हर्निया परिचय कारण लक्षण भोजन पथ्य अपथ्य उपचार

हर्निया परिचय कारण लक्षण भोजन पथ्य अपथ्य उपचार

आंत का अपने स्थान से हट जाना ही आंत का उतरना कहलाता है। यह कभी अंडकोष में उतर जाती है तो कभी पेडु या नाभि के नीचे खिसक जाती है। यह स्थान के हिसाब से कई तरह की होती है जैसे स्ट्रैगुलेटेड, अम्बेलिकन आदि। जब आंत अपने स्थान से अलग होती है तो रोगी को काफी दर्द व कष्ट का अनुभव होता है।

इसे छोटी आंत का बाहर निकलना भी कहा जाता है। खासतौर पर यह पुरुषों में वक्षण नलिका से बाहर निकलकर अंडकोष में आ जाती है। स्त्रियों में यह वंक्षण तन्तु लिंगामेन्ट के नीचे एक सूजन के रूप में रहती है। इस सूजन की एक खास विशेषता है कि नीचे से दबाने से यह गायब हो जाती है और छोड़ने पर वापस आ जाती है। इस बीमारी में कम से कम खाना चाहिए। इससे कब्ज नहीं बनता। इस बात का खास ध्यान रखें कि मल त्याग करते समय जोर न लगें क्योंकि इससे आंत और ज्यादा खिसक जाती है।

कारण
कब्ज, झटका, तेज खांसी, गिरना, चोट लगना, दबाव पड़ना, मल त्यागते समय जोर लगाने से या पेट की दीवार कमजोर हो जाने से आंत कहीं न कहीं से बाहर आ जाती है और इन्ही कारणों से वायु जब अंडकोषों में जाकर उसकी शिराओं नसों को रोककर अण्डों और चमड़े को बढ़ा देती है जिसके कारण अंडकोषों का आकार बढ़ जाता है। वात, पित्त, कफ, रक्त, मेद और आंत इनके भेद से यह सात तरह का होता है।

लक्षण
वातज रोग में अंडकोष मशक की तरह रूखे और सामान्य कारण से ही दुखने वाले होते हैं।पित्तज में अंडकोष पके हुए गूलर के फल की तरह लाल, जलन और गरमी से भरे होते हैं।कफज में अंडकोष ठंडे, भारी, चिकने, कठोर, थोड़े दर्द वाले और खुजली से भरे होते हैं।रक्तज में अंडकोष काले फोड़ों से भरे और पित्त वृद्धि के लक्षणों वाले होते हैं।मेदज के अंडकोष नीले, गोल, पके ताड़फल जैसे सिर्फ छूने में नरम और कफ-वृद्धि के लक्षणों से भरे होते हैं।मूत्रज के अंडकोष बड़े होने पर पानी भरे मशक की तरह शब्द करने वाले, छूने में नरम, इधर-उधर हिलते रहने वाले और दर्द से भरे होते है। अंत्रवृद्धि में अंडकोष अपने स्थान से नीचे की ओर जा पहुंचती हैं। फिर संकुचित होकर वहां पर गांठ जैसी सूजन पैदा होती है।

भोजन तथा परहेज

भोजन
दिन के समय पुराने बढ़िया चावल, चना,मसूर,
 मूंगऔर अरहर की दाल,परवल, बैगन, गाजर, सहजन, अदरक, छोटी मछली और थोड़ा बकरे का मांस और रात के समय रोटी या पूड़ी, तरकारियां तथा गर्म करके ठंडा किया हुआ थोड़ा दूध पीना फायदेमंद है। 

लहसुन, शहद, लाल चावल, गाय का मूत्र, गाजर, जमीकंद, मट्ठा, पुरानी शराब, गर्म पानी से नहाना और हमेशा लंगोट बांधे रहने से लाभ मिलता है।

परहेज
उड़द, दही, पिट्ठी के पदार्थ, साग, नये चावल, पका केला, ज्यादा मीठा भोजन, समुद्र देश के पशु-पक्षियों का मांस, स्वभाव विरुद्ध अन्नादि, हाथी घोड़े की सवारी, ठंडे पानी से नहाना, धूप में घूमना, मल और पेशाब को रोकना, पेट दर्द में खाना और दिन में सोना नहीं चाहिए।

रोहिनी
रोहिनी की छाल का काढ़ा 28 मिलीलीटर रोज 3 बार खाने से आंतों की शिथिलता धीरे-धीरे दूर हो जाती है।

