स्वास्थ्य समाचार

भूलकर भी किसी दिन Skip ना करें भोजन, होते है ये खतरनाक बदलाव

भूलकर भी किसी दिन Skip ना करें भोजन, होते है ये खतरनाक बदलाव

जब कभी आप लेट होते हैं तब आप आप अक्सर खाना न खाकर उस देरी से बचने का प्रयत्न करते हैं। यदि आप वज़न कम करने का प्रयत्न कर रहे हैं तो तो आप ऐसा सोचते हैं कि खाना न खाने से कैलोरी कम हो जायेगी और आपका वज़न भी कम हो जाएगा।

परन्तु यह बात सत्य से परे है- शोधकर्ताओं के अनुसार खाना न खाने से आपकी डाइट और स्वास्थ्य दोनों खराब हो सकते हैं।

रोजाना भीगे हुए चने खाने के हैं कई फायदे, जानिए और स्वस्थ्य रहिए....

रोजाना भीगे हुए चने खाने के हैं कई फायदे, जानिए और स्वस्थ्य रहिए....

देशी चने की बात की जाए तो ये आपको बादाम और काजू जैसे मंहगे से खाद्य से भी ज्यादा फायदेमंद होता है।

शायद आपको पता भी नहीं होगा कि इसमें प्रोटीन, विटामिंस और फाइबर अधिक मात्रा में पाया जाता है।

आप मुट्ठी भर चना लेकर रात में किसी मिट्टी या चीनी मिट्टी के बर्तन में रख दें। सुबह आप इन भीगे हुए चनों को खूब चबाचबाकर खाएं।आप चाहें तो इसका पानी भी पी सकते हैं।

आइए जानते हैं इसको रोजाना खाने के लाभ....

 

रोजाना भीगे हुए चने खाने से होने वाले लाभ

मिलेगी ताकत और एनर्जी

बच्चों में टाइफाइड बुखार होने के कारण

बच्चों में टाइफाइड बुखार होने के कारण
  1. बच्चो में टाइफाइड बुखार संक्रमित खाद्य पदार्थ और संक्रमित पानी से होता है। 
  2. बच्चों में टाइफाइड बुखार गन्दगी के कारण होता हैं। रोगी व्यक्ति के मल, यूरिन, और खून में यह कीटाणु रहते हैं, जिसके माध्यम से दूषित पानी के कारण यह बीमारी दूसरे लोगों में फैलता है।
  3. दूषित पानी से स्नान करने और खाने वाली चीज़े धो कर इस्तेमाल करने से भी यह बीमारी बच्चों में हो जाती है।
  4. टाइफाइड के कीटाणु पानी में कई हफ़्तों तक सक्रिय रहते हैं, जो बच्चो के अंदर इस बीमारी को फैलाते हैं।
  5. रोगी व्यक्ति के जूठे खाने और जूठे पानी पीने से भी बच्चे टाइफाइड बुखार से पीड़ित हो जाते हैं।

सेहत को रखना है फिट तो इस तरह से लें प्रोटीन...

सेहत को रखना है फिट तो इस तरह से लें प्रोटीन...

प्रोटीन का सही मात्रा में इस्तेमाल हमारी बॉडी को ग्रो करने में काफी मददगार हैं। चलिए जानते हैं कि आखिर कितनी मात्रा में और कितनी बार प्रोटीन लेना चाहिए। दिन के आहार में रोजाना तीन बार समान मात्रा में प्रोटीन खाने से बुजुर्गो में मांसपेशियों की ताकत में वृद्धि हो सकती है। अलग अलग उम्र के लोगों को अलग मात्रा में प्रोटीन का सेवन करना चाहिए।

आजकल फिटनेस एप्लिकेशन मौजूद हैं, जो आपको प्रोटीन के सेवन की मात्रा संबंधी जानकारी दे सकते हैं। इन एप्स की मदद लेकर आप अपनी डाइट निश्चित करें।

टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब.

टीबी से कैसे करें बचाव, क्या हैं लक्षण, जानें सब.

सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने हाल में खुलासा किया कि एक वक्त वह टीबी से पीड़ित थे और इलाज से पूरी तरह ठीक हो गए। बेशक टीबी किसी को भी हो सकती है लेकिन सही इलाज से यह पूरी तरह ठीक हो जाती है। 24 मार्च यानी गुरुवार को वर्ल्ड टीबी डे है। इस मौके पर टीबी से बचाव और इलाज पर एक्सपर्ट्स से बात करके पूरी जानकारी दे रही हैं प्रियंका सिंह:

एक्सपर्ट्स पैनल-

आपका रसोई घर बनाम दवाखाना

आपका रसोई घर

कई घरेलू चीजें ऐसी हैं जिनका उपयोग करके हम छोटी-छोटी समस्याओं को आसानी से ठीक कर सकते हैं। बस जरूरत है तो कुछ किचेन में उपयोग होने वाले सामानों की ।

उपचार :

टाइफाइड में लिए दिए जाने वाले आहार

टाइफाइड में लिए दिए जाने वाले आहार
  • तरल पदार्थ बच्चों को अधिक मात्रा में दें, जैसे फलों का रस, सब्जियों का सूप दें।
  • दूध और उससे बने आहार बच्चे को दें।
  • पौष्टिक आहार जैसे मीट, फिश, अंडे आदि रेशे युक्त फल, सब्ज़ियाँ जैसे - पालक, गोभी, गाजर आदि। 
  • मीठा आहार बच्चे को खिलाएं, जिससे उसके आँतों को आराम मिले।
  • तले भुने तथा अधिक मिर्च - मसाले वाले भोजन बच्चे को न खिलाएं।
  • गैस बनाने वाले आहार बच्चे को न खिलाएं।
  • केला, पपीता, शक्करकंद तथा खड़े अनाज जैसे - चावल, मक्का, आदि बच्चे को न दें।
  • बच्चे को ऐसे आहार दें जिसे वह आसानी से पचा सके। उबला आहार ही बच्चे को खिलाएं।

खाने से पहले या ठीक बाद में फल खाना क्यों है गलत?

खाने से पहले या ठीक बाद में फल खाना क्यों है गलत?

कहते हैं लाइफ स्टाइल का हमारे शरीर पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। अनियमित दिनचर्या व खानपान से शरीर में कई तरह की बीमारियां पैदा कर सकता है। इसीलिए आयुर्वेद में मान्यता है कि नियमित दिनचर्या से आयु लंबी होती है। कुछ काम ऐसे होते हैं, जिन्हें करने से पाचन क्रिया तीव्र हो जाती है व खाना जल्दी पच जाता है। इसके ठीक विपरीत कुछ काम ऐसे भी होते हैं, जिन्हें करने से पाचन क्रिया धीमी हो जाती है व कई तरह के रोग शरीर को घेर लेते हैं।  आयुर्वेद में हमारे शरीर को स्वस्थ रखने के हर एक तरीके के बारे में विस्तार से लिखा गया है। उसमें यह बताया गया है कि किस समय उठना चाहिये और दिन भर में कब क्या खाना चाहिये ज

ब्लैक कॉफी पीने के फायदे

ब्लैक कॉफी पीने के फायदे आपको हैरत में डाल देंगे

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि दो से तीन कप कॉफी बिना दूध या चीनी मिलाए पीने से लिवर से जुड़ी बीमारियों के होने की आशंका कम हो जाती है. विशेषज्ञों की मानें तो कॉफी के प्यालों से लि‍वर का कैंसर होने की आशंका भी कम हो जाती है.

ब्लैक कॉफी पीने के ये हैं फायदे-

एक्सट्रा फैट होता है कम

कैफीन से आपके कमर के आस पास के एक्स्ट्रा फैट को कम करने में सहायक है. पर अगर आप ज्यादा कॉफी पीती हैं तो शायद कैफीन आपकी वेस्ट घटाने में मदद न कर पाए.

कॉफी में हैं एशेंशियल न्युट्रीऐंट्स

Pages