फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार

 फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार

कई महिलाएं ऐसी होती हैं जो फिस्टुला नामक बीमारी की शिकार तो होती हैं लेकिन उन्हें इस बारे में पता ही नहीं होता है कि वो इस रोग की शिकार हैं। गांव-बस्ती में रहने वाली कई महिलाएं ऐसी हैं जिनके शरीर में साफ रूप से फिस्टुला के लक्षण दिखते हैं लेकिन जानकारी के अभाव में वे कुछ नहीं कर पाती हैं। आज हम आपको फिस्टुला नामक बीमारी के बारे में बताने जा रहे हैं कि ये क्यों महिलाओं के लिए हानिकारक है।

भगंदर यान कि एनल फिस्टुला नामक रोग में गुदा द्वार के आसपास एक छेद बन जाता है। इस छेद से पस निकलता और रोगी काफी तेज दर्द महसूस करता है। समुचित इलाज न होने पर बार-बार पस पड़ने से फिस्टुला एक जटिल स्वास्थ्य समस्या बन जाता है, जो कालांतर में फोड़ा बन जाता है। फिस्टुला रूपी यह समस्या कालांतर में कैंसर और आंतों की टी.बी. का भी कारण बन सकती है। बहरहाल, आधुनिक वीडियो असिस्टेड एनल फिस्टुला ट्रीटमेंट के प्रचलन में आने के कारण फिस्टुला का इलाज पीड़ित व्यक्तियों के लिए कहीं ज्यादा राहतकारी हो गया है

  • में क़रीब 20 लाख महिलाएं हैं पीड़ित।
  • यह बीमारी बवासीर से काफी हद तक अलग है।
  • ये बीमारी गंदगी या वंशानुगत तौर पर होती है।

फिस्टुला रोग के लक्षण

  1. रोगी की गुदा में तेज दर्द होता है, जो जो बैठने पर बढ़ जाता है।
  2. गुदा के आसपास खुजली हो सकती है। इसके अलावा सूजन होती है।
  3. त्वचा लाल हो जाती है और वह फट सकती है। वहां से मवाद या खून रिसता है।
  4. रोगी को कब्ज रहता है और मल-त्याग के समय उसे दर्द होता है।

अफ्रीका और एशिया में हैं मरीजो की संख्या अधिक 

  • यह बीमारी गंदगी या सही से ध्यान न रख पाने के बाद होती है। इसे एक अभियान के तहत यूरोप और अमरीका में जड़ से समाप्त कर दिया गया है और अब वहां इसके बारे में शायद ही कोई जानता हो।
  • वर्तमान में करीब 20 लाख महिलाएं दुनियाभर में इससे पीड़ित हैं। इनकी तादाद अफ्रीका और एशिया में आधुनिक देखभाल और इलाज उपलब्ध ना होने के कारण सबसे अधिक है।

फिस्टुला की जांच करवाये 

फिस्टुला की जांच के लिये डिजिटल एनस टेस्ट (गुदा परीक्षण) किया जाता है, लेकिन कई रोगियों को इसके अलावा अन्य परीक्षणों की जरूरत पड़ सकती है, जैसे फिस्टुलोग्राम और फिस्टुला के मार्ग को देखने के लिये एमआरआई जांच।

फिस्टुला का सही उपचार

सर्जरी इस रोग के उपचार का एकमात्र उपाय है। परंपरागत सर्जरी: फिस्टुला की परंपरागत सर्जरी को फिस्टुलेक्टॅमी कहा जाता है। सर्जन इस सर्जरी के जरिये भीतरी मार्ग से लेकर बाहरी मार्ग तक की संपूर्ण फिस्टुला को निकाल देते हैं। इस सर्जरी में आम तौर पर टांके नहीं लगाये जाते हैं और जख्म को धीरे-धीरे और प्राकृतिक तरीके से भरने दिया जाता है। इस उपचार विधि में दर्द होता है और उपचार के असफल होने की संभावना रहती है।

