स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

लोगों को स्वास्थ्य के सभी पहलुओं के बारे में शिक्षित करना स्वास्थ्य शिक्षा (Health Education) कहलाती है। स्वास्थ्य शिक्षा ऐसा साधन है जिससे कुछ विशेष योग्य एवं शिक्षित व्यक्तियों की सहायता से जनता को स्वास्थ्यसंबंधी ज्ञान तथा औपसर्गिक एवं विशिष्ट व्याधियों से बचने के उपायों का प्रसार किया जा सकता है।

विस्तृत अर्थों में स्वास्थ्य शिक्षा के अन्तर्गत पर्यावरण का स्वास्थ्य, दैहिक स्वास्थ्य (physical health), सामाजिक स्वास्थ्य, भावात्मक स्वास्थ्य, बौद्धिक स्वास्थ्य, तथा आध्यात्मिक स्वास्थ्य सभी आ जाते हैं। स्वास्थ्य शिक्षा के द्वारा ही व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह ऐसा बर्ताव करता है जो स्वास्थ्य की उन्नति, रखरखाव और पुनर्प्राप्ति में सहायक हो।

स्वास्थ्य शिक्षा की विधियों के प्रकार 

स्वास्थ्य शिक्षा की तीन प्रमुख विधियाँ हैं जिनमें दो विधियों में तो चिकित्सक की आंशिक आवश्यकता पड़ती है परंतु तीसरी स्वास्थ्य शिक्षक के ही अधीन है। ये तीनों विधियाँ इस प्रकार हैं -

स्कूलों एवं कालेजों के पाठ्यक्रमों में स्वास्थ्य शिक्षा का समावेश। इसके अंतर्गत निम्नलिखित बातें आती हैं : -

 व्यक्तिगत स्वास्थ्य तथा व्यक्ति एवं पारिवारिक स्वास्थ्य की रक्षा तथा लोगों को स्वास्थ्य के नियमों की जानकारी करना।
संक्रामक रोगों की धातकता तथा रोगनिरोधन के मूल तत्वों का लोगों को बोध कराना।
स्वास्थ्य रक्षा के सामूहिक उत्तरदायित्व को वहन करने की शिक्षा देना।

इस प्रकार में स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा प्राप्त कर रहा छात्र आगे चलकर सामुदायिक स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुणता से कार्य कर सकता है तथा अपने एवं अपने परिवार के लोगों की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उचित उपायों का प्रयोग कर सकता है। अनुभव द्वारा यह देखा भी गया है कि इस प्रकार की स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा से संपूर्ण देश की स्वास्थ्य रक्षा में प्रगति हुई है।

सामान्य जनता को स्वास्थ्यसंबंधी सूचना देना - यह कार्य मुख्य रूप से स्वास्थ्य विभाग का है परंतु अनेक ऐच्छिक स्वास्थ्य संस्थाएँ एवं अन्य सस्थाएँ जो इस कार्य में रुचि रखती हैं, सहायक रूप से कार्य कर सकती हैं। इस प्रकार की स्वास्थ्य शिक्षा का कार्य आजकल, रेडियो, समाचारपत्रों, भाषणों, सिनेमा, प्रदर्शनी तथा पुस्तिकाओं की सहायता से यथाशीघ्र संपन्न हो रहा है। इसके अतिरिक्त अन्य सभी उपकरणों का भी प्रयोग करना चाहिए। जिससे अधिक से अधिक जनता का ध्यान स्वास्थ्य शिक्षा की ओर आकर्षित हो सके। इसके लिए विशेष प्रकार के व्यवहारकुशल और शिक्षित स्वास्थ्य शिक्षकों की नियुक्ति करना श्रेयस्कर है।
उन लोगों से स्वास्थ्य शिक्षा दिलाना जो रोगियों की सेवा सुश्रूषा तथा अन्य स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुण हों।

यह कार्य स्वास्थ्य चर बड़ी कुशलता से कर सकता है। प्रत्येक रोगी तथा प्रत्येक घर जहाँ चिकित्सक जाता है वहाँ किसी न किसी रूप में उसे स्वास्थ्य शिक्षा देने की सदा आवश्यकता पड़ा करती है अत: प्रत्येक चिकित्सक के स्वास्थ्य शिक्षा चिकित्सक के प्रमुख अंग के रूप में ग्रहण करना चाहिए। इस तरह से कोई भी स्वास्थ्य चर, स्वास्थ्य शिक्षक तथा चिकित्सक जनता की निम्नलिखित प्रकार से सेवा कर सकता है :

रोग के संबंध में रोगी के भ्रमात्मक विचार तथा अंधविश्वास को दूर करना।
 रोगी का रोगोपचार, स्वास्थ्य रक्षक तथा रोग के समस्त रोगनिरोधात्मक उपायों का ज्ञान करा सकता।
 अपने ज्ञान से रोगी को पूरा विश्वास दिलाना जिससे रोगी अपनी तथा अपने परिवार की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उनसे समय समय पर राय ले सके।
रोग पर असर करनेवाले आर्थिक एवं सामाजिक प्रभावों का भी रोगी के बोध करावे तथा एक चिकित्सक, उपचारिका, स्वास्थ्य चर तथा इस क्षेत्र में कार्य करनेवाले स्वयंसेवकों की कार्यसीमा कितनी है, इसका लोगों को बोध कराना अत्यंत आवश्यक है।

इस प्रकार से दी गई शिक्षा ही सही स्वास्थ्य शिक्षा कही जा सकती है और उसका जनता जनार्दन के लिए सही और प्रभावशाली असर हो सकता है।

 

Vote: 
1
Average: 1 (1 vote)

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 48,845 83
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 51,646 67
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 12,589 52
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 12,713 40
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 22,417 39
लिवर सिरोसिस, फेटी लिवर 39 34
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 22,559 27
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 2,892 21
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,976 20
लड़कियों को 'इन दिनों' यौन संबंध बनाने में आता है सबसे अधिक आनंद 4,892 17
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,145 12
माइग्रेन के दर्द से राहत देता है ये आहार 1,572 11
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,356 10
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 7,734 10
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,864 10
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,976 9
झाइयां होने के कारण 5,495 9
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 5,731 9
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,783 9
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,544 8
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,156 8
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,811 8
कम उम्र में सफेद हुए बालों को काला करे 1,074 8
लकवा (पैरालिसिस): लक्षण और कारण 979 7
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,388 7
शरीर के अंदर देखने वाला कैमरा तैयार 38 7
कमर में दर्द ह तो करें ये कारगार उपाय 489 7
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,985 6
अखरोट खाने के कौन - कौन से फायदे और नुकसान होते है 1,786 6
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 10,149 6
जामुन के गुण और फायदे 2,659 6
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,620 6
स्नान संबंधी आचार 208 6
कई रोगों में चमत्कार का काम करती है दूब घास, जानें इसके फायदे 832 6
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 4,038 6
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 1,036 5
गुप्तांगो या बगलों के बालों की सफाई का महत्व 9,806 5
पोषाहार क्या है जानिए 1,286 5
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 1,944 5
बेल खाने के फायदे जानकर रहें जायगे हैरान 1,277 5
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 7,167 5
फल और सब्जियों के 'रंगों' में छिपा है हमारे स्‍वास्‍थ्‍य का राज 1,797 5
क्या आप पार्टनर से लिपट कर सोते हैं 49 5
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 3,021 5
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,588 5
अपनी आँखों की देखभाल कैसे करें 506 5
गले में मछली का कांटा फंस जाए तो करें ये काम 973 5
जोड़ो में दर्द है तो करें ये उपाय 904 4
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,557 4
पालक की खेती 309 4