स्वास्थ्य समाचार

गर्म चाय पीने से रहे अधिक सावधान

गर्म चाय पीने से रहे अधिक सावधान

 सावधान हो जाएं। ये गर्म चाय की चुस्कियां गले में कैंसर का फंदा डाल सकती है। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में छपे नए अध्ययन के मुताबिक ज्यादा गर्म चाय पीने से खाने की नली का या गले का कैंसर होने का खतरा आठ गुना तक बढ़ जाता है। ईरान में चाय बहुत अधिक पी जाती है। वहां जो लोग सिगरेट और तंबाकू का सेवन नहीं करते थे उन्हे भी जब इसोफेगल कैंसर की शिकायत पाई गई तो रिसर्च के दौरान यह सच सामने आया कि तेज गर्म चाय गले के टिश्यूज को नुकसान पहुंचाती है ! अधिकतर लोग गर्मागर्म चाय पीने के ही शौकीन होते है  विशेषज्ञों के अनुसार चाय पीने और

कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा

कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा

कम उम्र में यौन संबंध बनाने वाले किशारों के लिए एक शोध सामने आया है। इस शोध के मुताबिक जो बच्चे कम उम्र में सेक्स करते हैं उनको सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है।

एक अंग्रेजी वेबसाइट में छपे शोध में सामने आया है कि बाहरवीं में पढ़ने वाले बच्चों के मुकाबले सातवीं कक्षा में तेजी से बच्चे यौन संबंध बना रहे हैं। पहली बार सेक्स करने वाले सातवीं क्लास के बच्चे तीन गुना ज्यादा एसटीआई से प्रभावित हुए हैं। शोध में बताया गया है कि चिकित्सीय एवं मनोवैज्ञानिक समस्याओं की चपेट में आने की वजहों में यौन संबंधों से होने वाला संक्रमण सबसे प्रमुख वजह है।

ये चीजें बताएंगी आपके प्यार की गहराई

ये चीजें बताएंगी आपके प्यार की गहराई

जब भी हम किसी के साथ रिलेशनशिप में होते हैं तो यह आवश्यक रूप से जानना चाहते हैं कि हमारे रिलेशनशिप का स्टेटस क्या है या कहां तक पहुंचा है? क्या यह सही चल रहा है या फिर उसके अंत के दिन नजदीक आ गए हैं। यहां कुछ ऐसे ही बिंदुओं पर चर्चा की जा रही है, जिनके जरिये हम डेटिंग बनाम रिलेशनशिप के स्टेटस को बखूबी जान सकेंगे।

शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा

शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा

लंदन : क्या आपको आपकी बढ़ती वजन की कोई वजह नजर नहीं आ रही तो आपको इस बात का ध्यान रखने की जरूरत है कि आपके शयनकक्ष में तेज रोशनी तो नहीं रहती। एक नए अध्ययन से बात सामने आई है कि सोते वक्त कमरे में बहुत अधिक रोशनी महिलाओं में वजन बढ़ाने की वजह होती है।
लंदन स्थित इंस्टीट्युट आफ कैंसर रिसर्च के प्राध्यापक एंटनी स्वेर्डलॉ ने कहा, “हमें हमारे अध्ययन में रोशनी और मोटापे के बीच के संबंध बेहद पहेलीनुमा नजर आए।”
इस अध्ययन में 40 साल की 113,000 से अधिक महिलाओं को शामिल किया गया।

ब्रेस्ट कैंसर के लिए कीमोथेरेपी क्यों ज़रूरी है?

जम्मू में रहने वाली कमल कामरा को ब्रेस्ट कैंसर था. नवंबर में उनकी ब्रेस्ट सर्जरी हुई और जनवरी में कीमोथेरेपी शुरू हो गई.

कमल कहती हैं कि अगर मैं अपने केस को देखते हुए बोलूं तो मुझे लगता है कि लोगों में डर ज़्यादा है. जबकि इतना घबराने की ज़रूरत है नहीं.

"पहले कीमो सेशन के दौरान मुझे डर लगा था. मुझे कीमो के आठ सेशन लेने के लिए बोला गया था. लेकिन बाद में मुझे कहा गया कि चार ही सेशन काफी हैं."

पांच साल की उम्र तक स्तनपान कराना क्या फायदेमंद है

सभी जानते हैं कि मां का दूध बच्चे के लिए अमृत के समान है. लेकिन क्या पांच साल की उम्र तक दूध पिलाते रहना बच्चे के लिए फायदेमंद हो सकता है?

