फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार

 फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार

कई महिलाएं ऐसी होती हैं जो फिस्टुला नामक बीमारी की शिकार तो होती हैं लेकिन उन्हें इस बारे में पता ही नहीं होता है कि वो इस रोग की शिकार हैं। गांव-बस्ती में रहने वाली कई महिलाएं ऐसी हैं जिनके शरीर में साफ रूप से फिस्टुला के लक्षण दिखते हैं लेकिन जानकारी के अभाव में वे कुछ नहीं कर पाती हैं। आज हम आपको फिस्टुला नामक बीमारी के बारे में बताने जा रहे हैं कि ये क्यों महिलाओं के लिए हानिकारक है।

भगंदर यान कि एनल फिस्टुला नामक रोग में गुदा द्वार के आसपास एक छेद बन जाता है। इस छेद से पस निकलता और रोगी काफी तेज दर्द महसूस करता है। समुचित इलाज न होने पर बार-बार पस पड़ने से फिस्टुला एक जटिल स्वास्थ्य समस्या बन जाता है, जो कालांतर में फोड़ा बन जाता है। फिस्टुला रूपी यह समस्या कालांतर में कैंसर और आंतों की टी.बी. का भी कारण बन सकती है। बहरहाल, आधुनिक वीडियो असिस्टेड एनल फिस्टुला ट्रीटमेंट के प्रचलन में आने के कारण फिस्टुला का इलाज पीड़ित व्यक्तियों के लिए कहीं ज्यादा राहतकारी हो गया है

  • में क़रीब 20 लाख महिलाएं हैं पीड़ित।
  • यह बीमारी बवासीर से काफी हद तक अलग है।
  • ये बीमारी गंदगी या वंशानुगत तौर पर होती है।

फिस्टुला रोग के लक्षण

  1. रोगी की गुदा में तेज दर्द होता है, जो जो बैठने पर बढ़ जाता है।
  2. गुदा के आसपास खुजली हो सकती है। इसके अलावा सूजन होती है।
  3. त्वचा लाल हो जाती है और वह फट सकती है। वहां से मवाद या खून रिसता है।
  4. रोगी को कब्ज रहता है और मल-त्याग के समय उसे दर्द होता है।

अफ्रीका और एशिया में हैं मरीजो की संख्या अधिक 

  • यह बीमारी गंदगी या सही से ध्यान न रख पाने के बाद होती है। इसे एक अभियान के तहत यूरोप और अमरीका में जड़ से समाप्त कर दिया गया है और अब वहां इसके बारे में शायद ही कोई जानता हो।
  • वर्तमान में करीब 20 लाख महिलाएं दुनियाभर में इससे पीड़ित हैं। इनकी तादाद अफ्रीका और एशिया में आधुनिक देखभाल और इलाज उपलब्ध ना होने के कारण सबसे अधिक है।

फिस्टुला की जांच करवाये 

फिस्टुला की जांच के लिये डिजिटल एनस टेस्ट (गुदा परीक्षण) किया जाता है, लेकिन कई रोगियों को इसके अलावा अन्य परीक्षणों की जरूरत पड़ सकती है, जैसे फिस्टुलोग्राम और फिस्टुला के मार्ग को देखने के लिये एमआरआई जांच।

फिस्टुला का सही उपचार

सर्जरी इस रोग के उपचार का एकमात्र उपाय है। परंपरागत सर्जरी: फिस्टुला की परंपरागत सर्जरी को फिस्टुलेक्टॅमी कहा जाता है। सर्जन इस सर्जरी के जरिये भीतरी मार्ग से लेकर बाहरी मार्ग तक की संपूर्ण फिस्टुला को निकाल देते हैं। इस सर्जरी में आम तौर पर टांके नहीं लगाये जाते हैं और जख्म को धीरे-धीरे और प्राकृतिक तरीके से भरने दिया जाता है। इस उपचार विधि में दर्द होता है और उपचार के असफल होने की संभावना रहती है।

