अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव

अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव

बहुत से लोग अंतरिक्ष में दूर तक की सैर का ख़्वाब देखते हैं. मगर अंतरिक्ष तो अनंत है. उसका कोई ओर-छोर नहीं. इंसान ने अब तक अरबों किलोमीटर के इसके विस्तार के एक हिस्से को ही जाना है. और मौजूदा अंतरिक्ष यान से आकाश के उस कोने तक पहुंचकर वापस धरती पर आना किसी एक इंसान की ज़िंदगी में मुमकिन नहीं.

तो आख़िर कौन सा ज़रिया हो सकता है जिससे अंतरिक्ष में अरबों किलोमीटर का सफ़र हम जल्द से जल्द तय कर सकें? फिर वहां से आकर बाक़ी लोगों को इस सफ़र की दास्तां सुना सकें.

मौजूदा तकनीक में तो ये मुमकिन नहीं. शायद हमें स्टार ट्रेक सीरीज़ के रॉकेट साइंटिस्ट ज़ेफ्राम कॉकरेन के कमाल का इंतज़ार करना होगा. जिन्होंने 4 अप्रैल 2063 तक अपने नए यान वार्प ड्राइव का परीक्षण करने का एलान किया था.

कॉकरेन का तजुर्बा कामयाब होता है तो अंतरिक्ष का सफ़र चुटकी बजाने जैसा हो जाएगा. इंसान ब्रह्मांड के उस कोने तक चुटकी बजाते पहुंच सकेगा, जहां जाने का ख़्वाब तक उसने नहीं देखा.

मगर ये तो हुई फ़िल्मी बातें. क्या असल ज़िंदगी में भी ऐसा होना मुमकिन है? कुछ वैज्ञानिक इसका जवाब हां में देते हैं. वो मानते हैं कि आइंस्टीन का ये फ़ॉर्मूला कि कोई चीज़ रौशनी से ज़्यादा तेज़ रफ़्तार से नहीं चल सकती, उसे एक वक़्त में ग़लत साबित किया जा सकेगा.

Image copyrightGETTY

अगर ऐसा हुआ तो हम ब्रह्मांड के दूर-दूर के कोने तक जाकर धरती पर वापस आ सकेंगे, वो भी अपनी ज़िंदगी में ही.

फिलहाल तो इंसान की बनाई कोई चीज़ जो ब्रह्मांड में अब तक सबसे लंबा सफ़र तय कर चुकी है, वो है अमरीका का अंतरिक्ष यान वोएजर 1. ये स्पेसक्राफ्ट, अब तक क़रीब 21 अरब किलोमीटर का सफ़र अंतरिक्ष में कर चुका है. यानी ये धरती से क़रीब साढ़े बारह अरब मील दूर है. इसकी रफ़्तार है 17 किलोमीटर प्रति सेकेंड.

मगर याद रखिए, वोएजर 1 को आज से क़रीब 40 साल पहले अंतरिक्ष में भेजा गया था. उसमें 70 के दशक की तकनीक का इस्तेमाल हुआ था. तबसे आज तक अंतरिक्ष की दुनिया बहुत बदल चुकी है.

आज वैज्ञानिक इतने लंबे सफ़र को एक इंसान की औसत ज़िंदगी के दरमियान पूरा करने का सपना संजो रहे हैं.

इसके लिए कुछ लोग सोलर सेल या सौर पतवार से बने यान भेजने की वक़ालत करते हैं. वहीं स्टीफ़न हॉकिंग जैसे कुछ वैज्ञानिक, इन सौर पतवारों को फोटान की मदद से चलाने का तर्क देते हैं.

Image copyrightGETTY

ऐसे में नासा के इंजीनियर ब्रूस वीगमैन एक नया नुस्खा लेकर आए हैं. वो अंतरिक्ष के सफ़र पर जाने के लिए एक टूटे हुए छाते जैसे यान की कल्पना करते हैं. जिसमें तारों के आकार का एक जाल सा होगा, जिसका आकार पंखे जैसा होगा. इसके बीच में ही रखा जाएगा एक छोटा सा यान. जो इंसान को दूर गगन की छांव में लेकर जाएगा.

ब्रूस वीगमैन का इरादा है कि इस स्पेसक्राफ्ट को वो फोटान की मदद से नहीं, बल्कि सोलर विंड या सौर हवा से चलाएंगे. फोटान वो कण हैं जिनसे रौशनी बनती है. उनकी रफ़्तार इस ब्रह्मांड में सबसे तेज़ मानी जाती है. लेकिन, सूरज से फोटान के साथ साथ कुछ और कण भी निकलते रहते हैं, जिन्हें सोलर विंड कहा जाता है.

इन्हीं की मदद से ब्रूस वीगमैन अपने टूटे हुए छाते जैसे स्पेसक्राफ्ट को दूर अंतरिक्ष में भेजना चाहते हैं.

ब्रूस वीगमैन को लगता है कि अगर वो इस सपने को हक़ीक़त में तब्दील कर पाए तो, अंतरिक्ष की सैर ख़्वाब नहीं, हक़ीक़त होगी. ब्रूस की तकनीक कामयाब रही तो अंतरिक्ष में जो दूरी वोएजर 1 ने 40 साल में तय की है, वो ब्रूस का यान 10-12 साल में पूरी कर लेगा. प्लूटो ग्रह तक पहुंचने में महज़ छह साल लगेंगे. वहीं बृहस्पति तक तो केवल दो साल में अंतरिक्ष यान पहुंच जाएगा.

