाते हैं। आज हम तुलसी से जुडे आदिवासियों के ऐसे 10 हर्बल नुस्खों के बारे में बता रहे है जिनके बारे में शायद ही आपने कभी सुना हो।

तुलसी का काढ़ा पीने से निकलती है किडनी की पथरी बाहर, ये हैं 10 फायदे
तुलसी के इन फायदों के बारे में विस्तार से जानिए।

1- किडनी की पथरी बाहर निकल सकती है
किडनी की पथरी हो, तो तुलसी की पत्तियों को उबालकर बनाया गया काढ़ा शहद के साथ नियमित 6 महीने सेवन करने से पथरी मूत्र मार्ग से बाहर निकल आती है।

2- पानी की शुद्धता के लिए
आदिवासी अंचलों मे पानी की शुद्धता के लिए तुलसी के पत्ते जल पात्र में डाल दिए जाते हैं और कम से कम एक से सवा घंटे पत्तों को पानी में रखा जाता है। कपड़े से पानी को छान लिया जाता है और फिर यह पीने योग्य माना जाता है।

3- त्वचा संक्रमण से बचाव
औषधीय गुणों से भरपूर तुलसी के रस में थाइमोल तत्व पाया जाता है जिससे त्वचा के रोगों में लाभ होता है। पातालकोट के आदिवासी हर्बल जानकारों के अनुसार तुलसी के पत्तों को त्वचा पर रगड़ दिया जाए, तो त्वचा पर किसी भी तरह के संक्रमण में आराम मिलता है।

4- दिल की बीमारी में वरदान
दिल की बीमारी में यह वरदान साबित होती है, क्योंकि यह खून में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करती है। जिन्हें हार्ट अटैक हुआ हो, उन्हें तुलसी के रस का सेवन नियमित रूप से करना चाहिए। तुलसी और हल्दी के पानी का सेवन करने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा नियंत्रित रहती है और इसे कोई भी व्यक्ति सेवन में ला सकता है।

5- झाइयां कम करने के लिए
इसकी पत्तियों का रस निकाल कर बराबर मात्रा में नींबू का रस मिलाएं और रात को चेहरे पर लगाएं, तो झाइयां नहीं रहतीं, फुंसियां ठीक होती हैं और चेहरे की रंगत में निखार आता है।

6- फ्लू से बचाव
फ्लू रोग में तुलसी के पत्तों का काढ़ा, सेंधा नमक मिलाकर पीने से ठीक होता है। डांग- गुजरात में आदिवासी हर्बल जानकार फ्लू के दौरान बुखार से ग्रस्त रोगी को तुलसी और सेंधा नमक लेने की सलाह देते हैं।

7- थकान मिटाने के लिए
पातालकोट के आदिवासी हर्बल जानकार तुलसी को थकान मिटाने वाली एक औषधि मानते हैं। इनके अनुसार अत्यधिक थकान होने पर तुलसी की पत्तियों और मंजरी के सेवन से थकान दूर हो जाती है।

8- माइग्रेन से बचाव
इसके नियमित सेवन से 'क्रोनिक-माइग्रेन' के निवारण में मदद मिलती है। प्रतिदिन दिन में 4-5 बार तुलसी से 6-7 पत्तियों को चबाने से कुछ ही दिनों में माइग्रेन की समस्या में आराम मिलने लगता है।

9- संतान सुख
आदिवासियों द्वारा शिवलिंगी के बीजों को तुलसी और गुड़ के साथ पीसकर नि:संतान महिला को खिलाया जाता है, तो महिला को जल्द ही संतान सुख की प्राप्ति होती है।

10- घमौरियों का इलाज
गर्मियों में घमौरियों के इलाज के लिए डांग- गुजरात के आदिवासी संतरे के छिलकों को सुखाकर पाउडर बना लेते हैं और इसमें थोड़ा तुलसी का पानी और गुलाबजल मिलाकर शरीर पर लगाते हैं। ऐसा करने से तुरंत आराम मिलता है।

 

 

Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total viewssort descending Views today
वेलेंटाइन डे पर चाहिए बॉयफ्रेंड से तारीफ 59 0
हर बीमारी का ताल्लुक़ विटामिन डी से नहीं 71 0
बताइए आपके बर्गर में क्या है ! 77 0
'ब्रेड में कैंसर पैदा करने वाले रसायन,' होगी जांच 79 0
प्रेगनेंसी में डांस करने से मुझे क्या फायदे हैं? 92 0
प्रेगनेंसी में डांस करने के तरीके 94 0
शादी में जाइए, थोड़ा खाइए और थो़ड़ा फेंकिए... 96 0
बच्चों के मोटापे के लिए आप तो ज़िम्मेदार नहीं? 96 0
दुबली रह कर दूर रहिए स्तन कैंसर से 96 0
मोटापा ले सकता है बच्चों की जान 99 0
बच्चों को खिलाएं ये चीजें 2 दिन में मर जाएंगे पेट के कीड़े 101 0
जापानी प्रोफेसर ने आश्चर्यजनक शोध किया। 103 0
चूना अमृत है : बीमारी ठीक कर देते है 107 0
शरीर के अंदर देखने वाला कैमरा तैयार 109 0
हर्निया परिचय कारण लक्षण भोजन पथ्य अपथ्य उपचार 116 0
दालचीनी वाले दूध में छिपा है सेहत और खूबसूरत त्वचा का राज़ 119 0
संभलकर! हफ्ते में पीएंगे शराब के 7 पैग तो हो जाएंगे प्रोस्टेट कैंसर का शिकार 124 0
*ऊर्जा का स्त्रोत है राजमा* 124 0
नेल रिमूवर के खत्म होने पर इन ट्रिक्स से साफ करें नेलपॉलिश 129 0
यदि आप झपकी नहीं लेतीं तो आप बहुत कुछ खो रही हैं 133 0
प्रेगनेंसी में किस प्रकार का डांस करना चाहिए? 133 0
विटामिन डी की कितनी मात्रा ज़रूरी 135 0
कितना विटामिन डी सप्लीमेंट ठीक है? 139 0
दवाएं जो बन गई थीं दर्द 142 0
क्यों होता है अल्जाइमर 144 0
डिप्रेशन पर विटामिन डी का असर 146 0
ऑफिस में स्ट्रेस से बचने के लिए खाने से ज्यादा नींद है जरूरी 146 0
क्या होती है नेगेटिव कैलोरी? 149 0
पुदीना खाने के औसधीय फायदे 149 0
बॉलीवुड एक्ट्रेस में बढ़ रहा है कपिंग थैरेपी का क्रेज, जानिए इसके फायदे 151 0
लिवर सिरोसिस, फेटी लिवर 153 0
बिमारियों का घर हैं ब्रेड 153 0
योग का चमत्कार 153 0
पढ़ाई का सही वक्त : जेईई मेन में सफल होने के लिए आखिरी वक्त की तैयारी वाले टिप्स 155 0
प्रकति स्वयं चिकित्सक है 156 0
विटामिन डी सप्लीमेंट- कितना फ़ायदेमंद 157 0
क्या होता है जब आप नियमित खाते हैं साबूदाना 159 0
बिना एक्सरसाइज किए 1 महीने में घटाएं जांघों और कूल्हों की चर्बी! 160 0
स्ट्रेस दूर करने के घरेलू टिप्स 160 0
हैल्दी बालों के लिए डाइट 162 0
अंजीर में फाइबर उच्च मात्रा में होता है 164 0
ठण्डा मतलब टॉयलेट क्लीनर, नारियल मतलब रोग क्लीनर 164 0
खाना खाने का सही तरीका | स्वामी रामदेव 168 0
मिनटों में गायब हो जाएंगे 'लव बाइट' के निशान, करें ये आसान काम 169 0
विटामिन डी के फ़ायदे 169 0
नवरात्रि में उपवास के दौरान खाएं काजू, पास नही आएगी कमजोरी.. 171 0
कम सोने वाले हो जाएं सावधान 172 0
मछली, मीट त्यागकर केवल पूर्ण शाकाहारी भोजन आपकी सर की रूसी दूर करने में सहायक होगा 172 0
चूने के चमत्कारी फायदे 173 0
अगर चाहिए सर्वगुण सम्पन्न पति तो पहले जानें ये बातें 173 0