पीठ दर्द से मिलेगा तुरंत छुटकारा

पीठ दर्द से मिलेगा तुरंत छुटकारा

काम में ज्यादा व्यस्त होने के कारण पीठ दर्द, सरवाइकल, कमर दर्द आज के समय एक बड़ी समस्या बनकर उभर रही है। मांसपेशियों में अत्याधिक तनाव, जोड़ों में खिचाव, कैल्शियम की कमी, लगातार एक जगह बैठे रहना, कम्प्यूटर पर कई-कई घंटे काम करते रहना, व्यायाम न करना ये कुछ ऐसे कारण हैं जो आपकी पीठ और कमर दर्द की समस्या को और ज्यादा बढ़ाती है। अगर आप इस तरह की समस्या से पीड़ित हैं तो रोजाना मकरासन का अभ्यास करें। इससे आपको कमरदर्द से जल्द आराम मिलेगा।

अनियमित दिनचर्या ने लोगों को कई बीमारियां दी हैं, इनमें से एक है- पीठ दर्द। उठने-बैठने की सही मुद्रा का ध्यान न रखने और व्यायाम की कमी की वजह से गर्दन, पीठ और कमर दर्द की समस्याएं बहुत तेजी से बढ़ रही हैं। जहां पहले पीठ व कमर दर्द से जुड़े मामले उम्रदराज लोगों में देखने को मिलते थे, वहीं अब स्वस्थ व सक्रिय जीवनशैली के प्रति लापरवाह 20-30 साल के युवा भी बड़ी संख्या में बैक पेन की गिरफ्त में आ गये हैं। हमारी रीढ़ की हड्डी कई तरह के वर्टेब्र से मिल कर बनती है, यही वर्टेब्र एक दूसरे के ऊपर गोल आकार में रखे होते हैं। इनके बीच में एक कुशन या गद्दे के समान सॉफ्ट डिस्क होती है, जो वर्टेब्र को आपस में रगड़ने या टकराने से रोकती है। इस डिस्क के कारण ही रीढ़ की हड्डी में लचीलापन भी होता है। लेकिन घंटों मोबाइल फोन, कंप्यूटर, लैपटॉप पर समय बिताने और व्यायाम की कमी के कारण पीठ दर्द के मामले बढ़ रहे हैं।

रीढ़ पर पड़ता दबाव

जब रीढ़ या स्पाइन सही अवस्था में नहीं रहती तो पीठ की मांसपेशियां, लिगमेंट्स और डिस्क पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है। मज़्ाबूत मांसपेशियां रीढ़ को उचित सीध में रखती हैं और पीठ दर्द से बचाती हैं। ये रीढ़ को सामान्य लचक से अधिक मुडऩे से भी रोकती हैं। रीढ़ के किसी भी हिस्से पर दबाव पडऩे से पीठ में दर्द हो सकता है। यह दर्द गर्दन से लेकर कमर के निचले हिस्से तक हो सकता है। ख़्ाासतौर पर यह समस्या लोअर बैक में ज्य़ादा होती है। रीढ़ का ढांचा नाडिय़ों और रक्त नलिकाओं के जाल से मिल कर बनता है। स्लिप डिस्क की समस्या में इसके आसपास वाले हिस्से में नसों व मांसपेशियों पर अधिक दबाव पड़ सकता है।

उपचार के समय क्‍या करें

  • पीठ दर्द के समय जकड़न हो सकती है, इसे दूर करने के लिए गर्दन और पीठ पर गर्म पट्टी का प्रयोग करें। इससे गर्दन और पीठ की कसी हुई मांसपेशियां ढीली होंगी और जकड़न से छुटकारा मिल सकता है।
  • पीठ दर्द की शिकायत होने पर शरीर को सही मुद्रा में बनायें, इससे पीठ दर्द को कम करने में मदद मिलती है और इसके कारण भविष्य में भी पीठ दर्द की शिकायत नहीं होती है।
  • लैपटॉप पर काम करते समय आगे की तरफ अधिक न झुकें, बल्कि लैपटॉप को ऊंचे स्थान पर रखें, इससे गर्दन और सिर से ऊपर रखने में मदद मिलेगी। यदि आप कई घंटों तक लैपटॉप पर काम करेंगे तब भी इस मुद्रा से दर्द कम होगा।
  • लगातार काम करने की बजाय छोटे-छोटे ब्रेक अवश्‍य लें, नियमित अन्तराल पर ब्रेक लेने से लगातार बैठने के अभ्यास पर ब्रेक लगेगा।
  • इसके अलावा य‍ह भी सलाह दी जाती है कि काफी मात्रा में पानी पियें। खाने के बाद एक छोटी वॉक पर जाइए, और और कुछ न हो तो ऑफिस में दूसरी तरफ बैठे अपने दोस्त के पास एक चक्कर जरूर लगा आइये।
  • नियमित व्यायाम और योग को अपनी दिनचर्या में शामिल कीजिए, शरीर को लचीला और अच्छी शारीरिक मुद्रा बनाये रखने के लिए योग और व्यायाम सबसे सही तरीके हैं। इससे तनाव भी कम होता है और यह शरीर को ऊर्जा भी प्रदान करता है।

