फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार

 फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार

कई महिलाएं ऐसी होती हैं जो फिस्टुला नामक बीमारी की शिकार तो होती हैं लेकिन उन्हें इस बारे में पता ही नहीं होता है कि वो इस रोग की शिकार हैं। गांव-बस्ती में रहने वाली कई महिलाएं ऐसी हैं जिनके शरीर में साफ रूप से फिस्टुला के लक्षण दिखते हैं लेकिन जानकारी के अभाव में वे कुछ नहीं कर पाती हैं। आज हम आपको फिस्टुला नामक बीमारी के बारे में बताने जा रहे हैं कि ये क्यों महिलाओं के लिए हानिकारक है।

भगंदर यान कि एनल फिस्टुला नामक रोग में गुदा द्वार के आसपास एक छेद बन जाता है। इस छेद से पस निकलता और रोगी काफी तेज दर्द महसूस करता है। समुचित इलाज न होने पर बार-बार पस पड़ने से फिस्टुला एक जटिल स्वास्थ्य समस्या बन जाता है, जो कालांतर में फोड़ा बन जाता है। फिस्टुला रूपी यह समस्या कालांतर में कैंसर और आंतों की टी.बी. का भी कारण बन सकती है। बहरहाल, आधुनिक वीडियो असिस्टेड एनल फिस्टुला ट्रीटमेंट के प्रचलन में आने के कारण फिस्टुला का इलाज पीड़ित व्यक्तियों के लिए कहीं ज्यादा राहतकारी हो गया है

  • में क़रीब 20 लाख महिलाएं हैं पीड़ित।
  • यह बीमारी बवासीर से काफी हद तक अलग है।
  • ये बीमारी गंदगी या वंशानुगत तौर पर होती है।

फिस्टुला रोग के लक्षण

  1. रोगी की गुदा में तेज दर्द होता है, जो जो बैठने पर बढ़ जाता है।
  2. गुदा के आसपास खुजली हो सकती है। इसके अलावा सूजन होती है।
  3. त्वचा लाल हो जाती है और वह फट सकती है। वहां से मवाद या खून रिसता है।
  4. रोगी को कब्ज रहता है और मल-त्याग के समय उसे दर्द होता है।

अफ्रीका और एशिया में हैं मरीजो की संख्या अधिक 

  • यह बीमारी गंदगी या सही से ध्यान न रख पाने के बाद होती है। इसे एक अभियान के तहत यूरोप और अमरीका में जड़ से समाप्त कर दिया गया है और अब वहां इसके बारे में शायद ही कोई जानता हो।
  • वर्तमान में करीब 20 लाख महिलाएं दुनियाभर में इससे पीड़ित हैं। इनकी तादाद अफ्रीका और एशिया में आधुनिक देखभाल और इलाज उपलब्ध ना होने के कारण सबसे अधिक है।

फिस्टुला की जांच करवाये 

फिस्टुला की जांच के लिये डिजिटल एनस टेस्ट (गुदा परीक्षण) किया जाता है, लेकिन कई रोगियों को इसके अलावा अन्य परीक्षणों की जरूरत पड़ सकती है, जैसे फिस्टुलोग्राम और फिस्टुला के मार्ग को देखने के लिये एमआरआई जांच।

फिस्टुला का सही उपचार

सर्जरी इस रोग के उपचार का एकमात्र उपाय है। परंपरागत सर्जरी: फिस्टुला की परंपरागत सर्जरी को फिस्टुलेक्टॅमी कहा जाता है। सर्जन इस सर्जरी के जरिये भीतरी मार्ग से लेकर बाहरी मार्ग तक की संपूर्ण फिस्टुला को निकाल देते हैं। इस सर्जरी में आम तौर पर टांके नहीं लगाये जाते हैं और जख्म को धीरे-धीरे और प्राकृतिक तरीके से भरने दिया जाता है। इस उपचार विधि में दर्द होता है और उपचार के असफल होने की संभावना रहती है।

