नीम और उसके फायदे

नीम और उसके फायदे, नीम की पत्ती खाने के फायदे, नीम से हानि, नीम की छाल, नीम की गोली, नीम का रस, नीम का काढ़ा, नीम के तेल का उपयोग, नीम के पेड़ का महत्व

भारत : नीम के पत्ते भारत से बाहर 34 देशों को निर्यात किए जाते हैं। इसके पत्तों में मौजूद बैक्टीरिया से लड़ने वाले गुण मुंहासे, छाले, खाज-खुजली, एक्जिमा वगैरह को दूर करने में मदद करते हैं। इसका अर्क मधुमेह, कैंसर, हृदयरोग, हर्पीस, एलर्जी, अल्सर, हिपेटाइटिस (पीलिया) वगैरह के इलाज में भी मदद करता है।नीम के अर्क में मधुमेह यानी डायबिटिज, बैक्टिरिया और वायरस से लड़ने के गुण पाए जाते हैं। नीम के तने, जड़, छाल और कच्चे फलों में शक्ति-वर्धक और मियादी रोगों से लड़ने का गुण भी पाया जाता है। इसकी छाल खासतौर पर मलेरिया और त्वचा संबंधी रोगों में बहुत उपयोगी होती है।

नीम में इतने गुण हैं कि ये कई तरह के रोगों के इलाज में काम आता है। यहाँ तक कि इसको भारत में ‘गांव का दवाखाना’ कहा जाता है। यह अपने औषधीय गुणों की वजह से आयुर्वेदिक मेडिसिन में पिछले चार हजार सालों से भी ज्यादा समय से इस्तेमाल हो रहा है। नीम को संस्कृत में ‘अरिष्ट’ भी कहा जाता है, जिसका मतलब होता है, ‘श्रेष्ठ, पूर्ण और कभी खराब न होने वाला।

नीम के बारे में उपलब्ध प्राचीन ग्रंथों में इसके फल, बीज, तेल, पत्तों, जड़ और छिलके में बीमारियों से लड़ने के कई फायदेमंद गुण बताए गए हैं। प्राकृतिक चिकित्सा की भारतीय प्रणाली ‘आयुर्वेद’ के आधार-स्तंभ माने जाने वाले दो प्राचीन ग्रंथों ‘चरक संहिता’ और ‘सुश्रुत संहिता’ में इसके लाभकारी गुणों की चर्चा की गई है। इस पेड़ का हर भाग इतना लाभकारी है कि संस्कृत में इसको एक यथायोग्य नाम दिया गया है – “सर्व-रोग-निवारिणी” यानी ‘सभी बीमारियों की दवा।’ लाख दुखों की एक दवा ! 

                                  इस धरती पर मिलने वाले पत्तों में सबसे जटिल नीम का पत्ता ही है। नीम की केमिस्ट्री सूर्य से उसके लगाव का ही नतीजा है !

नीम के पत्तों में जबरदस्त औषधीय गुण तो है ही, साथ ही इसमें प्राणिक शक्ति भी बहुत अधिक है। अमेरिका में आजकल नीम को चमत्कारी वृक्ष कहा जाता है। दुर्भाग्य से भारत में अभी लोग इसकी ओर ध्यान नहीं दे हैं। अब वे नीम उगाने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि नीम को अनगिनत तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर आपको  मानसिक बिमारी है, तो भारत में उसको दूर करने के लिए नीम के पत्तों से झाड़ा जाता है। अगर आपको दांत का दर्द है, तो इसकी दातून का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आपको कोई छूत की बीमारी है, तो नीम के पत्तों पर लिटाया जाता है, क्योंकि यह आपके सिस्टम को साफ कर के उसको ऊर्जा से भर देता है। अगर आपके घर के पास, खास तौर पर आपकी बेडरूम की खिड़की के करीब अगर कोई नीम का पेड़ है, तो इसका आपके ऊपर कई तरह से अच्छा प्रभाव पड़ता है।

बैक्टीरिया इस प्रकार से लड़ता है नीम

दुनिया बैक्टीरिया से भरी पड़ी है। हमारा शरीर बैक्टीरिया से भरा हुआ है। एक सामान्य आकार के शरीर में लगभग दस खरब कोशिकाएँ होती हैंआपके शरीर के भीतर जरूरत से ज्यादा बैक्टीरिया नहीं होने चाहिए। अगर हानिकारक बैक्टीरिया की तादाद ज्यादा हो गई तो आप बुझे-बुझे से रहेंगे, क्योंकि आपकी बहुत-सी ऊर्जा उनसे निपटने में नष्ट हो जाएगी। नीम का तरह-तरह से इस्तेमाल करने से बैक्टीरिया के साथ निपटने में आपके शरीर की ऊर्जा खर्च नहीं होती।

