स्वास्थ्य समाचार

पत्नी को क्यों पिलाएं कलौंजी वाला दूध ?

अपनी पत्नी को क्यों पिलाएं कलौंजी वाला दूध ?

आयुर्वेद के अनुसार रात को सोने से पहले दूध पीने से पुरुषों को कई हेल्थ बेनिफिट्स मिलते हैं। अगर इस दूध में कलौंजी के दाने (पांच दाने भी काफी होंगे) मिलाकर पिएं तो ये फायदे और भी बढ़ जाएंगे। दूध और कलौंजी में ऐसे न्यूट्रिएंट्स होते हैं तो मिलकर पुरुषों को हेल्दी रखने में मदद करते हैं। जम्मू इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद के डॉ. अटल बिहारी त्रिवेदीबता रहे हैं रोज कलौंजी वाला दूध पीने के 7 फायदे। साथ ही इस दूध को पीने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

अपनी पत्नी को क्यों पिलाएं कलौंजी वाला दूध ?

पैर के दर्द का घरेलू उपचार

पैर के दर्द का घरेलू उपचार

पैरों और टांगों में नसों का ऐंठना फूलना व सूजना - टांगों में ऐंठन - नस पर नस का चढ़ जाना - मांस-पेशियाँ में दर्द होना जैसे कि पिंडली में (टांग के पीछे) - माँस-पेशियों की ऐंठन :
कई लोगों को रात में सोते समय टांगों में एंठन की समस्या होती है। नस पर नस चढ़ जाती है। कई लोगों को टांगों और पिंडलियों में मीठा - 2 दर्द सा भी महसूस होता है। पैरों में दर्द के साथ ही जलन, सुन्न, झनझनाहट या सुई चुभने जैसा एहसास होता है।
ऐसा कई कारणों से होता है। कुछ दिन पहले मैने 'पैरों के तलवों में दर्द - कारण व् निवारण' विषय पर लिखा था।

कलौंजी एक फायदे अनेक : कलयुग में संजीवनी है कलौंजी (मंगरैला)

कलौंजी एक फायदे अनेक : कलयुग में संजीवनी है कलौंजी (मंगरैला)

कलौंजी का पौधा सौंफ के पौधे से थोड़ा छोटा होता है। इसके फूल हल्के नीले व पीले रंग के होते हैं और इसके आकार तारे के समान होते हैं। लगभग घरों में होते हुए भी आप इसके गुणों से अब तक अनजान है ..! पूरी तरह संतृप्त किए गए बीज में जिंदगी की अत्यधिक ताकत होती है। ब्लैक सीड यानी कलौंजी के सेवन से आपका भविष्य रोग मुक्त बनता है। कलौंजी को रोमन कोरिएंडर, ब्लैक सीसेम, ब्लैक क्यूमिन, ब्लैक कैरावे तथा अनियन सीड के नाम से भी जाना जाता है। इसका इस्तेमाल औषधि, मसाले तथा सौंदर्य प्रसाधनों के तौर पर किया जाता है।

कैसे करें इसका सेवन :

होशियार : बाजार में आ गई है जहरीली अदरक..

होशियार : बाजार में आ गई है जहरीली अदरक..

लेकिन अगर आपको पता चले कि इन दिनों बाजार में हमें जहर से भरी हुई अदरक महंगे दामों में बेची जा रही है तो?? सब्‍जी मंडी या ठेलों पर से जो आप अदरक लेते हैं, वह दिखने मे काफी साफ-सुथरी और चमकदार दिखती है, जिसको देख कर आप उसे खरीदने से खुदको नहीं रोक पाते।

क्‍या आप जानते हैं कि इन अदरकों को साफ और सुंदर बनाने के लिये इन्‍हें तेजाब से धोया जाता है। ऐसा करने का मकसद इन्‍हें चमकाना होता है, ताकि इसके दाम बढाए जा सके।

फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार

 फिस्टुला रोग क्या है , इसको पहचाने के लक्षण इस प्रकार

कई महिलाएं ऐसी होती हैं जो फिस्टुला नामक बीमारी की शिकार तो होती हैं लेकिन उन्हें इस बारे में पता ही नहीं होता है कि वो इस रोग की शिकार हैं। गांव-बस्ती में रहने वाली कई महिलाएं ऐसी हैं जिनके शरीर में साफ रूप से फिस्टुला के लक्षण दिखते हैं लेकिन जानकारी के अभाव में वे कुछ नहीं कर पाती हैं। आज हम आपको फिस्टुला नामक बीमारी के बारे में बताने जा रहे हैं कि ये क्यों महिलाओं के लिए हानिकारक है।

बच्चों में खाने की अच्छी आदतें विकसित करें

बच्चों में खाने की अच्छी आदतें विकसित करें

पूर्वस्कूली बच्चे दूसरों की नकल करना पसंद करते हैं। संभव है कि वे आपकी भोजन वरीयताओं को अपनाएँ या शारीरिक गतिविधियों के स्तर जैसी आपकी जीवन-शैली की नकल करें। जब भी संभव हो, अपने बच्चों के साथ पारिवारिक भोजन करने की कोशिश करें। आपके बच्चों को भोजन तथा नाश्ता करते समय फल, सब्जियाँ और अनाज खाने का मज़ा लेने दें। 

सेक्स एडिक्शन - बड़ी समस्या है.

क्या है सेक्स एडिक्शन?

यह एक बड़ी समस्या है.
– सेक्स करने की प्रबल इच्छा जब नियंत्रण से बाहर हो जाती है और हर समय व्यक्ति केवल सेक्स के बारे में ही सोचता रहता है, तो उसे सेक्स एडिक्ट कहते हैं. इसे एक मानसिक बीमारी भी कहा जा सकता है.
– केवल पुरुष ही नहीं, बल्कि महिलाएं भी सेक्स एडिक्ट हो सकती हैं.
– सेक्स एडिक्ट होना और सेक्स के प्रति रुचि रखना दोनों में बहुत अंतर है.
– सेक्स एडिक्ट सेक्सुअल एक्टिविटी से इस कद्र घिरा हुआ रहता है कि उसका ध्यान तक नहीं रहता कि वो अपने पार्टनर, परिवार और ख़ुद को कितना नुक़सान पहुंचा रहा है.

हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप

हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप

हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप, जिसे कभी कभी धमनी उच्च रक्तचाप भी कहते हैं, एक पुरानी चिकित्सीय स्थिति है जिसमें धमनियों में रक्त का दबाव बढ़ जाता है। दबाव की इस वृद्धि के कारण, रक्त की धमनियों में रक्त का प्रवाह बनाये रखने के लिये दिल को सामान्य से अधिक काम करने की आवश्यकता पड़ती है। रक्तचाप में दो माप शामिल होती हैं, सिस्टोलिक और डायस्टोलिक, जो इस बात पर निर्भर करती है कि हृदय की मांसपेशियों में संकुचन (सिस्टोल) हो रहा है या धड़कनों के बीच में तनाव मुक्तता (डायस्टोल) हो रही है। आराम के समय पर सामान्य रक्तचाप 100-140 mmHg सिस्टोलिक (उच्चतम-रीड

पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज

पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज

पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज

पथरी होना आजकल एक आम समस्या बन गयी है अगर किसी को पथरी हो जाये तो उसको बहुत तकलीफ झेलनी पढ़ती है इसीलिए आज हम आपको इस पोस्ट में पथरी के इलाज के बारे में बताएँगे जो एकदम सरल और प्रभावी भी है पथरी औरतों की अपेक्षा मर्दों में तीन गुना अधिक पाई जाते है और ज़्यादातर पथरी 20 से लेकर 30 साल तक के लोगों में देखने को मिलते है अगर आप जानना चाहते हैं के पथरी के लक्षण क्या होते हैं और इसका इलाज कैसे संभव है 

पथरी के लक्षण 

स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें

 कहीं भी बाहर से घर आने के बाद, किसी बाहरी वस्तु को हाथ लगाने के बाद, खाना बनाने से पहले, खाने से पहले, खाने के बाद और बाथरूम का उपयोग करने के बाद हाथों को अच्छी तरह साबुन से धोएं। यदि आपके घर में कोई छोटा बच्चा है तब तो यह और भी जरूरी हो जाता है। उसे हाथ लगाने से पहले अपने हाथ अच्छे से जरूर धोएं। 

Pages