पालक की खेती

 पालक की उन्नत खेती कैसे करें

पत्तियों वाली सब्जियों में पालक भी एक भारतीय सब्जी है जिसकी खेती अधिक क्षेत्र में की जाती है । यह हरी सब्जी के रूप में प्रयोग किया जाता है । इसकी पत्तियां स्वास्थ्य के लिये बहुत ही लाभकारी हैं । इसकी खेती सम्पूर्ण भारतवर्ष में की जाती है । यह सब्जी विलायती पालक की तरह पैदा की जाती है ।

पालक एक खनिज पदार्थ युक्त एवं विटामिन्स युक्त वाली फसल है जिसका कि प्रत्येक मनुष्य को साधारण प्रयोग करना चाहिए । यहां तक कि 100-125 ग्राम पालक रोज दैनिक जीवन के लिये संतुलित आहार के रूप में खाने की सिफारिश की जाती है । अन्यथा पत्ती वाली सब्जी अवश्य प्रतिदिन खानी चाहिए । इसकी पत्तियों का प्रयोग सब्जी के अतिरिक्त नमकीन पकौड़े, आलू मिलाकर तथा भूजी बनाकर किया जाता है । पालक के सेवन से पोषक तत्वों की प्राप्ति होती है । अधिक मात्रा में प्रोटीन, कैलोरीज, खनिज, कैल्शियम तथा विटामिन्स ए, सी का एक मुख्य साधन है जो कि दैनिक जीवन के लिए अति आवश्यक है ।

 

पालक की खेती के लिये आवश्यक भूमि व जलवायु 

पालक की खेती के लिये ठन्डे मौसम की जलवायु की आवश्यकता होती है । यह फसल जाड़े में होती है । पालक के लिये अधिक तापमान की आवश्यकता नहीं होती लेकिन कुछ जगह पर वसन्त ऋतु के आसपास पैदा करते हैं अर्थात् जायद की फसल के साथ पैदा करते हैं । पालक जनवरी-फरवरी में अधिक वृद्धि करता है ।

 

पालक की खेती के लिये खेत की तैयारी 

 

पालक की खेती लगभग सभी प्रकार की भूमियों में पैदा की जा सकती है लेकिन सबसे उत्तम भूमि बलुई दोमट होती है । पालक का हल्का अम्लीय भूमि में भी उत्पादन किया जा सकता है । उर्वरा शक्ति वाली भूमि में बहुत अधिक उत्पादन किया जा सकता है । पालक के खेत में जल निकास का उचित प्रबन्ध होना चाहिए । भूमि का पी. एच. मान 6.0 से 6.7 के बीच का अच्छा होता है ।

पालक के खेत की 3-4 बार जुताई करके खेत तैयार करना चाहिए । जुताई के समय हरी या सूखी घास को खेत से बाहर निकाल कर जला देना चाहिए । इस प्रकार से खेत को अच्छी तरह तैयार व साफ करके मिट्‌टी को भुरभुरा करना चाहिए तथा बाद में खेत में क्यारियां तैयार कर लेनी चाहिए । खेत में खाद आदि डालकर मिट्‌टी में भली-भांति मिला देना चाहिए ।

इसे भी पढ़ें -> विलायती पालक की खेती कैसे करें

 

गोबर की खाद एवं रासायनिक खादों का प्रयोग 

 

पालक की फसल के लिये 18-20 ट्रौली गोबर की खाद तथा 100 किलो D.A.P. प्रति हेक्टर की दर से बुवाई से पहले खेत तैयार करते समय मिट्‌टी में मिलाना चाहिए तथा पहली कटाई के बाद व अन्य कटाई के बाद 20-25 किलो यूरिया प्रति हेक्टर देने से फसल की पैदावार अधिक मिलती है । इस प्रकार से वृद्धि शीघ्र होती है ।

