नीम और उसके फायदे

नीम और उसके फायदे, नीम की पत्ती खाने के फायदे, नीम से हानि, नीम की छाल, नीम की गोली, नीम का रस, नीम का काढ़ा, नीम के तेल का उपयोग, नीम के पेड़ का महत्व

भारत : नीम के पत्ते भारत से बाहर 34 देशों को निर्यात किए जाते हैं। इसके पत्तों में मौजूद बैक्टीरिया से लड़ने वाले गुण मुंहासे, छाले, खाज-खुजली, एक्जिमा वगैरह को दूर करने में मदद करते हैं। इसका अर्क मधुमेह, कैंसर, हृदयरोग, हर्पीस, एलर्जी, अल्सर, हिपेटाइटिस (पीलिया) वगैरह के इलाज में भी मदद करता है।नीम के अर्क में मधुमेह यानी डायबिटिज, बैक्टिरिया और वायरस से लड़ने के गुण पाए जाते हैं। नीम के तने, जड़, छाल और कच्चे फलों में शक्ति-वर्धक और मियादी रोगों से लड़ने का गुण भी पाया जाता है। इसकी छाल खासतौर पर मलेरिया और त्वचा संबंधी रोगों में बहुत उपयोगी होती है।

नीम में इतने गुण हैं कि ये कई तरह के रोगों के इलाज में काम आता है। यहाँ तक कि इसको भारत में ‘गांव का दवाखाना’ कहा जाता है। यह अपने औषधीय गुणों की वजह से आयुर्वेदिक मेडिसिन में पिछले चार हजार सालों से भी ज्यादा समय से इस्तेमाल हो रहा है। नीम को संस्कृत में ‘अरिष्ट’ भी कहा जाता है, जिसका मतलब होता है, ‘श्रेष्ठ, पूर्ण और कभी खराब न होने वाला।

नीम के बारे में उपलब्ध प्राचीन ग्रंथों में इसके फल, बीज, तेल, पत्तों, जड़ और छिलके में बीमारियों से लड़ने के कई फायदेमंद गुण बताए गए हैं। प्राकृतिक चिकित्सा की भारतीय प्रणाली ‘आयुर्वेद’ के आधार-स्तंभ माने जाने वाले दो प्राचीन ग्रंथों ‘चरक संहिता’ और ‘सुश्रुत संहिता’ में इसके लाभकारी गुणों की चर्चा की गई है। इस पेड़ का हर भाग इतना लाभकारी है कि संस्कृत में इसको एक यथायोग्य नाम दिया गया है – “सर्व-रोग-निवारिणी” यानी ‘सभी बीमारियों की दवा।’ लाख दुखों की एक दवा ! 

                                  इस धरती पर मिलने वाले पत्तों में सबसे जटिल नीम का पत्ता ही है। नीम की केमिस्ट्री सूर्य से उसके लगाव का ही नतीजा है !

नीम के पत्तों में जबरदस्त औषधीय गुण तो है ही, साथ ही इसमें प्राणिक शक्ति भी बहुत अधिक है। अमेरिका में आजकल नीम को चमत्कारी वृक्ष कहा जाता है। दुर्भाग्य से भारत में अभी लोग इसकी ओर ध्यान नहीं दे हैं। अब वे नीम उगाने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि नीम को अनगिनत तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर आपको  मानसिक बिमारी है, तो भारत में उसको दूर करने के लिए नीम के पत्तों से झाड़ा जाता है। अगर आपको दांत का दर्द है, तो इसकी दातून का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आपको कोई छूत की बीमारी है, तो नीम के पत्तों पर लिटाया जाता है, क्योंकि यह आपके सिस्टम को साफ कर के उसको ऊर्जा से भर देता है। अगर आपके घर के पास, खास तौर पर आपकी बेडरूम की खिड़की के करीब अगर कोई नीम का पेड़ है, तो इसका आपके ऊपर कई तरह से अच्छा प्रभाव पड़ता है।

