स्वास्थ्य समाचार

*ऊर्जा का स्त्रोत है राजमा*

ऊर्जा का स्त्रोत है राजमा

राजमा में भरपूर मात्रा में आयरन होता है। आयरन शरीर का मेटाबॉलिज्म और ऊर्जा बढ़ाने का मुख्य सोर्स होता है। इससे पूरे शरीर में ऑक्सीजन का सकरुलेशन भी काफी बढ़ जाता है।

इसलिए व्यक्ति खुद को ऊर्जावान महसूस करता है। राजमा में फाइबर भी काफी होता है। फाइबर काबरेहाइड्रेट का मेटाबॉलिज्म रेट कम करते हैं। इस वजह से ब्लड शुगर नियंत्रित रहता है। डायबिटिक इसे बहुत आराम से खा सकते हैं।

 

 

 

  Read More : *ऊर्जा का स्त्रोत है राजमा* about *ऊर्जा का स्त्रोत है राजमा*

आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं

आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं

आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं। अगर हम रोज सुबह एक गिसाल गुनगुना पानी पीते हैं तो इससे पेट तो कम होता ही है साथ ही और भी कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स दूर होती हैं। 
गुनगुना पानी बॉडी में जाकर गर्मी पैदा करता है। इससे बॉडी में मौजूद बैक्टीरिया खत्म होेते हैं, साथ ही वायरल इन्फेक्शन से बचाव होता है। अगर हम रोज सुबह उठते ही एक गिलास गुनगुना पानी पिएं तो इससे कब्ज की प्रॉब्लम कंट्रोल होती है। अगर खाना खाते समय भी हम गुनगुने पानी का यूज करें तो खाने का डाइजेशन बेहतर तरीके से होता है। Read More : आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं about आयुर्वेद में गुनगुना पानी पीने के कई फायदे बताए गए हैं

कितना विटामिन डी सप्लीमेंट ठीक है?

कितना विटामिन डी सप्लीमेंट ठीक है?विटामिन डी कैप्सूल्स, विटामिन डी कितना होना चाहिए, विटामिन डी की कमी से होने वाली बीमारियां, विटामिन डी फूड्स, विटामिन डी 3 के स्रोत, विटामिन डी की कमी के साइड इफेक्ट, विटामिन डी की कमी का कारण, विटामिन डी 3 खाद्य पदार्थ

रोज़ाना विटामिन डी सप्लीमेंट की 25 नैनोमॉल मात्रा लेना नुक़सानदेह नहीं है. न्यूज़ीलैंड के एक्सपर्ट इयान रीड कहते हैं कि आज 62.5 माइक्रोग्राम की मात्रा भी आराम से बिना डॉक्टर के पर्चे के ली जा सकती है. ये ठीक नहीं है.

इससे शरीर में विटामिन डी की मात्रा ज़्यादा होने का डर है. इसके भी साइड इफेक्ट हो सकते है. उल्टी और चक्कर आ सकते हैं.

कई बार नवजातों में विटामिन डी की भारी कमी पायी जाती है, जिन्हें फ़ौरन सप्लीमेंट की ज़रूरत होती है.

कुल मिलाकर मेडिकल साइंस के जानकार विटामिन डी सप्लीमेंट को लेकर बंटे हुए हैं. Read More : कितना विटामिन डी सप्लीमेंट ठीक है? about कितना विटामिन डी सप्लीमेंट ठीक है?

हरी मिर्च खाने के चमत्कार

हरी मिर्च खाने के चमत्कार

मिर्च कैप्सिकम वंश के एक पादप का फल है, तथा यह सोलेनेसी (Solanaceae) कुल का एक सदस्य है। वनस्पति विज्ञान मे इस पौधे को एक बेरी की झाड़ी समझा जाता है। स्वाद, तीखापन और गूदे की मात्रा, के अनुसार इनका उपयोग एक सब्जी (शिमला मिर्च) या एक मसाले (लाल मिर्च) के रूप में किया जाता है। मिर्च प्राप्त करने के लिए इसकी खेती की जाती है।
Read More : हरी मिर्च खाने के चमत्कार about हरी मिर्च खाने के चमत्कार

चमत्कारी पौधा है आक

चमत्कारी पौधा है  आक

अगर आपके दांत में किसी भी प्रकार का दर्द है तो आक के आधे पत्ते लेकर अच्छे से धो ले और पांच नीम के पत्ते दोनों को अच्छे से चबाकर थूक दे ऐसा तीन दिन  करे दांत के कीडे मर जायेगे 
आंखों में गुहेरी हो जाने 
 अगर दायी आंख में  हो तो बाये पैर के अंगूठे में सुबह सुबह आक के पौधे का दूध को से तर कर दे बांयी आंख में हो तो दिये पैर के अंगूठे में लाये ध्यान रखे आक के पौधे का यह सफेद दूध जैसा द्रव आंखों में न जाने पाये ये जरूर ध्यान रखे 
Read More : चमत्कारी पौधा है आक about चमत्कारी पौधा है आक