अंदर के मार्ग और बगल के टांके आम तौर पर हट जाते हैं जिससे दोबारा फिस्टुला हो सकता है। परम्परागत उपचार विधि में मल त्याग में दिक्कत होती है। फिस्टुला की सर्जरी से होने वाले जख्म को भरने में छह सप्ताह से लेकर तीन माह का समय लग जाता है।

नवीनतम उपचार

वीडियो असिस्टेड एनल फिस्टुला ट्रीटमेंट (वीएएएफटी) सुरक्षित और दर्द रहित उपचार है। यह डे-कयर सर्जरी है यानी रोगी सुबह अस्पताल आता है और उसी दिन शाम को चला जाता है। यही नहीं, वीएएएफटी फिस्टुला को दोबारा होने से रोकता है। इस सर्जरी में माइक्रो इंडोस्कोप का इस्तेमाल किया जाता है,जिसे पूरे फिस्टुला के मार्ग में ले जाया जा सकता है और इस दौरान फिस्टुला को देखा जा सकता है।

इस स्थिति में सर्जन को विशेष विद्युतीय करंट के जरिये फिस्टुला को नष्ट करने में मदद मिलती है। सर्जन फिस्टुला के मार्ग को ठीक तरीके से बंद करने के लिये एक विशिष्ट फाइब्रिन ग्लू का इस्तेमाल करते हैं, जिससे कोई जख्म नहीं रहता है और इसलिये अधिक दिनों तक ड्रेसिंग की जरूरत नहीं होती। 'वीएएएफटी' से मल-मूत्र को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों को किसी तरह की क्षति नहीं पहुंचती। इस कारण मल-मूत्र त्यागने की क्रिया सामान्य बनी रहती है, लेकिन पारंपरिक ओपन सर्जरी में मांसपेशियों को नुकसान पहुंचने का खतरा बरकरार रहता है।

 

Video: 
Vote: 
5
Average: 5 (1 vote)

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 48,276 29
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 43,498 28
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 20,165 23
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,776 23
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,721 15
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,256 10
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,817 8
सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए 186 7
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,567 7
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,055 7
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,677 7
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,037 6
मोती जैसे सफेद दांत पाने के लिए ट्राई करें ये 5 घरेलू उपाय 2,484 6
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,364 5
शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा 671 5
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 346 5
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,337 5
सिर दर्द को चुटकियों में दूर करता है सिर्फ '1 नींबू' करके देखे प्रयोग 391 5
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 914 4
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,309 4
मखाना खाने के जादुई प्रभाव 2,702 4
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,751 4
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 6,884 4
व्रत से हो सकते हैं नुकसान भी 796 4
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,087 4
हड्डियों को मजबूत करते हैं ये 442 4
दूध में डिटर्जेंट की जाँच करने के उपाय 1,990 4
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,867 3
जल्द घसीटना शुरू कर देते है शीतकाल में जन्म लेने वाले बच्चे 582 3
जवान दिखने के बेहतरीन जादुई नुस्खे 2,779 3
आंख की एपीस्कलेराइटिस : लक्षण, कारण, उपचार को करें निरोग 583 3
आखें लाल होने पर क्या उपाय करें 894 3
सर्दियों में कम पानी पीने से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है 641 3
अपनी आँखों की देखभाल कैसे करें 451 3
बच्चों में टाइफाइड बुखार होने के कारण 1,167 3
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 2,120 3
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,922 3
कम उम्र में सफेद हुए बालों को काला करे 989 3
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 1,801 3
हरी मिर्च खाने के चमत्कार 103 2
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 519 2
स्त्री यौन रोग (श्वेत प्रदर) के लिए औषधि ॥ 792 2
आखों के काले घेरे दूर करिये 926 2
झाइयां होने के कारण 4,831 2
डायबिटीज से आंखों को होता है डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा, जानिये इसके लक्षण 439 2
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,111 2
गर्म चाय पीने से रहे अधिक सावधान 927 2
सूरज की रोशनी कितनी कारगर 120 2
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,773 2
सेहत पर बहुत बुरा असर डालती है गेम खेलने की लत, ऐसे पाएं छुटकारा 249 2