स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

स्वास्थ्य शिक्षा कैसे

लोगों को स्वास्थ्य के सभी पहलुओं के बारे में शिक्षित करना स्वास्थ्य शिक्षा (Health Education) कहलाती है। स्वास्थ्य शिक्षा ऐसा साधन है जिससे कुछ विशेष योग्य एवं शिक्षित व्यक्तियों की सहायता से जनता को स्वास्थ्यसंबंधी ज्ञान तथा औपसर्गिक एवं विशिष्ट व्याधियों से बचने के उपायों का प्रसार किया जा सकता है।

विस्तृत अर्थों में स्वास्थ्य शिक्षा के अन्तर्गत पर्यावरण का स्वास्थ्य, दैहिक स्वास्थ्य (physical health), सामाजिक स्वास्थ्य, भावात्मक स्वास्थ्य, बौद्धिक स्वास्थ्य, तथा आध्यात्मिक स्वास्थ्य सभी आ जाते हैं। स्वास्थ्य शिक्षा के द्वारा ही व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह ऐसा बर्ताव करता है जो स्वास्थ्य की उन्नति, रखरखाव और पुनर्प्राप्ति में सहायक हो।

स्वास्थ्य शिक्षा की विधियों के प्रकार 

स्वास्थ्य शिक्षा की तीन प्रमुख विधियाँ हैं जिनमें दो विधियों में तो चिकित्सक की आंशिक आवश्यकता पड़ती है परंतु तीसरी स्वास्थ्य शिक्षक के ही अधीन है। ये तीनों विधियाँ इस प्रकार हैं -

स्कूलों एवं कालेजों के पाठ्यक्रमों में स्वास्थ्य शिक्षा का समावेश। इसके अंतर्गत निम्नलिखित बातें आती हैं : -

 व्यक्तिगत स्वास्थ्य तथा व्यक्ति एवं पारिवारिक स्वास्थ्य की रक्षा तथा लोगों को स्वास्थ्य के नियमों की जानकारी करना।
संक्रामक रोगों की धातकता तथा रोगनिरोधन के मूल तत्वों का लोगों को बोध कराना।
स्वास्थ्य रक्षा के सामूहिक उत्तरदायित्व को वहन करने की शिक्षा देना।

इस प्रकार में स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा प्राप्त कर रहा छात्र आगे चलकर सामुदायिक स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुणता से कार्य कर सकता है तथा अपने एवं अपने परिवार के लोगों की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उचित उपायों का प्रयोग कर सकता है। अनुभव द्वारा यह देखा भी गया है कि इस प्रकार की स्कूलों में स्वास्थ्य शिक्षा से संपूर्ण देश की स्वास्थ्य रक्षा में प्रगति हुई है।

सामान्य जनता को स्वास्थ्यसंबंधी सूचना देना - यह कार्य मुख्य रूप से स्वास्थ्य विभाग का है परंतु अनेक ऐच्छिक स्वास्थ्य संस्थाएँ एवं अन्य सस्थाएँ जो इस कार्य में रुचि रखती हैं, सहायक रूप से कार्य कर सकती हैं। इस प्रकार की स्वास्थ्य शिक्षा का कार्य आजकल, रेडियो, समाचारपत्रों, भाषणों, सिनेमा, प्रदर्शनी तथा पुस्तिकाओं की सहायता से यथाशीघ्र संपन्न हो रहा है। इसके अतिरिक्त अन्य सभी उपकरणों का भी प्रयोग करना चाहिए। जिससे अधिक से अधिक जनता का ध्यान स्वास्थ्य शिक्षा की ओर आकर्षित हो सके। इसके लिए विशेष प्रकार के व्यवहारकुशल और शिक्षित स्वास्थ्य शिक्षकों की नियुक्ति करना श्रेयस्कर है।
उन लोगों से स्वास्थ्य शिक्षा दिलाना जो रोगियों की सेवा सुश्रूषा तथा अन्य स्वास्थ्यसंबंधी कार्यों में निपुण हों।

यह कार्य स्वास्थ्य चर बड़ी कुशलता से कर सकता है। प्रत्येक रोगी तथा प्रत्येक घर जहाँ चिकित्सक जाता है वहाँ किसी न किसी रूप में उसे स्वास्थ्य शिक्षा देने की सदा आवश्यकता पड़ा करती है अत: प्रत्येक चिकित्सक के स्वास्थ्य शिक्षा चिकित्सक के प्रमुख अंग के रूप में ग्रहण करना चाहिए। इस तरह से कोई भी स्वास्थ्य चर, स्वास्थ्य शिक्षक तथा चिकित्सक जनता की निम्नलिखित प्रकार से सेवा कर सकता है :