किडनी रोग का आयुर्वेदिक उपचार

किडनी रोग का आयुर्वेदिक उपचार

1. कासनी नाम का पौधा आयुर्वेदिक गुणों से परिपूर्ण है। इसकी पत्तियाँ किडनी, डायबिटीज़, लीवर और बवासीर जैसी बीमारियों के उपचार में रामबाण का काम करती हैं। ये हर्बल प्लांट आपको घर के पास की नर्सरी में मिल जाएगा। किडनी रोग का उपचार करने के लिए रोज़ आपको इसकी कुछ पत्तियाँ चबानी चाहिए। इस पौधे का वैज्ञानिक नाम सिकोरियम इंटिबस _ Cichorium Intybus है।
Read More : किडनी रोग का आयुर्वेदिक उपचार about किडनी रोग का आयुर्वेदिक उपचार

यदि आप अपनी मस्तिष्क की देखभाल करते हैं

यदि आप अपनी मस्तिष्क की देखभाल करते हैं

यदि आप अपनी मस्तिष्क की देखभाल करते हैं, तो 8hrs के लिए सो जाओ।

यदि आप अपनी आंखों की देखभाल करते हैं, तो बिस्तर पर जाने से पहले अपने पैरों को तेल से मालिश करें।

यदि आप अपने कान की देखभाल करते हैं, तो अक्सर कान में लहसुन मिश्रित तेल डालें।

यदि आप अपनी नाक की देखभाल करते हैं, तो नियमित रूप से टकसाल खाएं।

यदि आप अपने मुंह की देखभाल करते हैं, तो अक्सर गिंगेल (सेसमम) तेल के साथ घूमते हैं।

यदि आप अपने गले की देखभाल करते हैं, तो अक्सर मिर्च का प्रयोग करें,

यदि आप अपने फेफड़ों की देखभाल करते हैं तो धूम्रपान से बचें। Read More : यदि आप अपनी मस्तिष्क की देखभाल करते हैं about यदि आप अपनी मस्तिष्क की देखभाल करते हैं

सूरज की रोशनी कितनी कारगर

सूरज की रोशनी कितनी कारगर

अगर आप खुले हाथ बाहर वक़्त बिताते हैं, तो उन पर पड़ने वाली सूरज की रोशनी आपकी विटामिन डी की ज़रूरत पूरी करने के लिए पर्याप्त है, ख़ास तौर से मार्च से अक्तूबर के बीच.

जो लोग ऐसे माहौल को हासिल कर सकते हैं, सारा लेलैंड के मुताबिक़ उन्हें विटामिन डी सप्लीमेंट लेने की ज़रूरत नहीं. लेकिन, जिन्हें इतनी भी सूरज की रोशनी नहीं मिलती, उन्हें विटामिन डी सप्लीमेंट लेना चाहिए.

कई रिसर्च से तो ये भी पता चला है कि ज़्यादा विटामिन डी सप्लीमेंट खाने से भी फ्रैक्चर का ख़तरा 20-30 फ़ीसदी बढ़ जाता है. ख़ास तौर से बुज़ुर्गों में. Read More : सूरज की रोशनी कितनी कारगर about सूरज की रोशनी कितनी कारगर

BP High रक्तचाप अधिक होने पर उपाय

BP High रक्तचाप अधिक होने पर उपाय

िन में दो बार सेवन करने से कुछ ही दिनों में आपकी हाई ब्लड प्रेशर की समस्या खत्म हो जाती है |
3. शहद -आप इस रोग में 1 चम्मच प्याज का रस और 1 चम्मच शहद मिलाकर खाना खाने के बाद सेवन करे दिन में दो बार और इसके सेवन से आप का उच्च रक्त चाप मात्र 4 दिन में जड़ से खत्म हो जायेगा | 
4. इस रोग में 100 ग्राम तरबूज के बिज और 100 ग्राम खसखस लेकर अच्छे से मिक्स कर ले और रोजाना सुबह खाली पेट दो चम्मच पानी के साथ सेवन करने से उच्च रक्त चाप की समस्या खत्म हो जाती है |
Read More : BP High रक्तचाप अधिक होने पर उपाय about BP High रक्तचाप अधिक होने पर उपाय

पढ़ाई का सही वक्त : जेईई मेन में सफल होने के लिए आखिरी वक्त की तैयारी वाले टिप्स

पढ़ाई का सही वक्त : जेईई मेन में सफल होने के लिए आखिरी वक्त की तैयारी वाले टिप्स

पढ़ाई के लिए रूटीन जब भी बनाए तो सुबह का समय को ज़्यादा महत्व दे. सुबह का वक्त सबसे अच्छा है पढ़ने के लिए। इस समय माइंड पूरा फ्रेश रहता हैं और ग्रॅसपिंग पावर ज़्यादा होती हैं। दिन का 5 घंटा और सुबह का 1 घंटा बराबर हैं। Read More : पढ़ाई का सही वक्त : जेईई मेन में सफल होने के लिए आखिरी वक्त की तैयारी वाले टिप्स about पढ़ाई का सही वक्त : जेईई मेन में सफल होने के लिए आखिरी वक्त की तैयारी वाले टिप्स

Pages