आप नहाने से पहले अपने बदन पर नीम का लेप लगा कर कुछ वक्त तक सूखने दें, फिर उसको पानी से धो डालें। सिर्फ इतने से ही आपका बदन अच्छी तरह से साफ हो सकता है – आपके बदन पर के सारे बैक्टीरिया नष्ट हो जाएंगे। या फिर नीम के कुछ पत्तों को पानी में डाल कर रात भर छोड़ दें और फिर सुबह उस पानी से नहा लें ।हमारे और सौ खरब से भी ज्यादा बैक्टीरिया होते हैं। आप एक हैं, तो वे दस हैं। आपके भीतर इतने सारे जीव हैं कि आप कल्पना भी नहीं कर सकते। इनमें से ज्यादातर बैक्टीरिया  लिए फायदेमंद होते हैं। इनके बिना हम जिंदा नहीं रह सकते, लेकिन कुछ ऐसे भी होते हैं, जो हमारे लिए मुसीबत खड़ी कर सकते हैं। अगर आप नीम का सेवन करते हैं, तो वह हानिकारक बैक्टीरिया को आपकी आंतों में ही नष्ट कर देता है

 

Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,629 2
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 52,995 2
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 10,461 2
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 4,826 2
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,745 1
तरबूज खाने के फायदे 542 1
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 3,243 1
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 24,206 1
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 406 1
मोती जैसे सफेद दांत पाने के लिए ट्राई करें ये 5 घरेलू उपाय 2,679 1
स्मार्टफ़ोन बिगाड़ रहा है आंखों की सेहत जानिए कैसे 583 1
तुलसी का काढ़ा फायदा ही फायदा 2,164 1
होठों की क्या ज़रूरत है 2,471 1
कच्ची् लहसुन और शुद्ध शहद खाने के लाभ 202 1
दिमाग को तेज कैसे बनाये 932 1
उम्र के अंतर का संबंधों पर प्रभाव 1,221 1
सुबह उठ कर खाली पेट कैसे पानी पीना चाहिए 1,595 1
गूलर लंबी आयु वाला वृक्ष है 3,736 1
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 14,483 1
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 54,532 1
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,052 1
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 798 1
झाइयां होने के कारण 6,026 1
कड़वे अनुभव से दूर रहना है तो खाएं मीठी नीम 786 1
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 24,011 1
बेबी के सामने टीवी और मोबाइल का इस्तेमाल हो सकता है सेहत के लिए खतरनाक 836 0
दिल के दौरे में है ब्लड ग्रुप का भी हाथ 217 0
स्तनों का ढीलापन दूर करने के घरेलू नुस्खे 5,917 0
पीलिया होने पर करें घरेलु उपाय 665 0
पैरो में सूजन है तो करें ये उपाय 630 0
पैर के दर्द का घरेलू उपचार 909 0
प्रकति स्वयं चिकित्सक है 156 0
आटिज्म: समझें बच्चों को और उनकी भावनाओं को 813 0
बच्चों को खिलाएं ये चीजें 2 दिन में मर जाएंगे पेट के कीड़े 101 0
वेलेंटाइन डे के पहले कैसे पाएं साफ और गोरी त्‍वचा 1,631 0
हार्मोन और स्किन को नुकसान पहुंचाते हैं ये आहार 609 0
लकवा (पैरालिसिस): लक्षण और कारण 1,081 0
किडनी रोग का आयुर्वेदिक उपचार 176 0
भूने चने के साथ गुड़ खाने से मिलतें हैं ये अनेक फायदे 633 0
ऑफिस में स्ट्रेस से बचने के लिए खाने से ज्यादा नींद है जरूरी 146 0
दोस्त बनाने के सबसे आसान तरीके 1,876 0
डायबिटीज से आंखों को होता है डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा, जानिये इसके लक्षण 508 0
पोषाहार क्या है जानिए 1,415 0
कितना विटामिन डी सप्लीमेंट ठीक है? 139 0
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 2,067 0
आँखों में जलन दूर करने के उपाय 250 0
शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा 757 0
गाजर खाने के फायदे 434 0
हाइड्रोसेफेलस है गंभीर मानसिक बीमारी, जानें इसके लक्षण और उपचार 843 0
घर पर कैसे बनाएं – एगलैस चॉकलेट केक आइये जानें 985 0