पौधे की उत्पादकता बढ़ाने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान ने किया समझौता

पौधे की उत्पादकता बढ़ाने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद तथा क्यू गार्डंस के बीच संयुक्त अनुसंधान हेतु समझौता

इस छह वर्षीय समझौते से जलवायु परिवर्तन, दबाव जीवविज्ञान, उच्च स्तरीय कृषि तथा पोषण और संरक्षण विज्ञान से जुड़े संयुक्त अनुसंधान परियोजना को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।

वनस्पति विज्ञान तथा संरक्षण से जुड़े ब्रिटेन के विश्व प्रसिद्ध संगठन क्यू रॉयल बॉटेनिकल गार्डेंस ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आइसीएआर) के साथ एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किया है, जिसके तहत स्थानीय रूप से उगने वाले पौधों की प्रजातियों पर अनुसंधान कर उनके विभिन्न महत्वपूर्ण गुणों का विकास किया जाएगा। उनके प्रमुख गुणों में शामिल होंगे- रोगों के प्रति प्रतिरक्षा, पोषण गुणवत्ता तथा दबाव सहनशीलता। पौधों की ऐसी उपेक्षित और अप्रयुक्त प्रजातियां (एनयूएस) कृषि, वानिकी तथा उद्यान कृषि में इस्तेमाल होने वाली प्रजातियों की उत्पादकता बढ़ाने में मदद करेंगी।

इस छह वर्षीय सहयोग से जलवायु परिवर्तन, दबाव जीवविज्ञान, उच्च स्तरीय कृषि तथा पोषण और संरक्षण विज्ञान से जुड़े संयुक्त अनुसंधान परियोजना को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। इसके अंतर्गत आने वाले विषयों में शामिल होंगे- बीज पारिस्थितिकी, उच्च मूल्य वाले तिलहनों का लक्षण निर्धारण करना, खर-पतवार जीवविज्ञान तथा बीज सुषुप्तता, ऑर्किड बीज जैवप्रौद्योगिकी, फलदार वृक्ष का क्रायोप्रिजर्वेशन तथा बीज बैंक। दोनों ही संगठन आपस में कर्मचारियों का आदान-प्रदान करेंगे, पीएचडी तथा मास्टर्स करने वाले छात्रों को सह-निर्देशित करेंगे तथा वनस्पति जैवप्रौद्योगिकी तथा संरक्षण के क्षेत्र में वार्षिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों का आयोजन करेंगे।

आइसीएआर के निदेशक, प्रो. अयप्पन ने कहा:

यह समझौता हमारे लिए काफी महत्व का है, क्योंकि यह आइसीएआर समेत राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रणाली और क्यू के लिए संयुक्त रूप से नए अवसर उपलब्ध कराएगा। मुझे न केवल दोनों देशों के शोधकर्ताओं के बीच संवाद में तेजी आने की उम्मीद है, बल्कि इससे युवा अनुसंधानकर्ताओं तथा वैज्ञानिकों के मानव संसाधन विकास में भी काफी मदद मिलेगी।

क्यू के निदेशक श्री रिचर्ड डेवेरेल ने कहा:

मुझे इस महत्वपूर्ण समझौते को अंतर्राष्ट्रीय सहयोगियों के अपने नेटवर्क में शामिल करने में हर्ष हो रहा है, जो क्यू के वैज्ञानिक तथा संरक्षण कार्यों की मौजूदा प्रासंगिकता के लिए काफी अहम है। आने वाले समय में आइसीएआर तथा राष्ट्रीय ब्यूरो ऑफ प्लांट जेनेटिक रिसोर्सेज के साथ काम करने को लेकर मैं काफी उत्साहित हूं।

अधिक जानकारी:

आइसीएआर/कृषि अनुसंधान तथा शिक्षा विभाग तथा द रॉयल बॉटेनिक गार्डंस, क्यू के बीच होने वाले इस पहले औपचारिक समझौते पर गत 13 फरवरी 2014 को हस्ताक्षर किया गया।

