हार्ट फेल होने से चली जाती है 23 प्रतिशत लोगों की जान

हार्ट फेल होने से चली जाती है 23 प्रतिशत लोगों की जान

हार्ट अटैक का मतलब होता है दिल की मांसपेशियों का बेहद कमजोर होना, जबकि हार्ट फेल होने का मतलब है कमजोर दिल. हार्ट अटैक तब होता है, जब दिल की मांसपेशियों के एक हिस्से को आक्सिजन से खून की सप्लाई में रुकावट हो जाती है भारत में 23 प्रतिशत मरीज़ ऐसे होते हैं जो दिल के दौरे का पता चलने के साल भर के अन्दर मर जाते हैं, एक खोज से पता चलता है, और यह भी पता चलता है कि यह देश अफ्रीका के दर 34 प्रतिशत, के बाद दूसरे नंबर पर है।

पता चलने के साल भर के अन्दर मरने वालों में 46 प्रतिशत दिल के दौरे से मरते हैं और 16 प्रतिशत दूसरे कारणों से, यह छः भूभाग के पहले गहन अध्ययन के बाद पता चलता है।

इंटरनेशनल कंजेस्तिव हार्ट फेलियर द्वारा अध्ययन से यह पता चला कि दक्षिणीपूर्वी एशिया में दिल के दौरे से मरने वाले मरीजों की संख्या 15 प्रतिशत है, 7 प्रतिशत चाइना में, 9 प्रतिशत दक्षिणी अमेरिका और पश्चिमी एशिया में, जो भारत की तुलना में काफी कम है।

 

'भारत में पश्चिमी देशों की तुलना में दिल की बीमारियाँ एक दशक पहले ही शुरू हो जाती हैं। जागरूकता की कमी, काफी ज़्यादा पैसे खर्च करना, और आधारभूत संरचना की कमी ही दिल की बीमारियों का कारण बनती हैं,' एम्स के कार्डियोलॉजी के प्रोफेसर सन्दीप मिश्रा का कहना है।

जनसंख्या में जीवन संभावना की गुंजाइश बढ़ने से, दिल की बीमारियाँ काफी ज़्यादा बढ़ रही हैं, कार्डियोलॉजी एक्सपर्ट का यह भी कहना था कि भारत जैसे कम पूँजी देश में मृत्यु संख्या में विभिन्नता का श्रेय आधारभूत हेल्थ केयर सुविधा की कमी को दिया जा सकता है। इस शोध से साल भर में भारत, अफ्रीका, चाइना, मिडिल ईस्ट, साउथ ईस्ट एशिया और साउथ अमेरिका में मरने वाले मरीजों की मृत्यु दर को परखा गया। इस शोध में करीबन 108 केंद्र के 5,823 मरीज़ को एनरोल किया गया। मरीजों का फॉलो अप एनरोलमेंट से छः महीने से लेकर साल भर के बीच लिया गया। इन मरीजों की उम्र 59 वर्ष थी और मर्द औरत का अनुपात 60:40 था।

इस शोध का मुख्य उद्देश्य था साल भर के अन्दर मरने के दर के कारणों को जानना। एम्स द्वारा पहले किये गए शोध जो प्रैक्टिस ऑफ़ कार्डियोवैस्कुलर साइंसेज नामक पत्रिका में छपा था कि देर से बिमारी के बारे में पता चलने से एक तिहाई मरीज़ हॉस्पिटल में भर्ती वक़्त ही डीएम तोड़ देते हैं और एक चौथाई मरीज़ बिमारी के पता चलने के तीन महीने के अन्दर मर जाते हैं। समाज को जागरूक होने की अपील करते हुए मिश्रा ने कहा कि कई भारतीय दिल के दौरे और ह्रदय गति के रुकने में अंतर नहीं समझ पाते, जिसके कारण वह डॉक्टर को कंसल्ट नहीं करते।

 

'ह्रदय गति का रुकना वह स्थिति होती है जहाँ ह्रदय की ब्लड पंप करनी के क्षमता कम हो जाती है, जबकि दिल के दौरे में ह्रदय को रक्त पहुंचाने वाली धमनियां अपना काम करना काफी कम कर देती हैं। ह्रदय गति का रुकना काफी खतरनाक हो सकता है और अगर इसे नज़रंदाज़ किया गया तो यह जानलेवा भी हो सकता है,' मिश्रा ने दिल की बीमारियों से सम्बंधित बातें करते हुए आईएएनएस से कहा।

अंतर्राष्ट्रीय हेल्थ संस्था के अनुसार, दिल का दौरा देश विदेश में करीबन 60 मिलियन लोगों पर असर करती है। मरीजों में दिल के दौरे से मरने के रिस्क की तुलना एडवांस्ड कैंसर से किया जा सकता है। हर साल विदेशी अर्थव्यवस्था का 108 डॉलर इसमें खर्च होता है। हालांकि, दिल का दौरा किसी भी उम्र में आ सकता है, पर यह 65 साल से ऊपर के लोगों में आम बात है।

