स्वास्थ्य समाचार

पेशाब में आ रहा है झाग तो हो जाये सावधान

ज्यादातर लोग पेशाब में झाग को सामान्य तौर पर लेते हैं और अनदेखा करते हैं. लेकिन आप इस बात को जानकर हैरान हो जाएंगे कि पेशाब में झाग आना या बुलबुले बनना आम या सामान्य नहीं है इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं।

पेशाब में झाग या बुलबुला का आना दर्शाता है कि हमारा शरीर अंदरूनी रूप से बीमार है यानी कि कहीं ना कहीं कुछ तो समस्या है जिसकी वजह से पेशाब में झाग आ रहा है।

वैसे तो इसके कई कारण हैं लेकिन कुछ कारण ऐसे हैं जो हमारी जान के लिए आफत भी बन सकता है.
इसलिए इसके नुकसान के बारे में हर किसी को निश्चित रूप से जानना चाहिए।

मिठाई में इस्तेमाल होने वाला चांदी का वर्क असली है या नकली

खाद्य पदार्थों में मिलावट आम बात है। खासकर त्यौहारों के दौरान मिठाइयों में मिलावट होने के मामले अधिडी देखे जाते हैं।

आपको बता दें मिलावट वाली चीजें खाने से आपके स्वास्थ्य के लिए कई खतरे पैदा हो सकते हैं। इससे आपको पेट ख़राब होना, उल्टी और मतली का अनुभव हो सकता है।

इन दिनों मिठाइयों के साथ-साथ सबसे ज्यादा मिलावट मिठाइयों में इस्तेमाल होने वाली सिल्वर लीफ यानी चांदी के वर्क में खूब मिलावट हो रही हैं।

इतना ही नहीं, चांदी के असली वर्क के नाम पर बाजार में एल्युमिनियम के वर्क भी बिक रहे हैं। इससे कैंसर, फेफड़े और दिमाग की बीमारियां हो सकती हैं।

पेट दर्द और पेट में मरोड़ का कारण, लक्षण और उपचार आइए जानें

पेट दर्द और पेट में मरोड़ के प्रकार और कारण, घर पर मेट दर्द और मरोड़ की देखभाल करने के उपाय और किन लक्षणों में आप को तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए या हॉस्पिटल जाना चाहिए क्यों की दर्द कभी कभी गंभीर बिमारियों की वजह से हो सकता है।

रक्तदान से होने वाले फायदे

रक्तदान से होने वाले फायदे
  • यदि कोई व्यक्ति नियमित रूप से रक्तदान करता है तो उसको काफी हद तक हार्ट सम्बंधी बीमारी होने का खतरा बहुत कम हो जाता है। डॉक्टर्स के मुताबिक रक्तदान से खून पतला होता है, जोकि हृदय के लिए अच्छी बात होती है। 
  • यदि किसी के शरीर में आयरन की अतिरिक्त मात्रा है तो वह उसके लीवर और किडनी में जमा होता रहता है। यदि ऐसे व्यक्ति नियमित रूप से रक्तदान करते हैं तो उसके शरीर में आयरन का लेवल कंट्रोल में रहता है और वह व्यक्ति विभिन्न प्रकार की बीमारियों से ग्रसित होने से बच जाता है।  

बालों को स्‍ट्रेट करने के प्राकृतिक उपाय

नारियल के तेल को गुनगुना करके हल्‍की मसाज करते हुए अपने बालों में लगायें। तेल लगानेके बाद सिर को गर्म तौलिये से ढंक लें। इससे बालों में चमक आने के साथ बाल सीधे भी हो जाएंगे। दो अंडों को फेटकर उसमें दो चम्‍मच जैतून का तेल मिला लें। ब्रश की मदद से इस पेस्‍ट को बालों में लगाएं। 1 घंटे के बाद इसे शैंपू से धो लें। इससे बाल सीधे होगें और उनमें मजबूती भी आएगी। एक स्‍प्रे बोतल में एक तिहाई कप पानी और थोड़ा सा दूध मिक्‍स कर लें। नहाने से 1 घंटा पहले अपने बालों पर इसे स्‍प्रे करें। और बालों को बड़े मुंह वाले कंघे से सुलझा लें। फिर अपने बालों को शैंपू से और कंडीशनर से धो लें। आपके बाल दोबारा शैंपू करन

कैसे लें खुद हाफ बाथ?