अंदर के मार्ग और बगल के टांके आम तौर पर हट जाते हैं जिससे दोबारा फिस्टुला हो सकता है। परम्परागत उपचार विधि में मल त्याग में दिक्कत होती है। फिस्टुला की सर्जरी से होने वाले जख्म को भरने में छह सप्ताह से लेकर तीन माह का समय लग जाता है।

नवीनतम उपचार

वीडियो असिस्टेड एनल फिस्टुला ट्रीटमेंट (वीएएएफटी) सुरक्षित और दर्द रहित उपचार है। यह डे-कयर सर्जरी है यानी रोगी सुबह अस्पताल आता है और उसी दिन शाम को चला जाता है। यही नहीं, वीएएएफटी फिस्टुला को दोबारा होने से रोकता है। इस सर्जरी में माइक्रो इंडोस्कोप का इस्तेमाल किया जाता है,जिसे पूरे फिस्टुला के मार्ग में ले जाया जा सकता है और इस दौरान फिस्टुला को देखा जा सकता है।

इस स्थिति में सर्जन को विशेष विद्युतीय करंट के जरिये फिस्टुला को नष्ट करने में मदद मिलती है। सर्जन फिस्टुला के मार्ग को ठीक तरीके से बंद करने के लिये एक विशिष्ट फाइब्रिन ग्लू का इस्तेमाल करते हैं, जिससे कोई जख्म नहीं रहता है और इसलिये अधिक दिनों तक ड्रेसिंग की जरूरत नहीं होती। 'वीएएएफटी' से मल-मूत्र को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों को किसी तरह की क्षति नहीं पहुंचती। इस कारण मल-मूत्र त्यागने की क्रिया सामान्य बनी रहती है, लेकिन पारंपरिक ओपन सर्जरी में मांसपेशियों को नुकसान पहुंचने का खतरा बरकरार रहता है।

om

Video: 
Vote: 
5
Average: 5 (1 vote)

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 37,241 59
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 27,918 53
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 1,693 43
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 6,113 35
झाइयां होने के कारण 1,907 28
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 2,687 27
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 3,605 26
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 4,708 25
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 13,095 24
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 17,467 23
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 2,909 22
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 1,988 18
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 4,859 18
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 2,329 18
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 2,425 17
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 3,066 16
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 1,506 16
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 2,850 16
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 14,596 15
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 2,823 15
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 1,506 13
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 1,662 13
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 4,540 12
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,252 12
जानिए अनार का जूस पीने के और अनार को खाने के फायदे 846 11
मौसमी का जूस पीने के फायदे 2,664 10
क्या हर गेम खेलने वाला बीमार है? 118 10
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,107 10
अखरोट खाने के कौन - कौन से फायदे और नुकसान होते है 985 9
क्‍या सोते समय ब्रा पहननी चाहिये ? 10,414 9
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 8,643 9
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 1,189 9
क्यों मच्छर के काटने पर खुजली होती है जानिए 686 9
मियादी बुखार का कारण क्या है 2,385 9
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 8,406 8
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 1,086 8
अपनी आँखों की देखभाल कैसे करें 274 8
आखें लाल हो तो करें ये उपाय 794 8
ये चीजें बताएंगी आपके प्यार की गहराई 735 8
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 2,414 7
जामुन के गुण और फायदे 1,758 7
अपनी आँखों को रखे हमेशा सलमात 982 7
हाइड्रोसील के कारण लक्षण और इलाज इस प्रकार है जानिए 1,228 7
मूंग की खेती इस प्रकार करें 569 7
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 5,993 7
चने खाने के फायदे 1,451 7
सेब खाने के फायदे 751 6
लकवा (पैरालिसिस): लक्षण और कारण 354 6
आटिज्म: समझें बच्चों को और उनकी भावनाओं को 452 6
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 995 6