बैक्टीरिया इस प्रकार से लड़ता है नीम

दुनिया बैक्टीरिया से भरी पड़ी है। हमारा शरीर बैक्टीरिया से भरा हुआ है। एक सामान्य आकार के शरीर में लगभग दस खरब कोशिकाएँ होती हैंआपके शरीर के भीतर जरूरत से ज्यादा बैक्टीरिया नहीं होने चाहिए। अगर हानिकारक बैक्टीरिया की तादाद ज्यादा हो गई तो आप बुझे-बुझे से रहेंगे, क्योंकि आपकी बहुत-सी ऊर्जा उनसे निपटने में नष्ट हो जाएगी। नीम का तरह-तरह से इस्तेमाल करने से बैक्टीरिया के साथ निपटने में आपके शरीर की ऊर्जा खर्च नहीं होती।

आप नहाने से पहले अपने बदन पर नीम का लेप लगा कर कुछ वक्त तक सूखने दें, फिर उसको पानी से धो डालें। सिर्फ इतने से ही आपका बदन अच्छी तरह से साफ हो सकता है – आपके बदन पर के सारे बैक्टीरिया नष्ट हो जाएंगे। या फिर नीम के कुछ पत्तों को पानी में डाल कर रात भर छोड़ दें और फिर सुबह उस पानी से नहा लें ।हमारे और सौ खरब से भी ज्यादा बैक्टीरिया होते हैं। आप एक हैं, तो वे दस हैं। आपके भीतर इतने सारे जीव हैं कि आप कल्पना भी नहीं कर सकते। इनमें से ज्यादातर बैक्टीरिया  लिए फायदेमंद होते हैं। इनके बिना हम जिंदा नहीं रह सकते, लेकिन कुछ ऐसे भी होते हैं, जो हमारे लिए मुसीबत खड़ी कर सकते हैं। अगर आप नीम का सेवन करते हैं, तो वह हानिकारक बैक्टीरिया को आपकी आंतों में ही नष्ट कर देता है

 

Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 25,506 59
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 34,866 47
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 12,352 23
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 2,872 16
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 14,157 15
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 1,996 13
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 2,452 12
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 4,175 11
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 872 11
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 3,993 10
मोती जैसे सफेद दांत पाने के लिए ट्राई करें ये 5 घरेलू उपाय 1,783 10
शहद में छिपा है सेहत का राज़ 308 10
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 1,952 10
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 1,578 9
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,036 9
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 1,416 9
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 4,207 9
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 2,506 9
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 2,193 8
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 839 8
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 8,181 8
मौसमी का जूस पीने के फायदे 2,287 8
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 16,872 8
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 5,298 8
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 2,451 8
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 1,110 7
लिक्विड सोप से हाथ धोते हैं तो सतर्क हो जाएं! 42 7
पैर के दर्द का घरेलू उपचार 343 7
फल और सब्जियों के 'रंगों' में छिपा है हमारे स्‍वास्‍थ्‍य का राज 893 7
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 2,361 7
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 1,070 7
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 2,006 6
क्‍या सोते समय ब्रा पहननी चाहिये ? 10,258 6
हाइड्रोसील के कारण लक्षण और इलाज इस प्रकार है जानिए 1,062 6
जल्‍दी पिता बनने के लिए एक घंटे में करें दो बार सेक्‍स 4,208 6
चने खाने के फायदे 1,364 6
लकवा (पैरालिसिस): लक्षण और कारण 253 5
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 8,264 5
टूथपेस्‍ट से इस तरह करें प्रेगनेंसी का टेस्‍ट 246 5
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 967 5
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 564 5
आधे सर का दर्द और उसका इलाज 726 5
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 1,822 5
माइग्रेन के दर्द से राहत देता है ये आहार 766 5
झाइयां होने के कारण 1,308 5
उंगलिया चटकाने पर आवाज़ क्यों होती है? 38 5
दोस्त बनाने के सबसे आसान तरीके 1,294 4
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,085 4
हड्डी टूटने पर घरेलु उपचार 558 4
कब्‍ज के उपचार के घरेलू उपाय 884 4