सबसे पहले खुद के ल‍िए बाथ टब का इंतजाम करें। इसके बाद इसे आधा गर्म पानी से भरें। इतना गर्म पानी होना चाहिए कि आप इसके तापमान को सहन कर सकें। इस बात का ध्‍यान रखें कि पानी इतना गर्म होना चाहिए कि आपकी त्‍वचा जल न जाएं। पानी का इतना तापमान होना चाहिए कि आप आराम से इसमें कम्‍फर्टटेबल होकर इसमें 10 से 15 मिनट तक गुजार सकें। अच्‍छे रिजल्‍ट के ल‍िए आप पानी में समुद्री नमक और एसेंशियल ऑयल भी मिला सकती है। इससे आप ज्‍यादा आराम महसूस करेंगी। अब आप बाथटब में जाएं और इस बात का ध्‍यान रखें कि आपके शरीर का निचला हिस्‍सा ही पानी में भीगना चाहिए। सिर्फ नाभि तक ही पानी आना चाहिए। अगर ये पानी आपकी नाभि तक आ

कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा

कम उम्र में सेक्‍स करने से बढ़ जाता है इस चीज का खतरा

कम उम्र में यौन संबंध बनाने वाले किशारों के लिए एक शोध सामने आया है। इस शोध के मुताबिक जो बच्चे कम उम्र में सेक्स करते हैं उनको सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है।

एक अंग्रेजी वेबसाइट में छपे शोध में सामने आया है कि बाहरवीं में पढ़ने वाले बच्चों के मुकाबले सातवीं कक्षा में तेजी से बच्चे यौन संबंध बना रहे हैं। पहली बार सेक्स करने वाले सातवीं क्लास के बच्चे तीन गुना ज्यादा एसटीआई से प्रभावित हुए हैं। शोध में बताया गया है कि चिकित्सीय एवं मनोवैज्ञानिक समस्याओं की चपेट में आने की वजहों में यौन संबंधों से होने वाला संक्रमण सबसे प्रमुख वजह है।

ये चीजें बताएंगी आपके प्यार की गहराई

ये चीजें बताएंगी आपके प्यार की गहराई

जब भी हम किसी के साथ रिलेशनशिप में होते हैं तो यह आवश्यक रूप से जानना चाहते हैं कि हमारे रिलेशनशिप का स्टेटस क्या है या कहां तक पहुंचा है? क्या यह सही चल रहा है या फिर उसके अंत के दिन नजदीक आ गए हैं। यहां कुछ ऐसे ही बिंदुओं पर चर्चा की जा रही है, जिनके जरिये हम डेटिंग बनाम रिलेशनशिप के स्टेटस को बखूबी जान सकेंगे।

शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा

शयनकक्ष में बहुत रोशनी बढ़ा सकती है मोटापा

लंदन : क्या आपको आपकी बढ़ती वजन की कोई वजह नजर नहीं आ रही तो आपको इस बात का ध्यान रखने की जरूरत है कि आपके शयनकक्ष में तेज रोशनी तो नहीं रहती। एक नए अध्ययन से बात सामने आई है कि सोते वक्त कमरे में बहुत अधिक रोशनी महिलाओं में वजन बढ़ाने की वजह होती है।
लंदन स्थित इंस्टीट्युट आफ कैंसर रिसर्च के प्राध्यापक एंटनी स्वेर्डलॉ ने कहा, “हमें हमारे अध्ययन में रोशनी और मोटापे के बीच के संबंध बेहद पहेलीनुमा नजर आए।”
इस अध्ययन में 40 साल की 113,000 से अधिक महिलाओं को शामिल किया गया।

ब्रेस्ट कैंसर के लिए कीमोथेरेपी क्यों ज़रूरी है?

जम्मू में रहने वाली कमल कामरा को ब्रेस्ट कैंसर था. नवंबर में उनकी ब्रेस्ट सर्जरी हुई और जनवरी में कीमोथेरेपी शुरू हो गई.

कमल कहती हैं कि अगर मैं अपने केस को देखते हुए बोलूं तो मुझे लगता है कि लोगों में डर ज़्यादा है. जबकि इतना घबराने की ज़रूरत है नहीं.

"पहले कीमो सेशन के दौरान मुझे डर लगा था. मुझे कीमो के आठ सेशन लेने के लिए बोला गया था. लेकिन बाद में मुझे कहा गया कि चार ही सेशन काफी हैं."

Pages