इसके कारण उच्च रक्तचाप, पहले पड़ा दिल का दौरा, दिल का आकार बड़ा होना और मधुमेह हो सकता है। मिश्रा का कहना था कि लोगों में दिल के दौरे को लेकर जागरूकता की कमी इसलिए है क्यूंकि लोग इसे बुढ़ापे की निशानी मानने लगते हैं।

'हालांकि, दिल के दौरे का कोई इलाज नहीं है, पर जिन लोगों में यह पहले पता चल जाता है, उन्हें इलाज को फॉलो करना चाहिए और अपनी दिनचर्या में बदलाव लाना चाहिए ताकि वह ज़्यादा दिन तक जीयें, अच्छा महसूस करें और सक्रीय रहे। इसलिए यह ज़रूरी है कि मरीज़ और उनकी देखभाल करने वाले दिल के दौरे के लक्षणों को पहचानें, ताकि इसका इलाज जल्द से जल्द कराया जा सके,' मिश्रा ने कहा।

 

 

 

Vote: 
0
No votes yet

New Health Updates

Total views Views today
कब सेक्स के लिए पागल रहती है महिलाएं 52,742 152
स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय 54,336 78
स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए 14,854 70
लिंग बड़ा लम्बा और मोटा करने के घरेलू उपाय 14,407 53
पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से नुकसान नहीं बल्कि होते हैं फायदे 23,932 45
लहसुन रात को तकिये के नीचे रखने का जादू 24,126 40
श्वेत प्रदर का आयुर्वेदिक इलाज 8,487 27
पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज 4,495 26
सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए 8,567 23
ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं 3,671 22
स्मार्टफोन का बुरा असर 408 17
टिटनेस इंजेक्‍शन से हो सकती हैं ये दिक्‍कतें 21,282 16
झाइयां होने के कारण 5,992 16
ब्‍लड ग्रुप के अनुसार कैसा होना चाहिये आपका आहार 2,748 15
कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा 3,295 14
आँखों का लाल होना जानिये हमारी आँखे क्यों लाल होती है कारण और लक्षण तथा समाधान 5,130 13
सुबह का नाश्ता राजा की तरह, दोपहर का भोजन राजकुमार की तरह और रात का भोजन भिखारी की तरह करना चाहिए।’ 4,815 13
चेहरे का कालापन दूर करने के उपाय 4,498 12
वजन कम करने के फायदे, जानकर रहे जायगे हैरान 2,209 12
कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें 6,022 10
आइये जाने कुटकी के फायदे और नुकसान के बारे में 5,516 10
बहरे लोगो के सुनगे का आसान तरीका 5,448 10
हाइड्रोसील के कारण लक्षण और इलाज इस प्रकार है जानिए 2,112 9
ब्लैक कॉफी पीने के फायदे 3,163 9
झाइयाँ को दूर करने के घरेलु उपाय 3,442 9
क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें 1,212 9
इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी 7,423 9
घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज 7,406 9
श्वेत प्रदर के रोग को जड़ से मिटा देंगे यह घरेलू उपाय 785 8
स्त्री यौन रोग (श्वेत प्रदर) के लिए औषधि ॥ 939 8
क्या है स्लीप डिस्ऑर्डर 455 8
जामुन के गुण और फायदे 2,834 8
प्याज से करें प्यार और रहें फिट 1,845 7
आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं 203 7
दालचीनी वाले दूध में छिपा है सेहत और खूबसूरत त्वचा का राज़ 119 7
चेहरे की झाइयाँ दूर करने के घरेलू उपचार 4,716 7
क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए 3,238 7
मौसमी का जूस पीने के फायदे 4,420 6
मौसमी को खाने और मौसमी के जूस को पीने के फायदे और नुकसान 1,616 6
ब्रेस्ट कम करने के उपाय 1,977 6
क्यों रहते हैं हाथ-पैर ठंडे? 4,084 6
गर्भावस्था के बाद महिलाएं अपनाएं ऐसी डाइट, नहीं होगी कमजोरी 468 6
किडनी को ख़राब करने वाली है ये आदतें……. 1,942 6
खून में थक्‍के जमने के कारण और उपचार के तरीके 5,615 6
ख़तरनाक है सेक्स एडिक्शन 5,262 6
होठों की क्या ज़रूरत है 2,469 5
सप्ताह में इतनी बार सेक्स करना जरूरी है 5,999 5
शरीर में रक्त की कमी का होना, रक्त की कमी पूरी करने के लिए क्या करें, जानें 1,425 5
मियादी बुखार का कारण क्या है 3,889 5
ब्रेस्ट कैंसर के लिए कीमोथेरेपी क्यों ज़रूरी है? 512 5