बेहतरीन पोस्ट लोड करने और एक भी लाइक न मिलने पर

बेहतरीन पोस्ट लोड करने और एक भी लाइक न मिलने पर
, जब कर्ण ने खिन्न होकर अपना मोबाइल नीचे रख दिया
, तब श्री फेसबुक आचार्य ने फेस बुक और व्हाट्सप्प के बाबत निम्न सत्य का ज्ञान उपदेश उसे दिये :

1. हे पार्थ !, जिन्हें तुम्हारे विचार अच्छे लगते हैं, वो बिना पढ़े ही तुम्हारी पोस्ट लाइक करेंगे ।

2. मोबाईलधर कहते हैं, हे मित्र , कुछ महारथी तुम्हारी पोस्ट लाइक तो करेंगे, पर किन्ही कारण वश ग्रुप में दर्शा नही पाएंगे , ऐसे जातक तुम्हारी अन्य माध्यम से ज़रूर प्रशंसा करेंगे ।

3. मोबाईल धर सावधान करते हुए बोले , अनेक अस्थिर प्रवृत्ति के मानव, जो तुम्हे पसंद नहीं करते, वो किसी भी स्तिथि में तुम्हारी किसी भी पोस्ट को लाइक नहीं करेंगे ,चाहे पोस्ट उन्हें कितनी भी पसंद आई हो ।
यंहा हर कोई अपनी हर पोस्ट पर लाइक चाहता है किंतु हे पार्थ किसी और की पोस्ट को लाइक करना नही चाहता

4. हे पार्थ इस संसार का नियम है तुम जैसा बोओगे वैसा काटोगे तुम जितने दोस्तों की पोस्ट को लाइक करोगे उतने ही लाइक तुम्हे मिलगे

5 है पार्थ बहुत से मित्र तो फेसबुक पर मित्रता का पैगाम सिर्फ अपने मतलब के लिए भेजते हैं 
जैसे किसी ज्योतिष् के पास फ्री कुंडली दिखाने के लिए 
ऐसे ही किसी अन्य कार्यकर्ता से फ्री लाभ उठाने के लिए 
हे पार्थ ऐसे लोगो की मित्रता भी तब तक है जब तक उन्हें अपना मतलब पूरा होने की उम्मीद है

6. प्रभु बोले , परंतु पार्थ, तुम लाइक , शेयर और कमेंट के इस मोह चक्र से अपने को सर्वथा अलग रखना , और सतत् निष्काम भाव से लिखते रहना । आनंद से भरे सर्वोत्तम मेसेज फॉरवर्ड करते रहो । इसी में तुम्हारा कल्याण है ।

7. अपने अंतिम श्लोक में फेसबुक आचार्य कहते हैं, हे पार्थ! अपना मोबाइल रुपी गांडीव ,हमेशा अपने साथ रखना, यही तुम्हे मेरे विश्व रूप का दर्शन हर समय कराता रहेगा ।
कल्याणम भवतु