रोज करें ये 2 काम, डायबिटीज से हमेशा के लिए मिलेगा छुटकारा

प्राचीन काल से ही योग कई बीमारियों को ठीक करने के काम आता रहा है। तेज़ी से फै ल रही मधुमेह की बीमारी को भी योग द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। योग करने से कोशिकाओं को ऑक्सीजन ज्य़ादा मात्रा में मिलती है जो बीटा-सेल्स में नई ऊर्जा लाती है। यह प्रक्रिया इंसुलिन ज्य़ादा बनाने में मदद करती है। आइए जाने योग एक्सपर्ट आशीष सिंह से ऐसे ही कुछ आसनों के बारे में, जो मधुमेह में हैं लाभकारी।

अपने घुटनों को सीधा रखते हुए पैरों को ऊपर की तरफ 90 डिग्री का कोण बनाते हुए धीरे-धीरे उठाएं। अब अपनी हथेलियों के सहारे नितंबों को धीरे-धीरे उठाते हुए पैरों को सिर के पीछे की ओर झुकाते जाएं। ध्यान रहे कि इससे रीढ़ पर किसी तरह का दबाव न पड़े। धीरे-धीरे अपने पंजों को सिर के पीछे इस तरह ले जाएं कि पंजे जमीन को छूने लगें। कुछ सेकंड्स इसी स्थिति में रह कर धीरे-धीरे वापस अपनी स्थिति में लौट आएं। पहले हथेलियों के बल 90 और फिर 60 डिग्री में पैरों को लाते हुए ज़मीन पर टिका दें। इसे किसी अच्छे योग एक्सपर्ट की मदद से ही करें।

अर्धमत्स्येंद्रासन

मत्स्येंद्रासन की रचना स्वामी मत्स्येंद्रनाथ ने की थी। मत्स्येंद्रासन की आधी क्रिया को लेकर ही अर्धमत्स्येंद्रासन प्रचलित हुआ। रीढ़ की हड्डी में कोई शिकायत हो या फिर पेट में कोई गंभीर बीमारी हो ऐसी स्थिति में यह आसन न करें।

अर्धमत्स्येंद्रासन के लाभ

यह आसन डायबिटीज़ में लाभकारी है। अर्धमत्स्येंद्रासन से मेरुदंड स्वस्थ रहता है और स्फूर्ति बनी रहती है। पीठ, पेट, पैर, गर्दन, हाथ, कमर, नाभि से नीचे के भाग एवं छाती पर खिंचाव पडऩे से उन पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। शरीर में ऊर्जा का संचार होता है। कमर, पीठ और जोड़ों के दर्द में यह आसन लाभदायक है। यह आसन करने से लीवर भी मजबूत होता है।

विधि

दोनों पैरों को लंबा करके बैठ जाएं। बायें पैर को घुटने से मोड़कर बैठ जाएं। दाहिने पैर को घुटने से मोड़कर सीधा रखें। बायें हाथ से दाहिने पैर का अंगूठा पकड़ें। सिर को दाहिनी ओर मोड़ें, जिसमें दाहिने पैर के घुटने के ऊपर बायें कंधे का दबाव पड़े। अब दाहिना हाथ पीठ के पीछे से घुमा कर बायें पैर के पास ले जाएं। सिर दाहिनी ओर इस तरह घुमाएं कि ठोड़ी और बायां कंधा एक सीधी रेखा में आ जाए। 30 सेकेंड तक इसी पोजि़शन में रहने के बाद रिलैक्स हो जाएं। इस आसन को नियमित करने से जल्द लाभ मिलता है।

अनुलोम-विलोम प्राणायाम

प्राणायाम सीखने के लिए शुरुआत में अनुलोम-विलोम का अभ्यास किया जाता है। फिर क्रमश: अन्य प्राणायामों का अभ्यास किया जाता है। अनुलोम-विलोम प्राणायाम करते समय तीन क्रिया करते हैं- 1.पूरक 2.कुंभक 3.रेचक।