रॉयल बॉटेनिकल गार्डंस, क्यू दुनिया का एक प्रमुख वनस्पति उद्यान है, जहां वनस्पति विज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान करने और वनस्पतियों तथा कवकों की विविधता पर जानकारी साझा करने की व्यवस्था है। यह भविष्य में दुनिया भर की वनस्पतियों की रक्षा करने, उनके विवेकपूर्ण इस्तेमाल करने तथा पेड़-पौधों तथा पर्यावरण के प्रति सम्मान जगाने के प्रयासों में मदद करता है। क्यू गार्डंस यूनेस्को का एक विरासत स्थल है, जो एक गैर-विभागीय सरकारी निकाय है, जिसे ब्रिटेन सरकार के पर्यावरण, खाद्य तथा ग्रामीण मामले विभाग (डीईएफआरए) से वित्तीय सहायता मिलती है। क्यू का बीज संरक्षण विभाग एक वैश्विक वनस्पति संरक्षण नेटवर्क का संचालन करता है, जिसे मिलेनियम सीड बैंक पार्टनरशिप के नाम से जाना जाता है।

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आइसीएआर) कृषि अनुसंधान तथा शिक्षा विभाग (डीएआरई), भारत सरकार के कृषि मंत्रालय के अधीन कार्य करता है। यह परिषद पूरे देश भर में उद्यान कृषि, वानिकी, मत्स्यपालन तथा पशुपालन विज्ञान समेत कृषि क्षेत्र में होने वाले अनुसंधान तथा शिक्षण के बीच समंवय स्थापित करने तथा मार्गदर्शन प्रदान करने वाला एक शीर्ष निकाय है।

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

New Science news Updates

icon Total views
नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? नेगेटिव ब्लड ग्रुप वाले सभी लोग एलियन्स के वंशज है? 1,465
बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण बढती ऊम्र की महिलाएं क्यों भाती है पुरूषों को- कारण 1,236
मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | मरने से ठीक पहले दिमाग क्या सोचता है | 1,139
अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव अरबों किलोमीटर का सफ़र संभव 2,166
बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! आपके बैंक को बदल रहा है सोशल मीडिया! 762
अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? अलग-अलग ग्रहों से आए हैं पुरुष और महिलाएं? 1,035
पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ पुराने स्मार्टफ़ोन अब भी काफी काम की चीज़ 1,378
सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज सेल्‍फी का एंगल खोलता है पर्सनालिटी के राज 1,668
आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी आपको डेंटिस्‍ट की जरूरत नहीं पड़ेगी 1,634
मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध मलेरिया से बचा सकती है,आपको मुर्गी की गंध 1,582
लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी लघु रूपांतरण से डायनोसोर बने पक्षी 1,837
ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित ईमेल को हैकरों से कैसे रखें सुरक्षित 903
जीमेल ने शुरू की ब्लॉक व अनसब्सक्राइब सेवा जीमेल ने शुरू की ब्लॉक व अनसब्सक्राइब सेवा 1,024
कम्‍प्‍यूटर से नहीं सुधरती है स्‍कूली बच्‍चों की पढ़ाई कम्‍प्‍यूटर से नहीं सुधरती है स्‍कूली बच्‍चों की पढ़ाई 838
LG वॉलपेपर टीवी जिसे आप दीवार पर चिपका सकेंगे LG वॉलपेपर टीवी जिसे आप दीवार पर चिपका सकेंगे 1,580
गूगल ग्‍लास नया गूगल ग्‍लास : बिना कांच के 2,471
घोंघे के दिमाग से समझदार बनेगा रोबोट घोंघे के दिमाग से समझदार बनेगा रोबोट 815
 गूगल पर भूल कर भी न करें ये सर्च गूगल पर भूल कर भी न करें ये सर्च 1,437
स्मार्टफोन के लिए एन्क्रिप्शन क्यों ज़रूरी  है स्मार्टफोन के लिए एन्क्रिप्शन क्यों ज़रूरी है 1,133
इस साल विज्ञान की सबसे बड़ी खोज इस साल विज्ञान की सबसे बड़ी खोज 4,184