रहस्य जगत

भारतवर्ष का नाम “भारतवर्ष” कैसे पड़ा?

भारतवर्ष का नाम “भारतवर्ष” कैसे पड़ा?

भारतवर्ष का नाम “भारतवर्ष” कैसे पड़ा?
हमारे लिए यह जानना बहुत ही आवश्यक है
भारतवर्ष का नाम भारतवर्ष कैसे पड़ा? एक सामान्य जनधारणा है
कि महाभारत एक कुरूवंश में राजा दुष्यंत और
उनकी पत्नी शकुंतला के
प्रतापी पुत्र भरत के नाम पर इस देश का नाम भारतवर्ष
पड़ा। लेकिन वही पुराण इससे अलग कुछ
दूसरी साक्षी प्रस्तुत करता है। इस ओर
हमारा ध्यान नही गया, जबकि पुराणों में इतिहास ढूंढ़कर
अपने इतिहास के साथ और अपने आगत के साथ न्याय करना हमारे
लिए बहुत ही आवश्यक था। तनक विचार करें इस
विषय पर:-आज के वैज्ञानिक इस बात को मानते हैं

हवाख़ोर योगी विज्ञान के लिए अबूझ पहेली

हवाख़ोर योगी विज्ञान के लिए अबूझ पहेली

वे न कुछ खाते हैं और न पीते हैं. सात दशकों से केवल हवा पर जीते हैं. गुजरात में मेहसाणा ज़िले के प्रहलाद जानी एक ऐसा चमत्कार बन गये हैं, जिसने विज्ञान को चौतरफ़ा चक्कर में डाल दिया है.

default

 

महाभारत के अनसुलझे रहस्य

महाभारत के अनसुलझे रहस्य

महाभारत के अनसुलझे रहस्य जो आज भी हैं बरकरार
महाभारत को पांचवां वेद कहा गया है। यह भारत की गाथा है। इस ग्रंथ में तत्कालीन भारत (आर्यावर्त) का समग्र इतिहास वर्णित है। अपने आदर्श पात्राें के सहारे यह हमारे देश के जन-जीवन को प्रभावित करता रहा है। इसमें सैकड़ों पात्रों, स्थानों, घटनाओं तथा विचित्रताओं व विडंबनाओं का वर्णन है।

बंदर जैसे चेहरे के साथ पैदा हुआ बेबी पिग

बंदर जैसे चेहरे के साथ पैदा हुआ बेबी पिग

चीन में एक बेबी पिग बंदर जैसे चेहरे के साथ पैदा हुआ है। बेबी पिग का चेहरा बंदर जैसा है। इस पिग की फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड होते ही वायरल हो गई है। वहीं लोग दूर-दूर से इसे देखने के लिए आ रहे हैं। चीन के झीजिंन में पैदा हुए इस अजीबो-गरीब चेहरे वाले पिग को लेकर लोगों में कौतुहल है। वहीं पिग का मालिक इस अनोखे बेबी पिग को अपने बच्चे की तरह पाल रहा है। वो उसे इंसानों के बच्चे की तरह बोतल से दुध पिलाता है। उसे अपने साथ घर में रखता है और उसका बच्चों की तरह ख्याल रखता है।

Pages