स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

लोगों को स्वास्थ्य के सभी पहलुओं के बारे में शिक्षित करना स्वास्थ्य शिक्षा (Health Education) कहलाती है। स्वास्थ्य शिक्षा ऐसा साधन है जिससे कुछ विशेष योग्य एवं शिक्षित व्यक्तियों की सहायता से जनता को स्वास्थ्यसंबंधी ज्ञान तथा औपसर्गिक एवं विशिष्ट व्याधियों से बचने के उपायों का प्रसार किया जा सकता है।

विस्तृत अर्थों में स्वास्थ्य शिक्षा के अन्तर्गत पर्यावरण का स्वास्थ्य, दैहिक स्वास्थ्य (physical health), सामाजिक स्वास्थ्य, भावात्मक स्वास्थ्य, बौद्धिक स्वास्थ्य, तथा आध्यात्मिक स्वास्थ्य सभी आ जाते हैं। स्वास्थ्य शिक्षा के द्वारा ही व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह ऐसा बर्ताव करता है जो स्वास्थ्य की उन्नति, रखरखाव और पुनर्प्राप्ति में सहायक हो।

स्वास्थ्य शिक्षा की विधियों के प्रकार 

स्वास्थ्य शिक्षा की तीन प्रमुख विधियाँ हैं जिनमें दो विधियों में तो चिकित्सक की आंशिक आवश्यकता पड़ती है परंतु तीसरी स्वास्थ्य शिक्षक के ही अधीन है। ये तीनों विधियाँ इस प्रकार हैं -

स्कूलों एवं कालेजों के पाठ्यक्रमों में स्वास्थ्य शिक्षा का समावेश। इसके अंतर्गत निम्नलिखित बातें आती हैं : -

 व्यक्तिगत स्वास्थ्य तथा व्यक्ति एवं पारिवारिक स्वास्थ्य की रक्षा तथा लोगों को स्वास्थ्य के नियमों की जानकारी करना।
संक्रामक रोगों की धातकता तथा रोगनिरोधन के मूल तत्वों का लोगों को बोध कराना।
स्वास्थ्य रक्षा के सामूहिक उत्तरदायित्व को वहन करने की शिक्षा देना।

इस प्रकार में स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा प्राप्त कर रहा छात्र आगे चलकर सामुदायिक स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुणता से कार्य कर सकता है तथा अपने एवं अपने परिवार के लोगों की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उचित उपायों का प्रयोग कर सकता है। अनुभव द्वारा यह देखा भी गया है कि इस प्रकार की स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा से संपूर्ण देश की स्वास्थ्य रक्षा में प्रगति हुई है।

सामान्य जनता को स्वास्थ्यसंबंधी सूचना देना - यह कार्य मुख्य रूप से स्वास्थ्य विभाग का है परंतु अनेक ऐच्छिक स्वास्थ्य संस्थाएँ एवं अन्य सस्थाएँ जो इस कार्य में रुचि रखती हैं, सहायक रूप से कार्य कर सकती हैं। इस प्रकार की स्वास्थ्य शिक्षा का कार्य आजकल, रेडियो, समाचारपत्रों, भाषणों, सिनेमा, प्रदर्शनी तथा पुस्तिकाओं की सहायता से यथाशीघ्र संपन्न हो रहा है। इसके अतिरिक्त अन्य सभी उपकरणों का भी प्रयोग करना चाहिए। जिससे अधिक से अधिक जनता का ध्यान स्वास्थ्य शिक्षा की ओर आकर्षित हो सके। इसके लिए विशेष प्रकार के व्यवहारकुशल और शिक्षित स्वास्थ्य शिक्षकों की नियुक्ति करना श्रेयस्कर है।
उन लोगों से स्वास्थ्य शिक्षा दिलाना जो रोगियों की सेवा सुश्रूषा तथा अन्य स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुण हों।

यह कार्य स्वास्थ्य चर बड़ी कुशलता से कर सकता है। प्रत्येक रोगी तथा प्रत्येक घर जहाँ चिकित्सक जाता है वहाँ किसी न किसी रूप में उसे स्वास्थ्य शिक्षा देने की सदा आवश्यकता पड़ा करती है अत: प्रत्येक चिकित्सक के स्वास्थ्य शिक्षा चिकित्सक के प्रमुख अंग के रूप में ग्रहण करना चाहिए। इस तरह से कोई भी स्वास्थ्य चर, स्वास्थ्य शिक्षक तथा चिकित्सक जनता की निम्नलिखित प्रकार से सेवा कर सकता है :

