टेक्नोलॉजी के मिथ

टेक्नोलॉजी  के मिथ

कई लोग ये मानते हैं कि तकनीक समाज में स्थायी बदलाव ला सकती है.

फिर, वो चाहे इंटरनेट हो या अत्याधुनिक फ़ोन. लेकिन तकनीक और मनुष्य का रिश्ता इससे कहीं ज़्यादा जटिल है?

1968 में अमरीकी समाजशास्त्री हार्वे सैक्स ने तकनीकी सपने की सबसे बड़ी नाकामी की ओर इशारा किया था.

सैक्स ने कहा था, "हमने हमेशा उम्मीद की है कि अगर हम संवाद करने वाली कोई बेहतरीन मशीन ले आएँ, तो दुनिया बदल जाएगी."

सैक्स ने तभी कहा था कि ऐसा तभी होगा जब आधुनिकतम तकनीकी यंत्र मौजूदा समाज में आसानी से घुल-मिल जाने वाले, यानी वर्तमान व्यवस्था में आसानी से इस्तेमाल होेने वाले हों.

फ़ोन का चमत्कार

उदाहरण के लिए, सैक्स ने टेलीफ़ोन का जिक्र किया था. 19वीं शताब्दी के आख़िरी सालों में अमरीकी घरों में टेलीफ़ोन की शुरुआत हुई थी. तब सैकड़ों और हज़ारों मील की दूरी के बावजूद लोगों के बीच बातचीत हो पाना किसी चमत्कार जैसा ही था.

साइंटिफ़िक अमरीकी नाम की पत्रिका ने 1880 के अपने संपादकीय में लिखा था, "यह समाज में किसी नर्ई संस्था की तरह है- जिसमें दूर से दूर बैठा शख्स भी दूसरे शख्स को फ़ोन कर सकता है. इससे कई सामाजिक और कारोबारी उलझनों से निजात मिल जाएगी."

लेकिन जो हुआ, वो ये कि लोगों का वर्तमान बर्ताव ही समाज में नए तरीके से सामने आया.

इस नए प्रयोग को मशहूर होने में वक्त लगा क्योंकि कोई भी नई तकनीक रातों रात क्रांति में तब्दील नहीं हो सकती.

टेलीफ़ोन को लेकर शुरुआती दौर में लोग आपस में अजीब बातें करते थे.

उदाहरण के लिए, बहस इससे संभव सामाजिक क्रांति पर नहीं हुई, बल्कि शालीनता और धोखाधड़ी पर होने लगी. पूछा जाने लगा कि इसका असर घर के सदस्यों - महिलाओं और नौकरों पर क्या होगा.

ऐसे सवाल भी उठे कि क्या उचित कपड़े न पहने हुए फ़ोन पर बात करना शर्मनाक है?

यहाँ तक कि लोगों ने इसे अपने घर पर नज़र रखने वाली मशीन जैसा मान लिया. और, टेलीफ़ोन कंपनियां उपभोक्ताओं को भरोसा दिलाती नज़र आईं कि इसके इस्तेमाल से कोई समस्या नहीं होगी.

तकनीक की दुनिया में क्रांति

मैंने देखा कि पिछले दो सालों में आधुनिक तकनीक की दुनिया काफी बढ़ी है. साल 2014 के अंत तक, दुनिया भर में आम लोगों से ज़्यादा मोबाइल फ़ोन की संख्या हो चुकी है. 2011 के मध्य में आधुनिक टैबलेट आया और 2014 तक दुनिया भर के कंप्यूटर बाज़ार का आधा हिस्सा टैबलेट का हो चुका है.

आपको शायद न पता हो कि दुनिया भर के डाटा का 90 फ़ीसदी डाटा केवल पिछले दो साल में ही तैयार हुआ है. आज का मोबाइल फ़ोन बीते समय के सुपर कंप्यूटर से ज्यादा शक्तिशाली हो चुका है.

आज का सॉफ़्टवेयर - हर काम में मनुष्य को पछाड़ चुका है फिर वो शतरंज का खेल हो या क्विज़ शो...

अब बात उस कहानी की, जिसमें मशीन और उसकी क्षमता अपने सबसे बेहतरीन स्तर पर पहुंच जाती है.