इन्द्रायण
इन्द्रायण के फलों का चूर्ण लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग या जड़ का पाउडर 1 से 3 ग्राम सुबह शाम खाने से फायदा होता है। अनुपात में सोंठ का चूर्ण और गुड़ का प्रयोग करते है।इन्द्रायण की जड़ का चूर्ण 4 ग्राम की मात्रा में 125 ग्राम दूध में पीसकर छान लें तथा 10 ग्राम अरण्डी का तेल मिलाकर रोज़ पीयें इससे अंडवृद्धि रोग कुछ ही दिनों में दूर हो जाता है।इन्द्रायण की जड़ और उसके फूल के नीचे की कली को तेल में पीसकर गाय के दूध के साथ खाने से आंत्रवृद्धि में लाभ होता है।शर्तिया है ।

भिंडी
बुधवार को भिंडी की जड़ कमर में बांधे। हार्निया रोग ठीक हो जायेगा।

लाल चंदन
लाल चंदन, मुलहठी, खस, कमल और नीलकमल इन्हें दूध में पीसकर लेप करने से पित्तज आंत्रवृद्धि की सूजन, जलन और दर्द दूर हो जाता है।

देवदारू
देवदारू के काढ़े को गाय के मूत्र में मिलाकर पीने से कफज का अंडवृद्धि रोग दूर होता है।

सफेद खांड
सफेद खांड और शहद मिलाकर दस्तावर औषधि लेने से रक्तज अंडवृद्धि दूर होती है।

वच
वच और सरसों को पानी में पीसकर लेप करने से सभी प्रकार के अंडवृद्धि रोग कुछ ही दिनों में दूर हो जाते हैं।

पारा
पारे की भस्म को तेल और सेंधानमक में मिलाकर अंडकोषों पर लेप करने से ताड़फल जैसी अंडवृद्धि भी ठीक हो जाती है। चिकित्सक की देख- रेख में ही करें ।

एरंड
एक कप दूध में दो चम्मच एरंड का तेल डालकर एक महीने तक पीने से अंत्रवृद्धि ठीक हो जाती है।

खरैटी के मिश्रण के साथ अरण्डी का तेल गर्मकर पीने से आध्यमान, दर्द, आंत्रवृद्धि व गुल्म खत्म होती है।
रास्ना, मुलहठी, गडूची , एरंड के पेड की जड़, खरैटी, अमलतास का गूदा, गोखरू, और अडूसे के काढ़े में एरंडी का तेल डालकर पीने से अंत्रवृद्धि खत्म होती है।
इन्द्रायण की जड़ का पाउडर, एरंडी के तेल या दूध में मिलाकर पीने से अंत्रवृद्धि खत्म हो जाएगी।
लगभग 250 ग्राम गरम दूध में 20 ग्राम एरंड का तेल मिलाकर एक महीने तक पीयें इससे वातज अंत्रवृद्धि ठीक हो जाती है।
एरंडी के तेल को दूध में मिलाकर पीने से मलावरोध खत्म होता है।
दो चम्मच एरंड का तेल और बच का काढ़ा बनाकर उसमें दो चम्मच एरंड का तेल मिलाकर खाने से लाभ होता है।

गुग्गुल
गुग्गुल, एलुआ, कुन्दुरू गोंद, लोध, फिटकरी और बैरोजा को पानी में पीसकर लेप करने से अंत्रवृद्धि खत्म होती है।

कॉफी
बार-बार काफी पीने से और हार्निया वाले स्थान को काफी से धोने से हार्निया के गुब्बारे की वायु निकलकर फुलाव ठीक हो जाता है।बार-बार काफी पीने और हार्निया वाले स्थान को काफी से धोने से हार्नियां के गुब्बारे की वायु निकलकर फुलाव ठीक हो जाता है। मृत्यु के मुंह के पास पहुंची हुई हार्नियां की अवस्था में भी लाभ होता है।

तम्बाकू
तम्बाकू के पत्ते पर एरंडी का तेल चुपड़कर आग पर गरम कर सेंक करने और गरम-गरम पत्ते को अंडकोषों पर बांधने से अंत्रवृद्धि और दर्द में आराम होता है। बहुत गुणकारी है । 

बैंगन
बैगन को भूभल में भूनकर बीच से चीरकर फोतों यानी अंडकोषों पर बांधने से अंत्रवृद्धि व दर्द दोनों बंद होते हैं। बच्चों की अंडवृद्धि के लिए यह उत्तम है। इसका जरूर प्रयोग करें ।

छोटी हरड़
छोटी हरड़ को गाय के मूत्र में उबालकर फिर एरंडी का तेल लें। इन हरड़ों का पाउडर बनाकर कालानमक, अजवायन और हींग मिलाकर 5 ग्राम मात्रा मे सुबह-शाम हल्के गर्म पानी के साथ खाने से या 10 ग्राम पाउडर का काढ़ा बनाकर खाने से आंत्रवृद्धि की विकृति खत्म होती है।

