मोटापे से कमज़ोर होती है याददाश्त?

मोटापे से कमज़ोर होती है याददाश्त?

कहते हैं मोटापा सौ बीमारियों की एक बीमारी है. इससे ब्लड प्रेशर की शिकायत हो जाती है, आप चलने-फिरने से लाचार होने लगते हैं. शुगर बढ़ने लगती है.

मोटापा याददाश्त कमज़ोर करता है, शायद ये आपको नहीं पता. यही नहीं अल्ज़ाइमर जैसी बीमारी को भी जन्म देता है.

वैज्ञानिक रिसर्च साबित करती है कि मोटापे और याददाश्त में दो-तरफ़ा रिश्ता होता है. दोनों आपस में एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं.

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर लूसी चेक ने हाल ही में अपने लैब में एक तजुर्बा किया. इसका नाम था 'ट्रेजर हंट'. सभी प्रतिभागियों को कंप्यूटर की स्क्रीन पर अलग-अलग जगह पर कुछ चीज़ें छिपाने को कहा गया. बाद में उनसे कुछ सवाल पूछे गए. पाया गया कि जिन प्रतिभागियों का बीएमआई (BMI) ज़्यादा था, उनकी याददाश्त ज़्यादा कमज़ोर थी. बीएमआई का मतलब है बॉडी मास इंडेक्स. यानि लंबाई के मुताबिक वज़न का होना.

2010 में अमरीका की बोस्टन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन ने भी एक रिसर्च की थी. इसके नतीजे में पाया गया था कि अधेड़ उम्र के ऐसे लोग, जिनके पेट पर चर्बी ज़्यादा थी उनका ज़हन दुबले-पतले अधेड़ उम्र वालों के मुक़ाबले ज़्यादा कमज़ोर था. ऐसा ही तज़ुर्बा जानवरों के साथ भी किया गया था. उनके भी बढ़ते-घटते वज़न और खाने की आदतों पर ध्यान दिया गया. जानवर जितना खाते हैं, वो उतनी ही कैलोरी खर्च भी करते रहते हैं. इससे उनकी याद्दाश्त पर असर नहीं पड़ता. बल्कि वो तेज़ी से नई चीज़ें सीखते हैं.

मोटापा एक पेचीदा मसला है. इसके साथ बहुत सी वजहें जुड़ी हैं. लिहाज़ा ये कह पाना मुश्किल है कि ये हमारे दिमाग़ को कैसे असर करता है. हाल ही में 500 लोगों पर एक स्टडी की गई. इसमें पाया गया कि मोटापे और उम्र में भी आपस में ताल्लुक़ है. अगर अधेड़ उम्र में मोटापा आता है तो दिमाग पर उसका असर ज़्यादा होता है जबकि कम उम्र वालों के मोटापे का उनके दिमाग पर कम असर पड़ता है.

प्रोफेसर लूसी चेक कहती हैं मोटापा आने के साथ ही हाई ब्लड प्रेशर और इंसुलिन की समस्या भी बढ़ जाती है. जिसकी वजह से खाने की आदतों में भी फ़र्क़ पड़ता है. इससे भी दिमाग पर असर पड़ता है. इंसुलिन एक अहम न्यूरोट्रांसमीटर है. इस बात का पुख्ता सबूत हैं कि इसका असर नई चीज़ों सीखने की क्षमता और याद रखने की क़ुव्वत पर भी पड़ता है.

इसके अलावा सूजन का आना भी याद्दाश्त को कमज़ोर करने में एक अहम रोल निभाता है. अमरीका की अरिज़ोना यूनिवर्सिटी के एक मनोवैज्ञानिक ने एक अनोखा तजुर्बा किया. उन्हों ने साल 1998 से लेकर 2013 तक करीब बीस हज़ार लोगों की याद्दाश्त, बीएमआई और सी-रिएक्टिव प्रोटीन के सैंपल लिए.

शहद और पेस्ट्रीइमेज कॉपीरइटGETTY IMAGES

इस रिसर्च में भी यही पाया गया कि याद्दाश्त का ताल्लुक़ बॉडी मास इंडेक्स से है. साथ ही इनफ्लेमेटरी प्रोटीन भी बहुत हद तक इस के लिए ज़िम्मेदार हैं. हालांकि सीधे तौर पर इनको ही ज़िम्मदार ठहराना भी सही नहीं है. इन वजहों के साथ भी और भी बहुत से कारक जुड़े हैं जो दिमाग़ के काम पर अपना असर डालते हैं.

हमें भूख तब लगती है जब हमारा दिमाग़ हमें खाना खाने का हुक्म देता है. लेकिन जब दिमाग ही ये बात भूल जाता है कि वो हमें खाना खाने का हुक्म दे चुका है तो बार-बार हमें आदेश देता रहता है. और, हम कुछ ना कुछ खाते रहते हैं. नतीजतन वज़न बढ़ जाता है. सवाल उठता है कि अगर किसी की याद्दाश्त में सुधार आ जाएगा तो क्या वो खाना कम कर देगा?

