स्वास्थ्य समाचार

शहद में छिपा है सेहत का राज़

शहद में कार्बोहाइड्रेट, विटामिन, अमीनो एसिड, प्रोटीन और खनिज पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। जोकि सेहत के लिए जरूरी होते हैं।

शहद में ग्लूकोज पाया जाता है। साथ ही शहद में पाए जाने वाले  विटामिन शरीर के भीतर जाते ही कुछ ही समय में घुल जाते  है।

बच्चों की खांसी दूर करने के लिए अदरक के रस में शहद मिलाकर देने से खांसी में आराम मिलता है। सूखी खांसी में भी शहद और नींबू का रस लेने से फायदा होता है।

जी मिचला रहा हो या फिर उल्टी आने की शिकायत हो तो शहद लेना चाहिए। Read More : शहद में छिपा है सेहत का राज़ about शहद में छिपा है सेहत का राज़

गर्भावस्था में लें सही आहार

गर्भावस्था में लें सही आहार

हर महिला कि यह इच्छा होती है कि वह एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे। इस इच्छा को पूर्ण करने के लिए गर्भावस्था मे पौष्टिक आहार का सेवन पर्याप्त मात्रा मे करना बेहद जरुरी है। गर्भस्था में शिशु का विकास माता के आहार पर निर्भर होता है। गर्भवती महिला को ऐसा आहार करना चाहिए जो उसके गर्भस्थ शिशु के पोषण कि आवश्यक्ताओ को पूरा कर सके।
  Read More : गर्भावस्था में लें सही आहार about गर्भावस्था में लें सही आहार

गन्ने के रस में है कैंसर से लड़ने की ताकत

गन्ने के रस में है कैंसर से लड़ने की ताकत

सेहत के लिये गन्ने का रस बहुत ही अधिक फायदेमंद होता है। गन्ने का रस थकान को पल भर में दूर कर देता है। गन्ने के रस में मौजूद कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, मैग्नेशियम और फॉस्फोरस जैसे आवश्यक पोषक तत्व हड्डियों को बहुत मजबूत बनाते है। गन्ने के रस से दांतों की समस्या भी बहुत कम होती है। इस रस में कैंसर व मधुमेह जैसी जानलेवा बीमारियों से लड़ने की ताकत भी होती है

आइये जानते है गन्ने के रस से होने वाले सभी फायदे के बारे में Read More : गन्ने के रस में है कैंसर से लड़ने की ताकत about गन्ने के रस में है कैंसर से लड़ने की ताकत

नीम और उसके फायदे

नीम और उसके फायदे, नीम की पत्ती खाने के फायदे, नीम से हानि, नीम की छाल, नीम की गोली, नीम का रस, नीम का काढ़ा, नीम के तेल का उपयोग, नीम के पेड़ का महत्व

भारत : नीम के पत्ते भारत से बाहर 34 देशों को निर्यात किए जाते हैं। इसके पत्तों में मौजूद बैक्टीरिया से लड़ने वाले गुण मुंहासे, छाले, खाज-खुजली, एक्जिमा वगैरह को दूर करने में मदद करते हैं। इसका अर्क मधुमेह, कैंसर, हृदयरोग, हर्पीस, एलर्जी, अल्सर, हिपेटाइटिस (पीलिया) वगैरह के इलाज में भी मदद करता है।नीम के अर्क में मधुमेह यानी डायबिटिज, बैक्टिरिया और वायरस से लड़ने के गुण पाए जाते हैं। नीम के तने, जड़, छाल और कच्चे फलों में शक्ति-वर्धक और मियादी रोगों से लड़ने का गुण भी पाया जाता है। इसकी छाल खासतौर पर मलेरिया और त्वचा संबंधी रोगों में बहुत उपयोगी होती है। Read More : नीम और उसके फायदे about नीम और उसके फायदे

सोने के समय ये करें ये बिल्कुल न करें

हमारा शरीर जितना एक्टिव दिन के समय रहता है उतना ही कम काम रात के समय करता है। अक्सर ऐसा देखा गया है कि लोग सोने से पहले ज्यादा पानी पीते हैं लेकिन क्या आपको पता है आपकी यही आदत आप पर भारी पड़ सकती है। तो चलिए आपको बताते हैं कि सोने से पहले ढेर सारा पानी पीने से क्या नुकसान होता है।

सोने से पहले ज्यादा पानी पीने से किडनी पर नकारात्मक असर पड़ता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस समय आपका शरीर बिल्कुल भी एक्टिव नहीं रहता। जिस वजह से पानी का अधिक इस्तेमाल कारक साबित नहीं होता। Read More : सोने के समय ये करें ये बिल्कुल न करें about सोने के समय ये करें ये बिल्कुल न करें