समुद्रशोष
समुद्र शोष और  विधारा की जड़ को गाय के मूत्र मे पीसकर लेप करने करने से आंत्रवृद्धि में लाभ होता है।

त्रिफला
इस रोग में मल के रुकने की विकृति ज्यादा होती है। इसलिए कब्ज को खत्म करने के लिए त्रिफला का पाउडर 5 ग्राम रात में हल्के गर्म दूध के साथ लेना चाहिए। पंचसकार चूर्ण भी ले सकते है । 

मुलहठी
मुलहठी, रास्ना, वरना, एरंड की जड़ और गोक्षुर को बराबर मात्रा में लेकर, थोड़ा सा कूटकर काढ़ा बनायें। इस काढ़े में एरंड का तेल डालकर पीने से आंत्रवृद्धि में लाभ होता है।

अजवायन
अजवायन का अर्क  4 चम्मच और पोदीने का अर्क 4चम्मच  पानी में मिलाकर पीने से आंत्रवृद्धि में लाभ होता है।

सम्भालू
सम्भालू की पत्तियों को पानी में खूब उबालकर उसमें थोड़ा-सा सेंधानमक मिलाकर सेंकने से आंत्रवृद्धि शांत होती है।बहुत ही अच्छा काम करता है ।

दूध
उबाले हुए हल्के गर्म दूध में गाय का मूत्र और शक्कर 25-25 ग्राम मिलाकर खाने से अंडकोष में उतरी आंत्र अपने आप ऊपर चली जाती है।

गोरखमुंडी
गोरखमुंडी के फलों की मात्रा के बराबर मूसली, शतावरी और भांगरा लेकर कूट-पीसकर पाउडर बनायें। यह पाउडर 3 ग्राम पानी के साथ खाने से आंत्रवृद्धि में फायदा होता है।

हरड़
हरड़, मुलहठी, सोंठ 1-1 ग्राम पाउडर रात को पानी के साथ खाने से लाभ होता है।

* बरियारी *
लगभग 15 से 30 मिलीलीटर जड़ का काढ़ा 5 मिलीलीटर रेड़ी के तेल के साथ दिन में दो बार सेवन करने से लाभ होता है।

इसके इलावा आप :-
अरोग्यावर्धनी वटी , अग्नितुन्डी वटी ,महाशंख वटी ,लवणभास्कर चूर्ण ,हिंग्वादि चूर्ण , हिंग्वाष्टिक चूर्ण आदि शास्त्रोक्त औष्धियों का सेवन चिकित्सक के निर्देशानुसार ले सकते है ।

Vote: 
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 52,740 150
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 54,334 76
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 14,853 69
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 14,406 52
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 23,932 45
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 24,125 39
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 8,487 27
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 4,495 26
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,671 22
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 8,565 21
स्मार्टफोन का बुरा असर 408 17
झाइयां होने के कारण 5,992 16
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 21,282 16
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,747 14
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 3,295 14
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 4,815 13
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 5,130 13
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 2,209 12
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,497 11
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,022 10
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 5,448 10
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,516 10
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 3,442 9
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 7,423 9
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 7,406 9
हाइड्रोसील के कारण लक्षण और इलाज इस प्रकार है जानिए 2,112 9
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 3,163 9
श्वेत प्रदर के रोग को जड़ से मिटा देंगे यह घरेलू उपाय 785 8
क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें 1,211 8
स्त्री यौन रोग (श्वेत प्रदर) के लिए औषधि ॥ 939 8
क्या है स्लीप डिस्ऑर्डर 455 8
जामुन के गुण और फायदे 2,834 8
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,845 7
आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं 203 7
दालचीनी वाले दूध में छिपा है सेहत और खूबसूरत त्वचा का राज़ 119 7
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,716 7
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 3,238 7
ब्रेस्ट कम करने के उपाय 1,977 6
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 4,084 6
गर्भावस्था के बाद महिलाएं अपनाएं ऐसी डाइट, नहीं होगी कमजोरी 468 6
किडनी को ख़राब करने वाली है ये आदतें……. 1,942 6
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,615 6
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 5,262 6
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान 1,616 6
ब्रेस्ट कैंसर के लिए कीमोथेरेपी क्यों ज़रूरी है? 512 5
धनिया के औषधीय गुण 413 5
एनीमिया की शिकार महिलाओं के लिए चुकंदर आत्याधिक लाभदायक 798 5
मियादी बुखार का कारण क्या है 3,889 5
हर तरह की खुजली से राहत दिलाते हैं ये घरेलू उपचार इस प्रकार करे पयोग 1,773 5
रात में दूध पीने के फायदे 1,141 5