ब्रह्मांड

प्लूटो से छिन गया ग्रह का दर्जा

प्लूटोप्लूटो से छिन गया ग्रह का दर्जा से छिन गया ग्रह का दर्जा

नासा ने जब मिशन 'न्यू होराइजन्स' रवाना किया था, उस समय प्लूटो को सोलर सिस्टम (सौरमंडल) के नौंवे ग्रह का दर्जा हासिल था। इस मिशन के लिए स्पेसक्राफ्ट के रवाना होने के कुछ महीने बाद ही नए पिंडों की खोज को मान्यता देने और उन्हें नाम देने वाली अंतरराष्ट्रीय एजेंसी इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉमिकल यूनियन ने पहली बार ग्रहों की परिभाषा तय करने पर बहस छेड़ दी। इसके बाद प्लूटो से ग्रह का दर्जा छीन गया और इसकी पहचान क्वीपर बेल्ट के मलबे के ढेर में मौजूद एक बौने ग्रह की रह गई। अब इसे आधिकारिक तौर पर 'एस्ट्रॉएड नंबर 134340' से जाना जाता है।

नासा ने अंतरिक्ष में उगाई बंद गोभी!

नासा ने अंतरिक्ष में उगाई बंद गोभी!

अंतरिक्षयात्रियों ने लगभग एक महीने तक कोशिश करने के बाद अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र में चीनी बंदगोभी उगाई. नासा के अनुसार अंतरिक्षयात्री पेगी विटसन ने जापान की ‘तोक्यो बेकाना’ नामक चीनी गोभी उगाई.

अंतरिक्ष केंद्र के अंतरिक्षयात्रियों को इनमें से कुछ गोभी खाने के लिए मिलेंगी और बाकी नासा के केनेडी अंतरिक्ष केंद्र में वैज्ञानिक अध्ययन के लिए सुरक्षित कर लिया जाएगा.

यह अंतरिक्ष केंद्र में उगाई जाने वाली पांचवी फसल होगी अैर पहली चीनी गोभी. चीनी गोभी का चुनाव अनेक पत्तेदार सब्जियों के आकलन के बाद किया गया.

घूमने का शौक है और पैसे हैं तो अब चांद की कर आएं सैर!

घूमने का शौक है और पैसे हैं तो अब चांद की कर आएं सैर!

घूमने-फिरने के शौकीन हैं तो चांद की सैर करने का आइडिया आपको कैसा लग रहा है? दो विदेशियों को तो ये आइडिया इतना पसंद आया है कि उन्होंने 2018 में चांद की सैर के लिए अमेरिका की प्राइवेट रॉकेट कंपनी स्पेस एक्स को पैसे भी दे दिए हैं.

आपको आपका पार्टनर चांद के पार ले जाए या नहीं, चांद की सैर पर जरूर ले जा सकता है. क्योंकि चांद की सैर को मुमकिन बना रही है एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स. स्पेस एक्स को दो विदेशी सैलानियों ने चांद पर जाने के लिए एक मोटी रकम दी है.

वर्महोल द्वारा यात्रा

एक अन्य उपाय है वर्महोल से यात्रा। वर्महोल ऐसे सैद्धांतिक शार्टकट है जो अंतरिक्ष के दो बिंदुओं को जोड़ते है। इनकी आस्तित्व प्रमाणित नही है लेकिन ये सैद्धांतिक रूप से संभव है। इसके द्वारा किसी भी दूरी की यात्रा पलक झपकते संभव है। आप किसी वर्महोल के एक छोर से प्रवेश करे और पलक झपकते ही आप किसी अन्य आकाशगंगा या किसी अन्य तारामंडल मे जा सकते है। हमारे पास ऐसे वर्महोल बनाने की तकनिक नही है। मानव सभ्यता को वर्महोल बनाने की तकनिक प्राप्त करने के लिये अभी हजारो या लाखों वर्ष का तकनीकी विकास करना होगा।

Pages