मोटापे से कमज़ोर होती है याददाश्त?

मोटापे से कमज़ोर होती है याददाश्त?

कहते हैं मोटापा सौ बीमारियों की एक बीमारी है. इससे ब्लड प्रेशर की शिकायत हो जाती है, आप चलने-फिरने से लाचार होने लगते हैं. शुगर बढ़ने लगती है.

मोटापा याददाश्त कमज़ोर करता है, शायद ये आपको नहीं पता. यही नहीं अल्ज़ाइमर जैसी बीमारी को भी जन्म देता है.

वैज्ञानिक रिसर्च साबित करती है कि मोटापे और याददाश्त में दो-तरफ़ा रिश्ता होता है. दोनों आपस में एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं.

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर लूसी चेक ने हाल ही में अपने लैब में एक तजुर्बा किया. इसका नाम था 'ट्रेजर हंट'. सभी प्रतिभागियों को कंप्यूटर की स्क्रीन पर अलग-अलग जगह पर कुछ चीज़ें छिपाने को कहा गया. बाद में उनसे कुछ सवाल पूछे गए. पाया गया कि जिन प्रतिभागियों का बीएमआई (BMI) ज़्यादा था, उनकी याददाश्त ज़्यादा कमज़ोर थी. बीएमआई का मतलब है बॉडी मास इंडेक्स. यानि लंबाई के मुताबिक वज़न का होना.

2010 में अमरीका की बोस्टन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन ने भी एक रिसर्च की थी. इसके नतीजे में पाया गया था कि अधेड़ उम्र के ऐसे लोग, जिनके पेट पर चर्बी ज़्यादा थी उनका ज़हन दुबले-पतले अधेड़ उम्र वालों के मुक़ाबले ज़्यादा कमज़ोर था. ऐसा ही तज़ुर्बा जानवरों के साथ भी किया गया था. उनके भी बढ़ते-घटते वज़न और खाने की आदतों पर ध्यान दिया गया. जानवर जितना खाते हैं, वो उतनी ही कैलोरी खर्च भी करते रहते हैं. इससे उनकी याद्दाश्त पर असर नहीं पड़ता. बल्कि वो तेज़ी से नई चीज़ें सीखते हैं.

मोटापा एक पेचीदा मसला है. इसके साथ बहुत सी वजहें जुड़ी हैं. लिहाज़ा ये कह पाना मुश्किल है कि ये हमारे दिमाग़ को कैसे असर करता है. हाल ही में 500 लोगों पर एक स्टडी की गई. इसमें पाया गया कि मोटापे और उम्र में भी आपस में ताल्लुक़ है. अगर अधेड़ उम्र में मोटापा आता है तो दिमाग पर उसका असर ज़्यादा होता है जबकि कम उम्र वालों के मोटापे का उनके दिमाग पर कम असर पड़ता है.

प्रोफेसर लूसी चेक कहती हैं मोटापा आने के साथ ही हाई ब्लड प्रेशर और इंसुलिन की समस्या भी बढ़ जाती है. जिसकी वजह से खाने की आदतों में भी फ़र्क़ पड़ता है. इससे भी दिमाग पर असर पड़ता है. इंसुलिन एक अहम न्यूरोट्रांसमीटर है. इस बात का पुख्ता सबूत हैं कि इसका असर नई चीज़ों सीखने की क्षमता और याद रखने की क़ुव्वत पर भी पड़ता है.

इसके अलावा सूजन का आना भी याद्दाश्त को कमज़ोर करने में एक अहम रोल निभाता है. अमरीका की अरिज़ोना यूनिवर्सिटी के एक मनोवैज्ञानिक ने एक अनोखा तजुर्बा किया. उन्हों ने साल 1998 से लेकर 2013 तक करीब बीस हज़ार लोगों की याद्दाश्त, बीएमआई और सी-रिएक्टिव प्रोटीन के सैंपल लिए.

शहद और पेस्ट्रीइमेज कॉपीरइटGETTY IMAGES

इस रिसर्च में भी यही पाया गया कि याद्दाश्त का ताल्लुक़ बॉडी मास इंडेक्स से है. साथ ही इनफ्लेमेटरी प्रोटीन भी बहुत हद तक इस के लिए ज़िम्मेदार हैं. हालांकि सीधे तौर पर इनको ही ज़िम्मदार ठहराना भी सही नहीं है. इन वजहों के साथ भी और भी बहुत से कारक जुड़े हैं जो दिमाग़ के काम पर अपना असर डालते हैं.

हमें भूख तब लगती है जब हमारा दिमाग़ हमें खाना खाने का हुक्म देता है. लेकिन जब दिमाग ही ये बात भूल जाता है कि वो हमें खाना खाने का हुक्म दे चुका है तो बार-बार हमें आदेश देता रहता है. और, हम कुछ ना कुछ खाते रहते हैं. नतीजतन वज़न बढ़ जाता है. सवाल उठता है कि अगर किसी की याद्दाश्त में सुधार आ जाएगा तो क्या वो खाना कम कर देगा?

ब्रिटेन की लिवरपूल यूनिवर्सिटी के मनोविज्ञानिक एरिक रॉबिनसन ने एक तजुर्बा किया. उन्होंने अपने लैब में क़रीब 48 लोगों को खाने पर बुलाया. इन सभी को दो हिस्सों में बांट दिया गया. एक ग्रुप को खाते समय कुछ रिकार्डिंग सुनने को कहा गया, जिसमें खाने का ज़िक्र नहीं था. जबकि दूसरे ग्रुप को जो ऑडियो दिया गया, उसमें उन्हें खाने पर ध्यान देने को कहा गया था. दूसरे दिन इन सभी को हाई-एनर्जी वाला खाना परोसा गया. जिन लोगों ने एक दिन पहले खाने पर ध्यान देने वाली रिकॉर्डिंग को सुनते हुए खाना खाया था, इस बार उन्होंने कम खाना खाया.

