स्वास्थ्य समाचार

बेटी की बिदाई- मां के लिए बड़ी चुनौती है इस प्रकार

आधुनिक सुसंस्कृत परिवारों में बदलाव की पहल दोनों ओर से होती है लेकिन नई बहू को ही सबसे ज्यादा समझौता करना होता है। ऐसे में मायके के संस्कार व स्वयं को परिस्थितियों के अनुरूप ढालने की मानसिकता ही सब कुछ सहज-सरल बनाती है व प्यारी बिटिया धीरे-धीरे लाड़ली बहू बन जाती है।

स्त्री जीवन की यह सबसे बड़ी विडंबना है कि उसका जन्म किसी एक परिवार में होता है, जहां वह कोई 22-25 साल परवरिश पाती है और फिर 7 फेरों के साथ ही वह नितांत अजनबी परिवार में जीवन बिताने को अग्रसर होती है। ऐसे में उसे ही नए परिवार व परिवेश को अपनाना होता है, अपनी आदतों को उस परिवार के अनुसार बदलना होता है Read More : बेटी की बिदाई- मां के लिए बड़ी चुनौती है इस प्रकार about बेटी की बिदाई- मां के लिए बड़ी चुनौती है इस प्रकार

डिप्रेशन का शिकार क्यों बन रहे हैं लोग जानें क्यों

अध्ययन दल के प्रमुख डॉ. मनमोहन सिंह ने 'इंडिया साइंस वायर' को बताया कि किशोरों में अवसाद के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस समस्या को गंभीरता से लेने की जरूरत है क्योंकि किशोरावस्था बचपन से वयस्कता के बीच के एक संक्रमण काल की अवधि होती है। इस दौरान किशोरों में कई हार्मोनल और शारीरिक परिवर्तन होते हैं। ऐसे में अवसाद का शिकार होना उन बच्चों के करियर निर्माण और भविष्य के लिहाज से घातक साबित हो सकता है।

  Read More : डिप्रेशन का शिकार क्यों बन रहे हैं लोग जानें क्यों about डिप्रेशन का शिकार क्यों बन रहे हैं लोग जानें क्यों

एक हफ्ते में वाटर वेट से छुटकारा पाना है तो ये तरीके आजमाएं

अक्सर यह माना जाता है कि पानी पीना सेहत के लिए अच्छा होता है लेकिन कभी कभी ज्यादा पानी पीना भी हमारी सेहत के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है।

आप सोंच रहे होंगे भला ये क्‍या बात होती है, पानी से भला कैसे नुकसान हो सकता है। पर क्‍या आपने वॉटर वेट के बारे में सुना है।

क्‍या आपके फेस पर या बॉडी में सूजन दिखती है या फिर क्‍या लाख जिम में वर्कआउट करने के बाद भी वजन कम होने का नाम नहीं लेता। तो इसका साफ मतलब है कि आपका वजन पानी की वजह से बढा हुआ है। Read More : एक हफ्ते में वाटर वेट से छुटकारा पाना है तो ये तरीके आजमाएं about एक हफ्ते में वाटर वेट से छुटकारा पाना है तो ये तरीके आजमाएं

सिर दर्द को चुटकियों में दूर करता है सिर्फ '1 नींबू' करके देखे प्रयोग

सिर दर्द को कैसे दूर करें 

यूं तो अपने शरीर को तंदुरूस्‍त रखने के लिए आराम करना बेहद जरूरी होता है लेकिन भागदौड़ भरी जिंदगी, बढ़ते तनाव और लगातार काम करने से हमारे शरीर में थकावट होने से के सिरदर्द होना शुरू हो जाता है। कभी-कभी तो सिर दर्द इतना बढ़ जाता है कि बर्दाशत करना मुश्किल हो जाता है और दर्द से राहत पाने के लिए हमें पेनकिलर का सहारा लेना पड़ता है। लेकिन बार-बार पेनकिलर का प्रयोग करना सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।     Read More : सिर दर्द को चुटकियों में दूर करता है सिर्फ '1 नींबू' करके देखे प्रयोग about सिर दर्द को चुटकियों में दूर करता है सिर्फ '1 नींबू' करके देखे प्रयोग

स्वाद से भरपूर पोहे खाने के लाभ और फायदे

और अधिक पौष्टिक पोहा

भारत : हम भारतीयो को पोहा बहुत पसंद होता है। पोहा पीटे चावल से बना एक स्‍वस्‍थ नाश्ता है। यह आसानी से तैयार होने वाला स्‍वादिष्‍ट और अधिक मात्रा में सब्जियों की मौजूदगी के कारण बेहद पौष्टिक भी होता है। भारत के विभिन्न राज्यों में, पोहा अलग अलग तरीकों से तैयार किया जाता है और कई घरों का तो यह एक प्रधान नाश्ता है। क्‍या आप पोहे के स्वास्थ्य लाभों के बारे में जानते हैं? आइए पोहे के स्‍वास्‍थ्‍य लाभों की जानकारी लेते हैं।  Read More : स्वाद से भरपूर पोहे खाने के लाभ और फायदे about स्वाद से भरपूर पोहे खाने के लाभ और फायदे

क्या है स्लीप डिस्ऑर्डर

नींद ना आने की कई वजहें हैं।' 

