हाइड्रोसील के कारण लक्षण और इलाज इस प्रकार है जानिए

हाइड्रोसील एक  रोग है यह रोग पुरुषो में होता है  जिसमे इनके एक या दोनों  अंडकोषों में पानी भर जाता है. इस रोग में अंडकोष एक थैली की भांति फुल जाते हैं और गुब्बारें की तरह प्रतीत होते है. इस अवस्था को प्रोसेसस वजायनेलिस या पेटेंट प्रोसेसस वजायनेलिस भी कहा जाता है. ये स्थिति पुरुषों के लिए बहुत पीडादायी होती है. अंडकोष में अधिक पानी भर जाने के कारण इन्हें वहाँ सुजन भी हो जाती है. वैसे तो ये किसी को भी हो सकती है किन्तु अकसर ये रोग 40 से अधिक उम्र के पुरुषों में ही देखा जाता है. इसका उपचार करने के लिए जरूरी है कि इस पानी को बाहर निकाला जाएँ

हाइड्रोसील के होने के कारण 

  •        आनुवांशिक
  •   अधिक शारीरिक संबंध बनाना- 
  •    भरी वजन उठाने
  •     नसों का सूजना
  •  स्वास्थ्य समस्यायें 
  •  बिना लंगोट के जिम / कसरत करना
  •   अंडकोष पर चोट
  •   दूषित मल के इक्कठा होने
  •    गलत खानपान

हाइड्रोसील के होने के लक्षण

  • चलने फिरने में दिक्कत
  • ज्ञानेन्द्रियों की नसों का ढीला और कमजोर पड़ना
  •  उल्टी, दस्त और कब्ज होना
  • अंडकोषों में तेज दर्द ( शुरूआती लक्षण ) 
  •  अंडकोष के आगे का भाग सूजना

हाइड्रोसील रोग का उपचार

हाइड्रोसील के उपचार के रूप में अधिकतर रोगी इसकी सर्जरी या एस्पीरेशन कराते है. जिसमे बहुत धन समय लगता है साथ ही इसके कुछ अन्य परिणाम भी हो सकते है. किन्तु इस रोग से उपचार के रूप में रोगी कुछ प्राकृतिक आयुर्वेदिक उपायों को भी अपना सकते है. ऐसे ही कुछ उपायों के बारे में आज हम आपको बता रहें है जिनका उपयोग करने आप घर बैठे इस रोग से मुक्ति पा सकते हो

 सूर्यतप्त जल ( Make Water Warm Under Sunrays ) : रोगी 25 मिलीलीटर पानी को पीतल के गिलास या पिली बोतल में सूरज की रोशनी में गर्म करें और उस पानी का दिन में 4 से 5 बार ग्रहण करना चाहियें. जलतप्त पानी पीने के 1 घंटे बाद रोगी अपने अंडकोष पर लाल प्रकाश डालें और अगले 2 घंटे बाद नीला प्रकाश डालें. इस प्रक्रिया को अपनाने से भी रोगी को हाइड्रोसील से जल्द ही आराम मिलता है.

 

·         संतरे का रस ( Orange and Pomegranate Juice ) : रोगी रोजाना 15 से 20 दिनों तक दिन में 2 बार संतरे या अनारे के रस का सेवन करें. साथ ही सलाद में भी कच्चा नींबू डालकर खायें. ये हाइड्रोसील की सफल प्राकृतिक चिकित्सा है. इसके साथ ही रोगी को उपवास भी रखने चाहियें. इससे भी अंडकोषों में जलभराव कम होता है 

  5 ग्राम काली मिर्च और 10 ग्राम जीरा लें और उन्हें अच्छी तरह पीस लें. इसमें आप थोडा सरसों या जैतून का तेल मिलाएं और इसे गर्म कर लें. इसके बाद इसमें थोडा गर्म पानी मिलाकर इसका पतला घोल बना लें और इसे बढे हुए अंडकोषों पर लगायें. इस उपाय को सुबह शाम 3 से 4 दिन तक इस्तेमाल करें आपको जरुर लाभ मिलेगा.

      आप 20 ग्राम माजूफल और 5 ग्राम फिटकरी को पीसकर उनका लेप तैयार करें और उसे सूजे हुए अंडकोषों पर लगायें. जल्द ही उनका पानी सुख जायेगा.

