अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं?

अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं?

अंग्रेज़ी में एक कहावत है कि 'मैन आर फ़्रॉम मार्स, वीमेन आर फ़्रॉम वीनस' यानी पुरुष मंगल ग्रह से और महिलाएं शुक्र से आई हैं. लेकिन इन दोनों के मस्तिष्क पर हुए एक अध्ययन का मानना है कि एक मायने में यह सही हो सकता है.

एक ताज़ा अध्ययन में पाया गया है कि पुरुषों और महिलाओं के मस्तिष्क की बुनावट इस क़दर भिन्न है कि लगता है कि दोनों ही अलग-अलग ग्रह की प्रजातियां हैं.

पुरुषों के मस्तिष्क की बुनावट आगे से पीछे की ओर होती है और दोनों हिस्सों को जोड़ने के लिए कुछ ही तंतु होते हैं जबकि महिलाओं के मस्तिष्क में तंतु बाएं से दाहिने और दाहिने से बाएं तिरछे एकदूसरे से जुड़े रहते हैं.

पुरुषों के मस्तिष्क में जहां तंत्रिका तंतु अपेक्षाकृत ज़्यादा होते हैं वहीं महिलाओं में न्यूरॉन कोशिकाएं रखने वाला ग्रे मैटर का हिस्सा ज़्यादा होता है.

पेनसिल्वेनिया विश्वविद्यालय से जुड़े अमरीकी वैज्ञानिकों के अनुसार, मस्तिष्क संरचना की बुनावट में इस भिन्नता से पुरुषों और महिलाओं के अलग-अलग व्यवहार एवं कौशल को समझा जा सकता है.

इस शोध की अगुवाई करने वाली डॉ. रागिनी वर्मा का कहना है कि पुरुषों के मस्तिष्क की बुनावट धारणा और कार्य में सामंजस्य बैठाने के लिए बेहतर है.

भिन्न व्यवहार

Image captionपुरुषों के मस्तिष्क का हेमीस्फियर बाहर से जबकि महिलाओं में यह अंदर से ज्यादा जुड़ा होता है.

जबकि महिलाओं का मस्तिष्क विचार प्रक्रिया, विश्लेषण और अंतर-दृष्टि के लिहाज से 'दिल और दिमाग' को एकीकृत उपयोग के लिए ज़्यादा उपयुक्त है.

पहले हुए शोध में बताया गया था कि पुरुषों में महिलाओं की अपेक्षा 'चालक' और 'स्थानिक' क्षमता ज्यादा होती है.

उदाहरण के लिए एक शल्य चिकित्सक को हाथों से बारीक सर्जरी करने के लिए बेहतर 'चालक' क्षमता की ज़रूरत होती है.

त्रिआयामी वस्तुओं की पहचान के लिए जिम्मेदार 'स्थानिक' क्षमता नक्शों को पढ़ने और कार पार्किंग में मदद करती है.

इस शोध में, दूसरी तरफ, महिलाओं में बेहतर याददाश्त और सामाजिक सूचनाओं को व्यवस्थित करने की बेहतर दक्षता दिखाई गई थी.

महिलाएं पुरुषों की अपेक्षा ज़्यादा दक्षता से दिमाग पढ़ सकती हैं. साथ ही वे बारीक मनोवैज्ञानिक छल के प्रति ज़्यादा संवेदनशील होती हैं.

गुत्थी सुलझी

नए शोध के बारे में 'प्रोसीडिंग ऑफ दि नेशनल एकेडमी' जर्नल में प्रकाशित हुआ है.

यह शोध आठ से 22 वर्ष उम्र के क़रीब 1,000 बच्चों और युवाओं के ब्रेन स्कैन के अध्ययन पर आधारित है.

वैज्ञानिकों ने एक विशेष प्रकार की एमआरआई (मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग) की मदद से मस्तिष्क के अंदर न्यूरॉन्स की संरचनागत बुनावट की जांच की. इस नई तकनीक का नाम डीटीआई (डिफ्यूजिंग टेंसर इमेजिंग) है.

इस तकनीक ने मस्तिष्क के 'ह्वाइट मैटर' की मैपिंग करने को संभव बनाया. 'ह्वाइट मैटर' में केबल वायरिंग की तरह तंत्रिका तंतु होते हैं जिनमें त्रिआयामी संदेश होकर गुजरते हैं.

अध्ययन से पता चला कि मनुष्य के मस्तिष्क की संरचनागत बुनावट में बुनियादी लैंगिक भेद है.

एकाग्रता में महिलाएं आगे

शोधकर्ताओं के अनुसार, व्यवहार की जांच में प्रभावी लैंगिक भेद देखने को मिला.

एकाग्रता, शब्द एवं चेहरे याद रखना और सामाजिक बंधनों को याद रखने के मामले में महिलाओं ने पुरुषों को काफ़ी पीछे छोड़ दिया.

पुरुष 'स्थानिक' क्षमताओं, मसलन सामंजस्यपूर्ण कार्रवाइयों के मामले में बेहतर दिखे.

वैज्ञानिकों ने 13 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में जो लैंगिक भेद चिन्हित किए थे, वो 14 से 17 वर्ष की उम्र में ज़्यादा प्रभावी हो गए.

मस्तिष्क के एक ख़ास हिस्से, जिसे सेरीबेलम कहते हैं, में उल्टी वायरिंग दिखी. पुरुषों में इस हिस्से में ज़्यादा कनेक्टिविटी दिखी जबकि महिलाओं इस हेमिस्फियर के अंदर ज़्यादा कनेक्टिविटी दिखी.

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 9259436235 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 9259436235

 

 

 

New Science news Updates

icon Total views
नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? 1,448
बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण 1,215
मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | 1,133
अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव 2,160
बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! आपके बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! 758
अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? 1,029
पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ 1,373
सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज 1,661
आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी 1,627
मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध 1,577
लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी 1,833
ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित 899
जीमेल ने शुरू की ब्लॉक व अनसब्सक्राइब सेवा जीमेल ने शुरू की ब्लॉक व अनसब्सक्राइब सेवा 1,019
कम्‍प्‍यूटर से नहीं सुधरती है स्‍कूली बच्‍चों की पढ़ाई कम्‍प्‍यूटर से नहीं सुधरती है स्‍कूली बच्‍चों की पढ़ाई 833
LG वॉलपेपर टीवी जिसे आप दीवार पर चिपका सकेंगे LG वॉलपेपर टीवी जिसे आप दीवार पर चिपका सकेंगे 1,575
गूगल ग्‍लास नया गूगल ग्‍लास : बिना कांच के 2,465
घोंघे के दिमाग से समझदार बनेगा रोबोट घोंघे के दिमाग से समझदार बनेगा रोबोट 811
 गूगल पर भूल कर भी न करें ये सर्च गूगल पर भूल कर भी न करें ये सर्च 1,433
स्मार्टफोन के लिए एन्क्रिप्शन क्यों ज़रूरी  है स्मार्टफोन के लिए एन्क्रिप्शन क्यों ज़रूरी है 1,129
इस साल विज्ञान की सबसे बड़ी खोज इस साल विज्ञान की सबसे बड़ी खोज 4,179