खर्राटे लेना: खर्राटे लेने को अगर आप गहरी नींद की निशानी समझते हैं, तो यह बिल्कुल गलत है। दरअसल, यह नींद के दौरान ठीक से सांस न ले पाने की वजह से होता है। खर्राटे लेने वाले व्यक्ति की नींद अक्सर पूरी नहीं होती। वह दिनभर नींद से भरा व चिड़चिड़ा रहता है। उसकी याद्दाशत कम होती जाती है और उसे पर्सनैलिटी डिस्ऑर्डर का भी खतरा रहा है। 

नींद न आना: रुटीन सही न रहना, चाय व कॉफी अधिक पीना, ज्यादा ऐल्कॉहॉल लेना, इंटरनेट, लेट नाइट पार्टी, सोने का समय फिक्स न रखना वगैरह से भी स्लीप डिस्ऑर्डर होता है।  Read More : क्या है स्लीप डिस्ऑर्डर about क्या है स्लीप डिस्ऑर्डर

क्यों होता है अल्जाइमर

ऐसा मस्तिष्क में तंत्रिका क्षति के कारण होता है, जिसे अक्सर एपीलोपोप्रिटिन ई नामक एक प्रोटीन के कारण होता है जो मस्तिष्क में प्लेग बनाता है। अल्जाइमर रोग के लिए कोई ज्ञात इलाज नहीं है। हालांकि इस रोग से लड़ने के लिए कुछ सावधानी बरती जा सकती है। एक स्वस्थ आहार कुछ हद तक इस रोग से लड़ने में मदद कर सकता है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि जो हम खाते हैं वह अक्सर हमारे दिल और हमारे दिमाग को प्रभावित करता है। एक अच्छी डायट अल्जाइमर रोग को 53 फीसदी तक कम कर सकती है। अल्जीमर रोग से बचने के लिए डायट में यह चीजें शामिल होनी चाहिए।निर्णय लेने में कठिनाई या गलत निर्णय- अल्झीमर्स का मरीज अनाप-शनाप कपड़े पहन Read More : क्यों होता है अल्जाइमर about क्यों होता है अल्जाइमर

दही दूर कर सकता है अपके पैरों का फंगल इंफेक्शन

फंगल इंफैक्शन एक प्रकार की स्किन एलर्जी होती है जो हमारी बॉडी के किसी भी हिस्से पर कभी भी हो सकती है। पर अक्सर फंगल इन्फेक्शन की समस्या पैरो की उंगलियों में ही होती है, फंगल इन्फेक्शन होने पर पैरों की उंगलियों की स्किन में लाल पपड़ी जैसे दाग हो जाते है जिनमे बहुत खुलजी, रैशेज और दर्द होती है। कभी कभी फंगल इन्फेक्शन के कारण पैरों में सूजन और नाखुनों का पीलापन भी आ जाता है। फंगल इंफैक्शन होने का कारण पसीना आना, एंटीबॉयोटिक दवाओं के साइड इफैक्ट्स, साफ सफाई न रखना, शरीर में गर्मी, अधिक देर तक पैरों का गीला रहना और ब्लड सर्कुलेशन की कमी भी हो सकता है, पर आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे है जि Read More : दही दूर कर सकता है अपके पैरों का फंगल इंफेक्शन about दही दूर कर सकता है अपके पैरों का फंगल इंफेक्शन

होठों की क्या ज़रूरत है

होंठ...सर्दियों में सूख जाते हैं और कभी कभी दांत इन्हें भोजन समझने की ग़लती करते हुए चबा जाते हैं. तो आख़िर होठों की ज़रूरत क्या है.

पहले बात करते हैं इनकी अहमियत की. पैदा होने के बाद ही हमारा सबसे पहला कौशल होठों के ज़रिए दिखता है और वह है चूसना.

यह इतना मौलिक है कि मानों हम चूसने की कला सीखकर ही पैदा हुए हों और इसे सीखने की ज़रूरत ही नहीं है. यह लगभग सभी स्तनधारियों के लिए सच है. Read More : होठों की क्या ज़रूरत है about होठों की क्या ज़रूरत है

गिलोय के फायदे और अनेक प्रकार से रोगों से छुटकारा

गिलोय के फायदे और अनेक प्रकार से रोगों से छुटकारा

आयुर्वेद का अमृत और ओषधि गिलोय : गिलोय व्यक्ति को अमर बना देती है .अमर बनाने से अभिप्राय दीर्घायु से है. आयुर्वेद की सर्वश्रेष्ठ बेल गिलोय लगभग हर रोग का उपचार करने में सक्षम है. इसीलिए माना जाता है आयुर्वेद में माना जाता है कि अश्विनी कुमार भी गिलोय का इस्तेमाल औषधि बनाने के लिए सर्वाधिक करते थे. गिलोय की खास बात ये है कि इसकी बेल हर जगह मिल जाती है, जिसकी वजह से ये हर व्यक्ति के पास आसानी से उपलब्ध हो जाती है. Read More : गिलोय के फायदे और अनेक प्रकार से रोगों से छुटकारा about गिलोय के फायदे और अनेक प्रकार से रोगों से छुटकारा

Pages