बगीचे की यह एक मुख्य फसल है । पालक को बोने के लिये खेत को ठीक प्रकार से तैयार करके बोना चाहिए । खेत को तैयार करते समय 4-5 टोकरी गोबर की खाद सड़ी हुई या डाई अमोनियम फास्फेट 500 ग्राम 8-10 वर्ग मी. के लिये लेकर मिट्‌टी में बुवाई से पहले मिला देते हैं । बाद में फसल को बढ़ने के पश्चात् काटते हैं तो प्रत्येक कटाई के बाद 100 ग्राम यूरिया उपरोक्त क्षेत्र में छिड़कना चाहिए जिससे पत्तियों की वृद्धि शीघ्र होती है तथा सब्जी के लिये पत्तियां जल्दी-जल्दी मिलती रहती हैं ।

 

पालक की उन्नतशील जातिया

 

पालक की कुछ मुख्य जातियां हैं जिनको भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान द्वारा बोने की सिफारिश की जाती है, वे निम्नलिखित हैं-

1. पालक ऑल ग्रीन (Palak All Green)– इस किस्म से एक साथ हरी पत्तियां प्राप्त होती हैं । पत्तियां 40 दिन में तैयार हो जाती है । पत्तियां छोटी-बड़ी न होकर एक-सी होती हैं । वृद्धि काल-अन्तिम सितम्बर से जनवरी आरम्भ का समय होता है । इसे 5-6 बार काटा जा सकता है ।

2. पालक पूसा ज्योति (Palak Pusa Jyoti)- यह जाति अधिक पैदावार देती है । पत्तियां समान, मुलायम होती हैं तथा गहरी हरे रंग की होती हैं । पहली कटाई 40-45 दिनों में आरम्भ हो जाती है । सितम्बर से फरवरी के अन्त तक पत्तियों की वृद्धि अधिक होती है । 8-10 बार फसल की कटाई की जाती है । यह फसल 45 हजार किलोग्राम-हेक्टर पैदावार देती है ।

3. पालक पूसा हरित (Palak Pusa Harit)- इस किस्म के पौधे ऊंचे, एक समान तथा वृद्धि वाले होते हैं । अधिक पैदा देने वाली किस्म है जो सितम्बर से मार्च तक अच्छी वृद्धि करती है ।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 48,897 135
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 51,685 106
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 12,615 78
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 12,744 71
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 22,436 58
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 22,581 49
लिवर सिरोसिस, फेटी लिवर 41 36
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 2,897 26
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,981 25
लड़कियों को 'इन दिनों' यौन संबंध बनाने में आता है सबसे अधिक आनंद 4,899 24
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,876 22
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 7,745 21
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,153 20
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,821 18
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 5,740 18
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,598 15
माइग्रेन के दर्द से राहत देता है ये आहार 1,575 14
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,979 12
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,358 12
झाइयां होने के कारण 5,497 11
शरीर के अंदर देखने वाला कैमरा तैयार 42 11
क्या आप पार्टनर से लिपट कर सोते हैं 55 11
कमर में दर्द ह तो करें ये कारगार उपाय 492 10
कम उम्र में सफेद हुए बालों को काला करे 1,076 10
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,546 10
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,158 10
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 9,811 10
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,391 10
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,949 10
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,784 10
अपनी आँखों की देखभाल कैसे करें 509 8
लकवा (पैरालिसिस): लक्षण और कारण 980 8
स्नान संबंधी आचार 209 7
कई रोगों में चमत्कार का काम करती है दूब घास, जानें इसके फायदे 833 7
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 1,038 7
अखरोट खाने के कौन - कौन से फायदे और नुकसान होते है 1,787 7
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,986 7
क्‍या सोते समय ब्रा पहननी चाहिये ? 11,393 7
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 10,150 7
पालक की खेती 312 7
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,621 7
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 2,561 6
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 3,022 6
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 4,038 6
पोषाहार क्या है जानिए 1,287 6
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 1,848 6
बेल खाने के फायदे जानकर रहें जायगे हैरान 1,278 6
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,559 6
जामुन के गुण और फायदे 2,659 6
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 7,168 6