स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

लोगों को स्वास्थ्य के सभी पहलुओं के बारे में शिक्षित करना स्वास्थ्य शिक्षा (Health Education) कहलाती है। स्वास्थ्य शिक्षा ऐसा साधन है जिससे कुछ विशेष योग्य एवं शिक्षित व्यक्तियों की सहायता से जनता को स्वास्थ्यसंबंधी ज्ञान तथा औपसर्गिक एवं विशिष्ट व्याधियों से बचने के उपायों का प्रसार किया जा सकता है।

विस्तृत अर्थों में स्वास्थ्य शिक्षा के अन्तर्गत पर्यावरण का स्वास्थ्य, दैहिक स्वास्थ्य (physical health), सामाजिक स्वास्थ्य, भावात्मक स्वास्थ्य, बौद्धिक स्वास्थ्य, तथा आध्यात्मिक स्वास्थ्य सभी आ जाते हैं। स्वास्थ्य शिक्षा के द्वारा ही व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह ऐसा बर्ताव करता है जो स्वास्थ्य की उन्नति, रखरखाव और पुनर्प्राप्ति में सहायक हो।

स्वास्थ्य शिक्षा की विधियों के प्रकार 

स्वास्थ्य शिक्षा की तीन प्रमुख विधियाँ हैं जिनमें दो विधियों में तो चिकित्सक की आंशिक आवश्यकता पड़ती है परंतु तीसरी स्वास्थ्य शिक्षक के ही अधीन है। ये तीनों विधियाँ इस प्रकार हैं -

स्कूलों एवं कालेजों के पाठ्यक्रमों में स्वास्थ्य शिक्षा का समावेश। इसके अंतर्गत निम्नलिखित बातें आती हैं : -

 व्यक्तिगत स्वास्थ्य तथा व्यक्ति एवं पारिवारिक स्वास्थ्य की रक्षा तथा लोगों को स्वास्थ्य के नियमों की जानकारी करना।
संक्रामक रोगों की धातकता तथा रोगनिरोधन के मूल तत्वों का लोगों को बोध कराना।
स्वास्थ्य रक्षा के सामूहिक उत्तरदायित्व को वहन करने की शिक्षा देना।

इस प्रकार में स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा प्राप्त कर रहा छात्र आगे चलकर सामुदायिक स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुणता से कार्य कर सकता है तथा अपने एवं अपने परिवार के लोगों की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उचित उपायों का प्रयोग कर सकता है। अनुभव द्वारा यह देखा भी गया है कि इस प्रकार की स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा से संपूर्ण देश की स्वास्थ्य रक्षा में प्रगति हुई है।

सामान्य जनता को स्वास्थ्यसंबंधी सूचना देना - यह कार्य मुख्य रूप से स्वास्थ्य विभाग का है परंतु अनेक ऐच्छिक स्वास्थ्य संस्थाएँ एवं अन्य सस्थाएँ जो इस कार्य में रुचि रखती हैं, सहायक रूप से कार्य कर सकती हैं। इस प्रकार की स्वास्थ्य शिक्षा का कार्य आजकल, रेडियो, समाचारपत्रों, भाषणों, सिनेमा, प्रदर्शनी तथा पुस्तिकाओं की सहायता से यथाशीघ्र संपन्न हो रहा है। इसके अतिरिक्त अन्य सभी उपकरणों का भी प्रयोग करना चाहिए। जिससे अधिक से अधिक जनता का ध्यान स्वास्थ्य शिक्षा की ओर आकर्षित हो सके। इसके लिए विशेष प्रकार के व्यवहारकुशल और शिक्षित स्वास्थ्य शिक्षकों की नियुक्ति करना श्रेयस्कर है।
उन लोगों से स्वास्थ्य शिक्षा दिलाना जो रोगियों की सेवा सुश्रूषा तथा अन्य स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुण हों।

