स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

लोगों को स्वास्थ्य के सभी पहलुओं के बारे में शिक्षित करना स्वास्थ्य शिक्षा (Health Education) कहलाती है। स्वास्थ्य शिक्षा ऐसा साधन है जिससे कुछ विशेष योग्य एवं शिक्षित व्यक्तियों की सहायता से जनता को स्वास्थ्यसंबंधी ज्ञान तथा औपसर्गिक एवं विशिष्ट व्याधियों से बचने के उपायों का प्रसार किया जा सकता है।

विस्तृत अर्थों में स्वास्थ्य शिक्षा के अन्तर्गत पर्यावरण का स्वास्थ्य, दैहिक स्वास्थ्य (physical health), सामाजिक स्वास्थ्य, भावात्मक स्वास्थ्य, बौद्धिक स्वास्थ्य, तथा आध्यात्मिक स्वास्थ्य सभी आ जाते हैं। स्वास्थ्य शिक्षा के द्वारा ही व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह ऐसा बर्ताव करता है जो स्वास्थ्य की उन्नति, रखरखाव और पुनर्प्राप्ति में सहायक हो।

स्वास्थ्य शिक्षा की विधियों के प्रकार 

स्वास्थ्य शिक्षा की तीन प्रमुख विधियाँ हैं जिनमें दो विधियों में तो चिकित्सक की आंशिक आवश्यकता पड़ती है परंतु तीसरी स्वास्थ्य शिक्षक के ही अधीन है। ये तीनों विधियाँ इस प्रकार हैं -

स्कूलों एवं कालेजों के पाठ्यक्रमों में स्वास्थ्य शिक्षा का समावेश। इसके अंतर्गत निम्नलिखित बातें आती हैं : -

 व्यक्तिगत स्वास्थ्य तथा व्यक्ति एवं पारिवारिक स्वास्थ्य की रक्षा तथा लोगों को स्वास्थ्य के नियमों की जानकारी करना।
संक्रामक रोगों की धातकता तथा रोगनिरोधन के मूल तत्वों का लोगों को बोध कराना।
स्वास्थ्य रक्षा के सामूहिक उत्तरदायित्व को वहन करने की शिक्षा देना।

इस प्रकार में स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा प्राप्त कर रहा छात्र आगे चलकर सामुदायिक स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुणता से कार्य कर सकता है तथा अपने एवं अपने परिवार के लोगों की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उचित उपायों का प्रयोग कर सकता है। अनुभव द्वारा यह देखा भी गया है कि इस प्रकार की स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा से संपूर्ण देश की स्वास्थ्य रक्षा में प्रगति हुई है।

सामान्य जनता को स्वास्थ्यसंबंधी सूचना देना - यह कार्य मुख्य रूप से स्वास्थ्य विभाग का है परंतु अनेक ऐच्छिक स्वास्थ्य संस्थाएँ एवं अन्य सस्थाएँ जो इस कार्य में रुचि रखती हैं, सहायक रूप से कार्य कर सकती हैं। इस प्रकार की स्वास्थ्य शिक्षा का कार्य आजकल, रेडियो, समाचारपत्रों, भाषणों, सिनेमा, प्रदर्शनी तथा पुस्तिकाओं की सहायता से यथाशीघ्र संपन्न हो रहा है। इसके अतिरिक्त अन्य सभी उपकरणों का भी प्रयोग करना चाहिए। जिससे अधिक से अधिक जनता का ध्यान स्वास्थ्य शिक्षा की ओर आकर्षित हो सके। इसके लिए विशेष प्रकार के व्यवहारकुशल और शिक्षित स्वास्थ्य शिक्षकों की नियुक्ति करना श्रेयस्कर है।
उन लोगों से स्वास्थ्य शिक्षा दिलाना जो रोगियों की सेवा सुश्रूषा तथा अन्य स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुण हों।

यह कार्य स्वास्थ्य चर बड़ी कुशलता से कर सकता है। प्रत्येक रोगी तथा प्रत्येक घर जहाँ चिकित्सक जाता है वहाँ किसी न किसी रूप में उसे स्वास्थ्य शिक्षा देने की सदा आवश्यकता पड़ा करती है अत: प्रत्येक चिकित्सक के स्वास्थ्य शिक्षा चिकित्सक के प्रमुख अंग के रूप में ग्रहण करना चाहिए। इस तरह से कोई भी स्वास्थ्य चर, स्वास्थ्य शिक्षक तथा चिकित्सक जनता की निम्नलिखित प्रकार से सेवा कर सकता है :

रोग के संबंध में रोगी के भ्रमात्मक विचार तथा अंधविश्वास को दूर करना।
 रोगी का रोगोपचार, स्वास्थ्य रक्षक तथा रोग के समस्त रोगनिरोधात्मक उपायों का ज्ञान करा सकता।
 अपने ज्ञान से रोगी को पूरा विश्वास दिलाना जिससे रोगी अपनी तथा अपने परिवार की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उनसे समय समय पर राय ले सके।
रोग पर असर करनेवाले आर्थिक एवं सामाजिक प्रभावों का भी रोगी के बोध करावे तथा एक चिकित्सक, उपचारिका, स्वास्थ्य चर तथा इस क्षेत्र में कार्य करनेवाले स्वयंसेवकों की कार्यसीमा कितनी है, इसका लोगों को बोध कराना अत्यंत आवश्यक है।

इस प्रकार से दी गई शिक्षा ही सही स्वास्थ्य शिक्षा कही जा सकती है और उसका जनता जनार्दन के लिए सही और प्रभावशाली असर हो सकता है।

 

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 25,605 71
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 34,962 64
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 4,217 30
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 1,115 26
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 12,390 24
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 2,567 21
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 8,288 20
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 16,895 20
झाइयां होने के कारण 1,331 17
थायराइड की समस्या और घरेलु उपचार 1,082 16
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 2,016 15
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 2,381 15
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 2,021 14
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 667 14
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 1,123 13
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 2,473 13
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 4,010 11
जामुन के गुण और फायदे 1,588 11
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 2,466 11
आखों के काले घेरे दूर करिये 538 11
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,100 10
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 978 10
मौसमी का जूस पीने के फायदे 2,305 10
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 2,891 9
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 1,428 9
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 1,832 9
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 1,963 9
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 2,205 8
दस सेकंड के एक चुंबन के दौरान क़रीब आठ करोड़ जीवाणु चुंबन करने वालों के मुंह में चले जाते हैं. 66 8
हल्दी का प्रयोग आप को करे निरोग 1,257 8
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 1,082 8
दूध को इस प्रकार पिये 415 8
दिमागी ताकत व तरावट लानेवाला प्रयोग 269 8
आटिज्म: समझें बच्चों को और उनकी भावनाओं को 395 7
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 2,411 7
सेहत के लिए कितनी खतरनाक है ब्रेड 3,433 6
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 1,587 6
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 1,042 6
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 575 6
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 435 6
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 4,218 6
खुलकर हंसने के होते हैं ये फायदे 88 6
सेब खाने के फायदे 173 6
बाजरा खाइए, हड्डियों के रोग नहीं होंगे 67 6
पियें मेथी का पानी और दूर करें बीमार जिंदगी 4,818 6
दिल के दौरे में है ब्लड ग्रुप का भी हाथ 34 5
दांतों को सफेद रखने के घरेलू उपाय 336 5
लिक्विड सोप से हाथ धोते हैं तो सतर्क हो जाएं! 52 5
पैरों में दर्द के लिए घरेलू उपचार 523 5
मखाना की खेती 220 5