काटेरी की जड़ ( Roots of Kateri ) : अंडकोषों में पानी भर जाने पर रोगी 10 ग्राम काटेरी की जड़ को सुखाकर उसे पीस लें. फिर उसके पाउडर / चूर्ण में 7 ग्राम की मात्रा में पीसी हुई काली मिर्च डालें और उसे पानी के साथ ग्रहण करें. इस उपाय को नियमित रूप से 7 दिन तक अपनाएँ. ये हाइड्रोसील का रामबाण इलाज माना जाता है क्योकि इससे ये रोग जड़ से खत्म हो जाता है और दोबारा अंडकोषों में पानी नही भरता.

 

·         लेप ( Paste ) : हाइड्रोसील के इलाज के लिए आयुर्वेद में मुख्य रूप से लेप का इस्तेमाल किया जाता है इसलिए आप कुछ लेप का इस्तेमाल कर भी इस रोग से मुक्त हो सकते हो.

 स्नान ( Bath ) : हाइड्रोसील के रोगियों के उपचार में स्नान भी विशेष स्थान रखता है इसलिए इन्हें हमेशा गर्म पानी में नमक डालकर ही स्नान करना चाहियें. इसके अलावा रोगी कटिस्नान, सूर्यस्नान और मेह्स्नान भी ले सकता है. इससे रोगी को जल्द ही आराम मिलता है

इन सब प्राकृतिक उपायों से हाइड्रोसील / अंडकोष में वृद्धि जैसी समस्या का समाधान किया जाता है. इन उपायों को अपनाने के साथ साथ रोगी को रोज सुबह खुली हवा में व्यायाम भी करना चाहियें. इन प्राकृतिक उपायों में ना तो अधिक धन व्यय करने की आवश्यकता होती है और ना ही इनसे किसी तरह के साइड इफ़ेक्ट का ही ख़तरा होता है. ये इस रोग को जड़ से समाप्त कर देते है जिससे इसके दोबारा होने की संभावना भी कम हो जाती है.

Vote: 
No votes yet
,

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 43,514 44
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 48,283 36
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 20,173 31
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 9,778 25
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 10,725 19
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 20,261 15
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 7,057 9
मोती जैसे सफेद दांत पाने के लिए ट्राई करें ये 5 घरेलू उपाय 2,487 9
सिर दर्द को चुटकियों में दूर करता है सिर्फ '1 नींबू' करके देखे प्रयोग 395 9
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 3,678 8
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 6,817 8
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 5,038 7
सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए 186 7
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 2,567 7
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 4,753 6
हरी मिर्च खाने के चमत्कार 106 5
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 4,364 5
शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा 671 5
ब्लड प्रेशर को कैसे रखें नियंत्रित 346 5
स्वास्थ्य शिक्षा कैसे 1,337 5
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 20,163 5
व्रत से हो सकते हैं नुकसान भी 796 4
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 2,087 4
हड्डियों को मजबूत करते हैं ये 442 4
दूध में डिटर्जेंट की जाँच करने के उपाय 1,990 4
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 2,121 4
जीभ हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में बताती है जैसे 1,802 4
कम उम्र में सफेद हुए बालों को काला करे 990 4
पारिजात (हरसिंगार) के लाभ 521 4
मूंगफली खाने के आत्याधिक फायदे 914 4
मखाना खाने के जादुई प्रभाव 2,702 4
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 3,309 4
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 3,721 4
आखें लाल होने पर क्या उपाय करें 895 4
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 6,884 4
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,276 4
चमकती हुई त्वचा के लिए हर्बल ब्यूटी टिप्स 2,985 3
बच्चों में टाइफाइड बुखार होने के कारण 1,167 3
अपनी आँखों की देखभाल कैसे करें 451 3
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 6,922 3
पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें 316 3
आखों के काले घेरे दूर करिये 927 3
झाइयां होने के कारण 4,832 3
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 3,867 3
जल्द घसीटना शुरू कर देते है शीतकाल में जन्म लेने वाले बच्चे 582 3
आंख की एपीस्कलेराइटिस : लक्षण, कारण, उपचार को करें निरोग 583 3
जवान दिखने के बेहतरीन जादुई नुस्खे 2,779 3
सर्दियों में कम पानी पीने से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है 641 3
मौसमी का जूस पीने के फायदे 3,990 3
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 4,550 2