आल चिप्सइमेज कॉपीरइटGETTY IMAGES

जबकि जिन्होंने दूसरी रिकॉर्डिंग सुनते हुए खाना खाया था उन्होंने इस बार ज़्यादा खाना खाया. तवज्जो और याद्दाश्त दोनों एक दूसरे से अलग हैं, लेकिन एक दूसरे से जुड़े भी हैं. हम अक्सर वो चीज़ें याद नहीं रखते जिन पर हम तवज्जो नहीं देते. इसीलिए मुमकिन है कि जब हमें ये याद रहता है कि हमें खाना खाना है तो हम वक़्त पर खाना खा लेते हैं, और कम खाना खाते हैं.

वहीं अगर हम एक वक़्त ख़ुद को खाने से दूर रखते हैं, तो, दूसरे वक़्त अपने आप ही ये सोच ज़हन में आती है कि एक वक़्त का खाना हम ने नहीं खाया. लिहाज़ा जब खाना मिलता है तो भूख से ज़्यादा खाना खा लेते हैं. रॉबिनसन का कहना है ज़्यादा खाना और याद्दाश्त का कमज़ोर होना एक-दूसरे पर असर डालते हैं. हो सकता है याद्दाश्त कमज़ोर होने की वजह से ही कोई ज़्यादा खाता हो. लिहाज़ा ज़रूरी है कि आप अपने जीने के तौर तरीक़ों को बदलें. अच्छा खाना खाएं और वक़्त पर खाएं.

लोगों की खाने की आदतें बदल सकें. वो क्या खा रहे हैं? कितना खा रहे हैं? कब खा रहे हैं? इसे लेकर लोगों में जागरुकता फैलाने की ज़रूरत है. लोगों का ध्यान इस तरफ़ दिलाना ज़रूरी है. इसके लिए रॉबिन्सन और उनके साथियों ने मिलकर एक स्मार्ट फोन ऐप बनाया है जो लोगों को खाने पर तवज्जो दिलाता है.

तला हुआ भोजनइमेज कॉपीरइटGETTY IMAGES

प्रोफेसर लूसी चेक और उनके साथी भी लोगों के रहन-सहन और जिंदगी के रंग ढंग की जानकारी लेने के लिए मोबाइल ऐप का इस्तेमाल कर रही हैं. चेक कहती हैं कई बार मोटापा ख़ानदानी भी होता है. कुछ लोग खाते ज़्यादा हैं और वर्ज़िश नहीं करते, इसलिए मोटे होते हैं, कुछ के मोटापे की वजह इंसुलिन होती है. लेकिन मोटापे का असली मुज़रिम कौन है, रिसर्चर अभी उसकी तलाश कर रहे हैं.

तब तक आप अपने खान-पान और रहन-सहन में थोड़े-बहुत बदलाव के साथ इससे बच सकते हैं. क्योंकि ये आपकी याददाश्त को कमज़ोर करता है.

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 43,772 163
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 48,424 76
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,888 69
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,825 68
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 20,271 65
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,360 54
हस्तमैथुन करने वाली महिलाएं होती है इन बीमारियों का शिकार 438 31
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,201 28
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,106 27
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,340 27
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 5,381 25
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,853 24
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 2,839 22
होठों की क्या ज़रूरत है 2,257 20
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,067 20
झाइयां होने के कारण 4,859 19
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,601 18
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,114 17
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,890 17
स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें 793 16
इसलिए शारीरिक संबंध बनाने से डरती है महिलाएं 373 15
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,772 14
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 4,564 13
शल्य क्रिया से स्तनों का आकार घटाने का तरीका 2,084 13
गले में मछली का कांटा फंस जाए तो करें ये काम 852 13
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,385 13
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,777 13
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 1,614 13
लड़कियों की शर्ट में पॉकेट क्यों नहीं होती ! आखिर क्या हैं राज 2,117 13
गूलर लंबी आयु वाला वृक्ष है 3,438 12
किडनी को ख़राब करने वाली है ये आदतें……. 1,749 12
सर्दियों में जुकाम और नाक से पानी आने को दूर करनें के लिए पिये गर्म पानी और भी चीजो का प्रयोग करें आइये जानें 961 11
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,353 11
नीम और उसके फायदे 1,222 11
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 928 11
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 9,503 11
थायराइड की समस्या और घरेलु उपचार 1,948 10
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 6,631 10
मियादी बुखार का कारण क्या है 3,596 10
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,694 10
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 4,178 9
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 6,894 9
सेक्‍स करने से लोगों को होते हैं ये 10 फायदे 3,991 9
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,287 9
रोजाना भीगे हुए चने खाने के हैं कई फायदे, जानिए और स्वस्थ्य रहिए.... 2,515 9
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,010 9
आधे सर का दर्द और उसका इलाज 1,410 9
अचानक बढ़ जाती है दिल की धड़कन तो हो सकती है ये खतरनाक बीमारी 857 9
सुबह उठ कर खाली पेट कैसे पानी पीना चाहिए 1,357 9
पियें मेथी का पानी और दूर करें बीमार जिंदगी 5,382 9