स्वास्थ्य समाचार

निम्बू है कई बिमारियों का इलाज

निम्बू है कई बिमारियों का इलाज

नींबू : गुण में मीठा, स्वाद में खट्टा
* सुबह-शाम एक गिलास पानी में एक नींबू
निचोड़कर पीने से मोटापा दूर होता है।
* बवासीर (पाइल्स) में रक्त आता हो तो नींबू
की फांक में सेंधा नमक भरकर चूसने से
रक्तस्राव बंद हो जाता है।
* आधे नींबू का रस और दो चम्मच शहद मिलाकर
चाटने से तेज खाँसी, श्वास व जुकाम में लाभ
होता है।
* नींबू ज्ञान तंतुओं की उत्तेजना को शांत
करता है। इससे हृदय की अधिक धड़कन सामान्य
हो जाती है। उच्च रक्तचाप के रोगियों की
रक्तवाहिनियों को यह शक्ति देता है।

इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी

इंसानी दूध पीने को लेकर ब्रिटेन में चेतावनी

ऑनलाइन बिक रहा इंसानी दूध नुकसानदेह हो सकता है.

विशेष वेबसाइट और सोशल मीडिया समूह महिलाओं के स्तन से उतरे अतिरिक्त दूध को ज़रूरतमंद लोगों तक पहुंचाते हैं.

इस प्रोडक्ट का नाम 'लिक्विड गोल्ड' रखा गया है.

लंदन की क्वीन मेरी यूनिवर्सिटी की टीम का दावा है कि ये दूध पाश्चरीकृत नहीं है इसलिए इसमें बैक्टीरिया के पनपने की आशंका होती है.

गुमराह करने वाले दावे

जल्‍दी पिता बनने के लिए एक घंटे में करें दो बार सेक्‍स

जल्‍दी पिता बनने के लिए एक घंटे में करें दो बार सेक्‍स

कई पुरुष यौन संबंध बनाने के बाद जल्‍दी पिता बनने की ख्वाहिश रखते हैं लेकिन वे इसमें कामयाब नहीं हो पाते हैं। हाल ही में इसी संबंध में एक शोध सामने आया है।

शोध के मुताबिक, पुरुषों द्वारा एक घंटे में दो बार सेक्‍स करने के बाद वे जल्‍दी से पिता बन सकते हैं। दरअसल घंटेभर के भीतर ही दो बार सेक्‍स पुरुषों की प्रजनन क्षमता को तिगुना कर देता है।

लंदन के नॉर्थ मिडिलसेक्‍स अस्‍पताल के शोधकर्ताओं ने यह अध्‍ययन लंबे समय तक किया है। शोध में सामने आया है कि पुरुष स्‍पर्म का दूसरा सैंपल एक घंटे में आजाता है। इससे इनफर्टिलिटी ट्रीटमेंट की सफलता के आसार कई गुना अधिक बढ़ जाते हैं।

एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे

एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे

आमतौर पर यह समस्या सबसे ज्यादा गर्भवती महिलाओं और एथलीट को होती है। ये दोनों ही प्रकार के लोग इस समस्या से ज्यादा पीड़ित रहते हैं। ध्यान देने वाली बात यह है कि इस समस्या को पूरी तरह तो इलाज होना थोड़ा मुश्किल होता है, लेकिन फिर भी अगर आप घर पर ही कुछ एक्सरसाइज करें, तो इससे होने वाले दर्द से निजात पा सकते हैं। ये एक्सरसाइज इसके दर्द को काफी हद तक कम कर सकता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं, वही दो एक्सरसाइज, जिनकी मदद से आप एड़ियों में होने वाले दर्द से छुटकारा पा सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे-

क्या है आई वी एफ की प्रक्रिया, जानें

आईवीएफ प्रणाली, आईवीएफ लागत, आईवीएफ प्रक्रिया, आईवीएफ ट्रीटमेंट, भ्रूण हस्तांतरण के बाद आईवीएफ सावधानियों, कैसे आईवीएफ और अधिक सफल बनाने के लिए, सफल आईवीएफ के लिए रहस्य, आईवीएफ के साइड इफेक्ट्स

आईवीएफ यानी इन विट्रो फर्टिलाइजेशन, यह किसी भी समस्या के कारण लाइलाज निसंतान दंपति को बच्चे का तोहफा देने की ऐसी प्रक्रिया है जो दिन प्रतिदिन लोकप्रिय होती जा रही है। आई वी एफ में मां को अंडा बनाने का इंजेक्‍शन दिया जाता है। इंजेक्‍शन लगाने का उद्देश्‍य यह होता है कि ज्‍यादा से ज्‍यादा अंडे बनाए जा सकें। और अल्‍ट्रासाउट के जरिये इसकी निगरानी की जाती है कि अंडा बन रहा है या नहीं। जब उनकी ग्रोथ हो जाती है और वह परिपक्‍व हो जाते हैं तो उनमें से अंडे निकाल लिये जाते हैं और इसके बाद इन्हें प्रयोगशाला में कल्चर डिश में तैयार पति के स्‍पर्म के साथ मिलाकर निषेचन के लिए रख दिया जाता है। यह सब अल्ट्र