उपचार के समय क्‍या न करें

  • बैक पेन की शिकायत होने पर लगत मुद्रा में बिलकुल न बैठें, अपने बैठने व सोने की मुद्रा को ठीक करें। कुर्सी पर बैठते समय मेज की ऊंचाई का ध्यान रखें। गलत मुद्रा में बैठने से पीठ की मांसपेशियों में लचक आ जा सकती है।
  • लेट कर टीवी बिलकुल भी न देखें, लेटकर टीवी देखने से आपके शरीर का पोस्‍चर सही नहीं होता और पीठ का दर्द बढ़ सकता है।
  • बाईक और कार चलाते समय भी ध्‍यान रखें, लंबे समय तक बिलकुल भी गाड़ी न चलाएं और लांग ड्राइव पर जाने के बारे में सोचिये भी मत।
  • भारी सामान न उठायें, भारी सामान उठाने से पीठ की हड्डी में दर्द हो सकता है, इसलिए यदि आपको पीठ दर्द की शिकायत हो तो भारी सामान उठाने से परहेज करें।
  • झुकते समय अपने घुटनों को मोड़ें और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें और वजन को शरीर के दोनों भागों में बराबर रखें।

    दर्द के वक्त करें काम

    • रीढ़ और गर्दन को सीधा रखें। लगातार झुक कर काम करने से दर्द हो सकता है।
    • की-बोर्ड या टाइपराइटर पर काम करते हों तो कलाइयां सीधी रखें। कलाइयां मुडऩे से नसों में रक्त-संचार धीमा हो सकता है और उस पर दबाव पडऩे लगता है। कुहनी लगभग 60 डिग्री पर मोड़ कर रखें।
    • कुर्सी का डिजाइन भी दर्द की वजह बन सकता है। कुर्सी कार्य के अनुरूप होनी चाहिए। यानी पीठ वाला हिस्सा कंधे के स्तर से थोड़ा ऊपर हो, कुर्सी में हाइट बढ़ाने-घटाने की व्यवस्था हो और इसमें हत्थे हों। खराब कुर्सी में बैठने से शरीर की पॉजिशन भी खराब हो जाती है।
    • कुर्सी की ऊंचाई इतनी रखें कि पैर फर्श पर आसानी से टिकें। घुटनों को 90 डिग्री तक मोड़ कर रखें।
    • हर दो घंटे में 5-10 मिनट का ब्रेक लें। एक ही अवस्था में ज्य़ादा देर तक बैठने से पीठ, गर्दन व अंगुलियों पर अधिक दबाव पड़ता है। इससे बचने के लिए वॉशरूम जाएं, कॉरीडोर या छत पर थोड़ी-थोड़ी देर वॉक करें।
    • बीच-बीच में अंंगुलियों व कलाइयों की एक्सरसाइज करते रहें।
    • छह-सात घंटे लगातार डेस्क जॉब के बीच कम से कम दो बार खड़े होकर बांहें फैलाएं और उन्हें आगे-पीछे करते रहें, ताकि एक ही अवस्था में बैठे रहने से कंधे में होने वाली अकडऩ से बच सकें।
    • टाइप करते समय फोन को कान से सटा कर गर्दन एक ओर झुका कर बात करने से बचें। इससे गर्दन व कमर में दर्द हो सकता है। बेहतर हो कि टाइपिंग छोड़ कर पहले फोन ही सुन लें।
    • ओवरवेट हैं तो वजन कम करने की कोशिश करें।
    • नियमित व्यायाम करें। दर्द के लिए फिजियोथेरेपी करा रहे हों तो डॉक्टर की हर सलाह मानें। पीठ दर्द में वॉकिंग सबसे अच्छी एक्सरसाइज है। दर्द या स्लिप डिस्क जैसी स्थिति में भारी चीजें उठाने, आगे झुकने या झटके से उठने-बैठने से बचें।
Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 53,101 108
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 15,073 80
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 54,610 79
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 14,549 67
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 24,244 39
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 24,046 36
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 8,560 23
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 8,632 20
झाइयां होने के कारण 6,045 20
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 7,234 17
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 3,491 14
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 21,329 13
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 5,478 13
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,757 13
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 4,836 12
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 5,158 11
दिमाग को तेज कैसे बनाये 941 10
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,637 10
सेब खाने के फायदे 851 9
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,529 9
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,713 8
आधे सर का दर्द और उसका इलाज 1,774 8
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 4,528 8
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 2,185 8
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 10,467 8
व्रत रखने के फायदे 644 7
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 4,099 7
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,058 7
झुर्रियां दूर करने के घरेलू उपाय 504 7
काली मिर्च के फायदे 217 7
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 2,760 6
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,858 6
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 2,127 6
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,543 6
पोषाहार क्या है जानिए 1,421 6
हड्डी टूटने पर घरेलु उपचार 1,208 6
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 7,423 5
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 3,041 5
प्राकृतिक चिकित्सा 1,385 5
कॉफी: फायदा या नुकसान? 1,319 5
रात में दूध पीने के फायदे 1,147 5
मस्सा या तिल हटाना 768 5
स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें 969 5
गुड़ और मूंगफली खाना सेहत और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद 1,875 5
लड़कियों की शर्ट में पॉकेट क्यों नहीं होती ! आखिर क्या हैं राज 2,429 5
अपनी आँखों को रखे हमेशा सलमात 1,569 4
छुहारा और खजूर एक ही पेड़ की देन है। 532 4
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,855 4
स्तन घटाने के उपाय, तरीके और टिप्स 2,398 4
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 6,008 4