लाभ

तनाव घटाकर शांति प्रदान करने वाले प्राणायाम से सभी प्रकार की नाडिय़ों को भी स्वास्थ्य लाभ मिलता है। मधुमेह के रोगी इस आसन को नियमित करें। यह आसन नेत्र ज्योति बढ़ाने में भी सहायक है। इस आसन से शरीर को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होता।

इसे करने के लिए ज़मीन पर आराम से बैठ जाएं। दाहिने हाथ के अंगूठे से नाक के दायें छेद को बंद कर लें और नाक के बायें छेद सेे चार तक की गिनती करते हुए सांस को भीतर भरें और बायीं नाक के अंगूठे के बगल वाली दो उंगलियों से बंद कर दें। इसके बाद दायीं नाक से अंगूठे को हटा दें और सांस बाहर छोड़ दें।

अब दायींनाक से ही सांस को चार तक गिनती करते हुए भीतर भरें और दायीं नाक को बंद करके बायीं नाक खोलकर सांस को आठ की गिनती में बाहर निकालें। इस प्राणायाम को पांच से 15 मिनट तक कर सकते हैं। इस आसन को हर वर्ग के लोग कर सकते हैं।

हलासन

इस आसन में शरीर का आकार हल के समान हो जाता है। इसीलिए इस आसन को हलासन कहा जाता है। रीढ़ संबंधी रोगों अथवा गले में कोई गंभीर रोग होने की स्थिति में यह आसन न करें। आसन करते वक्त ध्यान रहे कि पैर तने हुए तथा घुटने सीधे रहें। स्त्रियों को यह आसन एक्सपर्ट की सलाह पर ही करना चाहिए।

हलासन के लाभ

हलासन से रीढ़ सही स्थिति में बनी रहती है। मेरुदंड संबंधी नाडिय़ों के स्वस्थ रहने से वृद्धावस्था के लक्षण जल्दी नहीं आते। डायबिटीज़ के अलावा यह आसन कब्ज़, थायरॉइड, दमा, सिरदर्द, कफ, रक्त-विकार आदि में भी लाभदायक है। लीवर बढ़ गया हो तो हलासन से सामान्य अवस्था में आ जाता है। शवासन की अवस्था में भूमि पर लेट जाएं। दोनों पंजे मिलाएं। हथेलियों को भी सीधा रखें। सांस को सुविधानुसार बाहर छोडें। फिर दोनों पैरों को एक-दूसरे से सटाते हुए पहले 60 फिर 90 डिग्री के कोण तक एक साथ धीरे-धीरे भूमि से ऊपर उठाते जाएं।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 43,159 137
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 48,096 95
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,619 85
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 20,005 64
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,140 43
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,594 42
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,772 34
झाइयां होने के कारण 4,795 27
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,011 21
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,266 17
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 4,725 16
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,337 16
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 9,841 16
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,126 16
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,688 15
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 5,345 15
चिकनपॉक्स (छोटी माता): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज 1,537 15
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,545 14
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,036 13
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,634 13
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 2,880 13
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,017 12
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,760 11
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,329 11
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,247 11
मौसमी का जूस पीने के फायदे 3,979 10
आधे सर का दर्द और उसका इलाज 1,396 9
कच्ची् लहसुन और शुद्ध शहद खाने के लाभ 144 9
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,845 9
हाई बीपी और माइग्रेन में फायदेमंद है मेंहदी 1,188 9
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,740 9
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,477 8
जानें शंखपुष्‍पी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कितनी फायदेमंद है प्रयोग करें 974 8
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 2,571 8
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 3,034 8
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 4,540 8
ब्रेस्ट कम करने के उपाय 1,748 7
पियें मेथी का पानी और दूर करें बीमार जिंदगी 5,368 7
दूध को इस प्रकार पिये 667 6
कब्ज और पेट साफ रखने के आसान घरेलू उपाय 282 6
अस्थमा के घरेलू उपचार 391 6
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 1,585 6
शाकाहारी भोजन आपकी सर की रूसी दूर करने में सहायक होगा 440 6
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 1,939 6
क्यों मच्छर के काटने पर खुजली होती है जानिए 1,184 6
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 6,601 6
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान 1,328 6
ब्रेस्ट साइज़ कैसे करे कम| घरेलू नुस्खे| 1,658 6
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 3,777 5
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,663 5