बच्‍चों के मानसिक विकास के लिए रोजाना खिलाएं ये 5 आहार

बच्‍चों के शरीर का विकास उनके खानपान पर निर्भर करता है। बच्‍चे के शारीरिक विकास के साथ उसके दिमाग का विकास भी स्‍वस्‍थ और पौष्टिक आहार पर निर्भर करता है। यदि आपके बच्‍चे के आहार में दिमाग के विकास के लिए जरूरी सभी पौष्टिक तत्‍व हैं तो उसके दिमाग का विकास भी तेजी से होता है। सामान्‍यतया व्‍यक्ति के दिमाग का पूर्ण विकास 5 साल की उम्र तक हो जाता है। ऐसे में उसके खानपान का विशेष ध्‍यान रखना चाहिए। अपने बच्‍चों को ऐसा आहार दीजिए जिससे उनका दिमाग तेज बने। इसलिये बच्‍चे के डायट चार्ट में जरूरी प्रोटीन ,कार्ब और फैटी एसिड वाला आहार शामिल कीजिए। इससे बच्‍चे का शरीर और दिमाग में ऊर्जा का स्‍तर बना रह

ड्रिंकिंग की लत से कैसे निजात पाएं

ज़्यादा ड्रिंकिंग करना जानलेवा हो सकता है क्‍योंकि यह आपके अंगों को अंदर से ख़राब कर देती है। आइए इस विडियो में सीनियर साइकोलॉजिस्‍ट डॉक्‍टर मधुमती सिंह से जानें कि ड्रिंकिंग की लत से आप कैसे निजात पा सकते हैं। डॉक्‍टर मधुमती का कहना है कि शाम का टाइम जब आप ड्रिंक करते हो, उसे समय अपना ध्‍यान किसी ओर एक्टिविटी में लगाएं। यानि ड्रिंक की जगह आप कोई हॉबी या स्‍पोर्ट्स शुरु करें। दूसरी चीज कुछ ऐसे नए दोस्‍त बनाएं जो ड्रिंक न करते हो। अपना सोशल सर्कल चेंज करने की कोशिश करो। तीसरा आध्‍यात्मिक चीजों के बारे में पढ़ें और कुछ लिखना शुरू करें। लिखने से आपके अंदर मौजूद निराशा बाहर आ जायेगी। पार्टियों म

महिलाओं में हार्टअटैक इस प्रकार जानें

महिलाओं में हार्टअटैक के लक्षण इस प्रकार

यह बात निश्चित है कि महिलाएं पुरुषों से अलग हैं। हार्ट अटैक के लक्षणों के बारे में भी यह बात गलत नहीं है। ऐसा माना जाता है कि हार्ट अटैक केवल पुरुषों की ही समस्या है परंतु अब हम यह जानते हैं कि हार्ट अटैक किसी को भी आ सकता है। दिल का दौरा पड़ने पर क्या करें रोज़ी ओ डोनेल को 2012 में हार्ट अटैक आया और अधिकाँश औरतों की तरह उसे भी छाती में कोई दर्द नहीं हुआ जैसा कि आमतौर पर हॉलीवुड फिल्मों में दिखाया जाता है। इसके बदले उसे हाथों और छाती में दर्द, जी मचलाना और चिपचिपी त्वचा आदि परेशानियां हुईं महिलाओं में मृत्यु का सबसे पहला कारण दिल की बीमारी है। हार्ट अटैक के लक्षणों को पहचानें और आवश्यक कदम उ

टी .बी से बचाब के घरेलु तरीके

टी .बी से बचाब के घरेलु  तरीके

 टीबी के घरेलू उपाय
1. लहसुन
इसमें काफी मात्रा में सल्फयूरिक एसिड पाया जाता है जो टीबी के कीटाणुओं को खत्म करने में मदद करता है। इसके लिए आधा चम्मच लहसुन, 1 कप दूध और 4 कप पानी को एक साथ उबालें। जब यह मिश्रण 1 चौथाई रह जाए तो इसे दिन में 3 बार पीने से टीबी रोग में फायदा होता है। इसके अलावा गर्म दूध में लहसुन मिलाकर भी पीया जा सकता है। इसके लिए दूध में लहसुन की कलियां उबालें और फिर इसका सेवन करें।

कान में दर्द है तो करें ये उपाय

कान में दर्द की समस्या किसी को भी हो सकती है। कान में दर्द होने पर आपका मन किसी काम में नहीं लगता है और आप बेचैन हो जाते हैं। कई बार यह दर्द इतना बढ़ जाता है कि खाना-पीना, उठना-बैठना यहां कि आराम से सोना तक दूभर हो जाता है। आइए जानते हैं इससे बचने के उपाय…

तुलसी की पत्तियों को पीसकर उसके रस की दो-तीन बूंदें कान में डालें। तुलसी के इस रस से कान का इन्फेक्शन ठीक होता है और दर्द दूर होता है। कान के अंदरूनी जख्मों को भी यह रस ठीक करता है।

Pages