ब्रिटेन की लिवरपूल यूनिवर्सिटी के मनोविज्ञानिक एरिक रॉबिनसन ने एक तजुर्बा किया. उन्होंने अपने लैब में क़रीब 48 लोगों को खाने पर बुलाया. इन सभी को दो हिस्सों में बांट दिया गया. एक ग्रुप को खाते समय कुछ रिकार्डिंग सुनने को कहा गया, जिसमें खाने का ज़िक्र नहीं था. जबकि दूसरे ग्रुप को जो ऑडियो दिया गया, उसमें उन्हें खाने पर ध्यान देने को कहा गया था. दूसरे दिन इन सभी को हाई-एनर्जी वाला खाना परोसा गया. जिन लोगों ने एक दिन पहले खाने पर ध्यान देने वाली रिकॉर्डिंग को सुनते हुए खाना खाया था, इस बार उन्होंने कम खाना खाया.

आल चिप्सइमेज कॉपीरइटGETTY IMAGES

जबकि जिन्होंने दूसरी रिकॉर्डिंग सुनते हुए खाना खाया था उन्होंने इस बार ज़्यादा खाना खाया. तवज्जो और याद्दाश्त दोनों एक दूसरे से अलग हैं, लेकिन एक दूसरे से जुड़े भी हैं. हम अक्सर वो चीज़ें याद नहीं रखते जिन पर हम तवज्जो नहीं देते. इसीलिए मुमकिन है कि जब हमें ये याद रहता है कि हमें खाना खाना है तो हम वक़्त पर खाना खा लेते हैं, और कम खाना खाते हैं.

वहीं अगर हम एक वक़्त ख़ुद को खाने से दूर रखते हैं, तो, दूसरे वक़्त अपने आप ही ये सोच ज़हन में आती है कि एक वक़्त का खाना हम ने नहीं खाया. लिहाज़ा जब खाना मिलता है तो भूख से ज़्यादा खाना खा लेते हैं. रॉबिनसन का कहना है ज़्यादा खाना और याद्दाश्त का कमज़ोर होना एक-दूसरे पर असर डालते हैं. हो सकता है याद्दाश्त कमज़ोर होने की वजह से ही कोई ज़्यादा खाता हो. लिहाज़ा ज़रूरी है कि आप अपने जीने के तौर तरीक़ों को बदलें. अच्छा खाना खाएं और वक़्त पर खाएं.

लोगों की खाने की आदतें बदल सकें. वो क्या खा रहे हैं? कितना खा रहे हैं? कब खा रहे हैं? इसे लेकर लोगों में जागरुकता फैलाने की ज़रूरत है. लोगों का ध्यान इस तरफ़ दिलाना ज़रूरी है. इसके लिए रॉबिन्सन और उनके साथियों ने मिलकर एक स्मार्ट फोन ऐप बनाया है जो लोगों को खाने पर तवज्जो दिलाता है.

तला हुआ भोजनइमेज कॉपीरइटGETTY IMAGES

प्रोफेसर लूसी चेक और उनके साथी भी लोगों के रहन-सहन और जिंदगी के रंग ढंग की जानकारी लेने के लिए मोबाइल ऐप का इस्तेमाल कर रही हैं. चेक कहती हैं कई बार मोटापा ख़ानदानी भी होता है. कुछ लोग खाते ज़्यादा हैं और वर्ज़िश नहीं करते, इसलिए मोटे होते हैं, कुछ के मोटापे की वजह इंसुलिन होती है. लेकिन मोटापे का असली मुज़रिम कौन है, रिसर्चर अभी उसकी तलाश कर रहे हैं.

तब तक आप अपने खान-पान और रहन-सहन में थोड़े-बहुत बदलाव के साथ इससे बच सकते हैं. क्योंकि ये आपकी याददाश्त को कमज़ोर करता है.

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 56,013 126
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 16,024 78
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 56,731 76
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 16,889 65
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 25,294 61
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 25,176 31
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 9,260 26
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 9,112 20
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 3,983 18
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 21,773 16
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 5,873 15
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 4,899 14
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,850 14
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 4,076 13
जल्‍दी पिता बनने के लिए एक घंटे में करें दो बार सेक्‍स 5,850 12
रात की बजाय सुबह बनायें शारीरिक सम्बन्ध, होंगे ये फायदे 286 12
जामुन के गुण और फायदे 3,002 9
दिमाग को तेज कैसे बनाये 1,004 9
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,423 8
स्त्री यौन रोग (श्वेत प्रदर) के लिए औषधि ॥ 1,016 8
झाइयां होने के कारण 6,457 8
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 5,397 8
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 2,051 8
जवान दिखने के बेहतरीन जादुई नुस्खे 2,919 7
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,598 7
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 3,039 7
कैंसर, बीमारी नहीं बिजनेस है, जानें चौंकाने वाला सच 583 7
चूना अमृत है : बीमारी ठीक कर देते है 201 7
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 4,382 7
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 5,025 6
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 2,480 6
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 3,426 6
जोड़ो में दर्द है तो करें ये उपाय 1,051 5
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 10,174 5
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,818 5
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 2,464 5
छुहारा और खजूर एक ही पेड़ की देन है। 660 5
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 3,189 5
हार्टफेल से बचाएगा एरोबिक एक्‍सरसाइज 1,753 5
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 2,889 5
कब्ज और पेट साफ रखने के आसान घरेलू उपाय 564 5
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,889 5
प्रदूषण से बचने और बालों को बचाने है तो अपनाएं ये नुस्खे 567 5
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,837 4
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 2,218 4
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,762 4
केले खाने के फायदे 426 4
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 7,567 4
ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण क्‍या हैं? 3,238 4
चिकनपॉक्स (छोटी माता): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज 2,077 4