रोग के संबंध में रोगी के भ्रमात्मक विचार तथा अंधविश्वास को दूर करना।
 रोगी का रोगोपचार, स्वास्थ्य रक्षक तथा रोग के समस्त रोगनिरोधात्मक उपायों का ज्ञान करा सकता।
 अपने ज्ञान से रोगी को पूरा विश्वास दिलाना जिससे रोगी अपनी तथा अपने परिवार की स्वास्थ्य रक्षा के हेतु उनसे समय समय पर राय ले सके।
रोग पर असर करनेवाले आर्थिक एवं सामाजिक प्रभावों का भी रोगी के बोध करावे तथा एक चिकित्सक, उपचारिका, स्वास्थ्य चर तथा इस क्षेत्र में कार्य करनेवाले स्वयंसेवकों की कार्यसीमा कितनी है, इसका लोगों को बोध कराना अत्यंत आवश्यक है।

इस प्रकार से दी गई शिक्षा ही सही स्वास्थ्य शिक्षा कही जा सकती है और उसका जनता जनार्दन के लिए सही और प्रभावशाली असर हो सकता है।

 

Vote: 
1
Average: 1 (1 vote)

New Health Updates

Total views Views today
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 45,654 4
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 7,758 2
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 4,628 2
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 39,217 2
शल्य क्रिया से स्तनों का आकार घटाने का तरीका 1,974 1
पेट कम करना सबसे चुनौतीपूर्ण है इसलिए 309 1
मुह में छाले हैं तो करें ये घरेलू उपाय 490 1
पियें मेथी का पानी और दूर करें बीमार जिंदगी 5,285 1
दिल के दौरे में है ब्लड ग्रुप का भी हाथ 155 1
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 2,252 1
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 2,826 1
स्प्राउट्स- सेहत को रखे आहार भरपूर 1,640 1
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 18,653 1
नवमी पूजा कब और शुभ मुहूर्त 709 1
दाँतों में दर्द व कीड़ा लगा हो तो 98 1
BP High रक्तचाप अधिक होने पर उपाय 82 1
बेटी की बिदाई- मां के लिए बड़ी चुनौती है इस प्रकार 967 1
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 6,271 1
ख़ूबसूरती के फायदे ही नहीं नुकसान भी होते है! 1,406 0
दिमागी दौरा या ब्रेन स्ट्रोक से पाएं छुटकारा 1,413 0
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 4,338 0
दिमाग को तेज कैसे बनाये 703 0
पार्टनर के साथ इंटिमेट होने से पहले ये चीजें चैक लें कहीं.... 151 0
कैविटी का है कारगर इलाज 882 0
गेमिंग एडिक्शन एक 'बीमारी' 139 0
हार्टफेल से बचाएगा एरोबिक एक्‍सरसाइज 1,587 0
व्रत से हो सकते हैं नुकसान भी 739 0
काली मिर्च खाकर करें मोटापा दूर 456 0
क्यों होता है अल्जाइमर 379 0
प्रकति स्वयं चिकित्सक है 91 0
बिना सर्जरी स्तन छोटे करने के उपाय 2,209 0
कब और कितनी मात्रा में खाएं मलाई? 150 0
चमकती हुई त्वचा के लिए हर्बल ब्यूटी टिप्स 2,951 0
ज़मीन पर बैठकर खाना खाने के लाभ 311 0
पीलिया होने पर घरेलु इलाज 821 0
शहद में छिपा है सेहत का राज़ 415 0
कब्ज और पेट साफ रखने के आसान घरेलू उपाय 191 0
नीम और उसके फायदे 1,138 0
झुर्रिया हो या पिंपल्स, आपके चेहरे को बेदाग बनाएगी 125 0
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 2,660 0
मधूमेह रोग कब और कैसे 395 0
डिब्बाबंद खाना होता है नुकसानदेह 497 0
गिलोय के फायदे और अनेक प्रकार से रोगों से छुटकारा 1,178 0
ठण्डा मतलब टॉयलेट क्लीनर, नारियल मतलब रोग क्लीनर 101 0
आपका रसोई घर बनाम दवाखाना 936 0
खीरा सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है 404 0
कब्‍ज, मोटापा और मधुमेह का खात्‍मा करता है कच्‍चा केला खाने का ये तरीका 298 0
खासी का काढ़ा 628 0
पानी पीने का मन नहीं होता तो इन भोजन को करें डायट में शामिल 323 0
नींद ना आने की कई वजहें हैं 97 0