नये मीडिया से जुड़ा एक जोखिम सामाजिक क़िस्म का

नये मीडिया से जुड़ा एक जोखिम सामाजिक क़िस्म का

न्यू यॉर्कर में 1993 में एक कार्टून प्रकाशित हुआ था जिसमें एक कुत्ता कम्प्यूटर के सामने बैठा है और साथ बैठे अपने सहयोगी को समझाते हुए कह रहा है, “इंटरनेट में, कोई नहीं जानता कि तुम कुत्ते हो।” (जेन बी सिंगर, ऑनलाइन जर्नलिज़्म ऐंड एथिक्स, अध्याय एथिक्स एंड द लॉ, पृ 90)।

यहां आशय ये है कि इंटरनेट में आपकी पहचान गुप्त रहती है। जब तक आप न चाहें आपको कोई नहीं जान सकता। ये स्वनिर्मित गुमनामी ही एक अदृश्यता की ओर ले जाती है। एक ऐसी अवस्था जहां आपको भौतिक उपस्थिति की ज़रूरत नहीं है। आपको सदेह कहीं किसी के समक्ष पेश नहीं होना है। इस तरह आप इंटरनेट पर एक तरह की “देहमुक्ति” के साथ विचरण करते रह सकते हैं। ऑपरेट आप उसे सदेह ही कर रहे होते हैं। इंटरनेट की विद्वान शेरी टर्कल ने अपनी किताब, “लाइफ़ ऑन स्क्रीनः आईडेंटिटी इन द एज ऑफ द इंटरनेट” (1995) में बताया है कि कम्प्यूटर जनित संचार (कम्प्यटूर मीडिएटड कम्यूनिकेशन-सीएमसी) के ज़रिए लोगों के पास अपनी “पुनर्खोज” कर सकने की प्रचुर संभावनाएं रहती हैं।

लेकिन सवाल यही है कि क्या ख़ुद को नए सिरे से ढूंढने की वास्तव में क्या कोई ज़रूरत है भी या ये जुनून या चाहत है। अगर थोड़ी देर के लिए मान भी लें कि एक व्यक्ति नये मीडिया में अपनी पहचान बिना उद्घाटित किए आवाजाही कर रहा है तो क्या वो गलत है। क्या उसे अदृश्य रहने की ज़रूरत है। नया मीडिया वैयक्तिक आज़ादी को तब तक नहीं छीनता जब तक कि आप ख़ुद ऐसा न चाहें। ये उसका एक गुण है। यूज़र के तौर पर चुनौती यही है कि वो इस आज़ादी को किस रूप में समझता है, कैसे इसे एन्ज्वॉय करता है। चिंता की बात ये है कि नये मीडिया की इस सौगात का इस्तेमाल कई यूज़र फ़र्ज़ी एकाउंट बनाने, किसी को गुमराह करने या भावनात्मक शोषण या आर्थिक फ़ायदा उठाने के लिए करते पाये गये हैं। इस मामले में नये मीडिया से जुड़े क़ानून भी एक सीमा के बाद लाचार ही नज़र आते हैं।

नये मीडिया से जुड़ा एक जोखिम सामाजिक क़िस्म का भी है। मिसाल के लिए फ़ेसबुक को ही लें। इस लोकप्रिय सोशल नेटवर्किग वेबसाइट का इस्तेमाल करने वालों की संख्या करोड़ों में है। करोड़ो फॉलोअर हैं। एक अत्यंत विस्तृत वर्चुअल समाज बन जाता है। वर्चुअल दोस्तियां बेशुमार होती हैं। अनंत रूप से संचार में मगन दुनिया फैली हुई है, लेकिन वास्तविक जीवन में, ऑफ़लाइन हो जाने पर यही यूज़र एकदम अलगथलग और समाज से कटे हुए नज़र आते हैं। संचार की प्रक्रिया सिकुड़ जाती है।

शहरी जीवन की आपाधापी, बढ़ते उपभोक्तावाद और जीवन शैलियों में आए बदलावों ने लोगों को एक दूसरे से संवादहीनता की स्थिति में ला दिया है। लेकिन ताज्जुब है कि लोगों की वास्तविक जीवन की यही प्रवृत्ति सोशल मीडिया पर आते ही हिरन हो जाती है। वहां वो एकदम बेलौस, बेतकल्लुफ़ और संवादप्रिय बन जाता है। इस तरह नये मीडिया पर ये तोहमत भी लगाई जाती है कि वो यूज़र को समाजविमुख या असामाजिक भी बनाता है। लेकिन यहां पर ये बात फिर से ग़ौरतलब है कि नये मीडिया ने जो सुविधा और आज़ादी उपलब्ध कराई है उसका विवेकपूर्ण इस्तेमाल करने की ज़िम्मेदारी यूज़र पर ही है। नये मीडिया ने अवरोधों से आज़ादी हासिल कराई है लेकिन इसका अर्थ ये नहीं है कि ज़िम्मेदारियों से भी मुक्त हो जाएं।

 

Vote: 
No votes yet

New Science news Updates

icon Total views
वाई-फाई के माध्यम से लोगों की सटीक गिनती वाई-फाई के माध्यम से लोगों की सटीक गिनती 1,362
क्या आप जानते है कि कुत्ते मुस्कुराते भी हैं क्या आप जानते है कि कुत्ते मुस्कुराते भी हैं 267
क्या हुवा जब Nasa ने एक बंदर को Space मे भेजा ? 230
क्या शुक्र ग्रह में कभी इंसान रहते थे ? जानिए शुक्र ग्रह के इतिहास को क्या शुक्र ग्रह में कभी इंसान रहते थे ? जानिए शुक्र ग्रह के इतिहास को 194
प्लूटो के साथ क्या हुआ क्या प्लूटो अब नही रहा ? प्लूटो के साथ क्या हुआ क्या प्लूटो अब नही रहा ? 221
फ्रंट कैमरा युक्‍त स्मार्टफोन दुनिया का पहला डुएल फ्रंट कैमरा युक्‍त स्मार्टफोन 1,315
गूगल ग्‍लास नया गूगल ग्‍लास : बिना कांच के 2,960
पृथ्वी के भीतर हो सकते हैं महासागर पृथ्वी के भीतर हैं महासागर जाने विस्तार से 6,324
नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? 2,111
बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण 1,857
मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | 1,970
अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव 2,680
बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! आपके बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! 1,187
अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? 1,520
पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ 1,882
सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज 2,115
आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी 2,092
मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध 2,418
लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी 2,472
ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित 1,447