रोग के संबंध में रोगी के भ्रमात्मक विचार तथा अंधविश्वास को दूर करना।
 रोगी का रोगोपचार, स्वास्थ्य रक्षक तथा रोग के समस्त रोगनिरोधात्मक उपायों का ज्ञान करा सकता।
 अपने ज्ञान से रोगी को पूरा विश्वास दिलाना जिससे रोगी अपनी तथा अपने परिवार की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उनसे समय समय पर राय ले सके।
रोग पर असर करनेवाले आर्थिक एवं सामाजिक प्रभावों का भी रोगी के बोध करावे तथा एक चिकित्सक, उपचारिका, स्वास्थ्य चर तथा इस क्षेत्र में कार्य करनेवाले स्वयंसेवकों की कार्यसीमा कितनी है, इसका लोगों को बोध कराना अत्यंत आवश्यक है।

इस प्रकार से दी गई शिक्षा ही सही स्वास्थ्य शिक्षा कही जा सकती है और उसका जनता जनार्दन के लिए सही और प्रभावशाली असर हो सकता है।

 

Vote: 
1
Average: 1 (1 vote)

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 59,637 6
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 17,873 4
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 5,418 4
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 59,756 3
बच्चे के कान के पीछे शंकु का समाधान 2,458 3
लड़कियों की शर्ट में पॉकेट क्यों नहीं होती ! आखिर क्या हैं राज 2,772 3
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 1,305 2
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 26,817 2
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 2,805 2
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 4,673 2
कच्ची् लहसुन और शुद्ध शहद खाने के लाभ 291 2
उच्च रक्तचाप की बीमारी ठीक करने के लिए 799 1
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 6,276 1
शारीरिक संबंध के तुरंत बाद ये बातें कर देंगी आपकी गर्लफ्रेंड का मूड खराब 314 1
पैर के दर्द का घरेलू उपचार 1,034 1
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 5,609 1
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 2,472 1
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 5,528 1
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 9,954 1
गुड़ और मूंगफली खाना सेहत और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद 2,158 1
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 10,974 1
ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स 2,631 1
सर्दियों में कम पानी पीने से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है 830 1
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 8,112 1
डिफ्थीरिया के कारण, लक्षण और उपचार 712 1
सूजी हुई नसों में आराम देगी हरे टमाटर से बनी यह प्राकृतिक दवा 250 1
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 7,757 1
नीम और उसके फायदे 1,623 1
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 18,802 1
शादी में जाइए, थोड़ा खाइए और थो़ड़ा फेंकिए... 179 1
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 5,739 1
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 4,545 1
सर्दी वाली खाँसी का अचूक उपचार 32 1
सेहतमंद बालों के लिए रोज करें योग 466 1
अब नारियल बतायेगा ब्लड ग्रुप 2,915 1
बच्चों में टाइफाइड बुखार होने के कारण 1,447 1
कान में दर्द है तो करें ये कारगार उपाय 596 0
दिमागी ताकत व तरावट लानेवाला प्रयोग 915 0
एक डॉक्टर द्वारा अपनी ओ पी डी के बाहर लगाई गई ये pic.. Zoom करके देखिये 289 0
छाती को कम करने के उपाय एरोबिक्स से 1,110 0
पेट से जुड़ी प्रॉब्लम 269 0
आयुर्वेद में गाय के घी को अमृत समान बताया गया है 3,377 0
ब्रेन ट्यूमर के उपाय 935 0
मूंग की खेती इस प्रकार करें 1,412 0
पीलिया कैसा भी हो जड़ से खत्म करेंगे 4,554 0
दालचीनी वाले दूध में छिपा है सेहत और खूबसूरत त्वचा का राज़ 194 0
सुबह उठ कर खाली पेट कैसे पानी पीना चाहिए 1,753 0
पपीता के बीज के गुण 222 0
बड़ी उम्र की महिला से डेटिंग के टिप्‍स 1,394 0
प्याज का सेवन करे दूर बिमारी 427 0