हाइपर थाइरोइड में शंखपुष्पी का प्रयोग।

हाइपर थाइरोइड में शंखपुष्पी का प्रयोग।

अवटु ग्रंथि (थाइरोइड ग्लैंड) के अतिस्राव से उत्पन्न कम्पन, घबराहट और अनिद्रा जैसी उत्तेजनापूर्ण स्थिति में शंखपुष्पी काफी अनुकूल प्रभाव डालती है। अवटु ग्रंथि से थायरो टोक्सिन के अतिस्राव से हृदय और मस्तिष्क से हृदय और मस्तिष्क दोनों प्रभावित होते हैं।

हाइपर थाइरोइड में शंखपुष्पी का प्रयोग।

ऐसी स्थिति में शंखपुष्पी थाइरोइड ग्रंथि के स्त्राव को संतुलित मात्रा में बनाये रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। शंखपुष्पी का सेवन थायरो टोक्सिकोसिस के नए रोगियों में एलोपैथिक की औषधियों से भी अधिक प्रभावशाली कार्य करती है। यदि किसी रोगी ने आधुनिक पैथी की एंटी थाइरोइड औषधियों का पहले सेवन किया हो और उनके कारण रोगी में दुष्प्रभाव उत्पन्न हो गए हों, तो शंखपुष्पी उनसे रोगी को मुक्ति दिला सकने में समर्थ है।

अनेक वैज्ञानिकों ने अपने प्रारंभिक अध्ययनों में पाया है के शंखपुष्पी के सक्रिय रसायन सीधे ही थाइरोइड ग्रंथि की कोशिकाओं पर प्रभाव डालकर उसके स्त्राव का पुनः नियमन करते है। इसके रसायनों की कारण मस्तिष्क में एसिटाइल कोलीन नामक अति महत्वपूर्ण तंत्रिका संप्रेरक हॉर्मोन का स्त्राव बढ़ जाता है। यह हॉर्मोन मस्तिष्क स्थिति, उत्तेज़ना के लिए उत्तरदायी केन्द्रों को शांत करता है। इसके साथ ही शंखपुष्पी एसिटाइल कोलीन के मस्तिष्क की रक्त अवरोधी झिल्ली (ब्लड ब्रेन वैरियर) से छनकर रक्त में मिलने को रोकती है, जिससे यह तंत्रिका संप्रेरक हॉर्मोन अधिक समय तक मस्तिष्क में सक्रिय बना रहता है।

शंखपुष्पी की सेवन विधि।

शंखपुष्पी का समग्र क्षुप अर्थात पंचांग ही एक साथ औषधीय उपयोग के काम आता है। इस पंचांग को सुखाकर चूर्ण या क्वाथ के रूप में अथवा ताजा अवस्था में स्वरस या कल्क के रूप में प्रयुक्त किया जाता है। इनकी सेवन की मात्रा इस प्रकार है।
शंखपुष्पी पंचांग चूर्ण – ३ से ६ ग्राम की मात्रा में दिन में दो या तीन बार।
शंखपुष्पी स्वरस – २० से 45 मि ली दिन में दो या तीन बार।
शंखपुष्पी कल्क – १० से 20 ग्राम दिन में दो या तीन बार।

इनके अतिरिक्त शंखपुष्पी से निर्मित ऐसे कई शास्त्रोक्त योग है, जिन्हें विभिन्न रोगों में उपयोग कराया जाता है। जैसे के शंखपुष्पी रसायन, सोमघृत, ब्रह्मा रसायन, अगस्त्य रसायन, वचाघृत, जीवनीय घृत, ब्रह्मघृत इत्यादि।

 

थायराइड रोग के लिए होम्योपैथिक उपचार

होम्योपैथी में, हम कमी या अधिशेष का सप्लीमेंट से नहीं बल्कि कुशल ग्रंथियों समारोह के पुनर्सक्रियन से समस्या का इलाज करने का प्रस्ताव है. हाइपोथायरायडिज्म के लिए इस्तेमाल किया दवाओं हैं:

6 Bromium
200 Thyroidinum

Hyperthyroidism के लिए, निम्न दवा लक्षणों के सबसे से अपेक्षित राहत प्रदान करता है और अगर समय की अवधि आमतौर पर इलाज पर लागू होता है:

200 Iodum

 
Vote: 
0
No votes yet
,

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 52,838 88
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 54,409 70
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 14,906 49
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 24,155 29
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 23,956 21
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 8,509 20
दूध में डिटर्जेंट की जाँच करने के उपाय 2,193 14
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 7,437 14
झाइयां होने के कारण 6,006 14
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,730 14
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 21,296 14
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,683 12
गन्ने के जूस के फायदे 853 12
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 14,422 11
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,033 11
हाथ-पैरो का सुन्न हो जाना और हाथ और पैरो में झनझनाहट होना जानें इस प्रकार 7,207 11
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 3,452 10
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 8,577 10
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 2,219 10
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,510 10
जामुन के गुण और फायदे 2,844 10
स्तन घटाने के उपाय, तरीके और टिप्स 2,378 10
हाई बीपी और माइग्रेन में मेंहदी इस प्रकार फायदेमंद 869 9
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 5,138 8
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,524 8
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 4,504 8
हाइड्रोसील के कारण लक्षण और इलाज इस प्रकार है जानिए 2,119 7
लौंग के तेल के फायदे जानकर रह जायेंगे हैरान 905 7
अपने दांतों की देखभाल और उनको रखे दूध जैसे चमकीले तथा स्वच्छ 1,318 7
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 5,455 7
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,622 7
माँ का दूध बढ़ाने के तरीके 4,805 7
तिल तथा मस्से हटाने के आसान घरेलू उपचार 10,455 7
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 5,269 7
क्यों मच्छर के काटने पर खुजली होती है जानिए 1,343 7
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान 1,622 6
गिलोय के फायदे और अनेक प्रकार से रोगों से छुटकारा 1,589 6
सर दर्द से राहत के लिए करें ये घरेलु उपचार 1,802 6
पेट फूलना, गैस व खट्टी डकार से तुरंत राहत दिलाने उपचार के 2,250 6
सेब खाने के फायदे 840 6
पोषाहार क्या है जानिए 1,410 6
फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार 3,280 6
स्त्रियों के ये अंग होते हैं सबसे ज्यादा कामुक 583 6
इस मौसमी सीताफल के फायदे जानकर आप रह जाएगे हैरान 3,027 6
रस्सी कूदें, वज़न घटाएं 2,839 6
कसरत के लिए कौन सा टाइम बेस्ट है? 837 5
दाँतों में दर्द व कीड़ा लगा हो तो 190 5
टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब. 2,388 5
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 4,089 5
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,426 5