बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका

कान की नस का इलाज, कान की नसों का इलाज, कान से कम सुनाई देने का इलाज, कान से कम सुनाई देने के उपाय, बहरापन दूर करना, कान की नस कमजोर होना, जन्मजात बहरापन, कान के लिए योग

डीफनेस (बहरापन)  कई प्रकार का होता है। कई प्रकार का होता है।

आटोस्क्लीरोसिस: कान के बहरेपन की यह विचित्र बीमारी है। इस रोग में कान बहता नहींऔर सुनने की सबसे सूक्ष्म हड्डी स्ट्रेपिस सख्त हो जाती है, जिससे आवाज का कंपन बाधित होने से आंतरिक कान तक नहीं पहुंच पाता।

इलाज: कान के इस प्रकार के बहरेपन की समस्या के इलाज में जो इंप्लांट इस्तेमाल करते हैं, उन्हें पिस्टन कहते हैं,जो टेफ्लॉन, सोना, या टाइटैनियम से निर्मित होते हैं।

सेंसरी न्यूरल डीफनेस (नसों से संबंधित बहरापन): इस तरीके का बहरापन पैदाइशी, कान के बहने या कान में चोट लगने के कारण होता है। इसके अलावा मस्तिष्क में संक्रमण जैसे मेनिनजाइटिस, इनसेफेलाइटिस आदि के कारण होता है।

अत्याधिक बहरापन: बहुत ज्यादा बहरेपन की स्थिति में कोक्लियर इंप्लांट का इस्तेमाल किया जाता है।

जैसे पैदाइशी बहरेपन की स्थिति में। इस स्थिति में बच्चे की भाषा विकसित नहीं होती और ऐसे बच्चे गूंगे और बहरे कहलाते हैं। इन बच्चों के लिए एक ही इलाज है, जिसे कोक्लियर इंप्लांट कहते हैं। इस ऑपरेशन की तकनीक आसान है। ऑपरेशन के बाद तीन साल तक बच्चे को स्पीच थेरेपी दी जाती है।

कंडक्टिव डीफनेस: सामान्यत: कान के बहने से, कान के पर्दे का फट जाना या इसमें सुराख होना कंडक्टिव डीफनेस के कुछ प्रमुख कारण हैं। इसके अलावा कान के सुनने की सूक्ष्म हड्डियों-मेलियस, इनकस या स्टेपिस के नष्ट या गल जाने से यह बहरापन उत्पन्न होता है

इलाज: इस प्रकार के बहरेपन का इलाज माइक्रोसर्जरी द्वारा संभव है। ऐसे ऑपरेशन में सुनने की हड्डी के गल जाने पर जो इंप्लांट इस्तेमाल किए जाते हैं, उन्हें टॉर्प या पॉर्प कहते हैं। टॉर्प व पॉर्प, टेफ्लॉन के या फिर टाइटैनियम के बने होते हैं। इस ऑपरेशन की सफलता दर 80 से 90 प्रतिशत होती है

मिश्रित बहरापन: इसमें कंडक्टिव डीफनेस और सुनने की नस का बहरापन दोनों ही शामिल होता है। यह स्थिति लंबे वक्त तक कान के बहने से उत्पन्न हो सकती है। कान के बहने से उत्पन्न मिक्स्ड डीफनेस में बोन एंकरिंग हियरिंग इंप्लांट लगाते हैं। इस तरह के मिश्रित बहरेपन में जिसमें मध्यम दर्जे की सुनने की क्षमता क्षीण होती है और जिसमें कान बहता नहीं है, उसमें एक नया वाइब्रेटिंग साउंड ब्रिज लगाया जाता है।

किस परिस्थिति में व्यक्ति को कौन सा इंप्लांट लगेगा, इस संदर्भ में राय किसी ईएनटी विशेषज्ञ की योग्यता पर निर्भर करती है।

Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total viewssort descending Views today
मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार 24 2
पाचन तंत्र ठीक हो लिवर ठीक से कार्य करें 31 0
दवाएं जो बन गई थीं दर्द 37 0
ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने के लिए जरूर खाएं टमाटर 41 0
वायु प्रदूषण के चलते शरीर पर बेअसर हो रही दवाइयां 42 0
नेल रिमूवर के खत्म होने पर इन ट्रिक्स से साफ करें नेलपॉलिश 43 0
यदि आप झपकी नहीं लेतीं तो आप बहुत कुछ खो रही हैं 43 0
मछली, मीट त्यागकर केवल पूर्ण शाकाहारी भोजन आपकी सर की रूसी दूर करने में सहायक होगा 44 0
संभलकर! हफ्ते में पीएंगे शराब के 7 पैग तो हो जाएंगे प्रोस्टेट कैंसर का शिकार 44 0
क्या मैं प्रेगनेंसी में डांस कर सकती हूँ? 45 0
नवरात्रि में उपवास के दौरान खाएं काजू, पास नही आएगी कमजोरी.. 46 1
सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए 47 1
साइकिल चलाने के चमत्कारी फ़ायदे 47 0
जानिए मांसाहार अच्छा है या शाकाहार?? 48 0
कब्ज और पेट साफ रखने के आसान घरेलू उपाय 49 0
पुदीना खाने के औसधीय फायदे 49 0
मैथी के फायदे और गुण 51 0
योग का चमत्कार 54 0
एक आंवला दो संतरे के बराबर होता है। 56 0
चिंता न करें, ख़ुश रहें 58 0
प्रेगनेंसी में किस प्रकार का डांस करना चाहिए? 58 0
बिमारियों का घर हैं ब्रेड 58 0
प्रकति स्वयं चिकित्सक है 59 0
क्या होती है नेगेटिव कैलोरी? 60 0
लड़की नही समझ पा रही है इशारे तो ऐसे कराएं प्यार का अहसास 60 2
कलौंजी का तेल – दूर रखें कैंसर डायबिटीज 61 0
हरड का काया कल्प प्रयोग 62 0
ठण्डा मतलब टॉयलेट क्लीनर, नारियल मतलब रोग क्लीनर 63 0
घर पर आसानी से मिनटों में निकाले व्हाइटहेड्स 64 0
आजकल के लड़कों को तो फ्लर्ट करना भी नही आता, ऐसे करते है फ्लर्ट 64 0
क्यों होता है अल्जाइमर 64 0
बिना एक्सरसाइज किए 1 महीने में घटाएं जांघों और कूल्हों की चर्बी! 65 0
आँखों में जलन दूर करने के उपाय 65 0
सूजी हुई नसों में आराम देगी हरे टमाटर से बनी यह प्राकृतिक दवा 65 0
लहसुन : हानिकारक प्रभाव भी दे सकती हैं। 67 0
बॉलीवुड एक्ट्रेस में बढ़ रहा है कपिंग थैरेपी का क्रेज, जानिए इसके फायदे 67 0
पपीता के बीज के गुण 68 0
डायबिटीज से बचने के लिए जरूरी है भरपूर नींद लेना 68 0
क्या होता है जब आप नियमित खाते हैं साबूदाना 70 0
छुहारा और खजूर एक ही पेड़ की देन है। 71 0
अंजीर में फाइबर उच्च मात्रा में होता है 71 0
आज हम बोतलों में पी रहे है जहर हो जाए सावधान 72 0
कम सोने वाले हो जाएं सावधान 72 0
ऑफिस में स्ट्रेस से बचने के लिए खाने से ज्यादा नींद है जरूरी 74 0
हार्मोंस संतुलन के लिए बैस्ट तरीके 76 0
चूने के चमत्कारी फायदे 79 1
मिनटों में गायब हो जाएंगे 'लव बाइट' के निशान, करें ये आसान काम 79 0
झुर्रिया हो या पिंपल्स, आपके चेहरे को बेदाग बनाएगी 80 0
आंवला खाये, निरोगी हो जाए 81 0
हैल्दी बालों के लिए डाइट 81 0