बाल अधिक झड़ते है तो अपनाये यह तरीका

बालों का झड़ना रोकने के उपाय, बाल गिरने और regrowth के लिए घरेलू उपचार, बाल गिरने का कारण, बाल गिरने की दवा, बाल झड़ने की दवा, बाल झड़ने के कारण, बालों का झड़ना रोकने वाले घरेलू नुस्खे, बालो को घना करने के उपाय
  1. सर की मालिश करने से बालों की जड़ो को पोषण मिलता है और बालों के झड़ने में कमी आती है। 
  2. सरसो के तेल में मेहंदी की पत्ती गर्म करें। ठंडा कर के बालों में लगायें, इससे बालों का झड़ना रूक सकता हैं। 
  3. आँवला,शिकाकाई पावडर को दही में मिलाए। यह मिश्रण बालों में लगाने से बालों की डीप कंडीशनिंग होती है। बालों की देखभाल के साथ-साथ खाने-पीने का भी खास ध्यान रखें। फलों और सब्जि़यों का सेवन अधिक करें। 
  4. शहद में अंडा मिलाकर लगाना भी बालों की सेहत के लिए अच्छा रहता है। 
Read More : बाल अधिक झड़ते है तो अपनाये यह तरीका about बाल अधिक झड़ते है तो अपनाये यह तरीका >

जानिए पेट दर्द के होने के कारण

जानिए पेट दर्द के होने के कारण

 दर्द किसी भी मौसम में हो सकता है। इसके बावजूद बरसात के मौसम में पेट दर्द के मामले कुछ ज्यादा ही बढ़ जाते हैं। इसका एक महत्वपूर्ण कारण है-संक्रमण। इस मौसम में पानी दूषित होता है। इस कारण दूषित पानी के पीने से जीवाणु, प्रोटोजोआ, कृमि(व‌र्म्स) और फंगस के संक्रमण ज्यादा होते हैं।

मुख्य कारण

कृमि (वर्म) का संक्रमण।

-एसीडिटी।

-टायफॉइड।

-हेपेटाइटिस।

स्टमक फ्लू या वाइरस द्वारा होने वाला पेट का संक्रमण।

-गैस्ट्रोइन्ट्राइटिस या फिर फूड प्वॉजनिंग। Read More : जानिए पेट दर्द के होने के कारण about जानिए पेट दर्द के होने के कारण

अधिक मुहांसो से परेशान है तो उनको दूर करने के नुस्खे

मुँहासे हटाने के उपाय, मुंहासे के उपचार, मुँहासे के लिए क्रीम, पिंपल्स के लिए घरेलू उपाय, मुहासे हटाने के उपाय, मुंहासे के लक्षण, कील मुहासे के दाग, चेहरे के दाग धब्बे मिटाने के उपाय

मुहांसे क्या हैं?

मुहांसे (Pimples or Acne) त्वचा की एक स्थिति है जो सफेद, काले और जलने वाले लाल दाग के रूप में दिखते हैं. यह लगभग 14 वर्ष की आयु से शुरू होकर 30 वर्ष तक कभी भी निकल सकते हैं. ये निकलते समय तकलीफदायक होते हैं और बाद में भी इसके दाग-घब्बे चेहरे पर रह जाते हैं

आप अपने चेहरे पर मुहांसों से परेशान हैं तो अपनाएं कुछ ऐसे नुस्खे जिससे आपकी सारी समस्या दूर हो जाएगी.

मुहांसों के कारण

- त्वचा के बाहरी हिस्से में रुकावट

- वंशानुगत

- मासिक धर्म

- गर्भावस्था Read More : अधिक मुहांसो से परेशान है तो उनको दूर करने के नुस्खे about अधिक मुहांसो से परेशान है तो उनको दूर करने के नुस्खे

पेट बाहर है उसे अंदर करने के तरीके

पेट बाहर है उसे अंदर करने के तरीके

 अधिकांश लोग शुरुआत में मोटापा बढ़ने पर ध्यान नहीं देते हैं, लेकिन जब मोटापा बहुत अधिक बढ़ जाता है तो उसे घटाने के लिए घंटों पसीना बहाते रहते हैं।
मोटापा घटाने के लिए खान-पान में सुधार जरूरी है। कुछ प्राकृतिक चीजें ऐसी हैं, जिनके सेवन से वजन नियंत्रित रहता है। इसीलिए यदि आप वजन कम करने के लिए बहुत मेहनत नहीं कर पाते हैं तो अपनाएं आगे बताए गए छोटे-छोटे उपाय। ये आपके बढ़ते वजन को कम कर देंगेभारत में मोटे लोगों की तादाद तेजी से बढ़ रही है। आज करीब 4 करोड़ 10 लाख ऐसे लोग भारत में मौजूद हैं, जिनका वजन सामान्य से कहीं ज्यादा है Read More : पेट बाहर है उसे अंदर करने के तरीके about पेट बाहर है उसे अंदर करने के तरीके

कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें

कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें

मानव शरीर में लसीका प्रणाली प्रतिरक्षा प्रणाली का हिस्सा है। लिम्फ नोड्स का मुख्य उद्देश्य - एक जैविक फिल्टर, यह है कि के रूप में सेवा, अवशोषण और विषाक्त पदार्थों, बैक्टीरिया और कीटाणुओं के विनाश में भाग लेने के लिए। कभी कभी सूजन या बढ़े नोड्स लिम्फ। यह समझना महत्वपूर्ण है क्या हो रहा है हानिकारक बैक्टीरिया के शरीर के प्रवेश की वजह से है आसान है। संक्रमण का स्रोत की पहचान करने, क्योंकि यह उसके पास सूजन लिम्फ नोड है आसान है। सील बगल, कमर में या कान के पीछे हो सकता है।  Read More : कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें about कान के पीछे सूजन लिम्फ नोड्स: उपचार तथा कारण का निवारण इस प्रकार करें

Pages