क्या आपके नाखून कीटाणु रहित हैं ?

क्या आपके नाखून कीटाणु रहित हैं ?

बीमारियों से बचने के लिए सबसे बड़ा नुस्ख़ा जो बताया जाता है वो है हाथ साफ़ रखने का. डॉक्टर हों या घर के बड़े बुजुर्ग, सब कहते हैं कि अपने हाथ हमेशा साफ़ रखें. शौच के बाद हाथों को साबुन से धोएं. खाने से पहले हाथ ज़रूर धोएं, वग़ैरह. लोग कहते हैं कि हाथ साफ़ रखने से कीटाणु नहीं फैलते. खाने-पीने का धंधा करने वालों को ख़ास तौर से हाथ साफ़ रखने को कहा जाता है.
मगर होता यूं है कि चाहे आप जितना हाथ रगड़ लें, उनसे बैक्टीरिया कभी पूरी तरह ख़त्म नहीं होते. इसीलिए अब मरीज़ों से बात करते वक़्त या उनकी पड़ताल करते वक़्त डॉक्टर और नर्स हाथों में दस्ताने पहनते हैं.
आज से क़रीब सौ साल पहले डॉक्टरों ने देखा कि बार-बार हाथ धोने के बावजूद, हाथों के कीटाणु कभी पूरी तरह ख़त्म नहीं होते. लेकिन, इसकी वजह पता चलने में दो तिहाई सदी गुज़र गई.
सत्तर के दशक में जाकर इसकी वजह सामने आई. पता ये चला कि अगर आप अपनी उंगलियों के पोरों को साफ़ रखते हैं तो कीटाणु कम फैलते हैं. वैज्ञानिकों की पड़ताल से पता ये चला कि हमारे नाखूनों के नीचे की जो जगह है, वो असल में कीटाणुओं का चिड़ियाघर है.नाखूनों और उंगली के बीच की इस जगह की ठीक से सफ़ाई नहीं हो पाती. साथ ही, हाथ धोने पर यहां का पानी काफ़ी देर तक ठीक से सूखता नहीं. ऐसे माहौल बीमारियों से बचने के लिए सबसे बड़ा नुस्ख़ा जो बताया जाता है वो है हाथ साफ़ रखने का. डॉक्टर हों या घर के बड़े बुजुर्ग, सब कहते हैं कि अपने हाथ हमेशा साफ़ रखें. शौच के बाद हाथों को साबुन से धोएं. खाने से पहले हाथ ज़रूर धोएं, वग़ैरह. लोग कहते हैं कि हाथ साफ़ रखने से कीटाणु नहीं फैलते. खाने-पीने का धंधा करने वालों को ख़ास तौर से हाथ साफ़ रखने को कहा जाता है.
मगर होता यूं है कि चाहे आप जितना हाथ रगड़ लें, उनसे बैक्टीरिया कभी पूरी तरह ख़त्म नहीं होते. इसीलिए अब मरीज़ों से बात करते वक़्त या उनकी पड़ताल करते वक़्त डॉक्टर और नर्स हाथों में दस्ताने पहनते हैं.
आज से क़रीब सौ साल पहले डॉक्टरों ने देखा कि बार-बार हाथ धोने के बावजूद, हाथों के कीटाणु कभी पूरी तरह ख़त्म नहीं होते. लेकिन, इसकी वजह पता चलने में दो तिहाई सदी गुज़र गई.
सत्तर के दशक में जाकर इसकी वजह सामने आई. पता ये चला कि अगर आप अपनी उंगलियों के पोरों को साफ़ रखते हैं तो कीटाणु कम फैलते हैं. वैज्ञानिकों की पड़ताल से पता ये चला कि हमारे नाखूनों के नीचे की जो जगह है, वो असल में कीटाणुओं का चिड़ियाघर है
नाखूनों और उंगली के बीच की इस जगह की ठीक से सफ़ाई नहीं हो पाती. साथ ही, हाथ धोने पर यहां का पानी काफ़ी देर तक ठीक से सूखता नहीं. ऐसे माहौल साथ ही बनावटी नाख़ूनों वाली नर्सें अपने कीटाणु, मरीज़ों तक भी पहुंचा रही थीं. इसी तरह के तजुर्बे साल 2000 और 2002 में भी सामने आए जिसमें बनावटी नाख़ूनों से होने वाले नुक़सान के बारे में आगाह किया गया.
उनके मुक़ाबले क़ुदरती नाख़ून जिन्हें नेल पेंट से रंगा गया हो, उनके नीचे कम बैक्टीरिया फलते-फूलते हैं. लेकिन रंगे हुए नाख़ूनों के पेंट में पड़ी दरारें भी बैक्टीरिया का ठिकाना बन सकती हैं. 1993 में अमरीका के बाल्टीमोर के जॉन हॉपकिंस इंस्टीट्यूट में हुए एक रिसर्च से ये बात खुलकर सामने आई थी.
इन सब तजुर्बों से एक बात साफ़ है. नाख़ूनों को छोटे रखना और साफ़ रखना बहुत ज़रूरी है. इससे हाथों के कीटाणुओं का पूरी तरह सफ़ाया भले न हो, उनकी तादाद काफ़ी कम हो जाएगी. ताज़ा रंगे हुए नाख़ूनों के नीचे कम बैक्टीरिया होते हैं. मगर चार दिन या इससे ज़्यादा पहले के रंगे नाख़ूनों के नीचे कीटाणुओं की तादाद काफ़ी बढ़ जाती है.
हर साल, दुनिया भर में क़रीब तीस लाख लोग दस्त से मर जाते हैं. जानकार कहते हैं कि अगर हाथों की सलीक़े से सफ़ाई रखी जाए, तो इनमें से दस लाख लोगों की जान बचायी जा सकती है. और अगर हम अपने नाख़ून छोटे रखें, उन्हें साफ़ रखें तो और जानें भी बचायी जा सकती हैं.
तो, ये सब बातें जानकर आप अब तो नाख़ून कुतरना बंद कर देंगे ना!

Vote: 
No votes yet

New Science news Updates

icon Total views
फ्रंट कैमरा युक्‍त स्मार्टफोन दुनिया का पहला डुएल फ्रंट कैमरा युक्‍त स्मार्टफोन 1,141
गूगल ग्‍लास नया गूगल ग्‍लास : बिना कांच के 2,839
पृथ्वी के भीतर हो सकते हैं महासागर पृथ्वी के भीतर हैं महासागर जाने विस्तार से 5,999
नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? 1,930
बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण 1,677
मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | 1,679
अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव 2,491
बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! आपके बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! 1,058
अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? 1,359
पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ 1,717
सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज 1,934
आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी 1,958
मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध 2,070
लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी 2,226
ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित 1,231
जीमेल ने शुरू की ब्लॉक व अनसब्सक्राइब सेवा जीमेल ने शुरू की ब्लॉक व अनसब्सक्राइब सेवा 1,366
कम्‍प्‍यूटर से नहीं सुधरती है स्‍कूली बच्‍चों की पढ़ाई कम्‍प्‍यूटर से नहीं सुधरती है स्‍कूली बच्‍चों की पढ़ाई 1,124
LG वॉलपेपर टीवी जिसे आप दीवार पर चिपका सकेंगे LG वॉलपेपर टीवी जिसे आप दीवार पर चिपका सकेंगे 2,097
घोंघे के दिमाग से समझदार बनेगा रोबोट घोंघे के दिमाग से समझदार बनेगा रोबोट 1,048
 गूगल पर भूल कर भी न करें ये सर्च गूगल पर भूल कर भी न करें ये सर्च 1,803