यह कार्य स्वास्थ्य चर बड़ी कुशलता से कर सकता है। प्रत्येक रोगी तथा प्रत्येक घर जहाँ चिकित्सक जाता है वहाँ किसी न किसी रूप में उसे स्वास्थ्य शिक्षा देने की सदा आवश्यकता पड़ा करती है अत: प्रत्येक चिकित्सक के स्वास्थ्य शिक्षा चिकित्सक के प्रमुख अंग के रूप में ग्रहण करना चाहिए। इस तरह से कोई भी स्वास्थ्य चर, स्वास्थ्य शिक्षक तथा चिकित्सक जनता की निम्नलिखित प्रकार से सेवा कर सकता है :

रोग के संबंध में रोगी के भ्रमात्मक विचार तथा अंधविश्वास को दूर करना।
 रोगी का रोगोपचार, स्वास्थ्य रक्षक तथा रोग के समस्त रोगनिरोधात्मक उपायों का ज्ञान करा सकता।
 अपने ज्ञान से रोगी को पूरा विश्वास दिलाना जिससे रोगी अपनी तथा अपने परिवार की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उनसे समय समय पर राय ले सके।
रोग पर असर करनेवाले आर्थिक एवं सामाजिक प्रभावों का भी रोगी के बोध करावे तथा एक चिकित्सक, उपचारिका, स्वास्थ्य चर तथा इस क्षेत्र में कार्य करनेवाले स्वयंसेवकों की कार्यसीमा कितनी है, इसका लोगों को बोध कराना अत्यंत आवश्यक है।

इस प्रकार से दी गई शिक्षा ही सही स्वास्थ्य शिक्षा कही जा सकती है और उसका जनता जनार्दन के लिए सही और प्रभावशाली असर हो सकता है।

 

Vote: 
1
Average: 1 (1 vote)

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 39,938 57
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 30,455 33
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 3,793 32
मिनटों में गायब हो जाएंगे 'लव बाइट' के निशान, करें ये आसान काम 27 22
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 2,908 20
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 3,908 17
वजन बढ़ाने वाले हर्ब्स 82 17
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 13,874 16
जानिए अनार का जूस पीने के और अनार को खाने के फायदे 1,038 14
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 15,368 13
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 4,696 13
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 3,416 11
हैल्दी बालों के लिए डाइट 31 10
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 3,703 10
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 1,817 9
हार्ट अटैक से बचना है तो रोज़ पीजिये 3 से 5 बार कॉफी: शोध 2,056 9
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 18,247 9
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 3,506 9
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,343 9
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 2,867 9
जानें बीयर के बारें में 138 9
झाइयां होने के कारण 2,861 9
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 1,769 8
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 1,489 8
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 2,983 7
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 5,193 7
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,073 7
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 5,676 7
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 947 7
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 5,234 7
पोषाहार क्या है जानिए 707 6
सुबह उठते ही चेहरे पर दिखती है सूजन तो जरूर जानिए इसकी वजह 28 6
किडनी को ख़राब करने वाली है ये आदतें……. 1,341 6
एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे 996 6
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 8,776 5
क्या होती है नेगेटिव कैलोरी? 38 5
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,449 5
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 290 5
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 1,662 5
कब्‍ज के उपचार के घरेलू उपाय 1,062 5
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 1,562 5
जामुन के गुण और फायदे 1,949 5
हाई बीपी और माइग्रेन में मेंहदी इस प्रकार फायदेमंद 626 5
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,508 5
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,326 5
अखरोट खाने के कौन - कौन से फायदे और नुकसान होते है 1,207 4
बॉलीवुड एक्ट्रेस में बढ़ रहा है कपिंग थैरेपी का क्रेज, जानिए इसके फायदे 36 4
सुपारी के सेवन से किया जा सकता है पागलपन को कम 562 4
क्या आपका बच्चा चाय पीता है, तो जरूर पढ़ें 59 4
मियादी बुखार का कारण क्या है 2,878 4