अंदर के मार्ग और बगल के टांके आम तौर पर हट जाते हैं जिससे दोबारा फिस्टुला हो सकता है। परम्परागत उपचार विधि में मल त्याग में दिक्कत होती है। फिस्टुला की सर्जरी से होने वाले जख्म को भरने में छह सप्ताह से लेकर तीन माह का समय लग जाता है।

नवीनतम उपचार

वीडियो असिस्टेड एनल फिस्टुला ट्रीटमेंट (वीएएएफटी) सुरक्षित और दर्द रहित उपचार है। यह डे-कयर सर्जरी है यानी रोगी सुबह अस्पताल आता है और उसी दिन शाम को चला जाता है। यही नहीं, वीएएएफटी फिस्टुला को दोबारा होने से रोकता है। इस सर्जरी में माइक्रो इंडोस्कोप का इस्तेमाल किया जाता है,जिसे पूरे फिस्टुला के मार्ग में ले जाया जा सकता है और इस दौरान फिस्टुला को देखा जा सकता है।

इस स्थिति में सर्जन को विशेष विद्युतीय करंट के जरिये फिस्टुला को नष्ट करने में मदद मिलती है। सर्जन फिस्टुला के मार्ग को ठीक तरीके से बंद करने के लिये एक विशिष्ट फाइब्रिन ग्लू का इस्तेमाल करते हैं, जिससे कोई जख्म नहीं रहता है और इसलिये अधिक दिनों तक ड्रेसिंग की जरूरत नहीं होती। 'वीएएएफटी' से मल-मूत्र को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों को किसी तरह की क्षति नहीं पहुंचती। इस कारण मल-मूत्र त्यागने की क्रिया सामान्य बनी रहती है, लेकिन पारंपरिक ओपन सर्जरी में मांसपेशियों को नुकसान पहुंचने का खतरा बरकरार रहता है।

 

Video: 
Vote: 
5
Average: 5 (1 vote)

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 52,835 85
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 54,405 66
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 14,901 44
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 24,153 27
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 23,955 20
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 8,509 20
दूध में डिटर्जेंट की जाँच करने के उपाय 2,193 14
झाइयां होने के कारण 6,006 14
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 21,295 13
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 7,436 13
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,729 13
गन्ने के जूस के फायदे 853 12
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,033 11
स्तन घटाने के उपाय, तरीके और टिप्स 2,378 10
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 3,452 10
जामुन के गुण और फायदे 2,844 10
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,681 10
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 7,205 9
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 8,576 9
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 14,420 9
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 2,218 9
हाई बीपी और माइग्रेन में मेंहदी इस प्रकार फायदेमंद 869 9
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,524 8
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 4,504 8
क्यों मच्छर के काटने पर खुजली होती है जानिए 1,343 7
हाइड्रोसील के कारण लक्षण और इलाज इस प्रकार है जानिए 2,119 7
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 5,137 7
लौंग के तेल के फायदे जानकर रह जायेंगे हैरान 905 7
अपने दांतों की देखभाल और उनको रखे दूध जैसे चमकीले तथा स्वच्छ 1,318 7
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,622 7
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,507 7
माँ का दूध बढ़ाने के तरीके 4,805 7
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 5,269 7
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,839 6
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान 1,622 6
गिलोय के फायदे और अनेक प्रकार से रोगों से छुटकारा 1,589 6
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,802 6
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 2,250 6
सेब खाने के फायदे 840 6
पोषाहार क्या है जानिए 1,410 6
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 10,454 6
स्त्रियों के ये अंग होते हैं सबसे ज्यादा कामुक 583 6
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 3,026 5
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,426 5
सोशल फोबिया के लक्षण 851 5
दाँतों में दर्द व कीड़ा लगा हो तो 190 5
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 2,388 5
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 4,089 5
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 5,453 5
ब्रेस्ट साइज़ कैसे करे कम| घरेलू नुस्खे| 2,027 4