एमा शार्डलो हडसन दो बच्चों की मां है. उनकी एक पांच साल की बेटी है और दो साल का बेटा है. वो उन दोनों को ही दूध पिलाती हैं.

एमा का मानना है कि दूध पिलाने से उनके बच्चे स्वस्थ्य रहते हैं और जल्दी बीमार नहीं पड़ते.

ब्रिटेन में ये सलाह दी जाती है कि जबतक मां और बच्चा चाहें, स्तनपान कराया जा सकता है.

ब्रिटेन की स्वास्थ्य एजेंसी नेशनल हेल्थ सर्विस ने ऐसा कोई समय सीमा तय नहीं की है कि कब मां को स्तनपान कराना बंद कर देना चाहिए.

लीवर इज़ार्ज इस रोग का कारण और उपचार करें और जानें

लीवर इज़ार्ज इस रोग क्या है | जिगर का काम बेहद महत्वपूर्ण हैजीवन गतिविधि यह पूरे शरीर का काम प्रदान करता है, आवश्यक हार्मोन और एंजाइम, विटामिन और पित्त का उत्पादन करता है, शरीर में प्रवेश करने वाले विषाक्त पदार्थों को काट लेता है। जब शरीर में उल्लंघन होता है: रक्त परिसंचरण बिगड़ता है, पित्त नलिकाओं में आंदोलन, यकृत ऊतक नष्ट हो जाता है, फिर यकृत बढ़ता है

लकवा (पैरालिसिस): लक्षण और कारण

लकवा (पैरालिसिस)

मस्तिष्क की बीमारी है लकवा  संयमित जीवनशैली व बचाव ही है लकवे से बचने का बेहतर उपचार लकवा या स्ट्रोक मस्तिष्क की बीमारी है। यह दो तरह का हो सकता है। पहलाए हार्ट से ब्रेन की ओर जाने या आने वाली खून की नलियों जिन्हें धमनी और शिरा कहा जाता है के फटने और दूसरा उनके बंद हो जाने की वजह से। ज्यादातर मरीजों को धमनी में खराबी की वजह से लकवा का शिकार होना पड़ता है जबकि डिलीवरी के बाद महिलाओं में होने वाला लकवा अक्सर शिरा में खराबी के कारण होता है। ब्रेन में खून की नली के फटने से मरीज को बहुत तेज सिरदर्द ;जैसा जीवन में पहले कभी भी न हुआ होद्ध या उल्टी शुरू हो जाती हैए जो बेहोशीए सांस

स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए

स्पर्म काउंट कितना होना चाहिए

आपको बता दें कि स्वस्थ पुरुष के वीर्य या सीमेन में 40 मिलियन से 300 मिलियन के बीच में स्पर्म प्रति मिलिलीटर होना चाहिए। यदि स्पर्म प्रति मिलिलीटर 10 मिलियन से 20 मिलियन के बीच है तो इसे खराब यानि लो स्पर्म काउंट माना जाता है। यदि स्पर्म हेल्दी है तो प्रेग्नेंसी के लिए 20 मिलियन स्पर्म प्रति मिलिलीटर पर्याप्त हो सकता है।

लो स्पर्म काउंट के नुकसान

 

सेहत पर बहुत बुरा असर डालती है गेम खेलने की लत, ऐसे पाएं छुटकारा

सेहत पर बहुत बुरा असर डालती है गेम खेलने की लत, ऐसे पाएं छुटकारा

हाल के कुछ दिनों में एक गेम 'पोकेमॉन गो' ने खूब चर्चा बटोरी। देश-विदेश, हर जगह व हर किसी की ज़ुबान पर यह ऑनलाइन गेम चढ़ा रहा। इसकी वजह से न सिर्फ बच्चे, बल्कि बड़े भी काफी प्रभावित हुए। कई घायल हुए व कई लोगों को अलग तरीकों से नुकसान पहुंचा पर इसका क्रेज़ ज़रा भी कम होता नहीं दिखा। इस गेम के अलावा और भी कई गेम्स व एप्स हैं जिनका जादू समय-समय पर लोगों के सिर पर चढ़कर बोलता रहता है। ऐसे ही कुछ ऑनलाइन एडिक्टिव एप्स व गेम्स पर एक नज़र।

 

क्या है गेमिंग एडिक्शन

Pages

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894