ऐसे में, वो दौर आ जाता है, जिसको लेकर हमारे दौर में एक मिथक भी चला आ रहा है.

वह दौर जब मशीन की बुद्धिमता इंसानों की बुद्धिमता से बढ़ जाती है.

क्या है सबसे बड़ा मिथक?

हालांकि इस पर काफ़ी लोग यकीन नहीं करते हैं, लेकिन इसको लेकर लोगों में दिलचस्पी भी खूब है. यह भी माना जाता है, यह वक्त की बात है, आने वाले समय में ऐसा होगा. या हो सकता है कि फिर ऐसा न हो.

हालांकि, तकनीक और वैज्ञानिक खोज विस्मयकारी ढंग से प्रगति की राह पर हैं. इसका इंसानों के विकास के साथ रिश्ता ज्यादा चाहत से जुड़ा मसला है. दरअसल हमें पसंद हो या नहीं, लेकिन विकास की रफ्तार अनंतकाल तक जारी नहीं रह सकती है.

हमें अभी काफी दूरी तय करनी है और इसमें निश्चित तौर पर नई तकनीकों के आने का सिलसिला जारी रहेगा. तकनीक को लेकर जुड़े सपने वास्तविकता में भी तब्दील होंगे.

यही वजह है कि मैं बीते दो सालों के दौरान अपने कॉलम में तकनीक और जीवन पर उसके पड़ने वाले असर के बीच के संघर्ष का जिक्र करता रहा हूं. इसी दौरान मैंने डिजिटल हिस्ट्री का ग़ायब हो जाना या फिर 'स्मार्ट' तकनीक की डंबनेस और ईमेल डर्टी सीक्रेट्स या फिर इंपौर्टेंस ऑफ़ फॉरगेटफुलनेस जैसे विषयों पर लिखा है.

डिजिटल उपकरण और इंसान के बीच इस संघर्ष के विश्लेषण का अपना आनंद है, इसलिए नहीं कि एक दिन तकनीक की दुनिया ग़ायब हो जाएगी बल्कि यह इतिहास, राजनीति और इंसानी दोषों के साथ हमेशा मिली हुए नजर आएगी.

Vote: 
No votes yet

New Science news Updates

icon Total views
जब पृथ्वी पर अधिकतर प्रजातियां नष्ट हो गईं... जब पृथ्वी पर अधिकतर प्रजातियां नष्ट हो गईं... 1,841
ग्लास डिस्क ग्लास डिस्क' पर अरबों साल तक स्टोर रहेंगे डेटा 1,567
झील जहाँ 'दुनिया ख़त्म हो' जाती है ! झील जहाँ 'दुनिया ख़त्म हो' जाती है ! 4,614
wi-fi  से 100 गुना तेज़ है li-fi wi-fi से 100 गुना तेज़ है li-fi 3,423
वाई-फाई के माध्यम से लोगों की सटीक गिनती वाई-फाई के माध्यम से लोगों की सटीक गिनती 1,549
क्या आप जानते है कि कुत्ते मुस्कुराते भी हैं क्या आप जानते है कि कुत्ते मुस्कुराते भी हैं 427
क्या हुवा जब Nasa ने एक बंदर को Space मे भेजा ? 375
क्या शुक्र ग्रह में कभी इंसान रहते थे ? जानिए शुक्र ग्रह के इतिहास को क्या शुक्र ग्रह में कभी इंसान रहते थे ? जानिए शुक्र ग्रह के इतिहास को 400
प्लूटो के साथ क्या हुआ क्या प्लूटो अब नही रहा ? प्लूटो के साथ क्या हुआ क्या प्लूटो अब नही रहा ? 414
फ्रंट कैमरा युक्‍त स्मार्टफोन दुनिया का पहला डुएल फ्रंट कैमरा युक्‍त स्मार्टफोन 1,464
गूगल ग्‍लास नया गूगल ग्‍लास : बिना कांच के 3,114
पृथ्वी के भीतर हो सकते हैं महासागर पृथ्वी के भीतर हैं महासागर जाने विस्तार से 6,652
नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? 2,321
बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण 2,043
मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | 2,206
अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव 2,874
बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! आपके बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! 1,351
अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? 1,664
पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ 2,025
सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज 2,252