Image copyrightDETLEV VAN RAVENSWAAY SCIENCE PHOTO LIBRARY

मगर ब्रूस जिस तकनीक की बात कर रहे हैं, उसे कामयाब बनाना इतना आसान भी नहीं. अमरीका की मिशिगन यूनिवर्सिटी के थॉमस ज़ु्र्बुचेन कहते हैं कि इसमें कई दिक़्क़तें आएंगी.

सूरज से सबसे ज़्यादा जो चीज़ निकलती है, वो है रौशनी. किसी सौर पतवार या सोलर सेल में उतनी ही ताक़त होती है जितनी ताक़त से एक चॉकलेट को धरती अपनी तरफ़ से खींचती है. सौर हवा या सोलर विंड की ताक़त तो उसका हज़ारवां हिस्सा भी नहीं होती.

ऐसे में किसी यान को अंतरिक्ष में अगर सौर पतवार की मदद से भेजा जाएगा तो कुछ सौ मीटर की सौर पतवार से काम चल जाएगा. मगर, ब्रूस विगमैन जिस ब्रोकेन अम्ब्रेला तकनीक की बात कर रहे हैं, उसका विस्तार कम से कम चालीस किलोमीटर होना चाहिए. यानी एक शहर के बराबर. अंतरिक्ष में तारों का इतना बड़ा जाल बुनना आसान काम नहीं.

थॉमस ज़ुर्बुचेन कहते हैं अंतरिक्ष में छोटे-छोटे यान भेजना तो मुमकिन है. मगर उन्हें चलाने के लिए तारों का इतना लंबा-चौड़ा जाल आख़िर कैसे बुना जाएगा? फिर तारों के साथ दिक़्क़त है कि वो टूटते रहते हैं.

Image copyrightGETTY

ज़ुर्बुचेन कहते हैं कि इंसान पिछले सौ से ज़्यादा सालों से तारों का इस्तेमाल करता रहा है. मगर मज़बूत से मज़बूत तार टूट जाते हैं. या उनके अंदर अगर बिजली दौड़ाई जाती है तो वो जल भी जाते हैं.

ऐसे में अंतरिक्ष में जब तारों से बना ब्रूस विगमैन का ब्रोकेन अम्ब्रेला उड़ेगा, तो कब कौन सा तार टूटेगा, कहना मुमकिन नहीं. वैसी सूरत में पूरा मिशन नाकाम हो जाएगा. फिर सफ़र के दौरान अगर वो कहीं किसी धूमकेतु या उल्कापिंड से जा टकराया, तो पूरा सत्यानाश ही हो जाना है.

ब्रूस के ब्रोकेन अम्ब्रेला स्पेसक्राफ्ट के बजाय ज़ुर्बुचेन सलाह देते हैं कि दूर भेजे जाने वाले अंतरिक्ष यान या तो सोलर सेल, या फिर एटमी ताक़त की मदद से चलने वाले हों. वो कहते हैं कि दोनों ही तकनीक का मिल-जुलकर भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

लेकिन, ज़ुर्बुचेन, ब्रूस विगमैन के इरादों को पूरी तरह ख़ारिज भी नहीं करते.

Image copyrightALAMY

इसीलिए विगमैन ख़ुद बहुत उत्साहित हैं. वो इन दिनों अपनी टीम के साथ इस बारे में तमाम तरह के प्रयोग कर रहे हैं. उन्हें उम्मीद है कि 2020 तक वो इसकी तकनीक तैयार कर लेंगे.

ब्रूस विगमैन का कहना है कि किसी भी ख़्वाब को हक़ीक़त में तब्दील करने में वक़्त लगता है. शुरुआत कहीं न कहीं से तो करनी होती है. फिर इसमें जो तकनीक इस्तेमाल होनी है, उसे भी विकसित करना है. अगर वो तकनीक कामयाब साबित होती है. तो फिर बड़ा काम रह जाएगा इंजीनियरिंग का. जिसकी मदद से इतना बड़ा तारों का छाता अंतरिक्ष में बुनकर तैयार करना होगा.

अगर अगले चार सालों में ऐसा हुआ, तो 21 अरब किलोमीटर दूर जा चुके वोएजर 1 को पछाड़ना मुमकिन होगा.

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

New Science news Updates

icon Total views
नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? 1,494
बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण 1,267
मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | 1,170
अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव 2,178
बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! आपके बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! 829
अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? 1,054
पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ 1,392
सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज 1,683
आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी 1,643
मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध 1,605
लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी 1,853
ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित 916
जीमेल ने शुरू की ब्लॉक व अनसब्सक्राइब सेवा जीमेल ने शुरू की ब्लॉक व अनसब्सक्राइब सेवा 1,038
कम्‍प्‍यूटर से नहीं सुधरती है स्‍कूली बच्‍चों की पढ़ाई कम्‍प्‍यूटर से नहीं सुधरती है स्‍कूली बच्‍चों की पढ़ाई 850
LG वॉलपेपर टीवी जिसे आप दीवार पर चिपका सकेंगे LG वॉलपेपर टीवी जिसे आप दीवार पर चिपका सकेंगे 1,595
गूगल ग्‍लास नया गूगल ग्‍लास : बिना कांच के 2,492
घोंघे के दिमाग से समझदार बनेगा रोबोट घोंघे के दिमाग से समझदार बनेगा रोबोट 828
 गूगल पर भूल कर भी न करें ये सर्च गूगल पर भूल कर भी न करें ये सर्च 1,457
स्मार्टफोन के लिए एन्क्रिप्शन क्यों ज़रूरी  है स्मार्टफोन के लिए एन्क्रिप्शन क्यों ज़रूरी है 1,147
इस साल विज्ञान की सबसे बड़ी खोज इस साल विज्ञान की सबसे बड़ी खोज 4,212